आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

सर्दियों में बुखार होने पर ये नैचुरल रेमेडीज आ सकती हैं काम, दवा लेने से पहले कर सकते हैं ट्राय

सर्दियों में बुखार होने पर ये नैचुरल रेमेडीज आ सकती हैं काम, दवा लेने से पहले कर सकते हैं ट्राय

सर्दी को जर्म्स का सीजन कहा जाता है। इस दौरान बैक्टीरिया अपने प्रचंड रूप में होते हैं जो ज्यादातर बच्चों और बड़ों को अपना शिकार बनाते हैं। सर्दियों में बुखार अक्सर सर्दी और खांसी के साथ आता है। सर्दियों में बुखार आने पर ये सवाल मन में आ सकता है, तो जानिए बुखार के घरेलू उपाय (Home Remedies for fever) क्योंकि इस मौसम में ठंडी चीजें खाने से जो बॉडी टेम्प्रेचर को कम करती है और ठंडे पानी की पट्टी माथे पर रखने में परेशानी हो सकती है, लेकिन आपको बता दें कि सर्दियों में भी बुखार का उपचार वैसे ही किया जाना चाहिए जैसे हर मौसम में किया जाता है। बस कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए और वे बातें क्या हैं आपको इस आर्टिकल में आगे जानने को मिलेंगी।

मुझे अच्छी तरह याद है कि सर्दियां आते ही मेरा छोटा भाई हमेशा बीमार पड़ता था। सर्दी-खांसी के साथ उसे बुखार आता था और यह सिलसिला पूरी सर्दियों भर चलता रहता था। मम्मी कई सारे घरेलू उपाय आजमाती थीं। जिससे उसे राहत भी मिलती थी, लेकिन कई बार मेडिकेशन की जरूरत पड़ जाती थी। यहां हम आपको ऐसे कुछ बुखार के घरेलू उपायों के बारे में बता रहे हैं। जो सर्दियों में बुखार आने पर आप मेरी मम्मी की तरह आजमा सकते हैं।

बुखार यानी बॉडी इंफेक्शन से लड़ रही है?

सर्दियों का बुखार हो या मानसून आने पर फीवर यह बीमारी का साइन है या कहें कि बीमारी के खिलाफ बॉडी का बचाव है। बॉडी खुद को नुकसान पहुंचाए बिना गर्म होकर कीटाणुओं को मारती है। जिसे बुखार (Fever) कहा जाता है। जब बॉडी का टेम्प्रेचर 100.4 डिग्री फेरेनहाइट (100.4 degrees Fahrenheit) या इससे ज्यादा होता है तो उसे बुखार माना जाता है। यह बॉडी और लोगों के अनुसार अलग-अलग भी हो सकता है। जैसे दो महीने से छोटे बच्चों का बॉडी टेम्प्रेचर 101 डिग्री फेरेनहाइट से ज्यादा होने पर उसे फीवर माना जाता है।

अगर आपकी बॉडी जर्म्स से लड़ने में सफल हो जाती है तो फीवर अपने आप ठीक हो जाता है। फीवर कम करने वाली दवाएं जैसे कि एसिटामिनोफेन (Acetaminophen ) आदि बॉडी के टेम्प्रेचर को कम कर सकती हैं, लेकिन अगर आपकी बॉडी को अभी भी जर्म्स से लड़ने की जरूरत है तो फीवर वापस आ सकता है। अगर तेज बुखार नहीं है तो एक दिन के लिए आपको इसे कम करने की मेडिसिन लेने की जरूरत नहीं होती है। कुछ आयुर्वेदिक हर्ब्स (Ayurvedic Herbs) ऐसी हैं जिनका उपयोग कर आप सर्दियों में बुखार होने पर घर पर ही इलाज कर सकते हैं।

और पढ़ें: डेंगू बुखार होने पर कौन-से घरेलू उपाय अपनाना सुरक्षित है?

बुखार के घरेलू उपाय में शामिल है तुलसी (Basil)

बुखार के घरेलू उपाय (Home Remedies for fever)

तुलसी (Basil) को फीवर को कम करने के लिए जाना जाता है। यह मार्केट में उपलब्ध कई प्रकार की एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) जितनी ही इफेक्टिव है। इसकी हीलिंग प्रॉपर्टीज बुखार को बहुत जल्दी कम करती हैं। इसके लिए तुलसी की 15-20 पत्तियां, एक छोटी चम्मच अदरक का रस डालें और पानी इन तीनों को तब तक उबालें जब तक पानी आधा ना रह जाए। अब इस पानी को दिन में तीन बार पिएं। सर्दियों में बुखार होने पर यह रेमेडी बेहद काम की है।

प्रोबायोटिक्स का सेवन करें (Use Probiotics)

प्रोबायोटिक्स बैक्टीरिया ही हैं जो गट हेल्थ (Gut Health) को ठीक रखने में मदद करते हैं और लोगों को फीवर (Fever) और कोल्ड (Cold) से बचाने में मदद करते हैं। एक रिसर्च में दावा किया गया है कि प्रोबायोटिक्स इम्यून सिस्टम को फ्लू वायरस से लड़ने में मदद करते हैं। इसलिए अगर आप सर्दियों में बुखार को दूर भगाना चाहते हैं तो अपने खाने में दही और योगर्ट को शामिल करें।

बुखार के घरेलू उपाय में अदरक (Ginger) को ना भूलें

बुखार के घरेलू उपाय (Home Remedies for fever)

अदरक की एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज इसको इम्यूनिटी बूस्टर (Immunity booster) बनाती हैं। यह सर्दी-खांसी के साथ ही बुखार में भी राहत देता है। आप चाहे तो इसकी चाय बनाकर पी सकते हैं, लेकिन इसमें आपको दूध नहीं डालना है। एक से दो चम्मच अदकर का रस लें और उसे एक कप पानी में डालें अब इस पानी को उबालें और इसमें एक टुकड़ा गुड़ का मिला दें। पानी को अच्छी तरह उबालने के बाद इसे पिएं। आप चाहे तो इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं। इसे दिन में दो बार पिएं।

और पढ़ें: वायरल बुखार के घरेलू उपाय, जानें इस बीमारी से कैसे पायें निजात

बुखार के घरेलू उपाय में लहसुन (Garlic) का करें सेवन

लहसुन में पाई जाने वाली एंटीवायरल (Antiviral) और एंटी बैक्टीरियल (Antibacterial ) प्रॉपर्टीज के कारण यह सर्दियों में बुखार के साथ ही कॉमन कोल्ड (Common Cold) से राहत दिलाने में मदद करता है। लहसुन की तासीर गर्म होने के कारण यह स्वेटिंग को मोटिवेट कर फीवर को कम करने के लिए जाना जाता है। सर्दियों में बुखार होने पर भी इस उपाय को असानी से ट्राय किया जा सकता है। इसके लिए आप चाहे तो लहसुन की कलियों को कच्चा खा सकते हैं या लहसुन की एक कली को क्रश करके गर्म पानी में डालें और थोड़ी देर उसे ऐसे ही रहने दें। फिर पानी को छनकर पिएं। ऐसा दिन में एक से दो बार करें। जिन लोगों को लहसुन से एलर्जी ना हो वे सभी इसका उपयोग कर सकते हैं।

एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar) भी बुखार के घरेलू उपाय में शामिल

बुखार के घरेलू उपाय (Home Remedies for fever)

एप्पल साइडर विनेगरको बुखार में राहत दिलाने की इफेक्टिव रेमेडी मना जाता है। विनेगर का एसिडिक नेचर बॉडी से हीट निकालने और ठंडा पहुंचाने का काम करता है। साथ ही इसमें पाए जाने वाले विटामिन्स और मिनरल्स बॉडी को स्ट्रॉन्ग बनाते हैं। इसे एक गिलास पानी में एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाकर यूज किया जा सकता है। सर्दियों में बुखार होने पर आसानी से आप इस रेमेडी को ट्राय कर सकते हैं।

बुखार के घरेलू उपाय में शहद और नींबू का जूस (Honey and lime juice )

शहद अपनी एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज के लिए जानी जाती है। जो बुखार का कारण बनने वाली बैक्टीरिया से लड़ने में बॉडी की मदद करती है। वही नींबू विटामिन सी का अच्छा सोर्स है। जो टॉक्सिन्स को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है। शहद तुरंत एनर्जी देता है। दो छोटी चम्मच शहद और एक चम्मच नींबू का रस मिलाएं अब इसमें एक चम्मच अदरक का जूस मिलाएं। इस मिक्चर को दिन में दो बार पिएं।

बुखार के घरेलू उपाय में अंगूर का जूस (Grapes Juice) भी है शामिल

अंगूर की तासीर ठंडी होती है। एक कप अंगूर के जूस में आधा चम्मच दालचीनी, आधा चम्मच सौंफ और थोड़ा सा चंदन पाउडर डालें और फिर पिएं। यह फीवर को कम करने में मदद करेगा, लेकिन एक बात का ध्यान रखें अंगूर का जूस कई तरह की दवाओं के साथ रिएक्शन कर सकता है। इसलिए अगर बुखार के लिए किसी तरह की कोई दवा ले रहे तो डॉक्टर से सलाह के बाद ही इस उपाय को अपनाएं। सर्दियों में बुखार आने पर आसानी से आप इस उपाय का उपयोग कर सकते हैं।

बुखार के घरेलू उपाय धनिए के बीज की चाय को भी करें ट्राई

धनिया विटामिन और फायटोन्यूट्रिएंट्स का अच्छा सोर्स है। यह इम्यूनिटी बूस्ट करने के साथ ही सर्दियों में बुखार का कारण बनने वाले सर्दी और जुकाम को भी कम कर सकता है। धनिए की चाय बनाने के लिए धनिए के बीजों को उबालें इसमें दूध को डालें। गुनगुना होने पर शहद को इसमें मिलाएं और ठंडा होने पर पिएं। फीवर के लक्षणों के कम होते तक इसे दिन में कम से कम दो बार पिएं।

बुखार के घरेलू उपाय: लिंडेन टी (linden Tea)

यह चाय स्वेटिंग को प्रमोट करके बुखार को कम करती है और बॉडी पेन और इंफ्लामेशन से राहत देती है। इसे तैयार करने के लिए आपको अजवाइन और गेंदे के फूल की पत्तियों और कैमोमाइल फूल की पत्तियों को उबले हुए पानी में पांच मिनट के लिए रखना है और बाद में इसे छानकर गर्म ही पीना है। एक तरफ अजवाइन में जहां एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं वहीं गेंदे के फूल स्वेटिंग को प्रमोट करता है और कैमोमाइल (chamomile flowers) इंफ्लामेशन (inflammation) और बुखार में होने वाले बॉडी पेन में राहत पहुंचाता है।

बुखार के घरेलू उपाय: धनिया पत्ती का जूस

बुखार के घरेलू उपाय (Home Remedies for fever)

सब्जियों और दालों में गार्निश के लिए यूज की जाने वाली धनिया पत्ती भी बुखार से राहत दिलाने में यूज की जा सकती है। इसके लिए धनिया पत्ती को ब्लैंडर में ब्लैंड कर लें या सिल पर पीस लें। तैयार हुए मिश्रण को दिन में दो बार दो छोटी चम्मच की मात्रा में पिएं। सर्दियों में बुखार आने से परेशान हैं तो इस उपाय को भी अपनाया जा सकता है।

बुखार के घरेलू उपाय: जूस पिएं, लेकिन इस तरीके से

जब आपकी बॉडी गर्म होती है तो उसे ठंडा करने के लिए पसीना निकलता है, लेकिन अगर आपको तेज फीवर है तो बॉडी को ठंडा करने के लिए बार-बार पसीना निकलेगा। ऐसे में आपको पानी की जरूरत होगी इसलिए पानी पीते रहे ताकि डिहाइड्रेशन से बच सकें। अगर आप ज्यादा पानी नहीं पी पाते हैं तो फलों और सब्जियों का जूस भी पी सकते हैं, लेकिन जूस पीने के लिए जूस में उतना ही पानी मिलाएं फिर उसको पिएं ताकि बॉडी उसे आसानी से एब्जॉर्ब कर सके।

इन होम रेमेडीज की मदद से आप सर्दियों में बुखार का सामना कर सकते हैं। ये बुखार के घरेलू उपाय हैं इसलिए इनके नुकसान नहीं है, लेकिन नैचुरल प्रोडक्ट्स हमेशा हर किसी को सूट नहीं करते। इसलिए डॉक्टर से कंसल्ट करने के बाद ही इनका उपयोग करें।

और पढ़ें: टायफाइड का बुखार हो सकता है जानलेवा, जानें इसका इलाज

बुखार के घरेलू उपाय: इन बातों का भी रखें

  • बुखार को कम करने के लिए ठंडे पानी के कपड़े को सिर, पैर और बगलों पर रखें।
  • बुखार के साथ होने वाली सर्दी-खांसी के कारण होने वाली गले की खराश और दर्द से राहत पाने के लिए गर्म पानी में नमक डालकर गार्गल करें।
  • इस दौरान स्मोकिंग ना करें ये आपके लक्षणों को और भी ज्यादा बिगाड़ सकता है। सेकेंड हेंड स्मोकिंग से भी बचें।
  • डिहाइड्रेशन से बचने के लिए इस दौरान एल्कोहॉल का सेवन ना करें।
  • इस दौरान बॉडी को भरपूर आराम दें। इससे जल्दी रिकवर होने में मदद मिलती है।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और सर्दियों में बुखार और बुखार के घरेलू उपाय से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Understanding Fever: Expert Answers to Common Questions/https://www.chop.edu/news/understanding-fever-expert-answers-common-questions/ Accessed on 29th January 2021

Prevention and Treatment of Influenza, Influenza-Like Illness, and Common Cold by Herbal, Complementary, and Natural Therapies/https://journals.sagepub.com/doi/full/10.1177/2156587216641831/Accessed on 29th January 2021

Home Remedies: Fighting a fever/https://newsnetwork.mayoclinic.org/discussion/home-remedies-fighting-a-fever/Accessed on 29th January 2021

Fever/ https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/fever/Accessed on 29th January 2021

Indoor Staying During Winter Season Makes People More Susceptible to Flu/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/27426715/Accessed on 05/01/2022

Common Colds: Protect Yourself and Others/https://www.cdc.gov/features/rhinoviruses/index.html/Accessed on 05/01/2022

Fever/https://www.mohfw.gov.in/pdf/GuidelinesformanagementofcoinfectionofCOVID19withotherseasonalepidemicpronediseases.pdf/Accessed on 05/01/2022

लेखक की तस्वीर badge
Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 05/01/2022 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड