home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Fluticasone propionate+Salmeterol: फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

उपयोग|सावधानी और चेतावनी|साइड इफेक्ट्स|रिएक्शन|डोसेज
Fluticasone propionate+Salmeterol: फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, डोज और सावधानियां

उपयोग

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल का इस्तेमाल अस्थमा या मौजूदा फेफड़ों की बीमारी से होने वाली सांस की घरघराहट और सांसों की कमी को नियंत्रित और इनके लक्षणों को रोकने के लिए किया जाता है। यह दो दवाइयों का कॉम्बिनेशन है। फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट कोर्टिकोस्टेरॉयड ग्रुप की दवा है। यह श्वास नली में जलन और सूजन को कम करके कार्य करती है। साल्मेटेरोल लॉन्ग-एक्टिंग बीटा एघोनिस्ट्स (long-acting beta agonists) ग्रुप की दवा है। यह फेफड़ों में श्वास नली को खोल देती है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है। सांस लेने में पेश आ रही परेशानियों के लक्षणों पर नियंत्रण होने से स्कूल या दफ्तर में प्रभावित होने वाला समय कम हो जाता है। इससे दिनचर्या का अन्य कार्य करने में आसानी होती है। अस्थमा के इलाज के लिए जब अस्थमा की दवाइयों या अस्थमा को नियंत्रित करने वाले इनहेलर (कोर्टिकोस्टेरॉयड वाले श्वास पंप) से समस्या कंट्रोल में नहीं आती है, तब इस दवा का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए?

  • इस कॉम्बिनेशन को इस्तेमाल करने के लिए बेहतर होगा कि आप दवा के लेबल पर छपे दिशा-निर्देशों का पालन करें। इससे अधिकतम फायदा प्राप्त करने के लिए आपका डॉक्टर समय-समय पर इसके डोज में बदलाव कर सकता है। बिना डॉक्टर की सलाह के इस कॉम्बिनेशन का बड़ा डोज या लंबी अवधि तक सेवन न करें।
  • अधिकतम फायदा प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से इस दवा का इस्तेमाल करें। हालांकि, यह अचानक आए अस्थमा के अटैक में तुरंत कार्य नहीं करती है। यदि आपको अस्थमा का अटैक आता है तो तुरंत राहत देने वाले इन्हेलर का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। डॉक्टर की सलाह पर दिन में दो बार दवा के इस कॉम्बिनेशन को लें। हालांकि, जब आप इस दवा को सूंघेंगे तो आपको इसके स्वाद का अहसास नहीं होगा। ऐसे में यह सामान्य भी हो सकता है। दूसरी अहम बात डिवाइस में सांस न छोड़ें।
  • इन्हेलर के किसी भी हिस्से या किसी भी हिस्से को पानी से न धोएं। प्रत्येक बार इन्हेल करने के बाद इसे बंद करके रख दें।
  • यदि आप एक साथ अन्य इन्हेलर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो दोनों को एक ही समय में न सूंघे। कम से कम दोनों को सूंघने के बीच में एक मिनट का दायरा रखें।
  • हर बार दवा को इस्तेमाल करने के बाद पानी से गरारा कर लें। इससे गले में जलन या यीस्ट इंफेक्शन से बचाव होगा। गरारा किए गए पानी को न निगलें।

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) को कैसे स्टोर करना चाहिए?

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल को स्टोर करने का सबसे बेहतर तरीका है इसे कमरे के तापमान पर रखना। इसे सूर्य की सीधी किरणों और नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए आपको फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल को बाथरूम या फ्रीजर में नहीं रखना है। फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल के अलग-अलग ब्रांड्स को अलग तरीकों से स्टोर किया जाता है। इसे रखने से पहले सबसे बेहतर होगा कि आप दवा के पैकेज पर छपे निर्देशों को पढ़ लें या फार्मासिस्ट से पूछें। सुरक्षा की दृष्टि से सभी दवाइयों को अपने बच्चों और पेट्स से दूर रखें। जब तक कहा न जाए तब तक सुरक्षा की दृष्टि से आपको फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल को टॉयलेट या नाली में नहीं बहाना है। आवश्यकता न रहने या एक्सपायरी की स्थिति में दवा का समुचित तरीके से निस्तारण जरूरी है। सुरक्षित तरीके से इसका निस्तारण करने के लिए अपने फार्मासिस्ट से सलाह लें।

सावधानी और चेतावनी

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) का इस्तेमाल करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

निम्नलिखित समस्याओं में फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें:

  • यदि आपको फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल के किसी पदार्थ या अन्य दवा या औषधि से एलर्जी है।
  • यदि आपको कोई बीमारी, डिसऑर्डर या कोई अन्य मेडिकल कंडिशन है।
  • यदि आप प्रेग्नेंट या ब्रेस्टफीडिंग करा रही हैं। दोनों ही स्थितियों में सिर्फ डॉक्टर की सलाह पर ही दवा इन्हेल करनी चाहिए।
  • यदि आप अन्य दवाइयां ले रहे हैं। इसमें डॉक्टर की लिखी हुई और गैर लिखी हुई दवाइयां शामिल हैं, जो मार्केट में बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के खरीद के लिए उपलब्ध हैं।
  • यदि आप किसी अन्य इनहेलर पंप का इस्तेमाल कर रहे हैं। इस स्थिति में आपका डॉक्टर यह तय करेगा कि आपको कौन से इनहेलर का इस्तेमाल करना है।
  • यदि आपके परिवार में हड्डियां कमजोर होने की समस्या किसी को रही हो।
  • यदि आपको हाई बल्ड प्रेशर, अनियमित हार्टबीट, बेहोशी, हाइपरथायरॉइडिज्म, टीबी, ग्लूकोमा, दिल की समस्या रही है।
  • यदि आप धुम्रपान या तंबाकू का सेवन करते हैं।
  • यदि आपकी कोई सर्जरी हुई है।
  • यदि आपको कभी चिकनपॉक्स या खसरा हुआ है, जिसका टीकाकरण आपने न लिया हो।

यह भी पढ़ें: ये 10 बातें पति कभी अपनी प्रेग्नेंट पत्नी से न कहें

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) को प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान लेना सुरक्षित है?

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल अजन्मे शिशु को नुकसान पहुंचा सकती है या नहीं, इस संबंध में अधिक जानकारी नहीं है। यदि आप प्रेग्नेंट हैं तो बिना डॉक्टर की सलाह के इस कॉम्बिनेशन का इस्तेमाल न करें।

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान यह कॉम्बिनेशन मां के दूध के जरिए शिशु की बॉडी में प्रवेश करता है या नहीं, इस संबंध में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है। सुरक्षा की दृष्टि से स्तनपान के दौरान किसी भी दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह अवश्य लें।

साइड इफेक्ट्स

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) के साइड इफेक्ट्स क्या हैं?

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल के इस्तेमाल से आपको निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं:

इस कॉम्बिनेशन के कुछ दुर्लभ और गंभीर साइड इफेक्ट्स हैं। इनके लक्षण नजर आते ही तत्काल डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:

  • खांसी, घरघराहट या सीने का कड़ा होना, यह इस कॉम्बिनेशन को इनहेल करने के बाद तुरंत सामने आ सकती है।
  • हाइव्स
  • रैश
  • चेहरे, गले, जुबान, होंठ, हाथ, पैर, टखने की सूजन या पैरों के निचले हिस्स में चोकिंग या निगलने में समस्या
  • गला बैठना
  • सांस की समस्या
  • आवाज के साथ ऊंची-ऊंची सांस लेना
  • हार्टबीट का अनियमित होना
  • बेहोशी
  • सीने में दर्द
  • खांसी
  • हाथ या पैर में कंपकंपाहट और जलन
  • मुंह में सफेद धब्बे
  • बुखार, सर्दी लगना और संक्रमण के अन्य लक्षण

हालांकि, हर व्यक्ति को यह साइड इफेक्ट्स नहीं होते हैं। उपरोक्त दुष्प्रभाव के अलावा भी फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल के कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिन्हें ऊपर सूचीबद्ध नहीं किया गया है। यदि आप इसके साइड इफेक्ट्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से सलाह लें।

यह भी पढ़ें: Fibroids: फाइब्रॉइड्स (रसौली) क्या है?

रिएक्शन

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) के साथ कौन-सी दवाइयां रिएक्शन कर सकती हैं?

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल के साथ निम्नलिखित दवाइयां रिएक्शन कर सकती हैं। आमतौर पर इस कॉम्बिनेशन को निम्नलिखित दवाइयों के साथ नहीं लेना चाहिए। इस कॉम्बिनेशन का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर को उन सभी दवाइयों की सूची दें, जिनका आप मौजूदा समय में सेवन कर रहे हैं।

  • रिकोनोजोल (Voriconazole)
  • कोबिकिस्टेट (Cobicistat)
  • कोनिवेप्टन (Conivaptan)
  • देसाबुविर (Dasabuvir)
  • डुवेलिसिब (Duvelisib)
  • सर्टिटिनिब (Ceritinib)
  • बुप्रोपिओन (Bupropion)
  • क्लेरिथ्रोमायसिन (Clarithromycin)
  • फोस्नेटुपिटेंट (Fosnetupitant)
  • इडेलालिसिब (Idelalisib)
  • इनडिनाविर (Indinavir)
  • इटराकोनेजॉल (Itraconazole)
  • बेमिपेरिन (Bemiparin)
  • बोकेप्रेविर (Boceprevir)
  • इवोसिडेनिब (Ivosidenib)
  • केटोकोनेजॉल (Ketoconazole)
  • लेराट्रेक्टिनिब (Larotrectinib)
  • लेफामुलिन (Lefamulin)
  • लोपिनाविर (Lopinavir)
  • लोरलेटिनिब (Lorlatinib)
  • लुमासेफ्टोर (Lumacaftor)
  • रिटोनाविर (Ritonavir)
  • सेक्विनाविर (Saquinavir)
  • मेसिमोरेलिन (Macimorelin)
  • नेड्रोपेरिन (Nadroparin)
  • नेटुपिटेंट (Netupitant)
  • निलोटिनिब (Nilotinib)
  • ओम्बिटासविर (Ombitasvir)
  • नेफाजोडोन (Nefazodone)
  • नेलफिनाविर (Nelfinavir)
  • पेरिटेप्रेविर (Paritaprevir)
  • पोसाकोनेजोल (Posaconazole)
  • सेरग्रामोस्टिम (Sargramostim)
  • टेलाप्रेविर (Telaprevir)
  • टेलिथ्रोमायसिन (Telithromycin)
  • टिप्रानाविर (Tipranavir)

उपरोक्त दवाइयों के अलावा भी कुछ ऐसी दवाइयां हो सकती हैं, जो इस कॉम्बिनेशन के साथ रिएक्शन कर सकती हैं। इसकी अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से सलाह अवश्य लें।

क्या एल्कोहॉल के साथ फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) का इस्तेमाल सुरक्षित है?

एल्कोहॉल के साथ फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल का इस्तेमाल करना सुरक्षित है या नहीं, इस संबंध में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है। यदि आप भी एल्कोहॉल के साथ इस कॉम्बिनेशन का उपयोग करने जा रहे हैं तो बिना डॉक्टर की सलाह के इसे इस्तेमाल न करें। ऐसा करने से आपको गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम करता है स्तनपान, जानें कैसे

डोसेज

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) का सामान्य डोज क्या है?

क्रॉनिक ओबस्ट्रक्टिव पल्मनरी डिजीज में अडल्ट्स के लिए सामान्य मेंटेनेंस डोज: फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल 250/50 mcg का एक इन्हेल दिन में दो बार। दोनों के बीच में 12 घंटों का अंतराल रखें।

अडल्ट्स के लिए अस्थमा का मेंटेनेंस डोज:

इन्हलेशन पाउडर:

  • फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल 100/50 mcg, 250/50 mcg, या 500/50 mcg: एक इन्हलेशन दिन में दो बार।
  • मैक्सिमम डोज: फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट 500 mcg-साल्मेटेरोल 50 mcg मौखिक रूप से दिन में दो बार।

बच्चों के लिए अस्थमा में सामान्य डोज

इन्हलेशन पाउडर:

  • चार वर्ष से कम उम्र के बच्चों में इस्तेमाल की सलाह नहीं दी जाती है।

4-11 वर्ष:

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल 100/50 mcg: दिन में दो बार एक इन्हलेशन।

12 या इससे अधिक उम्र के बच्चे

  • फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल 100/50 mcg, 250/50 mcg, या 500/50 mcg: दिन में दो बार एक इनहलेशन।
  • मैक्सिमम डोज: फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट 500 mcg-साल्मेटेरोल 50 mcg मौखिक रूप से दिन में दो बार।

एरोसोल इनहलेशन

  • 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चो में इस्तेमाल की मंजूरी नहीं
  • 12 और इससे अधिक उम्र के बच्चे
  • फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल 45/21 mcg, 115/21 mcg, या 230/21 mcg: 2 इनहलेशन दिन में दो बार।

ओवरडोज या आपात स्थिति में मुझे क्या करना चाहिए?

आपात या ओवरडोज की स्थिति में तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर या आपातकालीन सेवा से संपर्क करें।

फ्लूटिकासोन प्रोपियोनेट+साल्मेटेरोल (Fluticasone propionate+Salmeterol) का डोज मिस हो जाए तो क्या करूं?

अगर आप इसकी डोज मिस हो जाए, तो अगली डोज का समय आने पर ले लें। ध्यान रहे कि इसकी डबल डोज न लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या इलाज मुहैया नहीं कराता है।

और भी पढ़ें:-

मां से होने वाली बीमारी में शामिल है हार्ट अटैक और माइग्रेन

अस्थमा के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं ये चीजें

शुगर लेवल को ऐसे कंट्रोल करता है नाशपाती

कैसे समझें अंतर कि आपको जुकाम है या फ्लू?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Sunil Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/12/2019 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड