home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना वायरस के टेस्ट को लेकर अगर आपके मन में है सवाल तो जरूर पढ़ें ये खबर

कोरोना वायरस के टेस्ट को लेकर अगर आपके मन में है सवाल तो जरूर पढ़ें ये खबर

कोविड-19 टेस्ट फिलहाल ऐसा टेस्ट है जो किसी भी व्यक्ति को कराना पड़ सकता है।अगर आपको लग रहा है कि आपको न तो कभी कोरोना वायरस का खतरा हो सकता है और न ही कभी आपको कोविड-19 टेस्ट की जरूरत पड़ेगी तो आप गलत है। जिस तेजी से कोरोना वायरस फैल रहा है, उससे तो यहीं लगता है कि कोरोना वायरस का टेस्ट किसी भी व्यक्ति को करवाना पड़ सकता है। फिलहाल जानकारी या शंका के आधार पर अब तक तीन लाख से ज्यादा लोगों के टेस्ट भारत में हो चुके हैं। अगर किसी भी व्यक्ति को कोरना के लक्षण नजर आते हैं तो बेहतर होगा कि वो व्यक्ति बिना घबराएं अपनी जांच कराएं। जांच कराने से आपके आसपास के लोग, यहां तक कि आपके परिवार को भी सुरक्षा मिलेगी। अगर आपको नहीं पता है कि कोरोना वायरस का टेस्ट कैसे कराना है और कोविड-19 टेस्ट की रिपोर्ट कब तक आती है, तो ये आर्टिकल जरूर पढ़ें।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने में भारत कितना है दूर? बाकी देशों का क्या है हाल, जानें यहां

कोविड-19 टेस्ट में कितना लग सकता है समय ?

बात देश कि करें या फिर दुनियाभर की, सभी जगहों पर कोरोना वायरस के टेस्ट की जांच तेजी से की जा रही है, ताकि कम समय में ज्यादा संक्रमित लोगों की संख्या का पता लगाया जा सके। फिलहाल भारत के उन स्थानों में कोविड-19 टेस्ट अभी भी चैलेंज बना हुआ है, जहां जांच के लिए टेस्टिंग सेंटर दूरी पर बने हुए हैं। इसी कारण से टेस्ट का रिजल्ट आने में देरी होना भी वाजिब है। जिन स्थानों में टेस्ट किट की कमी बनी हुई है, वहां भी कोविड-19 टेस्ट का रिजल्ट आने में देरी का सामना करना पड़ रहा है।

दुनिया के कई देशों में डिसीज कंट्रोल सेंटर को दूषित पाया गया है, जिसके कारण कोरोना वायरस किट के वितरण में लोगों को देरी का सामना करना पड़ा। भारत के संदर्भ में बात करें तो भारत में सरकारी अस्पताल, लैब के साथ ही निजी लैब में भी कोरोना वायरस के टेस्ट की सुविधा उपलब्ध है। रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट और जेनेटिक टेस्ट डॉक्टर्स की सलाह पर ही किया जाता है। सरकारी अस्पताल और लैब में तो कोविड-19 टेस्ट पूरी तरह से निशुल्क है, जबकि निजी लैब में कोविड-19 टेस्ट की क़ीमत 4,500 रुपये है। रैपिड एंटीबॉडीटेस्ट का रिजल्ट 5 से 15 मिनट में आ जाता है। डॉक्टर्स रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट के बाद ही डॉक्टर जेनेटिक टेस्ट की सलाह देगा जिसका रिजल्ट एक से दो घंटे में आ जाता है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस से लड़ने में देश के सामने ये है सबसे बड़ी बाधा, कोराेना फेक न्यूज से बचें

कोरोना वायरस का टेस्ट क्या अधिक मंहगा है ?

सरकार ने कोविड-19 टेस्ट की कीमत 4500 रुपये रखी है। यह रकम तब देनी है जब आपके घर से सैंपल लिया जाएगा और अगर आप अस्पताल में सैंपल देते हैं तो इसकी कीमत 3500 रुपये होगी। यह तब होगा जब आप निजी लैब में जांच करवाते हैं। अगर सरकारी लैब में कोविड-19 की जांच हो रही है तो ये निशुल्क होगी। वैसे भारत में कोविड-19 टेस्ट की दर को बढ़ाएं जाने के संभव प्रयास किए जा रहे हैं। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने अब तक एकमात्र भारतीय टेस्ट किट को मंजूरी दी है और टेस्ट किट की दुनियाभर किट की मांग अधिक होने पर आयात में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

COVID-19 Outbreak updates
Country: India
Data

1,435,453

Confirmed

917,568

Recovered

32,771

Death
Distribution Map

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस फैक्ट चेक: कोरोना वायरस की इन खबरों पर भूलकर भी यकीन न करना, जानें हकीकत

कोरोना वायरस का टेस्ट कब कराना जरूरी होता है ?

ऐसा नहीं है कि सभी व्यक्तियों को कोविड-19 टेस्ट कराना चाहिए। अगर आपके आस-पास या फिर आपके परिवार में किसी का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव आया है तो आपको भी कोरोना टेस्ट करवाना जरूरी हो जाता है। लेकिन इस बारे में आपको डॉक्टर ऑर्डर देंगे। साथ ही टेस्टिंग फैसिलिटी के साथ आपका अपॉइंटमेंट भी फिक्स किया जाएगा। अगर आप हाई रिस्क पेशेंट हैं या फिर आपका टेस्ट पॉजिटिव आता है तो आपको अस्पताल में भर्ती किया जाएगा और साथ ही आपके संपर्क में आने वाले व्यक्तियों का भी कोविड-19 टेस्ट किया जाएगा। कोरोना वायरस का लक्षण अगर आपको दिख रहा है तो भी आप हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। जांच टीम आपको दिशानिर्देश देगी।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

अगर कोविड-19 पॉजिटिव आए तो ?

अगर आपको जानकारी मिलती है कि आपका कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव आया है तो पूछताछ होने पर आपको अपने निकट संबंधियों के बारे में जानकारी देनी होगी। साथ ही ये भी बताना होगा कि आप किस दुकान में गए और कितने लोगों से मिले हैं। पूछताछ के दौरान बहुत जरूरी है कि आप सही जानकारी दें। आपको अस्पताल में आइसोलेशन में रखा जाएगा। डॉक्टर्स आपकी पूरी केयर करेंगे और साथ ही आपका कुछ दिनों बाद फिर से कोरोना टेस्ट किया जाएगा। अगर आपका टेस्ट लगातार निगेटिव आता है तो आपको हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। घर में आने के बाद भी आपको सभी लोगों से दूरी बनाकर रखना जरूरी होगा। कोरोना वायरस के लक्षण दोबारा दिखने पर आपको डॉक्टर को तुरंत जानकारी देनी चाहिए।

इस लेख के माध्यम से आपको कोरोना-19 टेस्ट के बारे में जानकारी देने की कोशिश की गई है। फिलहाल भारत में जेनेटिक और दूसरा सेरोलॉजिकल टेस्ट का इस्तेमाल किया जा रहा है। जेनेटिक टेस्ट यानी स्वैब टेस्ट के माध्यम से ही भारत में कोविड-19 के लिए टेस्ट शुरू किए गए थे। इसके बाद रैपिड एंडीबॉडी टेस्ट का सहारा लिया गया। फिलहाल दोनों ही माध्यम से कोविड-19 टेस्ट किए जा रहे हैं। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ेंः

कोरोना वायरस की ग्लोसरी: आपने पहली बार सुने होंगे ऐसे-ऐसे शब्द

कोरोना वायरस के लक्षण तेजी से बदल रहे हैं, जानिए कोरोना के अब तक विभिन्न लक्षणों के बारे में

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 23/04/2020
x