बुजुर्गों में टाइप 2 डायबिटीज के लक्षण और देखभाल के उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट December 3, 2020 . 2 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

डायबिटीज जीवनशैली से जुड़ी हुई बीमारी है, जो आजकल हर उम्र के लोगों को तेजी से अपनी चपेट में ले रही है, लेकिन बुजुर्गों में इसका खतरा अधिक होता है। डायबिटीज के कारण अन्य बीमारियों का भी खतरा बढ़ जाता है, ऐसे में दवाइयों के साथ ही जीवनशैली में बदलाव ला कर इस बीमारी के खतरे और असर को कम किया जा सकता है। लेकिन इससे पहले जान लेते हैं कि आखिर डायबिटीज होता क्या है!

डायबिटीज क्या है?

शरीर में ब्लड शुगर लेवल जिसे ग्लुकोज भी कहते हैं, इसके बढ़ने की स्थिति को डायबिटीज कहते हैं। इसमें शरीर में इंसुलिन हार्मोन का स्राव कम हो जाता है। डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है जिसका कोई इलाज नहीं है, बस दवा और जीनवशैली में बदलाव करके इसे कंट्रोल किया जा सकता है। बुजुर्गों में इसका खतरा अधिक बढ़ जाता है इसलिए युवावस्था से ही हर किसी को स्वस्थ जीवनशैली अपनानी चाहिए, क्योंकि बस इसी से डायबिटीज के खतरे को कम किया जा सकता है। एक अध्ययन के मुताबिक, टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित बुजुर्गों की कॉर्टिकल हड्डी कमजोर हो जाती है, जिससे फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के मुताबिक, टाइप-2 डायबिटीज एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है और बुजुर्गो की आबादी बढ़ने के साथ ही यह समस्या भी बढेगी। एक अध्ययन के अनुसार, डायबिटीज पीड़ित बुजुर्गों की मृत्यु दर अधिक होती है और  यह एक्यूट और क्रॉनिक माइक्रोवस्कुलर और कार्डियोवस्कुल बीमारी के खतरे को भी बढ़ा देता है। डायबिटीज रोगियों में हार्ट अटैक का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है।

कैसे होता है डायबिटीज?

हम जो भी भोजन करते है शरीर बड़ी मात्रा में उसे शुगर में तब्दील कर देता है जिसे ग्लुकोज कहते हैं और इससे हमें एनर्जी मिलती है, लेकिन ग्लुकोज को एनर्जी के रूप में इस्तेमाल करने के लिए शरीर को इंसुलिन नामक हार्मोन की जरूरत होती है, जो ग्लुकोज को कोशिकाओं तक पहुंचाता है। जब शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाता या हमारा शरीर इसका इस्तेमाल नहीं कर पाता, तब ग्लुकोज खून में रह जाता है और यह एनर्जी में नहीं बदल पाता और इसी स्थिति को डायबिटीज कहते हैं। जिसके कारण कई स्वास्थ्य समस्याएं होने लगती हैं।

और भी पढें: शुगर फ्री नहीं! अपनाएं टेंशन फ्री आहार; आयुर्वेद देगा इसका सही जवाब

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या फिश खाने के बाद आपको होती है पेट से जुड़ी परेशानी? तो फिश एलर्जी हो सकता है कारण

अन्य फूड एलर्जी के मुकाबले फिश एलर्जी (fish allergy) के मामले कम ही देखने को मिलते है, लेकिन ऐसी समस्या होने पर मछली से परहेज जरूरी है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
फूड एलर्जी, एलर्जी March 4, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें

हेल्दी लाइफस्टाइल कैसे मददगार है ग्रैन्युलोमस की समस्या को दूर करने में, जानें!

ग्रैन्युलोमस (Granulomas) क्या है, ग्रैन्युलोमस के कारण, लक्षण और प्रकारों के बारे में जानें, कैसे देखभाल कैसे करें और डायट कैसी होनी चाहिए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma

कहीं ये आपका छींकना, खांसना या गले में खराश का कारण बिल्ली से एलर्जी तो नहीं!

बिल्ली से एलर्जी के कारण क्या हैं? बिल्ली से एलर्जी के लक्षण क्या हो सकते हैं? क्या इलाज है इस परेशानी को दूर करने के लिए? Cause of Cat Allergies and treatment in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

इन्फ्लुएंजा को सामान्य बीमारी समझने की गलती न करें, इससे बचाव के बारे में जानें!

इन्फ्लुएंजा (Influenza) क्या है, इन्फ्लुएंजा के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में जानें, इसकी वैक्सीनेशन के बारे में भी जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma

Recommended for you

महिलाओं में यूटीआई और यूआई

जानें महिलाओं में होने वाली यूटीआई, यूटीएस और यूआई प्रॉब्लम के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
पीरियड्स, Periods

जब सिर दर्द, सर्दी, बुखार कह सकते हैं, तो पीरियड्स को पीरियड्स क्यों नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
क्रॉनिक ब्रॉन्कायटिस, chronic bronchitis

क्रॉनिक ब्रॉन्कायटिस के कारण हो सकती है सांस लेने में समस्या, अपनाएं ये सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें