home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

एलर्जिक अस्थमा किन कारणों से होता है? जानिए कैसे करें बचाव?

एलर्जिक अस्थमा किन कारणों से होता है? जानिए कैसे करें बचाव?

एलर्जिक अस्थमा एलर्जिक रिएक्शन के कारण होता है।एलर्जिक अस्थमा को एलर्जी-इंड्यूस्ड अस्थमा (allergy-induced asthma) के नाम से भी जाना जाता है। मौसम में बदलाव के कारण कुछ लोगों को सांस लेने दिक्कत होने लगती है। कुछ लोगों को वातावरण में रहने वाले एलर्जन जैसे कि पराग के कण आदि से एलर्जी की समस्या हो जाती है। ऐसे में सांस लेने में तकलीफ के साथ ही स्किन रैशेज, खांसी आदि तकलीफ का कारण बन जाती है। जिन लोगों में अस्थमा की समस्या रहती है, उनमें से आधे लोगों को एलर्जिक अस्थमा होने की संभावना रहती है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको एलर्जिक अस्थमा (Allergic Asthma) के बारे में जानकारी देंगे और बताएंगे कि आपको एलर्जिक अस्थमा के कारण किन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है और कैसे इस बीमारी से बचा जा सकता है।

और पढ़ें: समझें अस्थमा और सीओपीडी के बीच के अंतर को, नहीं तो हो सकती है गंभीर समस्या

एलर्जिक अस्थमा (Allergic Asthma) के कारण क्या है?

Allergic Asthma

जब हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम एलर्जन के खिलाफ ओवररिएक्ट करता है, जो शरीर में विभिन्न प्रकार के लक्षण दिखते हैं। इस कारण से कुछ लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो जाती है। जब सांस के माध्यम से शरीर में एलर्जन का प्रवेश होता है और शरीर इसके खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर देता है। इसे एलर्जिक अस्थमा के नाम से जाना जाता है। कुछ एलर्जन जैसे कि पॉलेन यानी परागकण, तंम्बाकू का धुआं, वायु प्रदूशण, तीव्र गंध, डस्ट, अंडे, पीनट्स, फिश, कॉकरोच आदि भी एलर्जिक अस्थमा या एलर्जी-इंड्यूस्ड अस्थमा का कारण बन सकते हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए बेहतर है कि एलर्जन की पहचान कर उनसे दूरी बनाई जाए।

और पढ़ें: ब्रिटल अस्थमा : कैसे बचा जा सकता है अस्थमा के इस गंभीर प्रकार से?

एलर्जिक अस्थमा के लक्षण (Symptoms of allergic asthma)

एलर्जिक अस्थमा के कारण खांसी, सांस लेने में समस्या, छाती में जकड़न आदि का एहसास हो सकता है। अगर आपको हे फीवर और स्किन एलर्जी की समस्या भी है, तो लक्षण अधिक बढ़ जाते हैं। ऐसे में स्किन रैशेज, त्वचा में खुजली आदि भी हो सकती है। जानिए एलर्जिक अस्थमा के कारण कौन-से लक्षण दिख सकते हैं।

  • सांस लेने में घरघराहट (wheezing)
  • पित्ती ( hives)
  • मुंह और जीभ का सूजना (swollen face or tongue)
  • एनाफिलेक्सिस (anaphylaxis)
  • खांसी (coughing)
  • सीने में जकड़न (chest tightness)
  • तेजी से सांस लेना (rapid breathing)
  • सांस लेने में कठिनाई (shortness of breath)
  • आंखों में खुजली
  • आंखों से पानी आना (watery eyes)
  • नाक से पानी आना

अगर आपको उपरोक्त लक्षणों में से कोई भी लक्षण नजर आएं, तो तुरंत जांच कराएं। डॉक्टर एलर्जी के लक्षणों को कम करने के लिए आपको मेडिसिंस देंगे साथ ही एलर्जन से दूर रहने की सलाह भी देंगे। एलर्जी के कारण होने वाला अस्थमा बहुत कॉमन है। अन्य प्रकार के अस्थमा के विभिन्न ट्रिगर हो सकते हैं। ऐसे में व्यक्ति को एक्सरसाइज करने में, इंफेक्शन के कारण, ठंडी हवा में, गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग (gastroesophageal reflux disease ) या फिर तनाव ट्रिगर का काम करते हैं। बहुत से लोगों को एक से अधिक प्रकार के अस्थमा ट्रिगर होते हैं। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: गलत ढंग से इनहेलर का इस्तेमाल बढ़ा सकता है अस्थमा की प्रॉब्लम! जानें क्या है सही तरीका

एलर्जी-इंड्यूस्ड अस्थमा (Allergy-induced asthma) की कैसे की जाती है जांच?

एलर्जिक अस्थमा की जांच से पहले डॉक्टर आपसे बीमारी के लक्षणों के बारे में जानकारी लेंगे। इसके बाद डॉक्टर स्किन प्रिक टेस्ट (skin prick test) कराने की सलाह देते हैं। टेस्ट के दौरान डॉक्टर निडिल की हेल्प से कुछ मात्रा में एलर्जन को स्किन पर डालते हैं और करीब 20 मिनट बाद जांच करेंगे। अगर आपकी स्किन में किसी भी तरह से लाल चकत्ते दिखते हैं, तो इसका मतलब है कि आपको एलर्जी की समस्या (Allergy problem) है। डॉक्टर एलर्जी की जांच करने के साथ ही अस्थमा से संबंधित जांच भी करते हैं। स्पिरोमेट्री के माध्यम से डॉक्टर ब्रीथ के इनहेल और एक्सहेल यानी सांस लेने और छोड़ने की मात्रा को मापा जाता है। वहीं पीक फ्लो में फेफड़ों में एयर प्रेशर की जांच की जाती है। इस तरह से डॉक्टर एलर्जी के साथ ही अस्थमा की जांच भी करते हैं।

एलर्जिक अस्थमा का ट्रीटमेंट (Treatments for allergic asthma)

एलर्जिक अस्थमा का ट्रीटमेंट करने के दौरान दोनों ही बीमारियों का इलाज किया जाता है। डॉक्टर एलर्जिक अस्थमा डायग्नोज करने के बाद अस्थमा के लक्षणों को कम करने के लिए एंटी इंफ्लामेट्री मेडिसिंस या फिर ओरल मेडिसिन देते हैं। इन दवाओं के इस्तेमाल से एलर्जिक रिस्पॉन्स को ब्लॉक किया जाता है। डॉक्टर अस्थमा से निपटने के लिए इनहेलर का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। वहीं एलर्जी की समस्या से राहत के लिए डॉक्टर एंटीहिस्टामाइन देते हैं, जिससे ईचिंग, स्किन रैशेज, पित्ती आदि समस्याओं से राहत मिलती है।

दवाओं का इस्तेमाल बंद कर देने पर आपको फिर से एलर्जी की समस्या हो सकती है। आपको डॉक्टर ने जितने समय तक दवाओं का सेवन करने की सलाह दी हो, उतने समय तक दवाएं जरूर लें। अगर आपको दवाओं के सेवन से किसी प्रकार की समस्या हो रही है, तो डॉक्टर को जरूर बताएं। कुछ लोगों को दवा का सेवन करने के बाद भी एलर्जी का सामना करना पड़ता है। ऐसे में डॉक्टर को जानकारी देना बहुत जरूरी है।अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें: अस्थमा में रामबाण का काम करता है होम्योपैथिक उपचार, पाएं पूरी जानकारी

एलर्जी-इंड्यूस्ड अस्थमा (Allergy-induced asthma) कब हो सकता है खतरनाक?

एलर्जी-इंड्यूस्ड अस्थमा के कारण सीरियस कॉम्प्लीकेशंस का सामना करना पड़ सकता है। एनाफिलेक्सिस (anaphylaxis) के कारण व्यक्ति को गंभीर लक्षणों का सामना करना पड़ता है। ऐसा अक्सर तब होता है, जब बीमारी का इलाज नहीं कराया जाता है। सेवर एलर्जिक रिएक्शन के कारण खाना निगलने में समस्या (difficulty swallowing), चिंता (anxiety), कंफ्यूजन की स्थिति (confusion), डायरिया (diarrhea), खांसी, बेहोशी आदि लक्षण भी दिखाई देते हैं। ये लक्षण आमतौर पर गंभीर रूप भी ले सकते हैं। अगर इसका समय पर ट्रीटमेंट न कराया जाए, तो व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है। ऐसा हार्ट रेट के अनियमित होने, कमजोरी छाने, लो ब्लड प्रेशर के कारण, कार्डियक अरेस्ट के कारण हो सकता है। अगर आपको लगे कि आपको सीजन के चेंज होने पर सांस लेने में समस्या के साथ ही एलर्जी के लक्षण दिख रहे हैं, तो बिना देरी किए आपको ट्रीटमेंट कराना चाहिए।

इस बीमारी के लक्षणों को कैसे करें कंट्रोल?

एलर्जी-इंड्यूस्ड अस्थमा के लक्षणों को कंट्रोल करने के लिए आपको एलर्जन की पहचान होना बहुत जरूरी है। अगर आप एलर्जन को पहचान जाएंगे, तो उनसे दूरी बनाकर आप बीमारी के लक्षणों को नियंत्रित कर सकते हैं। सीजन बदलने के साथ ही लक्षण बदल जाते हैं यानी एलर्जी और अस्थमा के लक्षणों में बदलाव हो सकता है। आपको अचानक से होने वाली परेशानी से निजात के लिए हमेशा अपने पास इनहेलर रखना चाहिए। साथ ही एंटीहिस्टामाइन (Antihistamine) का सेवन एलर्जी के लक्षणों से बचाने में आपकी मदद करेगा।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। इस आर्टिकल में हमने आपको एलर्जिक अस्थमा (Allergic Asthma) के संबंध में जानकारी दी है। आप जानकारी और सलाह लेने के बाद ही दवाओं का सेवन करें। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 01/06/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड