इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से हैं परेशान? ये घरेलू उपाय ट्राई कीजिए।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 30, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने के साथ एक्सरसाइज कर हम इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से निजात पा सकते हैं। इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के उपाय आजमाने की स्थिति में संभव है कि आपका शरीर तुरंत राहत न पहुंचाए, लेकिन कुछ समय के बाद जब आप नियमित तौर से इन घरेलू उपाय का पालन करेंगे तो वैसी स्थिति में आप खुद महसूस करेंगे कि आपको आराम पहुंचा है। इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लक्षणों के कारण कुछ मामलों में आप जहां असहज महसूस करने के साथ शर्मिंदगी महसूस कर सकते हैं। वहीं आपको कुछ प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं, जिनमें पेट में ऐंठन, सूजन, गैस का बनना, डायरिया जैसे लक्षणों को महसूस कर सकते हैं। मौजूदा समय में लाइफस्टाइल में बदलाव करने के साथ आप घरेलू उपाय को आजमाकर इससे काफी हद तक निजात पा सकते हैं। लेकिन हर व्यक्ति का शरीर अलग है उसी प्रकार इन घरेलू नुस्खों का असर भी अलग-अलग लोगों पर अलग प्रकार से हो सकता है, एक बार आपके शरीर के अनुसार यदि कोई नुस्खा फिट हो जाए तो उसे बार बार आजमाकर आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं। तो आइए इस आर्टिकल में हम इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय को जानते हैं।

वर्कआउट है सबसे बेहतर तरीका

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के लिए इससे निजात पाने के लिए आप नियमित तौर पर वर्कआउट कर सकते हैं। कई लोगों का मानना है कि एक्सरसाइज थका देने वाली क्रिया है, लेकिन यह भी सही है कि इससे तनाव, एंजाइटी और डिप्रेशन दूर होता है। खासतौर पर तब जब कोई व्यक्ति इसे नियमित तौर पर करता है। कोई भी चीज जो आपके तनाव को मुक्त करने में मदद करती है, वो आपके बॉवेल डिस्कंफर्ट को भी ठीक करती है। यदि आपने अभी तक एक्सरसाइज शुरू नहीं की है तो बेहतर यही होगा कि अभी शुरू करें, आप धीरे-धीरे कर एक्सरसाइज की आदत को विकसित करें। द अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार हर व्यक्ति को रोजाना 30 मिनट तक सप्ताह में कम से कम पांच दिन एक्सरसाइज जरूर करना चाहिए।

इन नेचुरल तरीकों को आजमाकर बीमारी से पाएं निजात

  • हिप्नोथेरेपी और मेडिटेशन : इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के तहत आप अनुभवी थेरेपिस्ट की सलाह ले सकते हैं। जो आपको भावनाओं व विचारों पर केंद्रित करना सिखाते हैं, इसकी मदद से आप टाइट स्टमक मसल्स को रिलेक्स कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको एक्सपर्ट की जरूरत पड़ेगी, जरूरी हुआ तो योगा क्लासेज लेनी पड़ सकती है। वहीं इस बीमारी से आराम पाने के लिए आपको कुछ महीनों तक हिप्नोथेरेपी को करना होगा। प्रशिक्षण लेने के बाद फिर आप कहीं से भी इसे आजमाकर समस्या से राहत पा सकते हैं।
  • मसाज है बेहतर विकल्प : इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के तहत रिलैक्स करने के लिएमसाज सबसे सरल तरीका है। मसाज थेरेपिस्ट के पास आप जा सकते हैं, कुछ एक्सपर्ट घरों में भी आकर सेवा देते हैं, उनकी मदद लेकर समस्या से निजात पा सकते हैं।

नियमित समय पर खाना खाएं 

आईबीएस से बचाव के लिए आप घरेलू नुस्खों में इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से बचाव के घरेलू उपाय में आप समय पर भोजन कर इस बीमारी से बचाव कर सकते हैं। इसके लिए भोजन को तय समय पर ही सेवन करें, गैप न करें, बॉवेल फंक्शन सही से काम करे इसके लिए आप एक निश्चित समय पर खाना खाएं। यदि आपको डायरिया है तो थोड़ा-थोड़ा कर भोजन करें। ऐसा कर आप बेहतर महसूस करेंगे। लेकिन यदि आपको कब्जियत है और आप ज्यादा मात्रा में फाइबर युक्त खाद्य सामग्री का सेवन कर रहे हैं तो आपके इंटेस्टाइन को सुचारू रूप से काम करने में मदद करता है।

नियमित तौर पर पानी पीते रहें

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय आजमाने के लिए शरीर में पानी की कमी न होने दें। इसके लिए रोजाना नियमित तौर पर पानी का सेवन करते रहें। कोशिश यही रहनी चाहिए कि इस बीमारी से बचाव के लिए जितना संभव हो सके उतना ही शराब और कॉफी जैसे पदार्थों से दूर रहना चाहिए। डायरिया की स्थिति में यह खाद्य पदार्थ रोग बढ़ाने का काम करते हैं। वहीं कार्बोनेटेड ड्रिंक गैस बनाने का काम करते हैं।

जितवा संभव हो सके रहें रिलैक्स 

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के लिए आप चाहें तो रिलेक्सेशन टेक्निक को आजमा सकते हैं। वहीं इसे रोजमर्रा की दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। जो आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होगा। खासतौर पर तब जब आप इस बीमारी से जूझ रहे हो। द इंटरनेशनल फाउंडेशन फॉर फंक्शनल गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिसऑर्डर के अनुसार तीन प्रकार के रिलेक्सेशन तकनीक को आजमाकर व्यक्ति इरिटेबल बावेल सिंड्रोम से निजात पा सकता है। इसके लिए आप इन तरीकों को कर सकते हैं फॉलो, जैसे;

  • एब्डॉमिनल ब्लीडिंग
  • प्रोग्रेसिव मसल्स रिलेक्शन
  • विजवलाइजेशन/पॉजिटिव इमीजिनेरी

योग से करें दर्द का नियंत्रण, वीडियो देख एक्सपर्ट की लें राय

ज्यादा से ज्यादा फाइबर का सेवन करना है बेहतर

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के लिए आप चाहें तो वैसे खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं जिसमें ज्यादा से ज्यादा फाइबर होता है। कब्जियत के साथ यह बीमारी से राहत दिलाने के साथ बीमारी के कुछ लक्षणों को कम करता है। लेकिन यह अन्य लक्षणों जैसे क्रैंपिंग और गैस को और भी ज्यादा जटिल कर देता है। बावजूद इसके हाई फाइबर फूड जैसे फ्रूट्स, हरी सब्जियां, बींस आदि का सेवन आप इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से निजात पाने के लिए कुछ सप्ताह तक कर सकते हैं। कुछ केस में आपका डॉक्टर आपको डायटरी फाइबर के अलावा फाइबर सप्लीमेंट का सेवन करने का सुझाव दे सकता है, जिसमें मेटामूसील (Metamucil) एक है। अमेरिकन कॉलेज ऑफ गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी के अनुसार वैसे खाद्य पदार्थ जिसमें सिलियम (psyllium) एक प्रकार का फाइबर, पाया जाता है उसका सेवन करने से इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लक्षणों में कमी आती है।

और पढ़ें : Gastritis: गैस्ट्राइटिस क्या है?

डेयरी प्रोडक्ट का सेवन कर सकते हैं

वैसे लोग जो लैक्टोस को पसंद नहीं करते हैं उन्हें आईबीएस की बीमारी होने की संभावनाएं अधिक रहती है। वहीं इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय में आप चाहें तो दूध की बजाय दही का सेवन कर सकते हैं। या फिर एंजाइम उत्पाद का उपयोग करने की सोच सकते हैं। आपके डॉक्टर डेयरी प्रोडक्ट का सेवन नहीं करने की सलाह दे सकते हैं। ऐसे में आप यह सुनिश्चित करें कि प्रोटीन और कैल्शियम की मात्रा को अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन कर पूरा करें। इसके लिए आप डायटिशियन की सलाह ले सकते हैं।

और पढ़ें : GERD: गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) क्या है?

लैक्साटिव को लेकर रहें सावधान

आप मेडिकल स्टोर से दवा को खरीदकर सेवन करने से इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से निजात पा सकते हैं। लेकिन इस स्थिति में या तो आपके लक्षण ठीक हो जाते हैं या फिर कुछ मामलों में यह और ज्यादा बिगड़ जाते हैं। इसलिए बेहतर यही होगा कि दवा का सेवन करने के पूर्व आप डॉक्टरी सलाह लें। उसके बाद ही वैसी दवाओं का सेवन करना चाहिए, क्योंकि कुछ मेडिकल कंडीशन सहित अन्य परिस्थिति में खुद से दवा का सेवन करने से उसके दुष्परिणाम देखने को मिलते हैं। इसलिए बेहतर यही होगा कि आप डॉक्टरी सलाह लें।

और पढ़ें : अपच ने कर दिया बुरा हाल, तो अपनाएं अपच के घरेलू उपाय

खानपान को लेकर रहें सचेत

यह सही बात है कि कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन करने से गेस्ट्रोइंटेस्टाइनल दर्द और ज्यादा बढ़ सकती है। इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय को आजमाकर आप उससे निजात पा सकते हैं, इसके लिए जरूरी है कि आप अपनी डाइट में कुछ बदलाव करें, ताकि लक्षणों से बचाव किया जा सके। आप चाहें तो इन खाद्य पदार्थों और ड्रिंक को डाइट में शामिल नहीं कर बीमारी से बचाव कर सकते हैं। जैसे-

  • बींस
  •  पत्ता गोभी
  •  फूल गोभी
  •  हरी गोभी
  •  शराब
  •  चॉकलेट
  •  कॉफी
  •  सोडा
  •  डेयरी प्रोडक्ट

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के लिए हमने वैसे खाद्य पदार्थों व ड्रिंक की चर्चा की जिसका सेवन नहीं करना चाहिए। वहीं अमेरिकन कॉलेज ऑफ गेस्ट्रोइंट्रेलॉजी के अनुसार वैसे खाद्य पदार्थ जिनमें प्रोबायोटिक्स और बैक्टीरिया होते हैं वो हमारे डायजेस्टिव सिस्टम के लिए काफी लाभकारी होते हैं। वहीं उसका सेवन कर हम सूजन, गैस सहित इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के कई लक्षणों से निजात पा सकते हैं।

गैस का दर्द जानने के लिए खेलें क्विज : Quiz : गैस दर्द का क्या है कारण? क्विज से जानें गैस को दूर करने के टिप्स

तनाव के साथ डाइट मैनेज कर पाएं निजात

आईबीएस के कारण आपको अपने पेट में दर्द का एहसास हो सकता है, लेकिन आप इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय को आजमाकर निजात पा सकते हैं। उसके लिए आप अपने तनाव को मैनेज करने के साथ डाइट को मैनेज करने की आवश्यकता होती है। ऐसे में आप अपने डॉक्टर, एक्सपर्ट या फिर डायटिशियन की सलाह ले सकते हैं। उनकी सलाह के अनुसार आप कुछ तकनीक को आजमाकर और लाइफस्टाइल में बदलाव कर आराम पा सकते हैं।

और पढ़ें : Indigestion: अपच क्या है?

हर्बल ट्रीटमेंट की ओर कर सकते हैं रुख

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के तहत हर्बल ट्रीटमेंट को अपना सकते हैं। इसके तहत गैस के कारण पेट दर्द और पेट में असहज महूसस हो रहा हो तो उससे निजात पाई जा सकती है। आप चाहें तो इसे नियमित तौर पर सेवन कर सकते हैं, मौजूदा समय में यह सप्लीमेंट टैबलेट और लिक्विड फॉर्म में भी उपलब्ध है। लेकिन सबसे अहम यह कि हर्बल सप्लीमेंट लेने के पूर्व डॉक्टरी सलाह जरूर लेनी चाहिए उसके बाद ही इसका सेवन करना उचित होता है।

  • पेपरमिंट ऑयल : इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के तहत कुछ शोधकर्ताओं का यह मानना है कि पेपरमिंट ऑयल हमारे मसल्स को ईजी करता है। वहीं खाने को पचाने में मदद करता है। यह हमें आईबीएस के दर्द से कुछ देरी के लिए निजात दिलाता है, कुछ मामलों में देखा गया है कि यह हमारे हार्ट बर्न को और भी ज्यादा बढ़ा देता है।
  • अदरक का करें इस्तेमाल : अदरक के पौधा का इस्तेमाल इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के घरेलू उपाय के तहत कर सकते हैं। यह जी मचलाना और पेट संबंधी अपच को कम करने में मदद करता है। इतना ही नहीं यह हमारे पेट के सूजन को शांत करने में भी मदद करता है, माना जाता है कि पेट के अंगों को मजबूत करने में भी यह मदद करता है।

जानें किसे करना चाहिए और किसे नहीं

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम से कोई एक दिन में निजात नहीं पा सकता। इसके लिए आपको इन घरेलू उपायों को अपनी लाइफस्टाइल में शामिल करना होता है, वहीं धीरे-धीरे कर हम इस समस्या से निजात पा सकते हैं। बस जरूरत है बताई गई इन तमाम बातों को लाइफस्टाइल में शामिल करने की। वहीं कई ऐसे भी मामले हैं, जैसे हर्बल सप्लीमेंट्स व अन्य के लिए आपको डॉक्टरी सलाह की जरूरत पड़ती है। उनसे सलाह लेने के बाद ही इन घरेलू उपाय को आजमाना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Zinetac: जिनटैक क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जिनटैक दवा की जानकारी in hindi वहीं इसके उपयोग, डोज, साइड इफेक्ट्स, सावधानी और चेतावनी को जानने के साथ इसे कैसे स्टोर करने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

अगर गैस की समस्या से आपको बचना है तो इन फूड्स का सेवन न करें

गैस की समस्या पर क्या न खाएं in hindi, आप रात के डिनर में बहुत से ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। जिनसे आपको रात में गैस की समस्या होती है।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by shalu

Lumbar spinal stenosis: लम्बर स्पाइनल स्टेनोसिस क्या है ?

बढती उम्र के साथ हड्डियों में रगड़ के कारण रीढ़ की हड्डी की नलिका संकुचित हो जाती है, इस स्थिति को स्पाइनल स्टेनोसिस कहा जाता है। 50 वर्ष के बाद हो सकता है।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Siddharth Srivastav
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Zantac- जानिए जैनटैक के उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जैनटैक टैबलेट क्या है in hindi, जैनटैक टैबलेट के उपयोग और साइड इफेक्ट क्या है, Zantac (Ranitidine) के क्या जोखिम हैं जानिए यहां।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Kanchan Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

शिशु में गैस की परेशानी

शिशुओं में गैस की परेशानी का घरेलू उपचार

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on अगस्त 5, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
क्रीमैलेक्स टैबलेट

Cremalax Tablet: क्रीमैलेक्स टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Cipcal: सिपकल

Nodosis: नोडोसिस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Colicaid drops : कोलिकेड ड्रॉप

Colicaid drops: कोलिकेड ड्रॉप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
Published on जून 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें