home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज में क्या संबंध है? बीटा ब्लॉकर्स के साथ इन बातों का रखें ध्यान....

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज में क्या संबंध है? बीटा ब्लॉकर्स के साथ इन बातों का रखें ध्यान....

बहुत हार्ट के मरीज, जिनके मेडिकेशन में बीटा ब्लॉकस शामिल होता है, उनके मन में अक्सर यह सवाल होता है कि क्या बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज (Beta Blockers And Exercise) में संबंध है? बीटा ब्लॉकर्स दिल के दौरे के बाद या असामान्य हार्ट बीट से परेशान रोगियों को दी जाती है। यह एक प्रकार की हृदय संबंधी दवा है। वे आपके दिल की धड़कन को धीमा यानि की लय में रखती है। अब सवाल यह उठता है कि क्या यह व्यायाम करने की आपकी क्षमता को प्रभावित करते हैं? इसका जवाब आप यह है कि आपकी स्थिति की गंभीरता के आधार पर इसके परिणाम बहुत भिन्न हो सकते हैं, इसलिए इसे बस डॉक्टर की सलाह पर ही लिया जाना चाहिए। एक्सरसाइज में इसके प्रभाव को जानने के लिए पहले यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि ये दवाएं आपके दिल को कैसे प्रभावित करती हैं। आइए जानते हैं कि बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज (Beta Blockers And Exercise) में क्या संबंध है?

और पढ़ें: कॉन्जेनिटल हार्ट डिजीज में इस्तेमाल की जाती हैं ये बीटा ब्लॉकर्स दवाएं!

बीटा ब्लॉकर्स क्या है (What are beta blockers) ?

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज के बीच संबंध को जानने के लिए पहले यह जान लें कि बीटा ब्लॉकर्स क्या है। बीटा ब्लॉकर्स का उपयोग असामान्य हृदय गति के और असामान्य रूप से तेज हृदय गति इलाज के लिए किया जा सकता है जिसे टैचीकार्डिया भी कहा जाता है। इस दवा की सलाह कई बार एनजाइना या सीने में दर्द के इलाज में भी दी जाती है, ऐसा तब होता है जब हृदय की ऑक्सिजन की मांग आपूर्ति से अधिक हो जाती है। बीटा ब्लॉकर्स दिल का दौरा पड़ने के बाद सुरक्षित जीवन के लिए दी जाती है। इसका उपयोग हायपरटेंशन और अन्य डिजीज के इलाज के लिए भी किया जाता है। बीटा ब्लॉकर्स, जिन्हें बीटा-एड्रीनर्जिक अवरोधक एजेंट भी कहा जाता है, उच्च रक्तचाप को कम करने और हृदय रोग को रोकने के लिए मेडिकेशन में व्यापक रूप से निर्धारित दवाएं हैं। जबकि व्यायाम आपके रक्तचाप को कम करने में मददगार है। हाय ब्लड प्रेशर को साइलेंट किलर के रूप में भी जाना जाता है। उच्च रक्तचाप वाले लोगों को सुरक्षित व्यायाम और बीटा ब्लॉकर्स के बारे में डॉक्टर से समझना चाहिए।

बीटा ब्लॉकर्स दिल की धड़कन को धीमा करके आपके दिल पर तनाव को दूर करते हैं। यह हार्ट में होने वाले उस प्रेशर को कम करता है जिसके साथ हृदय की मांसपेशियां सिकुड़ती हैं और हृदय, मस्तिष्क और पूरे शरीर में रक्त वाहिका संकुचन को कम करती है। बीटा ब्लॉकर्स, कई सामान्य ब्रांड नामों में उपलब्ध हैं, जिनमें प्रोप्रानोलोल (इंडरल), मेटोप्रोलोल (लोप्रेसर), एटेनोलोल (टेनोर्मिन) ऐसब्यूटोलोल (सेक्ट्रल), बिसोप्रोलोल (ज़ेबेटा) और नाडोलोल (कॉर्गार्ड) शामिल हैं।

और पढ़ें:एक्सरसाइज स्ट्रेस टेस्ट (Exercise Stress Test) दिल से जुड़ी इन बीमारियों के बारे में पता लगाने में करता है मदद!

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज : बीटा ब्लॉकर्स कैसे काम करते हैं (How beta blockers work) ?

बीटा ब्लॉकर्स, एपिनेफ्रीन हाॅर्मोन और नॉरपेनेफ्रिन के प्रभाव को रोकते हैं। बीटा ब्लॉकर्स दिल की धड़कन को सामान्य रखने में मदद करता है और जिससे रक्तचाप भी कम हो जाता है। यह रक्त प्रवाह को बढ़ावा देने के लिए नसों और धमनियों को खोलने में भी मदद करते हैं।विभिन्न प्रकार के बीटा ब्लॉकर्स हैं; कुछ मुख्य रूप से हृदय को प्रभावित करते हैं, जबकि अन्य हृदय और रक्त वाहिकाओं दोनों को प्रभावित करते हैं। ओरल बीटा ब्लॉकर्स के उदाहरणों में शामिल हैं:

  • बायस्टोलिक (नेबिवोलोल)
  • कॉर्गार्ड (नाडोलोल)
  • इंडरल, इनोप्रान एक्स्ट्रा लार्ज (प्रोप्रानोलोल)
  • लोप्रेसर, टोप्रोल एक्सएल (मेटोप्रोलोल)
  • सेक्ट्रल (ऐसब्यूटोलोल)
  • टेनोर्मिन (एटेनोलोल)
  • जेबेटा (बिसोप्रोलोल)

और पढ़ें: हॉर्मोन थेरिपीज का ट्रांसजेंडर्स के हार्ट पर हो सकता है असर, जानिए क्या कहती है स्टडी

बीटा ब्लॉकर्स आमतौर पर उन लोगों के लिए प्रभावी उपचार नहीं है, जिन्हें केवल हाय ब्लड प्रेशर की समस्या है। उच्च रक्तचाप को रोकने और उसका इलाज करने के लिए इन स्थितियों के लिए चल रही दवाओं को साथ में लिख सकते हैं:

  • अनियमित हार्ट बीट
  • सीने में दर्द (एनजाइना) की समस्या का होना
  • दिल की धमनी संबंधित रोग
  • हार्ट अटैक के शिकार रह चुके मरीजों में
  • माइग्रेन की रोकथाम के लिए
  • बीटा ब्लॉकर्स सीने में दर्द, पसीना और कंपकंपी जैसे लक्षणों के इलाज में प्रभावी हैं।

और पढ़ें: हार्ट डिजीज के मरीजों के लिए एक्सरसाइज करना है बेहद जरूरी, ताकि हार्ट को मिल सके बेहतर प्रोटेक्शन!

बीटा ब्लॉकर्स के साइड इफेक्ट (Side effects of beta blockers)

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज के बारे में जानने से पहले यह जान लें कि बीटा ब्लॉकर्स के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। दुर्भाग्य से, बीटा ब्लॉकर्स वृद्ध वयस्कों के लिए भी काम नहीं करता है, खासकर जब इसे अन्य रक्तचाप की दवाओं के बिना लिया जाए। कुछ बीटा ब्लॉकर्स गंभीर अस्थमा वाले लोगों में अस्थमा के दौरे को ट्रिगर कर सकता है। बीटा ब्लॉकर्स के सामान्य दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

कुछ लोगों में इसके हल्के और आम साइड इफेक्ट्स भी नजर आ सकते हैं, जैसे:

अक्सर, डॉक्टर रक्तचाप को कम करने के लिए एक या अधिक अतिरिक्त दवाओं के साथ बीटा ब्लॉकर्स लिख सकते हैं।

और पढ़ें: हार्ट डिजीज में इन एंजाइना साइन्स को पहचानिए, ताकि सही समय पर हो सके बचाव!

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज में क्या संबंध है? (Beta Blockers And Exercise)?

बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज दोनों ही हार्ट हेल्थ और रक्तचाप के लिए प्रभावी माने जाते हैं। बीटा ब्लॉकर्स और व्यायाम दोनों रक्तचाप के स्तर को कम करने में सहायक हो सकते हैं। यदि किसी काके हायपरटेंशन की समस्या है, तो डॉक्टर इसे स्वाभाविक रूप से कंट्राेल करने तरीकों में व्यायाम करने की भी सलाह दे सकते हैं। अब सवाल यह है किअगर आपको दवा लेनी है तो क्या व्यायाम करना सुरक्षित है? चूंकि अधिकांश बीटा ब्लॉकर्स आपके रक्तचाप को कम करते हैं, और आपकी हृदय गति और कार्डियक आउटपुट को धीमा करते हैं (एक मिनट में हृदय कितना रक्त पंप करता है), वे आपके व्यायाम लक्ष्यों को प्रभावित कर सकते हैं। बीटा ब्लॉकर्स के साथ डॉक्टर आपको कुछ हाय इंटेन्स वर्कआउट के लिए मना करते हैं, खासतौर पर वैसी एक्सरसाइज, जिससे हार्ट पर प्रेशर पड़ता है। बीटा ब्लॉकर्स पर हृदय कितना कठिन पंप करता है। डॉक्टर आपके लक्षित हृदय गति का पता लगाने के लिए कर सकते हैं। विशेषज्ञ यह भी सुझाव देते हैं कि बोर्ग स्केल (कथित परिश्रम की बोर्ग रेटिंग, या आरपीई) यह मापने का एक आसान तरीका है कि आप कितना कठिन व्यायाम कर रहा है। यह पैमाना छह से 20 तक की संख्या के साथ मेल रखता है, तो यह अर्थ है कि आप कितनी मेहनत कर रहे हैं (“बिल्कुल नहीं” से “बहुत, बहुत कठिन”)। संख्या जितनी अधिक होगी, आप उतना ही कठिन काम कर रहे हैं। फिर, किसी न किसी हृदय गति के अनुमान के लिए संख्या को 10 से गुणा करें। जो लोग बीटा ब्लॉकर्स लेते हैं, वे बहुत कठिन व्यायाम करते समय का जोखिम उठाते हैं। बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज (Beta Blockers And Exercise) दोनों के बारे में जानकारी के बाद की व्यायाम करना चाहिए।

और पढ़ें: एंड्यूरेंस एक्सरसाइज का डायबिटिक्स पर असर होता है काफी अच्छा, लेकिन ध्यान में रखनी होंगी ये बातें!

जो लोग बीटा ब्लॉकर्स लेते हैं वे अभी भी नियमित रूप से व्यायाम कर सकते हैं और कसरत करने से हेल्दी हार्ट भी रख सकते हैं। जिन मरीजों को हार्ट बीट की गति संबंधित समसया है, तो उन्हें यह ध्यान रखना चाहिए कि बीटा ब्लॉकर पर उनकी नई लक्षित हृदय गति भिन्न हो सकती है। कार्डियोसेक्लेक्टिव बीटा ब्लॉकर्स (जैसे एटेनोलोल, बिसोप्रोलोल और मेटोप्रोलोल), जो केवल हृदय कोशिकाओं में बीटा रिसेप्टर्स को ब्लॉक करते हैं। नॉन-कार्डियोसेक्लेक्टिव में (जैसे नाडोलोल, कार्वेडिलोल और प्रोप्रानोलोल) से कम व्यायाम को प्रभावित कर सकते हैं। चूंकि बीटा ब्लॉकर्स हृदय गति को धीमा करता है, इसलिए व्यायाम करते समय अत्यधिक परिश्रम से बचना महत्वपूर्ण है। बीटा ब्लॉकर्स और एक्सरसाइज के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

 

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड