home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

गलत ढंग से इनहेलर का इस्तेमाल बढ़ा सकता है अस्थमा की प्रॉब्लम! जानें क्या है सही तरीका

गलत ढंग से इनहेलर का इस्तेमाल बढ़ा सकता है अस्थमा की प्रॉब्लम! जानें क्या है सही तरीका

किसी भी हेल्थ कंडीशन या बीमारी की स्थिति में सही उपचार जरूरी है। इस उपचार में दवाइयां, थेरेपीज या अन्य तरीके शामिल होते हैं। यह तरीके प्रभावित व्यक्ति की स्थिति, रोग आदि पर निर्भर करते हैं। इन सभी तरीकों का एक ही मकसद होता है और वो है उस रोग के लक्षणों को कम करके रोगी को राहत पहुंचाना। ऐसे ही, अस्थमा जैसी स्थिति के लिए इनहेलर के उपयोग के बारे में सुना ही होगा। लेकिन, इनहेलर के बारे में और इसके सही उपयोग के बारे में जानकारी होना भी बेहद जरूरी है। आइए जानते हैं इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) कैसे किया जाता है और क्यों है कुछ बीमारियों में इसका प्रयोग जरूरी।

इनहेलर का उपयोग क्यों किया जाता है? (Use of Inhaler)

इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) कैसे किया जाता है, इससे पहले जानते हैं कि इसका प्रयोग क्यों किया जाता है। दरअसल इनहेलर की मदद से दवाई सीधे फेफड़ों तक पहुंचती है। अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (Chronic obstructive pulmonary disease) जैसी बीमारियां हमारे फेफड़ों को प्रभावित करती हैं। इन बीमारियों की स्थिति में इनहेलर का उपयोग किया जाता है। क्योंकि, इसके प्रयोग से दवा सीधे वहीं पहुंचती है, जहां इसकी जरूरत होती है। यही नहीं, टेबलेट की तुलना में इसकी सही मात्रा ही फेफड़ों तक पहुंचती है। यानी, इसके प्रयोग से साइड इफेक्ट कम होते हैं और उपचार अधिक प्रभावी होता है। इसीलिए अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (Chronic obstructive pulmonary disease) की स्थिति में इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) किया जाता है। चलिए, अब जानते हैं इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) कैसे किया जाता है।

और पढ़ें : Seroflo 250 Inhaler : सेरोफ्लो 250 इंहेलर क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

इनहेलर्स के प्रकार और उन्हें प्रयोग करने का तरीका (Types of Inhalers and How to Use Them)

इनहेलर्स के कई प्रकार हैं जिनका इस्तेमाल विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाता है और उनके प्रयोग के लिए भी अलग तकनीकों का प्रयोग किया जाता है। हर इनहेलर में एक दवाई के लिए बॉक्स होता है जो माउथपीस से जुड़ा होता है। जब भी हम इस इनहेलर को नीचे प्रेस करते हैं, तो दवाई निकलती है। आइए जानते हैं इनहेलर्स के बारे में विस्तार से:

इनहेलर का उपयोग

कंट्रोल इनहेलर (Control Inhaler)

ये इनहेलर फ्लेयर को रोकने में मदद करते हैं और लक्षणों को बदतर होने से बचाते हैं। इन्हें कंट्रोल इनहेलर इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें जो दवाई होती है वो सूजन को नियंत्रित करती है। इसका प्रयोग डॉक्टर की सलाह के अनुसार किया जाना चाहिए। आमतौर पर दिन में एक या दो बार इनका प्रयोग करने की सलाह दी जाती है। कंट्रोल इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) इन स्थितियों में भी करना चाहिए:

  • इनका प्रयोग तब भी करना चाहिए जब आपको कोई लक्षण न हों।
  • अगर आपको अच्छा महसूस न हो तब भी इसका प्रयोग करें।
  • जब भी आप इस तरह के इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) करें, तो लक्षणों का प्रभाव कम होने में दो से चार हफ्तों का समय लगेगा।

क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज के बारे में जानें इस 3-D मॉडल के माध्यम से :

रेस्क्यू इनहेलर (Rescue Inhaler)

रेस्क्यू इनहेलर या रिलीफ इनहेलर्स के प्रयोग से सामान्य ब्रीदिंग फिर से वापस आ जाती है। अगर आपको सांस लेने में समस्या (Short of Breath) व्हीज़िंग (Wheezing), छाती में कसाव (Feeling Tight in your Chest) या खांसी (Coughing) जैसी समस्या हो तो इसका प्रयोग करना चाहिए। इस इनहेलर को हमेशा अपने पास रखना चाहिए और इन स्थितियों में भी इनका प्रयोग किया जा सकता है, अगर :

  • अगर आपको अस्थमा के लक्षण नजर आएं
  • अगर जिस चीजों से अस्थमा बढ़ता है आप उनके आसपास हो

रेस्क्यू इनहेलर कुछ समय के लिए लक्षणों से आराम पहुंचा सकता है। लेकिन, लंबे समय तक अस्थमा (Asthma) को कंट्रोल नहीं कर सकता। अगर आप उसका प्रयोग हफ्ते में दो या इससे अधिक दिन या महीने में दो रातों से अधिक कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

मीटर्ड डोज इनहेलर (Metered Dose Inhaler)

कई लोगों को मीटर्ड डोज इनहेलर (Metered Dose Inhaler) का उपयोग करना सरल लगता है। लेकिन, कई लोग इनका सही तरीके से इस्तेमाल नहीं करते हैं। यदि आप अपने मीटर्ड डोज इनहेलर (Metered Dose Inhaler) का गलत तरीके से उपयोग करते हैं, तो इससे कम दवा आपके फेफड़ों में जाती है, और उसकी अधिक मात्रा आपके मुंह के पीछे रह जाती है। यदि आपके पास स्पेसर है, तो आप उसका उपयोग भी कर सकते हैं। यह हमारे वायुमार्ग में अधिक दवा प्राप्त करने में मदद करता है। जानिए इसका प्रयोग कैसे किया जाता है:

  • सबसे पहले इनहेलर को प्राइम करें। अगर आप इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) पहली बार कर रहे हैं या आपने दो या इससे अधिक हफ्ते तक इसका प्रयोग नहीं किया है, तो यह करना जरूरी है।
  • इसके लिए इनहेलर को पांच सेकंड के लिए हिलाएं। इसे अपने आप से थोड़ा दूर ले जाएं और उसके बाद स्प्रे करने के लिए इसे नीचे करें। कुछ सेकंड इंतज़ार करने के बाद फिर से स्प्रे करें।
  • ऐसे ही चार बार इससे स्प्रे करते रहें।

और पढ़ें : Exercise-Induced Asthma: एक्सरसाइज-इंडयूस्ड अस्थमा क्या है?

बिना स्पेसर के मीटर्ड डोज इनहेलर का प्रयोग कैसे करें? (How to Use Metered Dose Inhaler Without a Spacer)

मीटर्ड डोज इनहेलर (Metered Dose Inhaler) कई प्रकार के होते हैं। इसके कुछ प्रकार, जब हम इन्हेल करते हैं तो ऑटो-मेटिकली दवाई निकालते हैं। कुछ मीटर्ड डोज इनहेलर्स में बिल्ट-इन डोज़ काउंटर होते हैं ताकि आपको पता चले कि कितनी खुराक बची है। अगर यह इनहेलर बिना स्पेसर के है तो इसके प्रयोग इस तरह से किया जाता है:

  • सबसे पहले माउथपीस कवर को निकालें, उसके बाद इसे पांच सेकंड के लिए हिलाएं
  • अपनी इंडेक्स फिंगर के साथ इनहेलर को पकड़ें और इसका सपोर्ट करने के लिए अपने अंगूठे को नीचे रखें। यदि आवश्यक हो तो स्पेसर को पकड़ने के लिए दूसरे हाथ का उपयोग करें।
  • अब सांस बाहर छोड़े
  • माउथपीस (Mouthpiece) को अपने दांतों के बीच में रखें और अपने हांथों को कसकर बंद कर दें।
  • अब माउथपीस के सिरे को नीचे प्रेस करें और तब तक अंदर सांस लें। जब तक आपके फेफड़े पूरी तरह से भर न जाएं यानी चर से छे सेकंड तक ऐसा करें।
  • इस दवाई को तब तक अपने फेफड़ों में होल्ड कर के रखें, जब तक आप कर सकते हों। उसके बाद बाहर छोड़ दें।
  • अगर आपको पहले बार सांस लेने पर पर्याप्त हवा न मिल पाई हो। तो 15-30 सेकंड तक इंतजार करें उसके बाद अगले पफ के लिए फिर से इसे हिलाएं।
  • अगर आपकी दवा में स्टेरॉयड हो। तो अपने मुंह को अच्छे से धो लें और इनहेलर के उपयोग के बाद पानी से गरारे करें और पानी को मुंह से बाहर निकाल दें।

स्पेसर के साथ मीटर्ड डोज इनहेलर का उपयोग कैसे करें? (How To Use an Metered Dose Inhaler With a Spacer)

कई इनहेलर्स में स्पेसर होता है इसके उपयोग इस तरह से करें। हालांकि, बिना स्पेसर और स्पेसर के साथ वाले मीटर्ड डोज इनहेलर के प्रयोग में कुछ अधिक फर्क नहीं होता। लेकिन, स्पेसर के साथ मीटर्ड डोज इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) इस तरह से किया जाता है:

  • इसका प्रयोग करने के लिए सबसे पहले इनहेलर को स्पेसर में डालें।
  • पांच सेकंड के लिए इसे हिलाएं
  • इनहेलर को अपनी इंडेक्स फिंगर के साथ ऊपर पकड़ें और अपने अंगूठे से नीचे से सपोर्ट दें। दूसरे हाथ का प्रयोग अगर आपको लगे तो आप स्पेसर को पकड़ने के लिए कर सकते हैं ।
  • इसके बाद सांस को बाहर छोड़ दें।
  • अब माउथपीस को अपने दांतों के बीच में रखें और अपने होंठों को स्पेसर के चारों तरफ से अच्छे से बंद कर दें ।
  • इसमें भी ऊपर के हिस्से को नीचे दबाएं और तब तक सांस लें जब तक फेफड़े अच्छे से न भर जाएं। इस दवाई को जितनी देर हो सके अपने फेफड़ों में भर कर रखें। उसके बाद सांस को बाहर छोड़ दें।
  • अगर आपको पहली बार में पर्याप्त हवा न मिली हो, तो कुछ सेकंड के इंतज़ार के बाद फिर से कोशिश करें। दूसरे पफ से पहले इनहेलर अच्छे से हिलाएं। एक बार में दवा के दो पफ के साथ चैम्बर को न भरें।

इनहेलर का उपयोग

ड्राय पाउडर इनहेलर (Dry Powder Inhaler)

ड्राय पाउडर इनहेलर वो इनहेलर है जिसके माध्यम से फेफड़ों में दवा एक सूखे पाउडर के रूप में पहुंचती है। इस इनहेलर में दवा को एक गहरी, तेज सांस के माध्यम से छोड़ा जाता हैं। भी कई डोज डिवाइस मौजूद हैं। जिनमें से कुछ 200 डोज तक रख सकते हैं जबकि सिंगल डोज डिवाइस भी मौजूद हैं जिन्हें आप प्रत्येक उपचार से पहले कैप्सूल से भरते हैं। इसका प्रयोग इस तरह से किया जाता है:

  • ड्राय पाउडर इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) करने के लिए सबसे पहले कैप को हटाएं।
  • सिंगल यूज डिवाइस (Single Use Device) के लिए एक कैप्सूल उसमे डालें।
  • सांस को बाहर छोड़ें (माउथपीस में न छोड़ें )
  • इस माउथपीस को सामने के दांतों के बीच और अपने होंठों के पास रखें।
  • अपने मुंह के माध्यम से दो से तीन सेकंड के लिए इसमें सांस लें।
  • इनहेलर को निकाल दें और जब तक हो सके, सांस को रोक कर रखें।
  • अब धीरे-धीरे सांस को बाहर छोड़ें। इस इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) करना बेहद सरल है।

और पढ़ें : क्या अस्थमा मरीजों को निमोनिया का खतरा अधिक होता है?

इनहेलर को साफ कैसे रखें (How to Clean a Inhaler)

यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन (U.S. National Library of Medicine) के अनुसार प्रयोग के बाद इनहेलर को साफ करना बेहद जरूरी है। बिना सफाई के इसका प्रयोग करना हानिकारक हो सकता है। इसे साफ करने के लिए उस छेद की जांच करें जहां दवा आपके इनहेलर से बाहर निकलती है। यदि आप छेद में या उसके आसपास पाउडर देखते हैं, तो अपने इनहेलर को साफ करें। इसे इस तरह से साफ किया जाता है:

  • एल के आकार के प्लास्टिक के माउथपीस से मेटल के कैनिस्टर (Canister) को निकालें।
  • गर्म पानी में माउथपीस और कैप को अच्छे से धोएं।
  • पूरी रात उसे हवा में सूखने दें।
  • सुबह इस कैनिस्टर (Canister) फिर से वैसे ही लगा दें और कैप को भी लगा दें।
  • इसके किसी अन्य भाग को न धोएं।

Quiz: अस्थमा के बारे में क्विज खेलें और जानें

इनहेलर को कैसे बदलें? (Replacing Your Inhaler)

इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) करने के बाद उसे समय-समय पर बदलना भी जरुरी है। इसके लिए आपको थोड़ा ध्यान रखना होगा, जैसे:

  • अधिकतर इनहेलर कैनिस्टर (Canister) पर काउंटर्स के साथ आते हैं। ऐसे में काउंटर की जांच करते रहें और दवा के खत्म होने से पहले इनहेलर को रिप्लेस कर दें।
  • आपका कैनिस्टर (Canister) खाली है या नहीं यह जांचने के लिए इसे कभी भी पानी में न डालें। यह तरीका काम में नहीं आएगा।
  • इसके सही प्रयोग, साफ,सफाई और रिस्टोर के तरीके के लिए एक्सपर्ट से पूछें और डॉक्टर से जानें कि आप इसका सही प्रयोग कर भी रहें हैं या नहीं।
  • इनहेलर को हमेशा रूम टेम्परेचर पर ही स्टोर करें। अगर इसे बहुत ठंडी जगह पर रखा जाएगा तो यह सही से काम नहीं करेगा। इसलिए इस बात का ध्यान रखना जरूरी है।

Albuterol: Uses and Side Effects

इन बातों का भी रखें ध्यान (Things to Remember while using inhaler)

अगर आपके अस्थमा के लक्षण बढ़ गए हैं, तो ऐसे में पुअर इनहेलर तकनीकें समस्याओं को बढ़ा सकती हैं। लेकिन कुछ चीजों का ध्यान रख कर आप इन समस्याओं से बच सकते हैं। जानिए इनहेलर का उपयोग करते हुए किन चीजों का रखना चाहिए ध्यान:

  • अधिकतर इनहेलर्स को प्रयोग करने से पहले उन्हें हिलाना बेहद जरूरी है। हालांकि, कुछ को नहीं हिलाया जाता। अपने इनहेलर के प्रयोग से पहले जान लें कि उसका प्रयोग कैसे करना है।
  • कई इनहेलर्स में अगला पफ लेने से पहले कुछ सेकंड तक इंतजार करना पड़ता है। इसलिए अगर आपके इनहेलर्स में भी ऐसा है तो अगले पफ के लिए कुछ समय तक इंतजार करें।
  • इनहेलर के प्रयोग से पहले आपका सांस को बाहर छोड़ना जरूरी है। ताकि आप दवाई को अच्छे से ब्रीद इन (Breath-in) कर पाएं और फेफड़ों में रोक पाएं।
  • ब्रीदिंग (Breathing) इन करने से पहले अपनी ठोड़ी को थोड़ा सा ऊपर उठाना भी जरूरी है। ऐसा करने से दवा अच्छे से फेफड़ों में जा पाएगी।
  • कुछ लोग स्पेसर का प्रयोग नहीं करते हैं। उन्हें लगता है कि स्पेसर बच्चों के लिए है लेकिन इससे इनहेलर तकनीक (Inhaler Technique) सुधरती है।

और पढ़ें : समझें अस्थमा और सीओपीडी के बीच के अंतर को, नहीं तो हो सकती है गंभीर समस्या

अपने डॉक्टर से जानें कि आपको कौन सा इनहेलर लेना चाहिए। इसके साथ ही अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से ही इसे प्रयोग करने के सही तरीके के बारे में जानें। अपने अस्थमा को नियंत्रण में रखने के लिए दवा की सही खुराक सुनिश्चित करने के लिए आपको यह भी पता होना चाहिए कि इनहेलर को सही से कैसे प्रयोग में लाया जाता है। यदि आपको अपने इनहेलर का उपयोग (Use of Inhaler) करने में परेशानी हो रही है, या ऐसा लगता है कि आपको पर्याप्त दवा नहीं मिल रही है तो अपने डॉक्टर से बात करें। अगर उसकी एक्सपायरी डेट (Expiry Date) समाप्त हो गई हो तो तुरंत इसे बदल दें इससे आप जान जाएंगे कि आपने अपनी सभी खुराकों पर प्रयोग कर लिया है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
AnuSharma द्वारा लिखित
अपडेटेड 4 days ago
x