Sulfur Burps: खट्टी डकार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 20, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

खट्टी डकार (Sour Burps) क्या है?

डकार सबको आती है। हर कोई दिन में लगभग 20 बार गैस पास करता है। डकार आने के पीछे भी एक कारण होता है। इससे हमारे पाचन तंत्र में फंसी गैस पास हो जाती है। हम दिन भर जो खाते हैं उसके साथ हमारे डायजेस्टिव सिस्टम में हवा भी जाती है और ये कहीं से तो निकलेगी। जब गैस एनस (anus) से निकलती है तो उसे फ्लैटुलेंस (flatulence) कहते हैं। पाचन तंत्र द्वारा अतिरिक्त गैस को जारी करता है या आसान शब्दों में समझाएं तो जब गैस मुंह से पास होती है  तो इसे डकार (burping) कहते हैं। खट्टी डकार को रिफ्लक्स डिसआर्डर भी कहा जा सकता है।

कई बार गैस के साथ एक बदबू आती है। इसे खट्टी डकार कहते हैं। बहुत बार इसके चलते दूसरों के सामने शर्मिंदा होना पड़ जाता है। इसे सल्फर बर्प भी कहा जाता है। इसमें आने वाली गंध हाइड्रोजन सल्फाइड की होती है। इस बदबू की तुलना कई लोग सड़े हुए अंडों से करते हैं। खट्टी डकार तब आती है जब गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक में अत्यधिक मात्रा में हाइड्रोजन सल्फाइड एकत्रित हो जाती है।

आमतौर पर खट्टी डकार हानिरहित होते हैं। यह बस पेट में अधिक गैस होने का संकेत देते हैं। आपने कुछ ऐसा खाया है जिसमें सल्फर अधिक मात्रा में हो तब आपको खट्टी डकार आ सकती है। कई बार खट्टी डकार किसी अंतर्निहित बीमारी या पाचन संबंधी समस्या का लक्षण भी हो सकती है।

और पढ़ें: Gallbladder Stones: पित्ताशय की पथरी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

खट्टी डकार (Sulfur Burps) या रिफ्लक्स डिसआर्डर के लक्षण क्या हैं?

खट्टी डकार की परेशानी आमतौर पर रिफ्लक्स रोग से ग्रसित लोगों में देखी जाती है। इन लोगों को हार्टबर्न, ब्लॉटिंग, जी मिचलाना, शरीर में गैस बनना, पेट फूलना (Bloating), मुंह से बदबू आना आदि लक्षण हो सकते हैं। ये लक्षण खाना खाने के बाद या रात के समय बिगड़ भी सकते हैं।

आमतौर पर इस परेशानी को आसानी से दूर किया जा सकता है। यदि खट्टी डकार के साथ आपको जी मिचलाना, उल्टी या डायरिया की शिकायत है और यह आपको अक्सर होता रहता है तो हो सकता है यह किसी गंभीर परेशानी के लक्षण हो। इसके लिए आपको बिना देरी करे डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।

और पढ़ें: Broken (fractured) upper back vertebra- रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर क्या है?

कारण

खट्टी डकार (Sulfur Burps) या रिफ्लक्स डिसआर्डर के क्या कारण हैं?

डायजेस्टिव सिस्टम के लिए एक निश्चित मात्रा में गैस का उत्पादन करना सामान्य है। ये गैस डकार या रेक्टम के जरिए शरीर से निष्कासित होती है। यह गैस हमारे द्वारा अतिरिक्त हवा निगलने के कारण होती है। बहुत लोग दिन में 14 से 23 बार गैस पास करते हैं। यह हेल्दी और नॉर्मल है। हालांकि जब गैस में से अजीब गंध आए तो हो सकता है यह किसी परेशानी का लक्षण हो। आमतौर पर सल्फर बर्प की परेशानी आपकी गलत खानपान की आदतों के कारण होती है। जो लोग जल्दी खाते और पीते हैं उन्हें यह दिक्कत हो सकती है।

सल्फर बर्प के कई कारण हो सकते हैं, जैसे:

  • कार्बोनेटेड ब्रेवरेजेस और फूड में सल्फर की मात्रा अधिक होती है। इनको खाने और पीने से खट्टी डकार की समस्या हो सकती है। जरूरी नहीं ऐसा सबके साथ हो। कुछ लोगों में इन चीजों का सेवन करने से कोई दिक्कत नहीं होती। ऐसा इसलिए क्यों हर किसी के शरीर में अलग तरह के इंटेस्टाइनल बैक्टीरिया होते हैं। बता दें, हाई प्रोटीन फूड, बीयर, अंडे, चीज और मिल्क में सल्फर होता है। इन चीजों का सेवन करने से खट्टी डकार आने की संभावना अधिक होती है।
  • कुछ चीजें जैसे ब्रोकली, फूलगोभी, कैबेज, बींस आदि में सल्फर नहीं होता लेकिन इनका सेवन करने से गैस की समस्या हो सकती है। क्योंकि इनमें शुगर, स्टार्च और सॉल्यूबल फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इनका सेवन करने से गैस और ब्लोटिंग की परेशानी हो सकती है।
  • खट्टी डकार आने का कारण डायजेस्टिव संबंधित कोई परेशानी भी हो सकता है। इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS), गैस्ट्रोइसोफेगल रिफल्कस डिजीज (GERD) के कारण पेट में गैस बन सकती है।
  • कुछ बैक्टीरिया ऐसे होते हैं, जो पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकते हैं। इससे खट्टी डकार की परेशानी हो सकती है। एच फिलोरी बैक्टीरियम (H. pylori bacterium) के कारण अपर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में इंफेक्शन हो सकता है जिससे ब्लोटिंग, हार्टबर्न और खट्टी डकार की परेशानी हो सकती है।

खट्टी डकार आने के निम्नलिखित कारण भी हो सकते हैं:

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

इन चीजों का सेवन करने से भी हो सकती है खट्टी डकार की परेशानी:

  • प्रोटीन: रेड मीट, अंडे, सी फूड, डेयरी प्रोडक्ट
  • ड्रिंक्स: कॉफी, बीयर, कोला
  • सब्जियां: ब्रोकोली, गोभी, फूलगोभी, केल, लहसुन और प्याज
  • काजू और केले भी खट्टी डकार को ट्रिगर करते हैं

और पढ़ें: खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

रोकथाम

खट्टी डकार (Sulfur Burps) या रिफ्लक्स डिसआर्डर की रोकथाम के उपाय

खट्टी डकार की समस्या को कुछ आदतों में सुधार कर ठीक किया जा सकता है।

  • अगर आपका पसंदीदा खाना बना है तो जरूरी नहीं है आप उसे बहुत ज्यादा खा लें। खाना अगर पसंदीदा है तो आप भूख के अनुसार ही खाएं। साथ ही ऐसे फूड बिल्कुल भी ज्यादा न खाएं जो डकार का कारण बन सकते हैं।
  • अगर आप एल्कोहॉल की अधिक मात्रा लेते हैं तो भी ये खट्टी डकार का कारण बन सकता है। अधिक कॉफी का सेवन या फिर कोल्ड ड्रिंक भी आपके लिए समस्या खड़ी कर सकती है। आपको पेय पदार्थों में पानी के साथ ही फलों का जूस ले सकते हैं।
  • अगर आप किसी प्रकार की हेल्थ कंडीशन से परेशान या फिर आपको भूख बहुत ज्यादा लगती है तो खाने को एक साथ न खाकर उसे कुछ समय अंतराल में खाना सीखें।

खट्टी डकार की परेशानी को दूर रखने में ये टिप्स मदद करेंगे:

  • खाने को हमेशा धीरे धीरे खाएं। खाना खाते समय पेट में अधिक हवा ले जाने से बचें।
  • च्यूइंग गम का सेवन करने से बचें। स्मोकिंग को एवॉइड करें। ये दोनों एक्टिविटी अधिक हवा निगलने का काम करती हैं।
  • सल्फर युक्त चीजों का सेवन न करें।
  • ओवरइटिंग करने से बचें। ज्यादा खाना एक साथ खाने की बजाय दिनभर में छोटे-छोटे टुकड़ों में कई बार खाना खाएं।
  • एल्कोहॉल का सेवन कम करें
  • डायट से कार्बोनेटेड ड्रिंक्स को बाहर करें।
  • डायट में शुगर की मात्रा कम करें
  • पैकज्ड फूड, रेडी टू ईट फूड और फास्ट फूड का सेवन न करें।

अगर आपर उपरोक्त बातों को अपनाएंगे तो आप खट्टी डकार की समस्या से बच सकते हैं। अगर फिर भी आपको डकार की समस्या होती है तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। कई बार डकार के कारण कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

और पढ़ें: एसिडिटी में आराम दिलाने वाले घरेलू नुस्खे क्या हैं?

निदान

खट्टी डकार के लिए परिक्षण

आपने महसूस किया होगा कि जब भी आपको खट्टी डकार ने परेशान किया होगा तो आपने अपनी खान-पान की आदतों में सुधार किया होगा और आपको राहत मिल गई होगी। ऐसा ज्यादातर लोगों के साथ होता है। खट्टी डकार की समस्या कुछ समय बाद अपने आप ही ठीक हो जाती है। अगर आपको लग रहा है कि खट्टी डकार की समस्या काफी समय से आपको परेशान कर रही है तो आपको डॉक्टर से परीक्षण कराने की जरूरत है।

डॉक्टर जांच से पहले आपसे हेल्थ के बारे में कुछ सवाल पूछेगा। कुछ सवाल जैसे कि आपको क्या किसी प्रकार की हेल्थ कंडीशन है। आप खाने में क्या शामिल करते हैं आदि। इन बातों की जानकारी लेने के बाद डॉक्टर कुछ परिक्षण भी कर सकते हैं। कुछ टेस्ट जैसे कि एंडोस्कोपी या एक्स-रे माध्यम से जांच की जाती है। डॉक्टर अन्य विधियों का प्रयोग भी कर सकता है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

और पढ़ें : Cancer: कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

उपचार

खट्टी डकार (Sulfur Burps) का उपचार कैसे किया जाता है?

खट्टी डकार का इलाज इसके कारण पर निर्भर करता है। आमतौर पर डायट में बदलाव कर इससे राहत पाई जा सकती है। आमतौर पर यह परेशानी एक हफ्ते में ठीक हो जाती है। डॉक्टर आपको कुछ ओवर-द-काउंटर मेडिकेशन जैसे एंटासिड्स रिकमेंड कर सकते हैं। ये दवा अतिरिक्त गैस को कम करने में मदद करती है।

खट्टी डकार के घरेलू इलाज:

अगर आप कुछ घरेलू उपाय अपनाकर देखती हैं तो आपको कुछ ही समय में फर्क नजर आने लगेगा। अगर आपको घरेलू उपाय अपनाने के बाद भी खट्टी डकार की समस्या हो रही है तो बेहतर होगा कि आप डॉक्टर से जांच कराएं। कुछ ओवर-द-काउंटर भी खट्टी डकार में राहत प्रदान करती हैं।

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आपको लग रहा है कि आपको अपच की समस्या है या फिर डकार अधिक आ रही हैं तो तुरंत इस बारे में डॉक्टर से बात करें। डॉक्टर आपको कुछ मेडिसिन देने के साथ ही लाइफस्टाइल में सुधार की सलाह दे सकता है। बिना जानकारी किसी भी मेडिसिन का सेवन न करें। हम आशा करते हैं कि इस आर्टिकल के माध्यम से आपको खट्टी डकार के बारे में जाकारी मिल गई होगी। आप स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जब ब्लोटिंग से पेट की गाड़ी का सिग्नल हो जाए जाम, तो ऐसे दिखाएं हरी झंडी!

कॉन्स्टिपेशन और ब्लोटिंग की तकलीफ से राहत पाने के लिए बिसाकोडिल का करें इस्तेमाल। लैक्सेटिव भी दिला सकता है कब्ज से तुरंत राहत। Constipation and bloating

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
हेल्थ सेंटर्स, स्वस्थ पाचन तंत्र, कब्ज जनवरी 11, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें

सर्दियों में डायजेशन प्रॉब्लम से बचने के लिए अपने खान-पान में शामिल करें ये चीजें, रहें फिट

सर्दियों में पाचन संबंधी समस्याएं बढ़ जाती है, क्योंकि इस मौसम में लोगों का खानपान बदल जाता है। इस मौसम में लोगों को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए, जानें डायजेस्टिव हेल्थ इन विंटर के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
हेल्थ सेंटर्स, स्वस्थ पाचन तंत्र जनवरी 8, 2021 . 10 मिनट में पढ़ें

आयुर्वेदिक डिटॉक्स क्या है? जानें डिटॉक्स के लिए अपनी डायट में क्या लें

प्राचीनकाल से चली आ रही आयुर्वेदिक चिकित्सा के चमत्कारी प्रभाव के बारे में सभी जानते हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सा कई गंभीर बीमारियों में रामबाण माना जाता है। अगर हम आयुर्वेदिक डिटॉक्स की बात करें, तो इस पद्विति के अंदर शरीर से गंदगी को बहार निकाला जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
जड़ी बूटी दिसम्बर 17, 2020 . 11 मिनट में पढ़ें

पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग के हो सकते हैं कई कारण, जानें क्या हैं एक्सपर्ट की राय

क्या आपको पता है कि पीरियड्स में हैवी ब्लीडिंग क्यों होती है, इसके बहुत से कारण हो सकते हैं, जानें क्या कहते हैं इस पर एक्सपर्ट और उनकी राय।

के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन नवम्बर 21, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कब्ज के कारण वजन बढ़ना : कैसे निपटें इस समस्या से? Constipation and weight gain - कब्ज और वेट गेन

कॉन्स्टिपेशन और बढ़ता वजन, क्या पहली मुसीबत दूसरी का कारण बन सकती है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ जनवरी 18, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन दोनों से कैसे निपटें - Constipation During Periods

पीरियड्स और कॉन्स्टिपेशन: जैसे अलीबाबा के चालीस चोरों की बारात हो! 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ जनवरी 18, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
सर्दियों में पीरियड्स पेन (Periods pain during winter)

सर्दियों में पीरियड्स पेन को कहें बाय और अपनाएं ये उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जनवरी 16, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
बिसाकोडिल दिला सकती है कब्ज से राहत

जब कब्ज और एसिडिटी कर ले टीमअप, तो ऐसे जीतें वन डे मैच!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें