home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर (Avoidant Personality Disorder) क्या है?

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर (Avoidant Personality Disorder) क्या है?

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर एक मानसिक विकार है जो समाज के कुछ व्यक्तियों में पाया जाने की संभावना रहती है। इस मानसिक विकार से ग्रसित व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति से मिलने या किसी डर की वजह से बात करने में कतराता है। विकार से पीड़ित लोगों के मन में ये डर हमेशा रहता है कि कहीं किसी कारणवश लोग उन्हें एक्सेप्ट न करें।

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर होने का कारण या तो अनुवांशिक यानी जेनेटिक हो सकता है या फिर घर का माहौल भी इस डिसऑर्डर के लिए जिम्मेदार हो सकता है। जिन घरों में घरेलू हिंसा का वातावरण रहता है, ऐसे में बच्चों के मन में आत्मविश्वास में लगातार कमी देखने को मिलती है। यहीं कारण है कि बच्चा जब बड़ा हो जाता है, तब भी अपने मन की बात को डर के कारण किसी अन्य से कह नहीं पाता है। समाज के ऐसे व्यक्ति या बच्चे को दब्बू की संज्ञा भी दी जाती है।

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर एक ऐसी मानसिक स्थिति है जिसमें ‘दूसरे आपके बारे में क्या सोच रखते हैं’ इस बात से आप हमेशा परेशान और असंतुष्ट महसूस करते हैं। इस बीमारी से ग्रस्त लोगों में रिजेक्शन का बहुत डर होता है। वो हमेशा दूसरों द्वारा आंके जाने से भी बहुत डरते हैं। ये सारी भावनाएं उनके लिए सामाजिक परिस्थितियों को बहुत असहज और कठिन बनाती हैं। इस वजह से वो कोई भी काम ग्रूप में करने से भागते हैं। सामान्य तौर पर हमारी आबादी के लगभग 1% लोगों में अवोईडैंट पर्सनैलिटी डिसऑर्डर पाया गया है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि आखिर क्यों अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर की समस्या होती है और इसका ट्रीटमेंट क्या है।

और पढ़ें : World Brain Day: स्वस्थ दिमाग के लिए काफी जरूरी हैं ये 8 पिलर्स

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर (Avoidant Personality Disorder) के लक्षण:

विशेषज्ञों द्वारा अब तक अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर के रोगियों में पाए गए मुख्य लक्षण हम आपको यहां बता रहे हैं।

  • हमेशा बहुत इंफिरीयर महसूस करना
  • रिजेक्शन से हमेशा डरना
  • आलोचना के डर से दूसरों के साथ संपर्क में आने वाली परिस्थितियों से भागना
  • सामाजिक चिंताओं और रिश्तों में अत्यधिक चिंता और भय का अनुभव करना
  • किसी सार्वजनिक स्थान पर कोई गलती न कर बैठे इस बात की शर्म
  • किसी छोटी परेशानी को भी बढ़ा चढ़ा कर देखना
  • समाज में हंसी का पात्र बनने के भय से कोई रिस्क न लेना

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर के इसके अलावा भी कई लक्षण हो सकते हैं। अगर आपको इन लक्षणों के अलावा किसी और लक्षण का अनुभव होता है तो अपने डॉक्टर से तुरंत परामर्श लें।

और पढ़ें: परीक्षा का डर नहीं सताएगा, फॉलो करें एग्जाम एंजायटी दूर करने के ये टिप्स

पर्सनालिटी संबंधी विकार या अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर (Avoidant Personality Disorder) होने का क्या कारण हैं?

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर होने के पीछे के मुख्य कारण अभी तक शोधकर्ताओं को पूरी तरह से ज्ञात नहीं है। हालांकि, कई विशेषज्ञ यह मानते हैं कि बच्चों की परवरिश, घर का वातावरण और आनुवांशिकता काफी हद तक इस समस्या का कारण हो सकती है। कुछ फैक्ट्स यह कहते है कि अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर एक ही परिवार की एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में फैलता है जिससे यह समझ आता है कि यह समस्या जीन्स से भी आगे बढ़ सकती है। कभी-कभी पेरेंट्स या दोस्तों से मिले रिजेक्शन के प्रभाव से भी ये समस्या होने की संभावना होती है। आप अधिक जानकारी के लिए इस बारे में मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट से भी जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें :मन को शांत करने के उपाय : ध्यान या जाप से दूर करें तनाव

पर्सनालिटी संबंधी विकार या अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर (Avoidant Personality Disorder) का ट्रीटमेंट

अन्य पर्सनालिटी डिसऑर्डर की तरह इस समस्या का भी समाधान एक प्रोफेशनल मनोवैज्ञानिक के हाथ में है। युं तो अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर के कई उपचार हो सकते हैं लेकिन जो सबसे असरदार तरीका माना गया है वो टॉक थेरेपी ही है। अगर रोगी की मानसिक स्थिति में तनाव के लक्षण, चिंता और डिप्रेशन की बीमारी के लक्षण मिलते हैं तो उचित दवाओं का उपयोग भी किया जा सकता है।

अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर महिला, पुरुष और बच्चे किसी को भी हो सकता है। 18 साल से कम उम्र के लोगों में इस मानसिक विकार का डायग्नोस करना थोड़ा मुश्किल होता है। इस डिसऑर्डर से ग्रस्त लोग सेंसिटिव होते हैं, इसलिए ट्रीटमेंट के समय इस बाद का ध्यान रखा जाता है कि कहीं उन्हें कोई बात बुरी न लग जाए।

अगर आपके घर में ऐसा व्यक्ति हो तो

  • आपको ऐसे व्यक्ति के साथ सकारात्मक रवैया अपनाना चाहिए।
  • अगर डिसऑर्डर से पीड़ित व्यक्ति को किसी भी काम में समस्या आ रही हो या फिर वो डिसीजन न कर पा रहा हो तो उसकी मदद करनी चाहिए।
  • उसे इस बात का एहसास न दिलाएं कि वो कुछ भी नहीं कर सकता है बल्कि उसे अन्य कामों के लिए प्रेरित करें।
  • अगर आपका बच्चा आपसे कुछ शेयर नहीं करता है और चुपचाप रहना पसंद करता है तो उसकी कमी निकालने के बजाय उसकी भावनाओं को समझें।
  • अगर मनोचिकित्सक ट्रीटमेंट कर रहा है तो वो पीड़ित व्यक्ति को ड्रिप्रेशन से संबंधित दवाएं भी दे सकता है। ऐसे में दवा का सेवन और सकारात्मक वातावरण ही अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर की समस्या से निजात पाने का तरीका है।

ट्रीटमेंट के दौरान विशेष प्रकार की थेरिपी दी जाती है, जिसमे डॉक्टर डिसऑर्डर से पीड़ित व्यक्ति से बात करते हैं और उसकी सोच या थिकिंक पैर्टन को बदलने की कोशिश करते हैं। ऐसा करने से व्यक्ति को भी एहसास होता कि डरना किसी भी समस्या का हल नहीं है। ट्रीटमेंट के दौरान परिवार के सदस्यों की भी अहम भूमिका होती है।

अन्य पर्सनालिटी डिसऑर्डर की तरह अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर की भी उपचार विधि और इस समस्या के ठीक होना एक लंबी प्रक्रिया है। रोगी की ठीक होने की इक्षा उसके उपचार की सफलता पर प्रभाव डाल सकती है।

और पढ़ें:जीवन में आगे बढ़ने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट है जरूरी, जानें इसके उपाय

उपरोक्त जानकारी एक्सपर्ट की राय नहीं है। अगर आपके घर में कोई सदस्य या फिर खुद आप भी ऐसा महसूस करते हैं कि आपको अन्य लोगों से बात करने में या फिर अपनी भावनाएं व्यक्त में करने में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है तो तुरंत आप मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट से राय ले सकते हैं। अगर बच्चे के साथ ये समस्या है तो भी आप एक्सपर्ट से इस बारे में जानकारी लें कि इस समस्या का समाधान क्या है।
उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल की जानकारी पसंद आई होगी और आपको अवोईडैंट पर्सनालिटी डिसऑर्डर से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Avoidant Personality Disorder https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/9761-avoidant-personality-disorder Accessed on 5/7/2019

Avoidant Personality Disorder https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5848673/  Accessed on 5/7/2019

Avoidant Personality Disorder Accessed  https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/personality-disorders/symptoms-causes/syc-20354463 on 5/7/2019

Avoidant Personality Disorder https://medlineplus.gov/ency/article/000940.html Accessed on 5/7/2019

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित
अपडेटेड 05/07/2019
x