मधुमेह (Diabetes) से बचना है, तो आज ही बदलें अपनी ये आदतें

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 24, 2020
Share now

अगर आप स्वस्थ जीवन पाना चाहते हैं तो अपनी आदतों पर ध्यान दें और मधुमेह से बचाव के लिए बुरी आदतों को अच्छी आदतों में बदलने की कोशिश करें| क्या आप तैयार हैं अपनी बुरी आदतों को बदल कर डायबिटीज की रोक-थाम के लिए? आइए, आपको बताएं उन आदतों के बारे में जिनसे आपको बचना है।

1.बहुत ज्यादा चीनी वाले जूस पीना:

जूस या सॉफ्ट ड्रिंक्स के जरिए शरीर में बहुत ज्यादा चीनी जाती है जिससे डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। अक्सर लोगों  का मानना होता है कि जूस हर हाल में सेहत के लिए बहुत अच्छे होते हैं| दरअसल, हम जो भी जूस पीते हैं उसके एक गिलास में ही चीनी की बहुत अधिक मात्रा होती है| कोशिश करें कि प्यास लगने पर पानी, शुगर फ्री चाय या कॉफी पिएं। इस तरीके से आप मधुमेह से बचाव करें कर पाएंगे।

यह भी पढ़ें : क्या है नाता विटामिन-डी का डायबिटीज से?

2. बहुत ज्यादा बैठना या शारीरक एक्टिविटीज में शामिल न होना:

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन (WHO) की एक रिपोर्ट के अनुसार एशियाई देशों में अगले 20 वर्षों में डायबिटीज 90 प्रतिशत तक बढ़ने का खतरा है| पिछले 10 सालों में हनोई, वेतनाम में डायबिटीज से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ कर दोगुनी हो गई| कारण: डॉ. गॉडेन गेलिया के अनुसार, इस शहर में लोग साइकिल चलाने की तुलना में बाइक चलाना ज्यादा पसंद करते हैं| संक्षेप में, जो लोग शारीरिक रूप से कम सक्रिय हैं, उनमें मोटापे का खतरा अधिक होता है जो आगे चल कर डायबिटीज जैसी बीमारियों को जन्म देता है| शारीरक रुप से एक्टिव रहने से डायबिटीज के खतरे को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। इस तरीके से आप मधुमेह से बचाव करें कर पाएंगे। इस तरीके से आप मधुमेह से बचाव करें कर पाएंगे।

3.रात में देर तक जागना:

अगर आप पूरे दिन में कम से कम 6 घंटे की नींद नहीं लेंगे तो आपका मेटाबोलिज्म बुरी तरह से प्रभावित होगा| जिससे आपकी डायबिटीज भी नियंत्रण के बाहर हो जाएगी| इसके अलावा, नींद की कमी उस हॉर्मोन को बढ़ावा देती है जो भूख पैदा करता है, जिसके कारण आप मोटापे का शिकार हो जाते हैं| इन सभी समस्याओं से बचने के लिए जरुरी है कि अच्छी नींद ली जाए। इस तरीके से आप मधुमेह से बचाव करें कर पाएंगे।

यह भी पढ़ें : जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

4.नाश्ता न करना:

हमारा व्यस्त जीवन अक्सर हमें नाश्ता छोड़ने पर मजबूर कर देता है जिससे धीरे-धीरे नाश्ता न करने की बुरी आदत पड़ने लगती है| ध्यान रहे, नाश्ता दिन का सबसे अहम भोजन होता है, आपका शरीर दिन भर के कामों से निपटने के लिए नाश्ते से ऊर्जा प्राप्त करता है| नाश्ता छोड़ना आपका बहुत ज्यादा समय नहीं बचाता बल्कि यह आपके दिन को खराब करता है और टाइप 2 डायबिटीज के खतरे को बढ़ाता है| दोपहर के भोजन तक भूखे रहने से आपके शरीर में चेन रिएक्शन होता है जो शरीर में इंसुलिन और खून में ब्लड शुगर के स्तर को प्रभावित करता है। इस तरीके से आप मधुमेह से बचाव करें कर पाएंगे।

5.देर रात तक स्नैक्स खाना:

जिन्हें डायबिटीज होती है उन्हें खाने के बाद कभी-भी कुछ हल्का-फुल्का खाने की सलाह नहीं दी जाती| अस्वस्थ स्नैक्स खाना वजन बढ़ने का कारण बन सकता है। इसके अलावा देर रात तक खाते रहने से अगली सुबह खून में शुगर लेवल बढ़ जाता है। अगर आपको रात का खाना खाने के बावजूद कुछ खाने का मन हो रहा हो तो आप किसी फल की एक काश, कॉटेज चीज या पीनट बटर के साथ खा सकते हैं। इस तरीके से आप मधुमेह से बचाव करें कर पाएंगे।

6. धूम्रपान से बचें

धूम्रपान करने से कई तरह की शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। जो लोग स्मोकिंग करते हैं, उन्हें भी डायबिटीज होने का खतरा दोगुना हो जाता है। अगर आप चाहते हैं कि आपको भविष्य में डायबिटीज की समस्या न हो, तो आप जल्द से जल्द स्मोकिंग की लत को छोड़ दें।

7. हेल्थ चेकअप नियमित कराएं

अगर आप नियमित रूप अपना हेल्थ चेकअप कराते रहेंगे, तो आपको अपने शरीर की स्थिति पता रहेगी और आप आने वाले खतरे के प्रति सचेत रहेंगे। आपको बता दें कि अभी तक ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे डायबिटीज को हमेशा के लिए खुद से दूर रखा जा सके। जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, हाई ब्ल्ड प्रेशर, हार्ट की बीमारी और अन्य हेल्थ की समस्याओं का जोखिम भी बढ़ जाता है जो डायबिटीज से जुड़े हैं। इसलिए, 45 साल की उम्र के बाद, हर साल नियमित रूप से पूरा हेल्थ चेकअप जरूर कराएं।

इन आदतों को जानने के बाद क्या आप इन्हें अच्छी आदतों में बदलना चाहेंगे? आपको अपने जीवन शैली में शारीरक मेहनत वाले काम जैसे चलना, डांस करना, साइकिल चलाना, एक्सरसाइज और योगा करना अदि शामिल करना चाहिए| अपने खान-पान की आदतों के बारे में अच्छी तरह जान लें और तय कर लें कि अब से क्या खाएं? और क्या न खाएं? अपने आप में अच्छी आदतें लाने की कोशिश कभी बेकार नहीं जाती!

आप अगर इन तरीकों को अपनाएंगे तो काफी हद तक खुद को बचा सकते हैं। लेकिन आपको इसके लक्षणों पर भी नजर बनाई रखनी चाहिए। नीचे जानिए डायबिटीज के लक्षण क्या हैं और इन्हें सही समय पर पहचानकर आप सही उपचार करा सकेंगे। जानिए डायबिटीज के लक्षण क्या हैं :

  • बहुत ज्यादा और बार बार प्यास लगना
  • बार बार यूरिन आना
  • लगातार भूख लगना
  • आंखों की रोशनी में कमी होना
  • ज्यादा प्यास लगना
  • बच्चों में बार-बार पेशाब आना-गीला होना
  • अत्यधिक भूख
  • लगातार वजन कम होना

अगर आपको अपने साथ ऊपर बताए गए लक्षण दिखने लगते हैं, तो ये डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं। ऐसा होने पर आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और सही जांच करानी चाहिए। हो सकता है कि ये डायबिटीज की बस शुरुआत हो। ऐसे में शुरू में ही सतर्क होते हुए आप इस समस्या को बढ़ने से रोक सकते हैं। अगर आपको ये समस्या होती है, तो आप इन लक्षणों को पहचानकर इनका सही उपचार करा सकते हैं।

तो आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा, हमें जरूर बताएं। अपनी प्रतिक्रिया आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर दे सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको इससे जुड़ी कोई अन्य जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। आपको हम डॉक्टर की सलाह से जवाब देने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

त्वचा से लेकर बालों तक के लिए फायदेमंद है नीम, जानें इसके लाभ

और पढ़ें : Diabetes insipidus : डायबिटीज इंसिपिडस क्या है ?

शिशु की त्वचा से बालों को निकालना कितना सही, जानें क्या कहते हैं डॉक्टर?

कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Diabetic Retinopathy: डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है?

    डायबिटिक रेटिनोपैथी (Diabetic Retinopathy) की जानकारी in hindi, निदान और उपचार, डायबिटिक रेटिनोपैथी के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, डायबिटिक रेटिनोपैथी का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shilpa Khopade

    क्या वेजीटेरियन या वेगन लोगों को स्ट्रोक का खतरा ज्यादा होता है?

    वेजीटेरियन लोगों में हार्ट डिजीज का खतरा कम लेकिन स्ट्रोक का जोखिम ज्यादा रहता है, क्यों। शाकाहारी आहार से खाना के फायदे और नुकसान। Vegetarian diet in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    बच्चों में डायबिटीज के लक्षण से प्रभावित होती है उसकी सोशल लाइफ

    बच्चों में डायबिटीज के कारण और लक्षण क्या हैं? बच्चों में टाइप 1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज के उपचार क्या हैं? Diabetes in children in Hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel

    सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

    ओट्स के फायदे अधिक होने के कारण इसे बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक ब्रेकफास्ट में शामिल कर सकते हैं। अस्थमा के साथ ही हार्ट अटैक के खतरे को भी ओट्स कम करता है। जानिए और क्या हैं ओट्स के फायदे ..

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi