पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग के हो सकते हैं कई कारण, जानें क्या हैं एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट नवम्बर 23, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

पीरियड्स के दौरान हैवी फ्लो एक महिला को कई तरीके से परेशान कर सकता है। दाग लगने की चिंता से लेकर, क्रैम्प्स और मूड में बदलाव आदि, इन सब के चलते महिलाओं को न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक परेशानी का भी सामना करना पड़ता है। हालांकि सभी महिलाओं के लिए पीरियड्स एक जैसे नहीं होते हैं। कुछ महिलाओं को दर्द निवारक दवाओं या हाॅट बैग की सिकाई से आराम मिल जाता है, जबकि कुछ महिलाओं में तनाव की समस्या बनी होती है, जिसके कारण वो ठीक से सो भी नहीं पाती हैं।

कई माहिलाएं इन सब समस्याओं पर ठीक से खुलकर बात भी नहीं कर पाती हैं। पर महिलाओं को अपनी इन परेशानियों के बारे में खुल कर बात करनी चाहिए। कई युवतियों को बहुत हैवी ब्लीडिंग होती है और वे समझ नहीं पाती हैं कि इसे मैनेज कैसे करें। जिससे रोजमर्रा के काम जैसे स्कूल, खेल-कूद और अन्य गतिविधियों में रूकावटे आती हैं, वे पीरियड्स के दौरान, इन सभी चीजों को मिस कर देना चाहती हैं। कई महिलाओं को ऑफिस जाने में भी परेशानी महसूस होती है, लेकिन अगर वे सही सैनिटरी पैड चुनें और समझ लें कि उन्हें हैवी फ्लो को किस तरह मैनेज करना है, तो तनाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है। 

और पढ़ें : सिंथेटिक दवाओं से छुड़ाना हो पीछा, तो थामें आयुर्वेद का दामन

पीरियड्स के स्ट्रेस को आसान बनाने के टिप्स

सेहतमंद आहार लें

पीरियड्स के दौरा  सेहतमंद आहार बहुत जरूरी है, इससे आपके शरीर को सभी जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं। हालांकि सिर्फ पीरियड्स के दौरान ही नहीं, बल्कि हमेशा सेहतमंद आहार का सेवन करना बहुत महत्वपूर्ण है, इससे आपकी इम्युनिटी अच्छी होगी, जिससे आप कई गंभीर बीमारियों से आसानी से लड़ सकते हैं। पीरियड्स के दौरान इम्युनिटी कम हो  जाती है और इन्फेक्शन की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में सेहतमंद आहार आपको न केवल इन्फेक्शन से सुरक्षित रखता है, बल्कि क्रैम्प्स को झेलने की मजबूती भी देता है।

और पढ़ें : कम उम्र में पीरियड्स होने पर ऐसे करें बेटी की मदद

अपने मूड को ठीक रखने के लिए व्यायाम करें

पीरियड्स के दौरान होने वाले मूड स्विंग को को कम करने के लिए कुछ एक्सरसाइज और मेडिटेशन किया जा सकता है। इसलिए अपने व्यायाम को दिनचर्या में बनाए रखें। पीरियड्स के दौरान सरल व्यायाम करें, विभिन्न प्रकार के ईजी वर्कआउट करें। हो सके तो एक बार अपने डॉक्टर की भी सलाह लें कि आपको कौन सी एक्सरसाइज करनी चाहिए। यदि आप शारीरिक रूप से सक्रिय रहेंगी तो पीरियड्स के कारण होने वाली परेशानियां कम करने में मदद मिलेगी।

अगर आपके मूड में बदलाव आते हैं तो उससे सही तरीके से निपटने की कोशिश करें

बहुत सी महिलाएं पीरियड्स से पहले या उन दिनों में चिड़चिड़ापन, गुस्सा और मूड मे बदलाव महसूस करती हैं। इससे निपटने के लिए बार-बार कम मात्रा में खाएं कैफीन, शराब के सेवन से बचें, अपने शौक के अनुसार जो अच्छा लगे वो करें। इन सब से पीरियड्स का तनाव कम करने में मदद मिलेगी। पीरियड्स के दौरान होने वाले तनाव को कम करने के लिए आप कोशिश करें कि अपना ध्यान उस जगह से हटाने की कोशिश करें। अगर आपको कुछ पढ़ने का शौक है, तो वो करें। मनपसंद गाना सुनें। आपको पीरियड्स हो रहे हैं, ये सोचकर घर पर ही न बैठें, दोस्तों से मिलें और बात करें। अपनी सभी जरूरी कामों को भी रोज की तरह करने की कोशिश करें। ऐसा करने से आपका तनाव काफी हद तक कम होगा। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हाइजीन का खास ध्यान रखें

पीरियड्स के समय अपने आप को साफ रखना बहुत ज़रूरी है, ताकि आप हैवी फ्लो में भी अपने आप को ड्राय महसूस करें। इसके लिए गुप्तांगों को नियमित रूप से गुनगुने पानी से धोना पर्याप्त है। साबुन या वैजाइनल हाइजीन प्रोडक्ट्स का उपयोग न करें क्योंकि ये प्रोडक्ट्स आपके गुप्तांगों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हर 4-6 घण्टे में पैड बदलती रहें, ताकि रैश या इन्फेक्शन की संभावना न रहे।

और पढ़ें : कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता का ध्यान रखना है बेहद जरूरी

हैवी फ्लो के दिनों में सही पैड चुनें

हैवी फ्लो के दिनों में रैश और खुजली की संभावना अधिक होती है, जिससे पीरियड्स की परेशानी और बढ़ जाती है। इसलिए जरूरी है कि अपने फ्लो और त्वचा के प्रकार के अनुसार सही पैड चुनें। हैवी फ्लो के दिनों के लिए साॅफ्ट लेयर वाला सुपर एब्जोर्बेन्ट पैड इस्तेमाल करें।

हाइजीन मेंटेन करना है जरूरी 

पीरियड्स के दौरान हाईजीन का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। इसलिए जरूरी है कि हर 4 घंटे में पैड को बदलें और ध्यान रखें कि पैड को ज्यादा लंबे समय तक न यूज करें, नहीं तो इससे इंफेक्शन के होने का अधिक खतरा रहता है। इससे कई तरह की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। इसी साथ सैनिटरी पैड्स तक पहुंच सुनिश्चित करने के साथ-साथ उसके डिस्पोज के लिए एक सिस्टम भी हो। 

खूब पानी पीएं

पीरियड्स के दौरान शरीर में रक्त का स्तर कम हो जाता है, इसलिए रोजाना 8-10 गिलास पानी पीएं। इससे आपको क्रैम्प और पीठ दर्द से भी आराम मिलेगा। अपने शरीर में नमक का सही संतुलन बनाए रखने के लिए इलेक्ट्रोलाईट जैसे गैटोरेड का सेवन करें। पानी पीने से शरीर की और भी बीमारियां बाहार निकलती है। इससे आपको वेट लॉस में भी 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

एक्सपर्ट से परिधी मंत्री

पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग के हो सकते हैं कई कारण, जानें क्या हैं एक्सपर्ट की राय

क्या आपको पता है कि पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग क्यों होती है, इसके बहुत से कारण हो सकते हैं, जानें क्या कहते हैं इस पर एक्सपर्ट और उनकी राय।

के द्वारा लिखा गया परिधी मंत्री
पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए अपनाएं ये एक्सपर्ट टिप्स

पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस कई महिलाओं में मुसीबत का कारण बनता है। स्ट्रेस का असर ओव्यूलेशन की प्रक्रिया पर पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप ओव्यूलेशन में देरी हो सकती है और पीरियड्स का साइकल...

के द्वारा लिखा गया परिधी मंत्री
पीरियड्स के दौरान स्ट्रेस

कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता का ध्यान रखना है बेहद जरूरी

कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता पर ध्यान देना ज्यादा जरूरी है। कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता बनाए रखने के टिप्स क्या हैं? पीरियड्स के दौरान हाइजीन के साथ-साथ...covid-19 and menstruational hygiene in hindi

के द्वारा लिखा गया परिधी मंत्री
कोविड-19 में मासिक धर्म स्वच्छता

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या आप भी कोविड इन्फेक्टेड हो चुके हैं, तो फिर इस दिवाली इन बातों का रखें खास ध्यान

दिवाली के समय कोविड के मरीजों के लिए समस्याएं बढ़ सकती हैं। इस लिए इस दीपावली सभी को कुछ खास बातों का ध्यान रखना आवश्यक है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन नवम्बर 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बुजुर्गों में टाइप 2 डायबिटीज के लक्षण और देखभाल के उपाय

डायबिटीज जीवनशैली से जुड़ी हुई बीमारी है, जो आजकल हर उम्र के लोगों को तेजी से अपनी ...

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स नवम्बर 9, 2020 . 2 मिनट में पढ़ें

Episode-5: डायबिटिक बच्चे किसी फाइटर से कम नहीं!

बच्चों में होने वाली डायबिटीज के दौरान पेरेंट्स रखें इन खास बातों का ध्यान। उन्हें जंक फूड से बचाने के साथ जरूरी हैं उनके लाइफस्टाइल में ये बदलाव।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स नवम्बर 6, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Episode-6 : प्रेग्नेंसी दौरान होने वाली जेस्टेशनल डायबिटीज के साथ बढ़ जाते हैं कॉम्प्लिकेशन

प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली डायबिटीज को जेस्टेशनल डायबिटीज कहते हैं। इस दौरान प्रेग्नेंट महिलाओं को कई बातों का ध्यान रखना आवश्यक है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज नवम्बर 6, 2020 . 2 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

सिर्फ महिलाएं ही नहीं, पुरुष भी होते हैं थायराइड का शिकार

सिर्फ महिलाएं ही नहीं, पुरुष भी होते हैं थायराइड का शिकार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ नवम्बर 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
सर्दियों में त्वचा की देखभाल

सर्दियों में त्वचा हो जाती है बेजान, इन टिप्स को अपनाकर डाल सकते हैं नई जान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ नवम्बर 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
वर्ल्ड मेंस डे

International Men’s Day: क्या पुरुष महिलाओं से ज्यादा इमोशनल होते हैं, जानें इस मेन्स डे पर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ नवम्बर 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

दिवाली पर इन हेल्दी फूड सब्सीटयूट के साथ बढ़ाएं अपनी इम्यूनिटी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ नवम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें