STD: सुरक्षित संभोग करने की डाले आदत, नहीं तो हो सकता है इस बीमारी का खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

सेक्स के दौरान आजकल के युवा अपनी भावनाओं में इस प्रकार खो जाते हैं, कि वो सेक्स के दौरान सावधानी रखना भूल जाते हैं। सुरक्षा हटी दुर्घटना घटी, ये कहावत तो आपने सुनी ही होगी। यह कहावत हमारे जीवन में पूरी तरह से फिट बैठती है। कुछ देर की उत्तेजना के चलते हम कभी-कभी इतना खो जाते हैं, कि सेक्स के दैरान कई गलतियां कर बैठते हैं। कई बार सेक्स में की गई लापरवाही आपके लिए कई मुसीबतें पैदा कर सकती हैं। इसलिए यदि आप सेक्स को लेकर किसी डॉक्टर या सलाहकार से परामर्श करते हैं, तो वो आपको सुरक्षित संभोग करने की सलाह देता है। 

दरअसल सुरक्षित संभोग न करने से एसटीडी विकार होने का खतरा बना रहता है। यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) ऐसे संक्रमण हैं जो यौन संपर्क से फैलते हैं।  इसको यौन संचारित रोग (Sexually Transmitted Disease) कहते हैं। यह सेक्स के दौरान की गई लापरवाही, या असुरक्षित संभोग के कारण होता है। सेक्स के दौरान आपको गर्भवती होने से बचने के लिए कई तरीके बताए जाते हैं। लेकिन सेक्स से होने वाले विकार के बारे में आपने बहुत कम ही सुना होगा। इसलिए आज हम आपको सेक्स से जुड़ी बीमारियों से सावधानी बरतने के बारे में बताएंगे।

एसटीआई कैसे फैलता है?

यह सुरक्षित संभोग न करने से होता है। जैसे, यदि आपके पार्टनर के जननांग में किसी प्रकार का संक्रमण है, ऐसे में यदि आप उसके साथ संभोग करते हैं तो आपको एसटीआई होने की संभावना बढ़ जाती है। एसटीआई त्वचा, जननांगों, मुंह, मलाशय के संपर्क से एक-दूसरों में फैल सकता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

एसटीआई के कारण हैं?

एसटीआई बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण के कारण होता है। बैक्टीरिया के कारण होने वाले एसटीआई का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं से किया जाता है। वायरस के कारण होने वाले रोगों को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन लक्षणों का इलाज किया जा सकता है।

और पढ़ें : लॉकडाउन में बढ़ी सेक्स टॉय की बिक्री, एक सर्वे में सामने आई कई चौंकाने वाली बातें

सबसे आम एसटीआई में क्या-क्या हो सकते हैं?

एसटीडी के प्रकार

एसटीडी के 3 अलग-अलग प्रकार हैं,

  • बैक्टीरियल एसटीडी को आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं के साथ ठीक किया जा सकता है। यदि इन्हें अनुपचारित छोड़ दिया तो वे आगे की जटिलताओं को जन्म दे सकते हैं। सामान्य जीवाणु एसटीडी हैं,
  1. गोनोरिया
  2. क्लैमाइडिया
  3. सिफलिस
  • वायरल एसटीडी को ठीक नहीं किया जा सकता है, हालांकि कई दवाओं के साथ इलाज किया जा सकता है। कुछ वायरल एसटीडी, जैसे कि मानव पेपिलोमा वायरस  (एचपीवी), स्वंय ही ठीक हो सकता है। सामान्य वायरल एसटीडी में शामिल हैं।

और पढ़ें : इन एक्सरसाइज को करें ट्राई और सेक्स लाइफ में लगाएं तड़का

  1. एचआईवी
  2. जननांग दाद
  3. एचपीवी
  4. हेपेटाइटिस बी 
  5. एचपीवी और हेपेटाइटिस बी दोनों को रोकने के लिए एक टीका उपलब्ध है
  • परजीवी एसटीडी को दवाओं और क्रीम से ठीक किया जा सकता है। सामान्य उदाहरणों में खुजली और जूं शामिल हैं।

 एसटीआई होने के जोखिम को कैसे कम कर सकता हैं?

ऐसे कई तरीके हैं जिन्हें अपनाकर हम एसटीआई होने के जोखिम को कम कर सकते हैं। इसके कई तरीके हैं।

  • सुरक्षित संभोग करने के लिए ध्यान रखें की हर बार सेक्स करते समय लेटेक्स कंडोम का इस्तेमाल करें। लेटेक्स कंडोम का उपयोग करने से संक्रमण की संभावना कम हो जाती है। शुक्राणुनाशकों के साथ चिकनाई वाले कंडोम अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। 
  • यदि आप सेक्स के दौरान लुब्रिकेंट का उपयोग करते हैं, तो यह ध्यान में रखें की यह लिक्विड वाला होना चाहिए। सुरक्षित संभोग करते वक्त इन बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है।
  • सावधानी के लिए सेक्स के दौरान कंडोम के इस्तेमाल करना न भूले। वैसे रोग या गर्भावस्था को रोकने में कंडोम 100% प्रभावी नहीं है। हालांकि, अगर वे ठीक से उपयोग किए जाते हैं तो वे बेहद प्रभावी हैं। किसी चिकित्सक से जानें कि कंडोम का सही उपयोग कैसे करें। सुरक्षित संभोग के लिए सही तरीका जानना बेहद महत्वपूर्ण होता है।

कोरोना वायरस और सेक्स लाइफ के कनेक्शन को जानने के लिए खेलें क्विज : क्या कोरोना वायरस और सेक्स लाइफ के बीच कनेक्शन है? अगर जानते हैं इस बारे में तो खेलें क्विज

  • अपने जननांगों में इस्तेमाल करने के लिए तौलिया या अंडरक्लाइंग साझा करने से बचें। इससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ सकता है।
  • सुरक्षित संभोग करने के लिए हाइजीन का पूरा ध्यान रखना चाहिए। इसलिए ध्यान रखें कि संभोग से पहले और बाद में अपने जननांग,मुंह और हाथ जरूर धोएं।
  • हेपेटाइटिस बी के लिए एक टीकाकरण जरूर लगवाएं। यह तीन शॉट्स की एक श्रृंखला है। जिसे पूरा करने से यह सुरक्षित हो सकता है।
  • सुरक्षित संभोग को ध्यान में रखते हुए एचआईवी के लिए परीक्षण करवाएं। यह परीक्षण न केवल स्वयं का बल्कि अपने सेक्स पार्टनर का भी करवाना बेहद आवश्यक होता है। एचआईवी जैसी घातक बीमारी संभोग से आसानी से फैल सकती है। इसलिए यह परीक्षण कराना बेहद आवश्यक है।
  • अगर आपको ड्रग या एल्कोहल के दुरुपयोग की समस्या है, तो इसे छोड़ने के लिए चिकित्सक मदद लें। जो लोग नशीली पदार्थो का सेवन करते हैं, या नशे में सेक्स करते हैं। वे अक्सर सेफ सेक्स करने में विफल होते हैं।

और पढ़ें : सेक्स को लेकर हमेशा रहे जागरूक, ताकि सुरक्षित सेक्स कर बीमारियों से कर सकें बचाव

  • इस बात पर विचार करें कि सेक्स न करना एसटीडी को रोकने का एकमात्र निश्चित तरीका नहीं है। एक बार यह भी सोचा गया था कि नॉनऑक्सिनॉल -9 वाले कंडोम के इस्तेमाल से एसटीडी को उन जीवों को रोकने में मदद मिली जो बीमारी का कारण बन सकते हैं। तो वहीं एक नए शोध से पता चलता है कि ऐसा करने से  महिलाओं की योनि और गर्भाशय ग्रीवा में जलन होती है और एसटीडी संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। वर्तमान में नॉनऑक्सिनॉल -9 वाले कंडोम के उपयोग से बचने की सलाह दी जाती है।

एसटीआई गर्भावस्था को कैसे प्रभावित कर सकता है?

गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित संभोग अत्यधिक आवश्यक हो जाता है। क्योंकि गर्भावस्था के दौरान एसटीआई होने से भ्रूण को नुकसान हो सकता है। गोनोरिया और क्लैमाइडिया दोनों ही शिशु में आंखों के संक्रमण से लेकर निमोनिया तक की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं। सिफलिस (Syphilis) गर्भपात या स्टिलबर्थ का कारण बन सकता है। योनि में जन्म के दौरान बच्चे को एचआईवी संक्रमण हो सकता है। इस प्रकार यह गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है।

और पढ़ें : बढ़ती उम्र और सेक्स में क्या है संबंध, जानें बुजुर्गों को सेक्स के दौरान किन-किन बातों का रखना चाहिए ख्याल 

एसटीडी फैलने से कैसे रोक सकता हूँ?

यह जानना बेहद जरूरी है कि आप ऐसा क्या करें, जिससे आपके कारण किसी और को एसटीडी न हो। क्योंकि इसे फैलाने के जरिया असुरक्षित सेक्स है। इसलिए आइए जानते हैं। आखिर आप इसे दूसरों में फैलाने से कैसे रोक सकते हैं।

  • उपचार के लिए अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें।
  • यदि आप सेक्स के लिए अपना पार्टनर बदल रहे हैं, तो कंडोम का उपयोग करना कभी न भूलें।
  • जब तक आपका डॉक्टर इलाज चल रहा है तब तक किसी भी व्यक्ति के साथ सेक्स करना बंद करें।
  • जब तक आपका डॉक्टर यह ठीक नहीं कहता की अब आप ठीक हो गए हैं। तब तक किसी के साथ सेक्स करने से उसपर दुष्प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेक्स न करें।
  • अपने डॉक्टर के पास अपने चेकअप के लिए जाते रहें।
  • आपका यह पता लगाना बेहद आवश्यक है की आपकी तरह आपके सेक्स पार्टनर के सभी समस्याओं का इलाज पूरी तरह से हो गया है। यह ध्यान में रखें की यदि उसको किसी प्रकार के संक्रमण की समस्या है, तो उसके साथ सेक्स न करें। 

और पढ़ें : इन एक्सरसाइज को करें ट्राई और सेक्स लाइफ में लगाएं तड़का

  • यदि आप जल्दी-जल्दी बहुत बार अपने सेक्स पार्टनर्स को बदल चुके हैं, तो अब समय आ गया है की आप उन्हें सीमित करें। जी हां अपने सेक्स पार्टनर की लंबी लिस्ट को कम करें। इससे संक्रमण और कई बड़ी बीमारियां होने का खतरा होता है। कुछ मामलों में कंडोम भी सुरक्षा प्रदान कराने में असफल रहता है।
  • किसी के साथ भी संबंध बनाने से पहले उसकी पूरानी सेक्स लाइफ और आदतों के बारे में जरूर जानने की कोशिश करें।
  • कुछ शुक्राणुनाशकों के लगातार उपयोग से एचआईवी का खतरा बढ़ सकता है।
  • अपना पर्सनल वाइब्रेटर किसी दूसरे के साथ शेयर न करें, इससे संक्रमण फैलने का खतरा होता है।
  • कुछ महिलाएं घर पर मास्टरबेशन के लिए कुछ सामग्री का उपयोग करती है। जिसमें वाइब्रेटर और कुछ सब्जियां शामिल होती है। लेकिन इस दौरान इनका उपयोग करने से पहले साफ जरूर कर लें। बिना साफ किए उपयोग करने से आपके वजाइना में इंफेक्शन हो सकता है।
  • सेक्स के नाम पर कई बार कुछ खतरनाक पोजिशन और तरीके बताए जाते हैं। यदि आपको उसमें किसी प्रकार का जोखिम महसूस हो रहा है, तो ऐसे में आपको इसे करने से बचना चाहिए। 

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

World Population Day- जनसंख्या नियंत्रण नहीं किया गया तो चीन से आगे निकल जाएगा भारत

जनसंख्या नियंत्रण के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर देश की बढ़ती आबादी से जुड़े कुछ पहलुओं पर गौर करते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh

एसटीडी के बारे में सही जानकारी ही बचा सकती है आपको यौन रोगों से

एसटीडी के बारे में जानकारी के अभाव में लोगों को लगता है कि यह सिर्फ वजाइनल और गुदा मैथुन एसटीडी संचारित करने का एकमात्र तरीका है। ओरल एसटीडी ज्यादातर नजरअंदाज कर दिए जाते हैं। About STD in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

एल जी बी टी क्यू सेक्स गाइड, एल जी बी टी सेक्स के बारे में जानें सबकुछ

एल जी बी टी क्यू सेक्स क्या है, एल जी बी टी क्यू सेक्स गाइड क्या है, गे, लेस्बियन, ट्रांसजेंडर, बाइसेक्सुअल, धारा 377, LGBTQ Sex Guide in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

सेक्स में विथड्रॉ मेथड क्या होता है, क्या इससे गर्भवती होने का डर है?

विथड्रॉ मेथड क्या है, Withdraw Method in sex in hindi, सेक्स में विथड्रॉ मेथड कैसे होता है, sex mein withdraw method kya hai, sex mein pull out method kaise karein, सेक्स में पुल आउट मेथड क्या है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal

Recommended for you

सेक्स ड्राइव क्विज -sex drive quiz

फर्स्ट टाइम सेक्स के बाद ब्लीडिंग होना सामान्य है या असामान्य, इसके पीछे का कारण जानें

के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
कॉन्डोम क्विज - condom quiz

Quiz : खेलकर पता लगाएं कॉन्डोम के बारे में कितना जानते हैं आप?

के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 24, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
सेक्स के बाद क्या होता है?

सेक्स के बाद क्या होता है? जानिए वर्जिनिटी खोने से पहले कुछ विशेष तथ्यों के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 29, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सेक्स के दौरान दर्द

महिलाओं और पुरुषों को आखिर क्यों होता है सेक्स के दौरान दर्द?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 27, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें