home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस: हार्ट का यह इंफेक्शन हो सकता है जानलेवा!

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस: हार्ट का यह इंफेक्शन हो सकता है जानलेवा!

एंडोकार्डाइटिस (Endocarditis) एक प्रकार की सूजन है जो कि दिल के चैम्बर्स और वाल्वों की आंतरिक परत (एंडोकार्डियम) को प्रभावित करती है। इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis) को बैक्टीरियल एंडोकार्डाइटिस भी कहा जाता है। यह हृदय वाल्व या एंडोकार्डियम (Endocardium) में होने वाला एक संक्रमण है। यह स्थिति आमतौर पर बैक्टीरिया के ब्लड स्ट्रीम में प्रवेश करने और हृदय को संक्रमित करने के कारण होती है।

यह स्थिति हार्ट डिजीज का सामना कर रहे लोगों को ज्यादा प्रभावित करती है, खासकर उन मरीजों को जिनके अंदर इंट्रावैस्कुलर प्रोस्थेटिक मटेरियल डिवाइस (Intravascular prosthetic material devices) इम्प्लांट की जाती है। इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस एक गंभीर स्थिति है खासकर उन लोगों के लिए जिन्हें संक्रमण की संभावना अधिक होती है।

जब यह स्थिति बैक्टीरिया के कारण होती है, तो इसे बैक्टीरियल एंडोकार्टिटिस (Bacterial endocarditis) कहा जाता है। दुर्लभ मामलों में, यह कवक (फंगी) या अन्य सूक्ष्मजीवों के कारण भी हो सकता है। इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis) एक गंभीर स्थिति है जिसका उपचार शीघ्र होना आवश्यक है। यदि समय पर इलाज ना किया जाए, तो संक्रमण हृदय के वाल्वों को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं :

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस के लक्षण (Infective endocarditis Symptoms)

एंडोकार्डाइटिस की स्थिति धीरे-धीरे या अचानक से विकसित हो सकती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि कौन से बैक्टीरिया संक्रमण का कारण बन रहे हैं और आपको कोई अन्य हृदय से जुड़ी समस्या तो नहीं है। एंडोकार्डाइटिस (Endocarditis) के लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न भी हो सकते हैं। लक्षणों में शामिल हैं:

  • बुखार
  • सीने में दर्द
  • कमजोरी आना
  • यूरिन में खून आना
  • ठंड लगना
  • ज्यादा पसीना आना
  • त्वचा पर लाल चकत्ते होना
  • मुंह में या जीभ पर सफेद धब्बे
  • जोड़ों में दर्द और सूजन
  • मांसपेशियों में दर्द
  • यूरिन का रंग असामान्य होना
  • थकान
  • खांसी
  • सांस लेने में कठिनाई
  • गले में खराश
  • साइनस और सिर दर्द
  • मतली या उलटी
  • वजन घटना

यदि तुरंत इलाज ना किया जाए तो इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis) जानलेवा स्थिति हो सकती है। इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस के लक्षण कई अन्य बीमारियों के समान हो सकते हैं। यदि आप ऊपर बताए गए लक्षणों में से किसी का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : टॉप 10 हार्ट सप्लिमेंट्स: दिल 💝 की चाहत है सप्लिमेंट्स

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस के कारण (Infective endocarditis Causes)

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis)

एंडोकार्डाइटिस तब होता है जब रोगाणु (आमतौर पर बैक्टीरिया) ब्लडस्ट्रीम (Blood stream) में प्रवेश करते हैं और हृदय से होकर गुजरते हैं और फिर असामान्य हृदय वाल्व या डैमेज हार्ट टिशूज से जुड़ जाते हैं। इसके साथ ही फंगस या अन्य रोगाणु भी एंडोकार्डाइटिस (Endocarditis) का कारण बन सकते हैं। आमतौर पर इम्यून सिस्टम आपके ब्लडस्ट्रीम में प्रवेश करने वाले किसी भी हानिकारक बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है। हालांकि, मुंह, गले या आपके शरीर के अन्य हिस्सों में रहने वाले बैक्टीरिया, जैसे कि त्वचा या आंत, कभी-कभी के बैक्टीरिया भी एंडोकार्डाइटिस का कारण बन सकते हैं।

एंडोकार्डाइटिस (Endocarditis) का कारण बनने वाले बैक्टीरिया, फंगस (Fungus) और अन्य जर्म्स ब्लड स्ट्रीम में निम्न प्रकार से प्रवेश कर सकते हैं।

दांतों की देखभाल ना करना (Not taking care of teeth)

उचित टूथब्रशिंग और फ्लॉसिंग मसूड़ों की बीमारी को रोकने में मदद करता है। यदि आप अपने दांतों और मसूड़ों की अच्छी देखभाल नहीं करते हैं, तो ब्रश करते समय अस्वस्थ मसूड़ों से खून आ सकता है, जिससे बैक्टीरिया आपके ब्लड स्ट्रीम में प्रवेश कर सकते हैं। इसके साथ ही कुछ डेंटल प्रॉसेस से भी आपके मसूड़े कट सकते हैं जिससे बैक्टीरिया ब्लडस्ट्रीम में प्रवेश कर सकते हैं।

कैथेटर (Catheter)

बैक्टीरिया, एक पतली ट्यूब के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं जिसका उपयोग डॉक्टर कभी-कभी शरीर से तरल पदार्थ (कैथेटर) को इंजेक्ट या निकालने के लिए करते हैं। यदि कैथेटर लंबे समय तक लगा रहता है तो ऐसा होने की संभावना अधिक होती है। उदाहरण के लिए, यदि लंबे समय तक आपकी डायलिसिस होती है, तो कैथेटर के माध्यम से बैक्टीरिया ब्लड स्ट्रीम तक पहुंच सकते हैं।

अवैध आईवी ड्रग (IV Drug) का उपयोग

हेरोइन या कोकीन जैसे अवैध आईवी ड्रग्स का उपयोग करने वाले लोगों के लिए कन्टैमिनैटेड नीडल और सीरिंज का उपयोग एक विशेष चिंता का विषय है। अक्सर, जो लोग इस प्रकार के ड्रग्स के आदि होते हैं, वे अनजाने में इंफेक्टेड नीडल या सीरिंज का इस्तेमाल कर लेते हैं। ऐसे में इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis) की संभावना बढ़ जाती है।

और पढ़ें : दिल के साथ-साथ हार्ट वॉल्व्स का इस तरह से रखें ख्याल!

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस का निदान (Infective endocarditis Diagnosis)

जब आप अपने डॉक्टर के पास जाते हैं, तो आप सबसे पहले लक्षणों के बारे में पूछते हैं। इसके बाद डॉक्टर शारीरिक जांच करता है। वे स्टेथोस्कोप से आपके दिल की धड़कन की जांच करेंगे। यदि आपके डॉक्टर को इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस का संदेह है, तो आपके ब्लड में बैक्टीरिया का परीक्षण किया जाएगा। एनीमिया की जांच के लिए एक कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी) का भी उपयोग किया जा सकता है। इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस के कारण लाल रक्त कोशिकाओं में कमी हो सकती है।

आपका डॉक्टर आपको एक इकोकार्डियोग्राम, या हृदय का अल्ट्रासाउंड करने के लिए भी सजेस्ट कर सकता है। इकोकार्डियोग्राम आपके हृदय वाल्व में क्षतिग्रस्त ऊतक, छिद्रों या अन्य संरचनात्मक परिवर्तनों का परीक्षण करता है। डॉक्टर आपको इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईकेजी) करवाने की सलाह भी दे सकता है। ईकेजी आपके दिल में विद्युत गतिविधि की निगरानी करता है। यह दर्द रहित परीक्षण एंडोकार्डाइटिस के कारण होने वाली अनियमित धड़कन का पता लगा सकता है।

इमेजिंग परीक्षण से यह पता चल सकता हैं कि आपके हृदय के आकार में कोई बदलाव आया है या नहीं। इससे यह भी पता लगाया जा सकता है कि संक्रमण आपके शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैला है या नहीं। ऐसे परीक्षणों में शामिल हैं:

  • चेस्ट का एक्स – रे
  • कंप्यूटेड टोमोग्राफी (सीटी) स्कैन
  • एमआरआई

यदि आपको इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis) की समस्या है, तो आपको उपचार के लिए तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।

हार्ट अटैक के बारे में जानें इस 3-D मॉडल के माध्यम से:

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (आईई) का उपचार (Infective endocarditis Treatment)

दवाएं (Medication)

प्रिस्क्राइब मेडिसिन का प्रकार इस बात पर निर्भर करता है कि आपको एंडोकार्डाइटिस किस कारण से हो रहा है। बैक्टीरिया के कारण होने वाले एंडोकार्डाइटिस के इलाज के लिए आईवी एंटीबायोटिक दवाओं का हाय डोज दिया जाता है। यदि आपको आईवी एंटीबायोटिक्स खाने के लिए कहा जाता हैं, तो आमतौर पर आपको एक सप्ताह या उससे अधिक दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती किया जा सकता है ताकि आपका डॉक्टर यह निर्धारित कर सके कि उपचार काम कर रहा है या नहीं।

एक बार जब आपका बुखार उतर जाता है और कोई भी गंभीर लक्षण नहीं दिखते तो आप अस्पताल से जा सकते हैं और डॉक्टर की सला से आईवी एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन जारी रख सकते हैं। संक्रमण को दूर करने के लिए आपको आमतौर पर कई हफ्तों तक एंटीबायोटिक्स लेनी होंगी। यदि एंडोकार्डाइटिस एक फंगल इंफेक्शन के कारण है, तो आपका डॉक्टर एंटीफंगल दवा प्रिस्क्राइब करेगा। एंडोकार्डाइटिस को वापस आने से रोकने के लिए कुछ लोग आजीवन एंटीफंगल टैबलेट्स का सेवन करते हैं।

सर्जरी (Surgery)

लगातार एंडोकार्डाइटिस संक्रमण का इलाज करने या डैमेज वाल्व को बदलने के लिए हार्ट वाल्व सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है। कभी-कभी फंगल इंफेक्शन के कारण होने वाले एंडोकार्डाइटिस के इलाज के लिए भी सर्जरी की आवश्यकता होती है। आपकी स्थिति के आधार पर, डॉक्टर आपके डैमेज वाल्व का इलाज करने के लिए इसे आर्टिफिशियल वाल्व से बदलने की सलाह भी दे सकता है।

और पढ़ें : राइट साइड हार्ट फेलियर के लक्षणों को न करें नजरअंदाज, हो सकते हैं जानलेवा

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस से कैसे बच सकते हैं? (Infective endocarditis Prevention)

बैक्टीरियल एंडोकार्डाइटिस (Bacterial endocarditis) के सभी मामलों की रोकथाम नहीं की जा सकती है, लेकिन आप इसके कुछ जोखिमों को कम कर सकते हैं। उदाहरण के लिए:

  • स्ट्रेप इंफेक्शन का शीघ्र उपचार रूमैटिक हार्ट डिजीज को रोकने में मदद कर सकता है।
  • आईवी ड्रग्स का सेवन नहीं करने से आपका जोखिम कम हो सकता है।
  • अपने मुंह को साफ और स्वस्थ रखने से भी आपका जोखिम कम हो सकता है।
  • डेंटल प्रॉसीजर से पहले एंटीबायोटिक्स लेने की आवश्यकता हो सकती है।
  • यदि आपको किसी प्रकार का जन्मजात हृदय रोग, एंडोकार्डाइटिस (Endocarditis) की मेडिकल हिस्ट्री, या हार्ट वाल्व के साथ हार्ट ट्रांसप्लांट हुआ है, तो आपको एंटीबायोटिक्स लेने की आवश्यकता हो सकती है।
  • अपने सभी डॉक्टर्स और डेंटिस्ट को अपने हार्ट हेल्थ की हिस्ट्री के बारे में अवश्य बताएं।

इन कुछ बातों का ध्यान रखकर, आप इस बीमारी से काफी हद तक खुद को बचा सकते हैं।

और पढ़ें: हार्ट फेलियर से बचने के लिए किन आयनोट्रोप्स का किया जाता है इस्तेमाल?

इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस (Infective endocarditis) से जुड़ी किसी भी समस्या के बारे में आपको इस लेख में पूरी जानकारी देने की कोशिश की गई है। ताकि आप समय रहते इस स्थिति को समझ सकें और सही समय पर निदान और उपचार का सहारा ले सकें। इसके अलावा अपनी लाइफस्टाइल को हेल्दी रखें। यदि आपके मन में इंफेक्टिव एंडोकार्डाइटिस से संबंधित कोई भी प्रश्न है तो इस बारे में अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श लें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 4 weeks ago को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x