स्वस्थ सेहत के लिए रनिंग (Running) है जरूरी

के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड डॉ. अभिषेक कानडे · आयुर्वेदा · Hello Swasthya


Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 23/10/2020

    स्वस्थ सेहत के लिए रनिंग (Running) है जरूरी

    फिट रहने के लिए संतुलित और पौष्टिक आहार के साथ-साथ बॉडी को एक्सरसाइज की भी जरुरत होती है। वैसे एक्सरसाइज का नाम आते ही हम सभी जिम और जिम में इस्तेमाल किए जाने वाले भारी भड़कम डंबल की कल्पना कर लेते हैं। लेकिन, आज घर या जिम में करने वाले एक्सरसाइज नहीं बल्कि आउटडोर एक्सरसाइज के बारे में जानेंगे, जिससे फिट रहा जा सकता है।

    फिट रहने के लिए रनिंग या जॉगिंग सबसे बेस्ट एक्सरसाइज है। जॉगिंग या दौड़ना शारीरिक गतिविधियों में शामिल सबसे पसंदीदा एक्सरसाइज। रनिंग या जॉगिंग के लिए बहुत ज्यादा पैसे भी खर्च नहीं करने पड़ते और खुली हवा में प्राकृतिक के बीच किया भी जा सकता है।

    नियमित रूप से रनिंग (Running) और जॉगिंग (Jogging) करने से सेहत को होने वाले फायदे क्या हैं?

    रनिंग के फायदे निम्नलिखित हैं। जैसे:

    मिलती है एनर्जी- मॉर्निंग रनिंग के फायदे में सबसे पहले शामिल है बॉडी को मिलती है एनर्जी। इसे डेली रूटीन में फॉलो करने से फायदे होते हैं।

    डायजेशन होता हैं बेहतर- अगर आपको डायजेशन संबंधित समस्या बनी रहती है, तो आपको सुबह-सुबह दौड़ने जरूर जाएं। नियमित रनिंग के फायदे इसलिए मिलते हैं, क्योंकि दौड़ने से कैलोरी बर्न होती है।

    ब्लड प्रेशर करें कंट्रोल- अगर आप हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से पीड़ित हैं, तो आपको रनिंग के फायदे मिल सकते हैं। लेकिन आपको अपने डेली रूटीन इसे शामिल करना होगा।

    रहते हैं टेंशन फ्री- इस स्ट्रेस भरी लाइफ में स्ट्रेस फ्री रहने के लिए रनिंग के फायदे हो सकते हैं। इसलिए तनाव मुक्त रहने के लिए रोजाना टहलने की आदत डालें।

    कोलेस्ट्रॉल होता है कम- रनिंग के फायदे बैड कोलेस्ट्रॉल को गुड कोलेस्ट्रॉल में बदलने में मिलते हैं और गुड कोलेस्ट्रॉल की वजह से आर्ट्रिस हेल्दी रहती हैं।

    हड्डियां होती हैं स्ट्रॉन्ग- रनिंग के फायदे हड्डियों को स्ट्रॉन्ग बनाने में आपको मिल सकते हैं। इसके साथ ही आपको हड्डियों से संबंधित बीमारियां जैसे ऑस्टियोपोरोसिस और अर्थराइटिस की समस्या से भी निजात मिल सकती है।

    दिल रहता है स्वस्थ्य- रनिंग के फायदे ब्लड सर्कुलेशन में भी मिलते हैं। बॉडी में ब्लड फ्लो बेहतर होता है और हार्ट तक आसानी से पहुंचता है, जिससे हार्ट हेल्थ हेल्दी रहता है।

    वेट रहता है बैलेंस- रनिंग के फायदे में वेट लॉस भी शामिल है। अगर आप बढ़ते वजन से परेशान हैं, तो रेगुलर वॉक पर जाएं। मॉर्निंग वॉकिंग या दौड़ने से वजन कम करना आसान होता है।

    इम्यून सिस्टम होता है स्ट्रांग- अगर आप सर्दी, खांसी या फ्लू जैसी समस्याओं से पीड़ित रहते हैं, तो आपको रोजाना टहलने की आदत डालनी चाहिए। टहलने से आपकी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होता है और वायरल इंफेक्शन का खतरा भी कम होता है।

    ब्रेन होता है हेल्दी- रनिंग और जॉगिंग के फायदे ब्रेन को भी मिलता है। वॉकिंग की वजह से ब्रेन तक ऑक्सिजन लेवल बेहतर होता है और मस्तिष्क को स्वस्थ्य रखा जा सकता है।

    साउंड स्लीप- नींद न आना डायजेशन की प्रॉब्लम के साथ-साथ अन्य शारीरिक परेशानियों को बढ़ा देता है। डायजेशन की समस्या न हो इसके लिए रोजाना टहलने की आदत डालें और डायजेशन के साथ-साथ अच्छी नींद भी लें।

    डायबिटीज का टल सकता है खतरा- रिसर्च के अनुसार नियमित टहलने से टाइप-2 डायबिटीज का खतरा कम हो सकता है।

    वैसे रनिंग और जॉगिंग में थोड़ा फर्क है जैसे दौड़ने के लिए ज्यादा एनर्जी और ज्यादा एफर्ट की जरुरत पड़ती है। वहीं जॉगिंग के लिए दौड़ने के मुकाबले कम मेहनत लगती है। रनिंग और जॉगिंग एरोबिक एक्सरसाइज का एक तरीका है। एरोबिक को सामान्य भाषा में समझा जाए तो इसका अर्थ है ऑक्सीजन। शब्द एरोबिक एक्सरसाइज का अर्थ है किसी भी शारीरिक गतिविधि जो रक्त शर्करा या शरीर में वसा के साथ ऑक्सीजन के संयोजन से ऊर्जा का उत्पादन करती है।

    और पढ़ें : अस्थमा के रोगियों के लिए फायदेमंद है धनुरासन, जानें इसको करने का सही तरीका

    रनिंग (Running) और जॉगिंग (Jogging) के लिए सही स्पोर्ट्स (रनिंग या जॉगिंग) शूज का चयन कैसे करें ?

    • जूते खरीदते समय मोजे को पहन कर जूते को पहन कर देखें। अगर जूते कम्फर्टेब्ल न हों तो वैसे जूते का चयन न करें। वैसे बाजार में आप खासकर रनिंग शूज भी आसानी से मिल जाते हैं।
    • रनिंग शूज ठीक तरह से मुड़ना चाहिए और दौड़ते वक्त कंफर्टेबल होना चाहिए।
    • जूते ठीक तरह से फिट होने चाहिए। इससे पैरों को नुक्सान नहीं होता है।
    • पुराने जूते न पहने। जूते की साइज ठीक नहीं होने पर पैरों में परेशानी हो सकती है।

    और पढ़ें : रीढ़ की हड्डी के लिए फायदेमंद ऊर्ध्व मुख श्वानासन को कैसे करें, क्या हैं इसे करने के फायदे जानें

    रनिंग और जॉगिंग में क्या अंतर है?

    रनिंग और जॉगिंग के बीच तीव्रता का अंतर है लेकिन, दोनों ही एरोबिक एक्सरसाइज के अंतर्गत आते हैं। दौड़ने के वक्त ज्यादा एनर्जी की आवश्यकता होती है। वहीं अगर आप जॉगिंग कर रहें होते हैं, तो कम एनर्जी की आवश्यकता होती है। आप उस तनाव में नहीं आते हैं, जो दौड़ने के दौरान तनाव होता है। इसलिए अगर आप तेजी भागने में असमर्थ होते हैं, तो जॉगिंग का विकल्प आपके लिए लाभकारी हो सकता है।

    रनिंग (Running) या जॉगिंग (Jogging) करने के दौरान जरुरी टिप्स

    • ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं। एक वयस्क को एक दिन में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी से पीना चाहिए।
    • दौड़ने के पहले खाने की कोशिश न करें और इस वक्त अगर थक जाएं तो थोड़ा आराम कर लें।
    • दौड़ने का सबसे सही वक्त सुबह या शाम को होता है। इसलिए सुबह या शाम को दौड़ने की आदत डालें।
    • दौड़ने के समय, पहले और बाद में ज्यादा पानी पीना चाहिए।
    • दौड़ने के दौरान अगर चोट लग जाती है तो, ऐसी स्थिति में दौड़े नहीं।

    और पढ़ें: स्ट्रेस बस्टर के रूप में कार्य करता है उष्ट्रासन, जानें इसके फायदे और सावधानियां

    रनिंग या जॉगिंग करते हैं, तो एक लक्ष्य निर्धारित करें। जैसे-

    • फिट रहने के लिए अगर आप रनिंग या जॉगिंग करने की सोच रहें हैं, तो अगर आप रनिंग या जॉगिंग की शुरुआत कर रहें हैं, तो कम से कम लगातार कुछ महीनों तक नियमित दौड़ने या जॉगिंग करने से लाभ मिल सकता है।
    • दौड़ने के साथ-साथ अन्य एक्सरसाइज जैसे स्विमिंग या गेम में भी अपने आपको व्यस्त करें। स्विमिंग भी शरीर को फिट रखने में अहम भूमिका निभाती है वहीं आउट डोर गेम्स से भी शरीर फिट रहता है।
    • अगर आप वजन कम करना चाहते हैं, तो रनिंग के साथ-साथ फ्रेश फ्रूट, हरी सब्जियां, लीन मीट, साबुत अनाज और लो फैट डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करना वजन कम करने में सहायक होता है। हालांकि वजन कम करना चाहते हैं, तो फैट, पैक्ड फूड, सॉफ्ट ड्रिंक और शुगर का सेवन कम से कम करना चाहिए।
    • रनिंग या जॉगिंग के दौरान आप अपने फ्रेंड या रनिंग ग्रुप के साथ दौड़ सकते हैं।
    • आप वैसे लोगों से भी जुड़ सकते हैं, जो दौड़ने की प्रतियोगिता आयोजित करवाते हैं।
    • अगर आपकी उम्र 40 साल से ज्यादा है या आप किसी बीमारी से पीड़ित हैं तो दौड़ने या जॉगिंग के पहले अपने हेल्थ एक्सपर्ट से अवश्य सलाह लें। यही नहीं अगर आपके शरीर का वजन ओवर वेट है तो ऐसी स्थिति में भी हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लें।
    • दौड़ने या जॉगिंग के दौरान आरामदायक और कॉटन कपड़े पहने।
    • कभी भी रोड साइड नहीं दौड़ें। इससे आप प्रदूषण के संपर्क में रहेंगे और आती जाती वाहनों की वजह से आपका ध्यान दौड़ने पर केंद्रित नहीं हो पायेगा। इसलिए दौड़ने के लिए हमेशा पार्क या खुले मैदान का चयन करें।
    • दौड़ने के पहले वार्मअप जरूर करें और बॉडी को भी स्ट्रेच करें। ऐसा करने से आप जल्दी थकेंगे नहीं और आपकी बॉडी एक्टिव रहेगी।

    अगर आप रनिंग या रनिंग के फायदे से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं ,तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड

    डॉ. अभिषेक कानडे

    आयुर्वेदा · Hello Swasthya


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 23/10/2020

    advertisement

    Was this article helpful?

    advertisement
    advertisement
    advertisement