गन्ने का रस देता है कई स्वास्थ्यवर्धक फायदे, जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

गन्ना भारत में काफी अहम स्थान रखता है, जिसका रस भी देश में काफी लोकप्रिय हो रहा है। न सिर्फ भारत, बल्कि अफ्रीका और एशिया के कई हिस्सों में भी यह उसी पसंद से किया जाता है। भारत में आप गर्मी के मौसम में गली-मौहल्ले में गन्ने के रस की कई दुकानें देख लेंगे और टेक्नोलॉजी एडवांस होने के साथ-साथ अब हर मौसम में इसका आनंद लिया जा सकता है। लोकप्रियता से अलग, गन्ने का रस लिवर, किडनी और अन्य अंगों की कई समस्याओं में भी फायदेमंद माना जाता है। लेकिन, इसके स्वास्थ्य संबंधित फायदों की लिस्ट काफी बड़ी है। आइए जानते हैं कि, गन्ने का रस हमें कितने फायदे देता है।

गन्ने का रस – गन्ने में पोषण की मात्रा

गन्ने में फेनोलिक, फ्लेवोनोइड एंटीऑक्सीडेंट्स, पोटेशियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट्स की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। हालांकि, इसमें शुगर और कार्ब्स की मात्रा काफी होती है। अगर आप किसी फाइबर युक्त पेय पदार्थ की तलाश में हैं, तो गन्ने का रस आपका बेहतरीन विकल्प हो सकता है। आइए, 240 एमएल गन्ने के रस में मौजूद पोषण के बारे में जानते हैं।

  • कैलोरी – 183
  • प्रोटीन – 0 ग्राम
  • फैट- 0 ग्राम
  • शुगर – 50 ग्राम
  • फाइबर – 0-13 ग्राम

और पढ़ें- पाइल्स में डायट पर ध्यान देना होता है जरूरी, इन फूड्स का करें सेवन

गन्ने का रस के फायदे क्या हैं?

गन्ने का रस पीने से आपको निम्नलिखित फायदे प्राप्त हो सकते हैं। जैसे-

पाचन तंत्र होता है स्वस्थ

अगर आपका पाचन तंत्र कमजोर है और आपको पेट संबंधित समस्याएं रहती हैं, तो गन्ने का जूस आपके काफी काम आ सकता है। गन्ने में पोटेशियम की मात्रा मौजूद होती है, जो पेट को स्वस्थ रखने में काफी मदद करती है। इसके अलावा, इसमें मौजूद फाइबर आपके द्वारा सेवन किए गए खाने को पचाने में मदद करता है और कब्ज जैसी समस्या से राहत दिलाता है।

वजन होगा कम

अगर आपका वजन ज्यादा है और वजन घटाना चाहते हैं, तो इसमें गन्ने का रस आपकी मदद कर सकता है। गन्ने में फाइबर की मात्रा होती है, तो आपकी भूख को शांत करता है। इसके अलावा इसमें फैट नहीं होता, जिससे अतिरिक्त चर्बी में बढ़ोतरी नहीं हो पाती। शरीर में मौजूद फैट को संतुलित करने में फाइबर अहम भूमिका निभाता है।

स्पोर्ट्स ड्रिंक का करता है काम

गर्मी का मौसम काफी थका देने वाला होता है। गर्मी के कारण शरीर में पानी की मात्रा कम होती रहती है और डिहाइड्रेशन की दिक्कत भी हो सकती है। लेकिन, गन्ने का जूस आपके तुरंत एनर्जी देने में मदद कर सकता है। गन्ने में पानी और नेचुरल शुगर की मात्रा काफी अधिक होती है, जो कि तुंरत ऊर्जा देने का कार्य करती है। इसके साथ ही आपके शरीर को हाइड्रेट रखने में भी मदद मिलती है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें- कैसे बनाते हैं हेल्दी सूप? जानें यहां

लिवर को रखता है स्वस्थ

आयुर्वेद के मुताबिक स्वस्थ लिवर के लिए गन्ना काफी लाभदायक माना जाता है और पीलिया (लिवर की समस्या) में भी गन्ने का जूस पीने की सलाह दी जाती है। क्योंकि, कई शोध में यह स्पष्ट हुआ है कि, गन्ने का जूस पीने से पीलिया की समस्या में राहत मिलती है।

गन्ने का रस – इम्यूनिटी होती है मजबूत

गन्ने का जूस पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इस नेचुरल ड्रिंक में एंटीऑक्सीडेंट्स काफी मात्रा में होते हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत रखने में मदद करते हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। इससे आपको विभिन्न संक्रमण और आम मौसमी बीमारियों से लड़ने में मदद मिलती है।

एसिडिटी से देता है राहत

गन्ने में मौजूद पोटेशियम पाचन तंत्र को मजबूत करता है और पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है। जिससे अपच व पेट फूलने जैसी समस्या नहीं होती। इसके साथ ही यह एसिडिटी से राहत दिलाने में भी मदद करता है।

और पढ़ें- इम्यूनिटी बूस्टिंग ड्रिंक्स, जो फ्लू के साथ-साथ गर्मी से भी रखेंगी दूर

बुखार से राहत

हमने आपको बताया ही है कि, गन्ने का रस खुद में एंटीऑक्सीडेंट की अच्छी मात्रा को समेटे होता है। जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। अगर आप गर्मी में रोजाना इसके एक गिलास का नियमित सेवन करते हैं, तो आपको बुखार से भी सुरक्षा प्राप्त हो सकती है। क्योंकि, आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता किसी भी संक्रमण से होने वाले बुखार से दूर रखने में मदद करती है।

गन्ने का रस – यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की समस्या करेगा दूर

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन उसे कहा जाता है, जब आपकी मूत्र प्रणाली जैसे गुर्दे, मूत्राशय या मूत्रमार्ग में संक्रमण हो जाता है। इससे पेशाब करने के दौरान जलन व दर्द की समस्या हो सकती है। लेकिन, इस समस्या में गन्ने का रस फायदा पहुंचा सकता है। क्योंकि, इसके मूत्रवर्धक गुण किडनी की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करते हैं।

मसल्स होती हैं ताकतवर

गन्ने का जूस मसल्स को भी ताकतवर बनाने में मदद करता है। क्योंकि, इसमें नेचुरल ग्लूकोज होती है, जो मांसपेशियों में ऊर्जा और ताकत देने का कार्य करती है। इससे मांसपेशियों का स्वास्थ्य बेहतर बनता है।

प्रेग्नेंसी में भी फायदेमंद

गन्ने का जूस प्रेग्नेंसी में पूरी तरह सुरक्षित और स्वास्थ्यवर्धक है। यह प्रेग्नेंसी में कई शारीरिक समस्याओं और संक्रमणों को दूर रखने में मदद करता है, जिसका सीधा असर बेहतर गर्भावस्था और बच्चे के स्वास्थ्य पर पड़ता है। यह गर्भवती महिलाओं में मॉर्निंग सिकनेस की समस्या भी दूर करने में मदद करता है। गन्ने का जूस पीकर गर्भवती महिलाएं अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत कर सकती हैं। हालांकि, अगर आपको मधुमेह की समस्या है, तो इसका सेवन करने से बचना चाहिए और आपको गर्भावस्था में कुछ भी करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

और पढ़ें- जानिए कैसी होनी चाहिए वर्किंग वीमेन डायट?

गन्ने का रस – दांतों की मजबूती

गन्ने के जूस के अलावा इसे कच्चा खाने से भी फायदा मिलता है। कच्चा गन्ना चबाने से आपके दांत मजबूत होते हैं और उनमें कैविटी की समस्या नहीं होती है।

दिल की बीमारी से बचाव

गन्ने का रस पीने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राईग्लिसराइड का स्तर कम होता है, जो दिल के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होने से शरीर रक्त धमनियों में फैट नहीं जमता और शरीर में रक्त प्रवाह बेहतर रहता है और हृदय स्वस्थ रहता है।

गन्ने का रस पीने से जुड़ी सावधानी

गन्ने का जूस पीने से मिलने वाले फायदों के साथ ही आपको इसके सेवन से जुड़ी सावधानियों के बारे में भी पता होना चाहिए। आपको अगर मधुमेह की समस्या है, तो आपको इसके सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि, इससे शरीर में ब्लड शुगर का स्तर एकदम बढ़ जाता है, जो कि खतरनाक हो सकता है। इसके अलावा आपको इसके अत्यधिक सेवन से इंसोम्निया की समस्या भी हो सकती है। इसलिए, इसका नियमित सेवन करने से पहले किसी डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Glucored Tablet : ग्लूकोर्ड टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ग्लूकोर्ड टैबलेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन (Metformin) और ग्लिबेंक्लामाइड (Glibenclamide) दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glucored Tablet

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल अगस्त 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? शुगर की आयुर्वेदिक दवा, डायबिटीज में योग, प्राणायाम, आयुर्वेद के अनुसार डायबिटीज में क्या खाएं, क्या नहीं? डायबिटीज के आयुर्वेदिक इलाज में आंवला, करेला.....diabetes ayurvedic treatment in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जून 1, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

एमओडीवाई डायबिटीज क्या है और इसका इलाज कैसे होता है

एमओडीवाई डायबिटीज भी मधुमेह का एक प्रकार है, जिसका इलाज टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज से बिल्कुल अलग है। आइए, जानते हैं कि, यह क्यों होती है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज मई 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एलएडीए डायबिटीज क्या है, टाइप-1 और टाइप-2 से कैसे है अलग

एलएडीए डायबिटीज एक ऑटोइम्यून रिएक्शन है, जो कि मधुमेह का ही एक प्रकार है। आइए, जानते हैं कि, यह टाइप-1 डायबिटीज और टाइप-2 डायबिटीज से कैसे अलग है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज मई 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

प्रेग्नेंसी में नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल

प्रेग्नेंसी के दौरान कितना होना चाहिए नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बच्चों के लिए कस्टर्ड एप्पल के फायदे/Custard Apple For Babies

जानिए, बच्चों के लिए कस्टर्ड एप्पल के फायदे क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बेसल इंसुलिन

क्या है बेसल इंसुलिन, इसके प्रकार, डोज, साइड इफेक्ट और खासियत जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
एम एस धोनी डाइट प्लान

एम एस धोनी डायट प्लान और फिटनेस सीक्रेट को समझें, ताकि उन्हीं की तरह रह सकें फिट

के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 10, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें