home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Adenomyosis : एडिनोमायोसिस क्या है ?

परिभाषा|लक्षण|कारण|जोखिम|निदान और उपचार|जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार
Adenomyosis : एडिनोमायोसिस क्या है ?

परिभाषा

एडिनोमायोसिस क्या है ?

एडिनोमायोसिस एक ऐसी स्थिति है जिसमें एंडोमेट्रियम, जो गर्भाशय की इनर लाइनिंग होती है और गर्भाशय की मांसपेशियों की दीवार टूट जाती है। एडिनोमायोसिस की वजह से पीरिएड्स के समय ऐंठन, पेट के निचले हिस्से में दर्द या फिर सूजन की समस्या हो सकती है। साथ ही हैवी पीरिएड्स की समस्या भी देखने को मिलती है। एडिनोमायोसिस को गंभीर बीमारी की श्रेणी में नहीं रखा जाता है। लेकिन इस दौरान खून का अधिक बहाव, तेज दर्द एक महिला के जीवन में नकारात्मक प्रभाव डालता है। एडिनोमायोसिस को हिंदी में रसौली भी कहते हैं।

एडिनोमायोसिस कितना आम है?

एडिनोमायोसिस की समस्या महिलाओं में 35 से 40 साल की उम्र में देखने को मिलती है। ऐसा प्रायः मेनोपॉज के पहले होता है। इससे जुड़ी ज्यादा जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

और पढ़ें : Bipolar Disorder : बायपोलर डिसऑर्डर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

एडिनोमायोसिस के लक्षण क्या हैं?

एडिनोमायोसिस के सामान्य लक्षण हैं,

  • लंबे समय तक हैवी पीरियड्स होना (मासिक धर्म के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होना)
  • माहवारी के दौरान तेज ऐंठन या घुटनों में दर्द होना
  • उम्र बढ़ने के साथ पेट की ऐंठन की परेशानी बढ़ भी सकती है
  • इंटरकोर्स के दौरान दर्द महसूस होना
  • पीरियड्स के दौरान ब्लड क्लॉट होना
  • आपका गर्भाशय बड़ा हो सकता है। ऐसी स्थिति में पेट बड़ा हो जाता है और नीचे की तरफ लटकने लगता है।
  • कई महिलाओं को तेज दर्द के कारण बुखार भी आ जाता है।
  • चेहरे की त्वचा पर दाने आना
  • कुछ महिलाओं के चेहरे पर बाल भी आ जाते हैं। कई बार ऐसा एडिनोमायोसिस के कारण नहीं भी हो सकता है।
  • यूरिन के दौरान परेशानी हो सकती है।
  • मल त्यागने में भी कुछ महिलाओं को समस्या होती है।
  • एडिनोमायोसिस के कारण वजन कम होने की संभावना भी हो सकती है।

हो सकता है कि आपको कुछ लक्षण न दिखें या फिर अधिक दिखाई दें, ऐसी स्थिति में कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स के दौरान दर्द को कहना है बाय तो खाएं ये फूड

मुझे अपने डॉक्टर को कब देखना चाहिए?

अगर आपको कोई लक्षण दिखाई दे तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें। हर किसी का शरीर अलग तरह से कार्य करता है। अपने डॉक्टर के साथ चर्चा करके समस्या का समाधान निकाला जा सकता है।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स से जुड़ी गलत धारणाएं और उनकी सच्चाई

कारण

एडिनोमायोसिस का कारण क्या है?

एडिनोमायोसिस का कारण अभी तक नहीं पता चला है। इसके संभावित कारण के बारे में विशेषज्ञों ने कुछ सिद्धांत दिए हैं,

इनवेसिव टिशू ग्रोथ (Invasive tissue growth):

कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि गर्भाशय के लाइनिंग से एंडोमेट्रियल कोशिकाओं के सीधे आक्रमण से एडिनोमायोसिस होता है, जो गर्भाशय की दीवारों का निर्माण करता है। सिजेरियन सेक्शन (सी-सेक्शन) ऑपरेशन में दौरान गर्भाशय की दीवार में एंडोमेट्रियल कोशिकाओं के सीधे आक्रमण को बढ़ावा दे सकते हैं।

विकासात्मक उत्पत्ति(Developmental origins)

जब गर्भाशय में भ्रूण की उत्पत्ति होती है उस दौरान भी इसके होने का खतरा बढ़ जाता है। एडिनोमायोसिस गर्भाशय की मांसपेशी से ओरिजनेट होता है। प्रसव के दौरान गर्भाशय में सूजन आ सकती है। एक अन्य सिद्धांत में एडिनोमायोसिस और प्रसव के बीच जुड़ाव के बारे में भी बताया गया है।

स्टेम सेल की उत्पत्ति (Stem cell origins):

एक शोध में ये बात सामने आई है कि अस्थि मज्जा स्टेम सेल्स गर्भाशय की मांसपेशियों में आक्रमण करती हैं। इस कारण भी एडिनोमायोसिस हो सकता है। ये स्थिति एस्ट्रोजन पर निर्भर करती है। जब इसका उत्पादन कम होता है तो एडिनोमायोसिस होने की समस्या खत्म हो जाती है।

यह भी पढ़ें : Concussion : कंकशन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जोखिम

एडिनोमायोसिस के लिए मेरा जोखिम कब बढ़ जाता है?

एडिनोमायोसिस के जोखिम बढ़ने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे

  • गर्भाशय की पूर्व सर्जरी( सी-सेक्शन या फाइब्रॉएड को हटाना)
  • प्रसव
  • मिडिल एज या 40 से 50 साल उम्र होना (मेनोपॉज के पहले)
  • फिब्रॉइड्स (Fibroids) होना (इसे सर्जरी की मदद से हटा दिया जाता है

निदान और उपचार

प्रदान की गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

एडिनोमायोसिस का निदान कैसे किया जाता है?

आपके चिकित्सक इस आधार पर एडेनोमायोसिस को जांच सकते हैं,

  • संकेत और लक्षण
  • पैल्विक परीक्षण
  • गर्भाशय की अल्ट्रासाउंड इमेजिंग
  • गर्भाशय की MRI
  • कुछ मामलों में डॉक्टर परीक्षण (एंडोमेट्रियल बायोप्सी) के लिए गर्भाशय के टिशू का एक नमूना ले सकता है, ताकि यह प्रमाणित हो सके कि आपका एबनॉर्मल यूटरस ब्लीडिंग, किसी अन्य गंभीर स्थिति से जुड़ा तो नहीं है।
  • एंडोमेट्रियल बायोप्सी में डॉक्टर एडिनोमायोसिस डाग्नोस नहीं कर पाएगा।
  • सर्जरी के बाद गर्भाशय की जांच की जा सकती है।

गर्भाशय के अन्य रोग एडिनोमायोसिस के समान लक्षण पैदा कर सकते हैं, जिससे एिनोमायोसिस का निदान करना मुश्किल हो जाता है। ऐसी स्थिति में फाइब्रॉएड ट्यूमर, गर्भाशय के बाहर बढ़ने वाली गर्भाशय कोशिकाएं (एंडोमेट्रियोसिस) और गर्भाशय की लाइनिंग में ग्रोथ (एंडोमेट्रियल पॉलीप्स) की जांच को शामिल किया जाता हैं।

एडिनोमायोसिस का इलाज कैसे किया जाता है?

एडेनोमायोसिस के लिए उपचार के लिए डॉक्टर पहले लक्षणों का अध्ययन करता है और जब निष्कर्ष निकलता है कि आपको समस्या है तो फिर कुछ मेडिसिन के माध्यम से इसका ईलाज किया जाता है।

एंटी इंफाम्लेट्री मेडिसिन

आपका डॉक्टर एडिनोमायोसिस से जुड़े हल्के दर्द से राहत के लिए नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) लिख सकता है। एनएसएआईडी आमतौर पर शुरुआत से एक से दो दिन पहले शुरू होती है कुछ दिन तक जारी रहती है।

हॉर्मोन थेरेपी

भारी या दर्दनाक समस्या होने पर हार्मोनल थेरेपी जैसे लेवोनोर्गेस्ट्रेल-रिलीज़िंग आईयूडी (जिसे गर्भाशय में डाला जाता है), एरोमाटेज इनहिबिटर और GnRH analogs की सहायता से स्थिति को नियंत्रित किया जाता है।

गर्भाशय धमनी का ईमोबेलाइजेशन( Uterine artery embolization)

न्यू इनवेसिव प्रोसेस से फाइब्रॉएड को सिकोड़ने में मदद मिलती है।छोटे कणों का उपयोग रक्त वाहिकाओं को अवरुद्ध करने के लिए किया जाता है जो एडिनोमायोसिस को रक्त प्रवाह प्रदान करती हैं।ये कण गर्भाशय ग्रीवा के माध्यम से योनि में डाली गई एक छोटी ट्यूब के माध्यम से निर्देशित होते हैं।

एंडोमेट्रियल एब्लेशन(Endometrial ablation)

यह न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया है। ये गर्भाशय के लाइनिंग को नष्ट कर देती है।

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

निम्नलिखित जीवनशैली और घरेलू उपचार आपको एडिनोमायोसिस से निपटने में मदद कर सकते हैं,

  • गरम पानी से नहाएं
  • अपने पेट पर एक हीटिंग पैड का उपयोग करें
  • दर्द करने के लिए ओवर द काउंटर दवाओं का इस्तेमाल करें

यदि आपका कोई प्रश्न हैं, तो बेहतर समाधान के लिए कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

हैलो हेल्थ ग्रपु किसी भी प्रकार की चिकित्सा और उपचार प्रदान नहीं करता

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

The Investigation and Management of Adenomyosis in Women Who Wish to Improve or Preserve Fertility/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5875064/ Accessed on 10/12/2019

Adenomyosis: Epidemiology, Risk Factors, Clinical Phenotype and Surgical and Interventional Alternatives to Hysterectomy/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3859152/ Accessed on 10/12/2019

Adenomyosis/https://jeanhailes.org.au/health-a-z/vulva-vagina-ovaries-uterus/adenomyosis/Accessed on 10/12/2019

What to know about adenomyosis/https://www.medicalnewstoday.com/articles/321296.php/ Accessed on 10/12/2019

Endometriosis vs. Adenomyosis: Similarities and Differences/https://www.healthline.com/health/womens-health/adenomyosis-vs-endometriosis/ Accessed on 10/12/2019

 

लेखक की तस्वीर
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/06/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड