home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जल्द से जल्द लोगों तक कोविड 19 वैक्सीन पहुंचाने की पहल, जाग रही है एक नयी उम्मीद

जल्द से जल्द लोगों तक कोविड 19 वैक्सीन पहुंचाने की पहल, जाग रही है एक नयी उम्मीद

बात करें साल 2020 की, तो ये साल कोविड 19 की भेंट चढ़ गया। भले ही इस साल की शुरुआत सामान्य तौर पर हुई हो, लेकिन पहले दो महीनों के बाद देश ने ऐसा समय देखा, जो पहले कभी देखा नहीं गया था। एक ओर सभी अपने घरों में कैद थे, वहीं दूसरी ओर देश में कोविड 19 वैक्सीन बनाने और कोरोना वायरस से लड़ने के लिए पूरजोर कोशिशें जारी थी। आखिरकार साल के अंत तक कोविड 19 वैक्सीन (covid 19 vaccine)बना ली गई और नए साल की शुरुआत के साथ इसे लोगों के बीच लाने की प्रक्रिया की शुरुआत कर दी गई।

कोविड 19 वैक्सीन (covid 19 vaccine) से जुड़ी नयी खबर हाल ही में सब के सामने आई है। सरकार ने 22 जनवरी तक इस वैक्सीन को 10.5 लाख लोगों तक पहुंचा दिया है। देश में कोविड 19 वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत की जा चुकी है, जिसके छठवें दिन ही कोविड 19 वैक्सीन 10.5 लाख लोगों तक पहुंच चुकी है, जो किसी बड़ी उपलब्धि से कम नहीं है। आइये जानते हैं कोविड 19 वैक्सीनेशन ड्राइव से जुड़ी कुछ और खास बातें।

और पढ़ें : क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

कोविड 19 वैक्सीनेशन ड्राइव (Covid 19 vaccination drive) का आगाज जोरों-शोरों से

Covid 19 vaccination drive - कोविड 19 वैक्सीनेशन ड्राइव

मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फॅमिली वेलफेयर की रिपोर्ट के मुताबिक 22 जनवरी 2021 की सुबह 7 बजे तक देश भर में 10.6 लोगों को वक्सीनेश दी जा चुकी है। जिसमें से करीब 4049 सेशंस में हर दिन 2,37,050 लोगों को कोविड 19 वैक्सीन (covid 19 vaccine) दी गई। इस हिसाब से देश में कोविड 19 वैक्सीनेशन ड्राइव (Covid 19 vaccination drive) आगाज बड़े पैमाने पर कर दिया गया है।

कोविड 19 टेस्टिंग (covid 19 testing) में बढ़ोतरी किसी खुशखबरी से कम नहीं!

Covid 19 testing - कोविड 19 टेस्टिंग

बात करें कोविड 19 टेस्टिंग (covid 19 testing), तो देश में रोजाना टेस्टिंग के नए आंकड़ें दर्ज हो रहे हैं। रोजाना के दर्ज हो रहे आंकड़ें कोविड 19 की रोकथाम में एक अच्छा लक्षण साबित हुआ है, क्योंकि इसी टेस्टिंग (covid 19 testing) बूते भारत ने इतनी जल्दी कोविड 19 की वेव को काबू में किया है। एक दिन में करीब 8,00,242 लोगों ने कोविड 19 टेस्ट करवाए हैं, जिसके बाद टेस्टिंग का आंकड़ा 19,01,48,024 की गिनती तक पहुंच चुका है।

और पढ़ें: कोरोना वायरस से बचने के लिए ट्रैवलिंग से लेकर होटल में स्टे तक, रखें इन बातों का ध्यान

कोविड 19 पॉसिटिविटी रेट (covid 19 positivity rate) में गिरावट – एक नई उम्मीद

Covid 19 recovery rate - कोविड 19 रिकवरी रेट

साथ ही देश में टेस्टिंग के अच्छे आंकड़ों के कारण कोविड 19 पॉसिटिविटी रेट (covid 19 positivity rate) कम होता नजर आ रहा है। देश में हो रही टेस्टिंग के चलते अब तक कोविड 19 पॉसिटिविटी रेट 5.59% दर्ज किया गया है, जो 6% से भी कम है। जाहिर है देश में हो रही कोविड 19 टेस्टिंग के चलते लोगों की कोरोना वायरस से सुरक्षा में खासा इजाफा हुआ है।

देश में जहां एक समय पर रोजाना 1 लाख केसेस दिखाई दे रहे थे, वहीं नए साल की शुरुआत में ये आंकड़ा राहत पहुंचानेवाला साबित हो रहा है। पिछले कुछ सप्ताह की बात करें, तो देश में कोविड 19 के एक्टिव केसेस में 1.78% की गिरावट देखी गई है। जिसके मुताबिक अब तक देश में सिर्फ 1,88,688 एक्टिव केसेस हैं। वहीं पिछले कुछ घंटों में 18,002 लोग रिकवर हो चुके हैं। इसी के साथ कुल एक्टिव मामलों (covid 19 active cases) में 3,620 केसेस की गिरावट दर्ज की गई है। वहीं रिकवरी रेट (covid 19 recovery rate) की बात करें, तो अब तक रिकवरी रेट 96.78% हो चुका है, इसी के साथ अब तक 10,283,708 लोग कोविड 19 (covid 19) से रिकवर हो चुके हैं।

और पढ़ें: अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

कोरोना के केसेस को कम करने के लिए वैक्सिनेशन पर सबकी निगाहें टिकी हैं। वैक्सिनेशन प्रक्रिया शुरू भी हो चुकी है। कई लोगों के मन में वैक्सीन को लेकर कई अच्छे बुरे सवाल हैं। इसलिए हमने दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टिट्यूट के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी एक्सपर्ट डॉ. अशोक सेठ से बात की। डॉ. अशोक ने कोविड-19 वैक्सीन की डोज वैक्सिनेशन प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही ली है। डॉ. अशोक हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए आगे कहते हैं कि वैक्सीन लेना अत्यधिक महत्वपूर्ण है। मैनें वैक्सिनेशन प्रक्रिया शुरू होने के बाद तीसरे दिन ही वैक्सीन लिया और मुझे कोई तकलीफ या साइड इफेक्ट्स नहीं हुए। मैंने वैक्सीन लेने के बाद पूरे दिन ठीक वैसे ही काम किया जैसे अन्य दिनों करता हूं। कोरोना वायरस से बचने के लिए जिस तरह से मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है, तो वहीं अब जब वैक्सीन की डोज दी जा रही है, तो वैक्सीन लेने से पीछे ना रहें। वैक्सिनेशन से डरे नहीं, क्योंकि वैक्सीन देने के पहले व्यक्ति की पूरी मेडिकल हिस्ट्री समझी जाती है। वैक्सीन लेने के बाद अगर आपको बुखार आता है या आप असहज महसूस करते हैं, तो इससे घबराएं नहीं। यह परेशानी अपने आप ही ठीक हो जायेगी। इसलिए वैक्सीन अवश्य लें और अगर आपको शारीरिक तकलीफ ज्यादा महसूस हो रही है, तो डॉक्टर से कंसल्ट करें।

कोविड 19 वैक्सीन (covid 19 vaccine) से जुड़ी जरूरी बातें

हाल ही में देश में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड वैक्सीन को मंजूरी दी गई थी, जिसके बाद लोगों को कोविड 19 वैक्सीन देने की शुरुआत हुई। कोविशील्ड एडेनोवायरस (एक सामान्य कोल्ड वायरस) के कमजोर और मॉडिफाइड वर्जन से बनी है। एसआईआई के सीईओ अदर पूनावाला के अनुसार इस वैक्सीन को बनाने में उन्होंने पिछले 7 -8 महीनों से कड़ी मेहनत की है। इतने लंबे समय से वो इस वैक्सीन को बनाने में लगे हैं और अब उनके पास लाखों की मात्रा में डोज तैयार है। अदर पूनावाला का कहना है कि कोरोना वायरस (corona virus) की इस वैक्सीन को बनाने में सबसे बड़ी चुनौती, जो उनके सामने थी वो थी “कम समय”। इसके साथ उन्हें यह भी पता नहीं था कि यह वैक्सीन काम करेगी या नहीं।

आमतौर, पर हर वैक्सीन को बनाने से पहले उसके फेज-3 के खत्म होने का इंतज़ार किया जाता है और इसके बाद उत्पाद को बनाया जाता है। लेकिन, इस वैक्सीन (covid 19 vaccine) के लिए उन्हें पहले ही काफी इंवेस्टमेंट करना पड़ा था। अभी उनके पास इस वैक्सीन की लगभग 50 मिलियन (5 करोड़) खुराक तैयार हैं, जो 25 मिलियन(2 .5 करोड़) लोगों के लिए पर्याप्त हैं। वो लगातार इस वैक्सीन का उत्पादन कर रहे हैं और आने वाले समय में इस उत्पादन को बढ़ा दिया जाएगा। इस कंपनी का यह भी मानना है कि आने वाले समय में यानी दो या तीन महीनों में वो लगभग दस करोड़ कोविशील्ड वैक्सीन की डोज तैयार कर लेंगे। यही नहीं, भारत में वेक्सिनेशन के पहले फेज में लगभग तीस करोड़ लोगों को इस वैक्सीन का प्रयोग करने दिया जाएगा। इसकी पूरी तैयारी भी कर ली गई है।

कोविड 19 वैक्सीन : स्टोरेज

इस वैक्सीन को बहुत कम तापमान पर स्टोर किया जाता है। एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड कोविड -19 वैक्सीन (covid 19 vaccine) को कम से कम छह महीने तक सामान्य रेफ्रिजरेटेड कंडीशंस (2 ° C से 8 ° C) पर स्टोर, एक जगह से दूसरी जगह भेजा और संभाला जा सकता है। हालांकि हमारे देश में कोल्ड स्टोरेज कम है इसलिए यह एक समस्या का कारण जरूर हो सकता है। ऐसा भी माना जा रहा है कि कोविशील्ड वैक्सीन(Covishield vaccine) की एक बोतल में दस डोज स्टोर है और इस बोतल को अगर एक बार खोल दिया जाता है, तो चार या पांच घंटे के अंदर इसका प्रयोग करना अनिवार्य है। अभी तैयार वैक्सीन को सही पैकिंग के साथ कोल्ड स्टोरेज में रखा गया है। जहां उनकी सुरक्षा पर भी पूरा ध्यान दिया गया है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को भी इतने ही तापमान में स्टोर किया गया है।

और पढ़ें: जानें कहा तक पहुंची है कोराेना की वैक्सीन और आने वाले साल में इसका प्रभाव कैसा रहेगा

कोविड 19 वैक्सीन : प्रभाव

हर व्यक्ति को इस कोविशील्ड वैक्सीन(Covishield vaccine) के लिए दो डोज लेना जरूरी है। विषेशज्ञों के अनुसार इस कोविड -19 वैक्सीन(covid 19 vaccine) ने 90 प्रतिशत और 62 प्रतिशत की प्रभावकारिता दिखाई है। जिन लोगों ने एक महीने के अंतर में दोनों पूरी खुराकें ली है, उनमें इसका प्रभाव 62 प्रतिशत देखा गया है। वहीं, जिन लोगों ने पहली खुराक कम और दूसरी पूरी ली, उनमें इस वैक्सीन का प्रभाव 90 प्रतिशत देखा गया है। अदर पूनावाला के अनुसार दोनों खुराकों के बीच में अंतर होना इसके प्रभाव को बढ़ाने के लिए जरूरी है।

कोविड 19 वैक्सीन : कीमत

कोविशील्ड वैक्सीन(Covishield vaccine) की कीमत अन्य दवाइयों से अधिक नहीं रखी गई है। अगर आप इस वैक्सीन को सरकारी स्टोर से लेते हैं तो इसकी एक डोज की कीमत मात्र 400 रुपए होगी और अगर आप इसके प्राइवेट स्टोर से लेते हैं तो यह आपको 700 -800 की मिलेगी। लेकिन, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री में हाल ही में यह बात साफ कर दी है कि पूरे देश में कोरोना की वैक्सीन फ्री में दी जाएगी।

और पढ़ें: जानें कोरोना जैसे संकट के साथ कैसा रहा साल 2020, लोगों ने शयर किया अपना अनुभव

कोविड 19 वैक्सीन : साइड इफेक्ट

कोरोना वायरस (corona virus) ने भारत में पिछले एक साल से कई लोगों की जान ली है। अभी भी रोजाना इसके कई मामले सामने आ रहे हैं। ऐसे में, इस वैक्सीन को मंजूरी मिलने से सभी लोगों ने राहत की सांस ली जा सकती है। हर वैक्सीन (covid 19 vaccine) के कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं। हालांकि, कोविशील्ड वैक्सीन(Covishield vaccine) पूरी तरह से सुरक्षित मानी गई है। इसके ट्रायल के दौरान लोगों को हलकी सिरदर्द और बुखार की शिकायत हुई, लेकिन यह बेहद सामान्य है। ऐसा भी माना गया है कि यह सामान्य साइड-इफेक्ट एक या दो दिन में ठीक हो जाते हैं।

इस हिसाब से देश में कोविड 19 वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत हो चुकी है, जिसके बाद कोविड 19 केसेस की बढ़ोतरी में रोक लग सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

https://pib.gov.in/PressReleaseIframePage.aspx?PRID=1691127

https://www.organiser.org/Encyc/2020/12/7/Serum-Institute-of-India-applies-for-emergency-approval-of-covid-vaccine-candidate-Covishield-.html

https://healthblog.uofmhealth.org/wellness-prevention/not-sure-about-covid-19-vaccine-get-facts-then-decide

https://vaccine.icmr.org.in/covid-19-vaccine

https://www.mohfw.gov.in/pdf/FAQsonCOVID19VaccineDecember2020.pdf

 

 

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Toshini Rathod द्वारा लिखित
अपडेटेड 25/01/2021
x