कंडोम के साथ ओरल सेक्स करना कितना सुरक्षित है, जानिए इस आर्टिकल में

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

ओरल सेक्स यानी शारीरिक संबंधों का अधिक मजा लेने के लिए अपने पार्टनर के गुप्तांगों को अपने मुंह, जीभ और होंठो से छूना। युवाओं में सेक्स का यह तरीका बेहद प्रचलित है। लेकिन, बहुत कम लोग यह जानते होंगे कि ओरल सेक्स के लिए कंडोम या डेंटल डैम का प्रयोग भी किया जाता है। कंडोम एक पतला और लचीला पाउच होता है जिसे सेक्स के दौरान पुरुष अपने लिंग पर पहनता है। वहीं डेंटल डैम को भी ओरल सेक्स के दौरान प्रयोग किया जाता था और इसे मुंह में पहना जाता है। ओरल सेक्स से गर्भवती होने का कोई खतरा नहीं होता लेकिन फिर भी डेंटल डैम या कंडोम के साथ ओरल सेक्स की सलाह दी जाती है। जानिए ऐसा क्यों हैं और रखिये इस दौरान कुछ बातों का खास ख्याल।

ओरल सेक्स और STIs

इसके कोई संदेह नहीं है कि ओरल सेक्स से गर्भावस्था का खतरा नहीं होता लेकिन फिर भी यह इतना सुरक्षित तरीका नहीं है। कई लोग यह नहीं जानते होंगे कि ओरल सेक्स से सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शनस (STIs) होने की संभावना अधिक होती है। ओरल सेक्स से गुप्तांगों में दाद, गोनोरिया और सिफलिस जैसे इंफेक्शन भी हो सकते हैं। यही नहीं, इनके अलावा भी कुछ अन्य एसटीआई (STIs) होने का खतरा भी बना रहता है। लोग ऐसा मानते हैं कि सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शनस केवल योनि या गुदा सेक्स से फैलते हैं। किंतु, यह ओरल सेक्स से भी फैल सकते हैं। इसलिए आपको इन इंफेक्शनस और उनसे बचाव के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए।

और पढ़ें: Oral Sex: ओरल सेक्स के दौरान इन सावधानियों को नजरअंदाज करने से हो सकती है मुश्किल

ओरल सेक्स से SITs कैसे हो सकती हैं?

कंडोम के साथ ओरल सेक्स करना सुरक्षित है या नहीं इससे पहले यह जानना अवश्य है कि ओरल सेक्स से यह इंफेक्शन हो कैसे सकते हैं। ओरल सेक्स से कई STIs और अन्य इंफेक्शन हो सकते हैं। मान लीजिये, अगर आपका पार्टनर इंफेक्टेड है तो वो अपने मुंह, गले, गुप्तांगों या गुदा के माध्यम से आपको भी संक्रमित कर सकता है। ओरल सेक्स से  STIs होना और इनका फैलना कई चीज़ों पर निर्भर करती हैं। जैसे:

  • अगर पुरुष का लिंग संक्रमित हो, तो ओरल सेक्स के दौरान महिला को गले में क्लैमाइडिया (chlamydia) होने का खतरा रहता है। क्लैमाइडिया सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शनस का ही एक प्रकार है।
  • अगर महिला की योनि या मूत्र पथ (urinary tract) संक्रमित है, तो ओरल सेक्स से पुरुष को गले में क्लैमाइडिया (chlamydia) होने का खतरा रहता है।
  • इसी तरह से संक्रमित गुदा से पार्टनर के गले में क्लैमाइडिया (chlamydia) होने का खतरा रहता है।
  • अगर पार्टनर का गला क्लैमाइडिया (chlamydia) से संक्रमित हो तो लिंग, योनि या गुदा के माध्यम से दूसरा साथी भी संक्रमित हो सकता है।

शुरुआती संक्रमण की जगहें 

आपके यह अंग सबसे पहले संक्रमित होंगे:

  • गला 
  • गुप्तांग
  • मूत्र पथ  (Urinary tract)
  • मलाशय 

जब पार्टनर ओरल सेक्स के माध्यम से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क इन अंगों में आएगा तो उसके संक्रमित होने की संभावना भी बढ़ जाती है।

और पढ़ें :संभोग के तरीके में बदलाव करके सेक्स लाइफ बनाए मजेदार

क्या कंडोम संक्रमण से बचा सकता है?

इस सवाल का उत्तर है – हाँ, कंडोम के साथ ओरल सेक्स करने पर संक्रमण या इंफेक्शन से बचा जा सकता है। यह भी कहा जा सकता है कि कंडोम के साथ ओरल सेक्स करने से गर्भवती होने के साथ-साथ इंफेक्शन या संक्रमण होने की संभावना कम होती है। कंडोम शरीर से निकलने वाले फ्लूइड जिसमें इंफेक्शन होता है। उसे आपके या आपके साथी के शरीर के अंदर तक नहीं जाने देता, जिससे इस समस्या से छुटकारा मिलता है। यही नहीं, कंडोम को लिंग के ऊपर पहना जाता है इसलिए यह दाद और गुप्तांग के मस्सों से सुरक्षा में भी मदद करता है जो दूसरे की त्वचा को छूने से होते हैं। यानी, कंडोम के साथ ओरल सेक्स गर्भावस्था और इंफेक्शन दोनों से सुरक्षा करता है।

और पढ़ें : Anal Sex: एनल सेक्स से जुड़े मिथक और उनके पीछे का सच

ओरल सेक्स और कंडोम?

समय के बदलने के साथ ही हर चीज़ बदल रही है पिछले कुछ समय में सेक्स के तरीकों और कंडोम में भी बदलाव आया है। आज बाजार में आपको हर तरह के कंडोम मिल जाएंगे। ओरल सेक्स में यह कंडोम बेहद लाभदायक हैं। जानिए कैसे:

स्वाद

ओरल सेक्स फोरप्ले का महत्वपूर्ण हिस्सा है, जिसमें आप पार्टनर के शरीर के विभिन्न भागों को अपने मुंह, होंठो या जीभ से छूते  हैं। पुरुष इस सेंसेशन को बेहद पसंद करते हैं। कुछ लोगों की यह शिकायत होती है कि बाजार में मिलने वाले सामान्य कंडोम का स्वाद और गंध बहुत बेकार होती है। जिससे ओरल सेक्स में उनकी रूचि कम हो जाती है। कंडोम इंडस्ट्री अब ओरल सेक्स को अधिक मज़ेदार बनाने के लिए तरह-तरह के प्रयोग कर रही है। अब बाजार में विभिन्न फ्लेवर्स के कंडोम मौजूद है जैसे ऑरेंज, चॉकलेट, ग्रेप आदि। यानी, अब ओरल सेक्स के दौरान आपको बुरे स्वाद या गंध से नहीं गुजरना पड़ेगा बल्कि आप अपनी पसंद का फ्लेवर और कंडोम चुन सकते हैं।

और पढ़ें- ओरल सेक्स क्या है? युवाओं को क्यों है पसंद?

कंडोम में तरह- तरह के फ्लेवर लाने का असली मकसद है ओरल सेक्स को सुधारना। ताकि, लोग कंडोम के साथ ओरल सेक्स का भरपूर मज़ा ले सके और संक्रमण या अन्य रोगों से भी बचे।

सेंसेशन

अधिकतर लोगों का मानना है कि कंडोम के साथ ओरल सेक्स करने पर वो उतना ही एन्जॉय करते हैं जितना सामान्य सेक्स के दौरान करते हैं। यही नहीं, कुछ लोग इसे अधिक पसंद करते हैं।

और पढ़ें :संभोग करने से पहले जाने कामसूत्र में अध्यात्म का ज्ञान

इन बातों का ध्यान रखें 

अगर आप कंडोम के साथ ओरल सेक्स कर रहे हैं तो इन बातों का ध्यान रखें 

  • लिंग(Penis) के लिए लेटेक्स कंडोम का प्रयोग करें या अगर आप डेंटल डैम का प्रयोग कर रहे हैं, तो यह भी लेटेक्स होना चाहिए। इससे मुंह में योनि से निकलने वाला द्रव या खून के मुंह में जाने की संभावना नहीं रहती और कई रोगों से बचाव होता है। अगर आपके पास यह नहीं है तो आप खाने को लपेटने वाले प्लास्टिक का प्रयोग भी डेंटल डैम के रूप में कर सकते हैं । 
  • अगर आप या आपका पार्टनर लेटेक्स से एलर्जिक हैं तो आप प्लास्टिक कंडोम का प्रयोग भी कर सकते हैं।
  • अगर आप ओरल सेक्स कर रहे हैं, जिसमें आपका मुंह आपके पार्टनर के गुदा के संपर्क में है तो लाटेकस बैरियर का प्रयोग करें। 
  • अगर आप किसी सेक्स टॉय जैसे डिल्डो या वाइब्रेटर को अपने पार्टनर के साथ शेयर करते हैं, तो आप दोनों को हर बार सेक्स टॉय पर नया कंडोम प्रयोग करना चाहिए। हर बार प्रयोग के बाद सेक्स टॉय को साफ़ करना भी आवश्यक है। 
  • ऐसे कंडोम का प्रयोग करें जो पूरी तरह से आपके लिंग को फिट हो। ऐसा कंडोम जो ढीला है या फटा हुआ हो वो इस दौरान समस्या का कारण बन सकता है। 
  • ऐसे कंडोम जो पहले से ही लुब्रिकेटेड हो, उनका स्वाद ख़राब हो सकता है। आप अपने लुब्रिकेट का इस पर प्रयोग कर के इस कुछ हद तक बेहतर बना सकते हैं और कंडोम के साथ ओरल सेक्स का आनंद ले सकते हैं।
  • आपको ओरल सेक्स के दौरान कभी भी उस कंडोम का प्रयोग नहीं करना चाहिए जिसमें नॉनॉक्सिनॉल -9 शुक्राणुनाशक (spermicide) हो, इससे आपका मुंह सुन्न हो सकता है या आपको कोई चोट लग सकती है।

सेक्स से जुड़े किसी भी मुद्दे पर अगर आपका कोई सवाल है, तो कृपया इस बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

तरह-तरह के कॉन्डम फ्लेवर से लगेगा सेक्स लाइफ में तड़का

क्या आपने कभी आचारी फ्लेवर कॉन्डम के बारे में सुना? जानें मार्केट में आ रहे तरह-तरह के कॉन्डम्स के बारे में और उनसे कैसे रोमांचक बनाएं अपनी सेक्स लाइफ। कॉन्डम के प्रकार, कॉन्डम फ्लेवर लिस्ट, flavored condoms in hindi

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Shikha Patel

क्या है डॉटेड कोंडम के फायदे?

जानिए डॉटेड कोंडम से जुड़ी जानकारी, Benefits of dotted condoms in Hindi, डॉटेड कोंडम या अन्य कोंडम इस्तेमाल के पहले किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Hema Dhoulakhandi

रिब्ड और डॉटेड कॉन्डम में क्या है अंतर, जानिए इनके फायदे

क्या आप जानते हैं कि रिब्ड और डॉटेड कॉन्डम में क्या अंतर है? यह दोनों ही कॉन्डम सेक्स के प्लेजर को बढ़ावा देने में कैसे मददगार होते हैं? जानें यहां...

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Hema Dhoulakhandi

आखिर क्यों मार्केट में आए फ्लेवर कॉन्डम? जानें पूरी कहानी

क्या आपने कभी सोचा है कि अचानक मार्केट में फ्लेवर कॉन्डम इतने ज्यादा क्यों आने लगे? फ्लेवर्ड कॉन्डम ओरल सेक्स में क्यों इस्तेमाल किया जाता है? जानें इसके पीछे की पूरी कहानी...

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Hema Dhoulakhandi

Recommended for you

एनल सेक्स के फायदे

क्या आपने कभी किया एनल सेक्स? शरमाएं या हिचकिचाएं नहीं जानिए इसके फायदे

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
Published on जून 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
पुरुष कंडोम-purush condom

इन वजहों से कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहते पुरुष

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Hema Dhoulakhandi
Published on मई 12, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कॉन्डम के प्रकार, कंडोम कैसे चुनें, types of codnom

कॉन्डम के प्रकार हैं इतने सारे, कॉन्डम कैसे चुनें क्या जानते हैं आप?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Shikha Patel
Published on दिसम्बर 3, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
फ्लेवर्ड कॉन्डम

फ्लेवर्ड कॉन्डम : यह तो हद ही हो गई चिकन टिक्का मसाला फ्लेवर में कॉन्डम?

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Shikha Patel
Published on नवम्बर 25, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें