Concussion : कंकशन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date मई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

कनकशन (concussion) क्या है?

कंकशन एक प्रकार की ट्रॉमेटिक ब्रेन इंजरी है जो सिर में लगी गहरी चोट लगने से होती है। कुछ लोगों में कंकशन के स्पष्ट लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे चोट लगने से पहले क्या हुआ था  ये भूल जाना लेकिन, पर्याप्त रूप से आराम करने से अधिकांश लोग पूरी तरह से कंकशन (concussion) से उबर जाते हैं। कुछ लोग तो कुछ घंटों में ही ठीक हो जाते हैं तो वहीं अन्य लोगों को ठीक होने में कुछ सप्ताह लगते हैं।

यह भी पढ़ें : स्टडी: ब्रेन स्कैन (brain scan) में नजर आ सकते हैं डिप्रेशन के लक्षण

कंकशन कितना आम है?

कार दुर्घटना, गिरकर या किसी अन्य दैनिक गतिविधि के दौरान कोई भी घायल हो सकता है। यदि आप फुटबॉल या मुक्केबाजी जैसे खेलों में भाग लेते हैं, तो आपको कंकशन होने का खतरा बढ़ जाता है। हालांकि, इसके जोखिम कारकों को कम करके इसे नियंत्रित किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें।

यह भी पढ़ें : Urticaria : पित्ती क्या है? जाने इसके कारण, लक्षण और उपाय

कंकशन के क्या लक्षण हैं?

संकेत और लक्षण चोट की गंभीरता के अनुसार हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। जरूरी नहीं है कि जो भी कंकशन का शिकार हुआ हो उसकी याददाश्त को भी नुकसान पहुंचे। कुछ लोगों की याददाश्त पर असर पड़ता है, तो कुछ पर नहीं।

कंकशन के लक्षण तुरंत या कुछ घंटे, दिन, सप्ताह या महीनों बाद भी दिख सकते हैं। इस समस्या से ग्रसित व्यक्ति में दिखने वाले कुछ संकेत: 

यह भी पढ़ें : डिप्रेशन से आप खुद निकल सकते हैं बाहर, इन बातों को जान लें

रिकवरी के दौरान दिखने वाले लक्षण:

यह भी पढ़ें: Chronic fatigue syndrome: क्रोनिक फटीग सिंड्रोम क्या है?

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए? 

यदि आपको ऊपर बताए गए लक्षणों में कोई भी लक्षण दिखता है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें:

यह भी पढ़ें : बच्चों की इन बातों को न करें नजरअंदाज, उन्हें भी हो सकता है डिप्रेशन

कंकशन के कारण 

सिर और गर्दन के ऊपरी शरीर पर लगे जोरदार झटके से कंकशन की स्थिति आ सकती है। अचानक लगी सिर में चोट या शरीर पर हुआ आघात भी मस्तिष्क की चोट को भी बढ़ा सकते हैं। आमतौर पर कुछ समय के लिए ये चोटें मस्तिष्क के कार्य को प्रभावित करती हैं जिसकी वजह से कंकशन की संभावना बढ़ जाती है।

मस्तिष्क की गंभीर चोट की वजह से आपके मस्तिष्क में या उसके आसपास रक्तस्राव हो सकता है, जिससे व्यक्ति लंबे समय के लिए कोमा में जा सकता है या बाद में भ्रम जैसे लक्षण भी पैदा हो सकते हैं।

मस्तिष्क में इस तरह का रक्तस्राव घातक हो सकता है। इसलिए दिमागी चोट लगे हुए किसी भी व्यक्ति को घंटों निगरानी की आवश्यकता होती है और अगर लक्षण खराब होते दिखें, तो आपातकालीन देखभाल की जरूरत होती है।

यह भी पढ़ें : Throat Infection Treatment : थ्रोट इन्फेक्शन क्या है ? जाने कारण ,लक्षण और उपाय

किन कारणों से कंकशन का खतरा बढ़ जाता है?

  • उच्च जोखिम वाले खेलों में भाग लेना जैसे कि फुटबॉल, हॉकी, रग्बी, मुक्केबाजी आदि। इससे जोखिम बढ़ जाता है
  • मोटर वाहन की टक्कर
  • साइकिल दुर्घटना में शामिल होना
  • शारीरिक शोषण का शिकार होना
  • गिरना (विशेष रूप से छोटे बच्चों और अधिक उम्र के लोगों में)

कंकशन का निदान कैसे किया जाता है?

यदि डॉक्टर को लगता है कि आप इस स्थिति का सामना कर रहे हैं, तो एक शारीरिक परीक्षण के साथ कुछ और टेस्ट भी डॉक्टर द्वारा सुझाए जाएंगे। डॉक्टर आपसे कुछ सवाल पूछ सकता है जिससे आपके ध्यान, सीखने और याददाश्त की क्षमता टेस्ट हो सके। डॉक्टर यह भी पता लगाने की कोशिश कर सकता है कि आप कितनी जल्दी समस्याओं को हल कर सकते हैं। वह आपको कुछ वस्तुएं दिखाकर उन्हें छिपा सकता है और पूछ सकता है कि वे क्या हैं। इससे डॉक्टर आपकी समन्वय, सजगता, याद्दाश्त आदि की जांच करेगा। अगर स्थिति गंभीर है तो न्यूरोसाइकोलॉजिकल टेस्ट भी किए जा सकते हैं। इन परीक्षणों से पता लगेगा कि क्या आपकी भावनाओं या मनोदशा में कोई बदलाव आया है। कभी-कभी डॉक्टर यह जाने के लिए कि मस्तिष्क में चोट लगी है या खून बह रहा के लिए इमेजिंग टेस्ट जैसे कि सीटी स्कैन या एमआरआई भी करवा सकता है।

यह भी पढ़ें : दिमाग नहीं दिल पर भी होता है डिप्रेशन का असर

कंकशन का  इलाज कैसे किया जाता है?

मस्तिष्क में रक्तस्राव, सूजन या गंभीर चोट लगने पर सर्जरी या अन्य चिकित्सा प्रक्रियाओं की आवश्यकता हो सकती है। हालांकि, अधिकतर सर्जरी या किसी बड़े चिकित्सा उपचार की आवश्यकता नहीं होती है।

चोट लगने के 24 घंटों के दौरान, डॉक्टर हर दो से तीन घंटे में आपको जगाता है, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप कोमा में तो नहीं गए हैं या आप कोई भी असामान्य व्यवहार तो नहीं कर रहे हैं।

यदि कंकशन की वजह से सिरदर्द हो रहा है, तो डॉक्टर इबुप्रोफेन (एडविल) या एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) जैसी ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवाएं दे सकता है। चोट की गंभीरता के आधार पर डॉक्टर आपको आराम करने, खेल और अन्य गतिविधियों से बचने,  24 घंटे वाहन न चलाने या कुछ महीनों तक बाइक न चलाने के लिए भी कह सकते हैं। शराब, कंकशन रिकवरी को धीमी कर सकती है, इसलिए डॉक्टर से पूछें कि आपको कितने दिनों तक शराब नहीं पीनी है।

यह भी पढ़ें : यदि आप धूम्रपान बंद कर देते हैं तो जानें कितने पैसे बचा सकते हैं

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

खेल गतिविधियों के दौरान हेलमेट और अन्य एथलेटिक सेफ्टी गियर पहनने से आप कंकशन के जोखिम को कम कर सकते हैं। हमेशा सुनिश्चित करें कि आपका हेलमेट और अन्य गियर आपको ठीक से फिट होते हो। खेल तकनीक के बारे में कोच या अन्य किसी पेशेवर से पूछें और उनकी सलाह का पालन करें। इससे काफी हद तक जोखिम को कम किया जा सकता है।

कंकशन में आपका ध्यान किसी चीज पर केंद्रित नहीं हो पाता है। यदि आप सुबह उठकर आधा घंटा मेडिटेशन करते हैं, तो ऐसा करने से आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं को आराम मिलता है। जिससे आपको किसी काम में ध्यान केंद्रित करने पर मदद मिलती है। इसके अलावा गाजर, अंडा, भिंडी, पालक आदि का सेवन करने से भी कंकशन में राहत मिलती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें :

Scoliosis : स्कोलियोसिस क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और उपाय

न्यू ईयर टार्गेट्स को पूरा करने की राह में स्ट्रेस मैनेजमेंट ऐसे करें

संयुक्त परिवार (Joint Family) में रहने के फायदे, जो रखते हैं हमारी मेंटल हेल्थ का ध्यान

जानिए किस तरह क्रॉसवर्ड पजल मेंटल हेल्थ के लिए फायदेमंद है

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

प्रेग्नेंसी में फ्लोराइड कम होने से शिशु का आईक्यू होता है कम

जानें प्रेग्नेंसी में फ्लोराइड का सेवन करने से आपके शिशु को क्या-क्या नुकसान पहुंच सकते हैं। Pregnancy me flouride का बच्चे के आईक्यू पर प्रभाव।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shivam Rohatgi
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Small intestine cancer: छोटी आंत का कैंसर क्या है?

छोटी आंत का कैंसर एक असामान्य प्रकार का कैंसर होता है, जो छोटी आंत में होता है। हमारी छोटी आंत को ‘‘small bowel’’ भी कहा जाता है, यह एक लंबी ट्यूब की तरह हो

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Siddharth Srivastav
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

बदबूदार जूता सूंघाने या CPR देने से पहले, जरूर जानें मिर्गी से जुड़े मिथक

जानिए मिर्गी से जुड़े मिथक in Hindi, मिर्गी से जुड़े मिथक कैसे समझें, मिर्गी का दौरा क्या है, Mirgi Se Jude Mithak, मिर्गी का दौरा आने पर क्या करें, मिर्गी का उपचार, Epilepsy Myths World Epilepsy Day.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
हेल्थ सेंटर्स, न्यूरोलॉजिकल समस्याएं फ़रवरी 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

दिमाग को क्षति पहुंचाता है स्ट्रोक, जानें कैसे जानलेवा हो सकती है ये स्थिति

स्ट्रोक के बारे में ऐसी बहुत सी बातें हैं, जो आपको जानना बेहद जरूरी है। यह एक ऐसी गंभीर समस्या है जिससे दिमाग काे क्षति पहुंचती है और जान भी जा सकती है। इस आर्टिकल में जानें स्ट्रोक के कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ सेंटर्स, स्ट्रोक जनवरी 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें