backup og meta

हेल्दी स्पर्म चाहते हैं तो ध्यान रखें ये बातें

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. हेमाक्षी जत्तानी · डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 25/09/2020

हेल्दी स्पर्म चाहते हैं तो ध्यान रखें ये बातें

हेल्दी स्पर्म, मतलब अच्छा खानपान और स्वस्थ मानसिक जीवन। आमतौर पर देखें, तो उम्र बढ़ने के साथ पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या और उनकी गति भी घटने लगता है। इसके पीछे कई कारण भी हो सकते हैं, जिनमें हॉर्मोनल बीमारियों या वृषणों के रोग भी शामिल हो सकते हैं।

इसलिए हेल्दी स्पर्म के लिए कैसी जीवनशैली अपनानी चाहिए, इसके बारे में हर किसी को जानकारी रखनी चाहिए। क्योंकि हेल्दी स्पर्म न सिर्फ आपके, बल्कि आपके आने वाले पीढ़ियों के लिए भी काफी अहम हो सकती है।

और पढ़ेंः हेल्दी स्पर्म चाहते हैं तो ध्यान रखें ये बातें

क्यों जरूरी है हेल्दी स्पर्म का ख्याल रखना?

वैज्ञानिक शोधों में इस बात की संभावना बढ़ते हुए देखी गई है। इस बात से मना नहीं किया जा सकता है कि पिछली पीढ़ियों के मुकाबले अब नई पीढ़ी के पुरुषों में शुक्राणुओं यानी स्पर्म्स की संख्या तेजी से घटी है, जिसकी वजह से दुनियाभर में निःसंतान कपल्स की संख्या भी बढ़ी है। इसकी वजह से महिलाओं और पुरुषों दोनों को ही अपने हेल्दी स्पर्म पर ध्यान देने की जरूरत है।

साल 2017 में लगभग 43,000 पुरुषों के स्पर्म पर विश्लेषण किया गया, जिसमें पाया गया कि दुनिया भर में शुक्राणुओं की संख्या साल 1973 से साल 2011 तक काफी कम हुई है। इसकी वजह से न सिर्फ प्रजनन क्षमता प्रभावित हुई है, बल्कि सेक्स और गर्भावस्था में भी कठिनाई देखी गई है।

और पढ़ेंः क्या आप जानते हैं सेक्स से जुड़े 5 इंटरे​​स्टिंग फैक्ट्स ?

कैसे स्पर्म को बनाएं रखें हेल्दी स्पर्म?

हेल्दी स्पर्म के लिए यहां आपके दैनिक जीवन से जुड़े कुछ बदलाव दिए गए हैं, जिन्हें आप अभी से फॉलों भी कर सकते हैं, जो आपके शुक्राणु मजबूत बनाने और आपकी सेक्स ड्राइव को बढ़ाने में मदद करेंगे।

1.उम्र और लिंग के आधार पर शरीर का वजन

एक हेल्दी जीवन के लिए शरीर का वजन बहुत मायने रखता है। हर उम्र और शरीर की लंबाई के मुताबिक, शरीर का वजन बनाए रखना बहुत जरूरी है, क्योंकि यह आपके स्पर्म को प्रभावित कर सकता है। कुछ शोध बताते हैं कि बढ़ता बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) शुक्राणुओं की संख्या में कमी और शुक्राणु की गति को प्रभावित कर सकता है। आप अपना बॉडी मास इंडेक्स यहां पता लगा सकते हैं

2.स्वस्थ आहार खाएं

प्रतिदिन अपने आहार में ताजे और मौसमी फलों और सब्जियों को शामिल करें। ऐसे फल और सब्जियां, जिनमें एंटी-ऑक्सिडेंट की भरपूर मात्रा होती है, वो शुक्राणुओं के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। साथ ही शुगर, फैट और डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों से दूरी बनाएं और जंक फूड से बचें। ताजे फलों और सब्जियों के साथ विटामिन-सी और विटामिन-ई की मात्रा का सेवन करें।

3.कॉस्मेटिक से सावधान

हाल ही के शोधों के मुताबिक, सनस्क्रीन और विभिन्न तरह के कॉस्मेटिक्स हेल्दी स्पर्म के रास्ते का रोड़ा बन सकते हैं। इसलिए, कॉस्मेटिक के बहुत ज्यादा इस्तेमाल से बचें रहें।

और पढ़ेंः पुरुषों में इनफर्टिलिटी के ये 5 लक्षण, न करें इग्नोर

4.गलत आदतों को कहें बाय-बाय

कम उम्र में सिगरेट, शराब, गुटखा और ड्रग्स की लत से दूरी बनाएं। आपकी ये आदतें आपकी वीर्य की गुणवत्ता को खराब कर सकती हैं, जो स्पर्म काउंट कम कर सकती है और होने वाले बच्चे में आनुवंशिक तौर पर बदलाव भी ला सकती है। बता दें कि एल्कोहॉल टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को कम करता है। इसके अलावा, दवाओं या ड्रग्स का गलत सेवन इन्फर्टिलिटी कम कर सकती है।

5.यौन संचारित संक्रमण (STI) रोकें

यौन संचारित संक्रमण, जैसे क्लैमाइडिया और गोनोरिया, ये पुरुषों में बांझपन का कारण बन सकते हैं। इसे बचे रहने के लिए सेक्स के लिए हमेशा सुरक्षित तरीका ही अपनाएं। सेक्स के दौरान साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें और कंडोम का इस्तेमाल करें। कोशिश करें कि सेक्स के लिए सिर्फ ही साथी पर निर्भर रहें।

6.तनाव भगाएं

भागदौड़ भरे निजी जीवन से लेकर सामाजिक जीवन भी तनाव से भर गया है। लेकिन, यह समझ लें कि तनाव यौन को प्रभावित करता है। साथ ही, यह शुक्राणु के उत्पादनों में भी बाधा खड़ा कर सकता है। इसलिए बेहतर होगा कि तनाव को अपने पास भी न भटकने दें।

[mc4wp_form id=’183492″]

7.नियमित तौर पर एक्सरसाइज करें, लेकिन बहुत ज्यादा नहीं

हर रोज हल्के व्यायाम करने से स्पर्म की मात्रा, गति और आकार में वृद्धि की जा सकती है। एक्सरसाइज और वेट लॉस स्पर्म काउंट और क्वालिटी को सिर्फ कुछ हफ्तों में ही बढ़ा सकते हैं। हर दिन 20 मिनट चलने की आदत डालें, पुशअप्स करें या यार्डवर्क करें। अतिरिक्त हार्मोन, एंडोर्फिन और ब्लड फ्लो भी सेक्स ड्राइव को बढ़ावा दे सकते हैं। इसलिए, हर दिन एक्सरसाइज करें, लेकिन बहुत ज्यादा नहीं। साथ ही साइकिल चलाने, टहलना या पहाड़ पर चढ़ते समय सावधानी बरतें। धीरे-धीरे कदम बढ़ाएं क्योंकि, आपकी जल्दबाजी या हड़बड़ी वीर्य की गुणवत्ता में कमी ला सकती है।

तो फिर हेल्दी स्पर्म बनाए रखने के लिए आज से ही अपने मोटापा, डायबिटीज और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखें। सिगरेट, शराब, तंबाकू जैसे उत्पादों से दूरी बनाएं। जितना हो सके उतना ज्यादा हेल्दी खाना खाएं। नियमित तौर पर अपने डॉक्टर से अपने सेहत की जांच करवाएं।

और पढ़ेंः स्पर्म काउंट किस तरह फर्टिलिटी को करता है प्रभावित?

हेल्दी स्पर्म के लिए क्या अवॉयड करें

हेल्दी स्पर्म खासकर से पर्यावरणीय कारणों के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं जैसे अधिक गर्मी या टॉक्सिक केमिकल्स के संपर्क में आना।

हेल्दी स्पर्म बनाएं रखने के लिए आप इन चीजों को अवॉयड कर सकते हैंः

धूम्रपान न करेंः जो पुरुष सिगरेट पीते हैं उनमें स्पर्म काउंट कम होने की संभावना अधिक होती है। अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो अपने डॉक्टर से कहें कि आप छोड़ने में मदद करें। हेल्दी स्पर्म मेनटेन करने के लिए स्मोकिंग छोड़ सकते हैं।

शराब को सीमित करेंः अधिक शराब पीने से टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन कम हो सकता है। नपुंसकता और स्पर्म का उत्पादन कम हो सकता है। अगर आप शराब पीते हैं तो इतनी मात्रा में पिये। हेल्दी स्पर्म के लिए डॉक्टर भी यही सलाह देते हैं।

सेक्स के दौरान लुब्रिकेंट्स से बचेंः जबकि फर्टिलिटी पर लुब्रिकेंट के प्रभावों पर और शोध की आवश्यकता है सेक्स के दौरान लुब्रिकेंट से बचने पर विचार करें। अगर जरूरी हो तो प्री-सीड जैसे बेबी ऑयल, कैनोला ऑयल, अंडे का सफेद भाग या फर्टिलिटी-फ्रेंडली लुब्रिकेंट का उपयोग करने पर विचार करें।

दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर से बात करेंः कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स, ट्राईसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स, एंटी-एण्ड्रोजन और अन्य दवाएं फर्टिलिटी मुद्दों में योगदान कर सकती हैं। उपचय स्टेरॉयड का एक ही प्रभाव हो सकता है। कीटनाशकों, सीसा और अन्य विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आने से स्पर्म की मात्रा और गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है। अगर आपको टॉक्सिक मैटेरियल के साथ काम करना हो तो सुरक्षित रूप से करें।

अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 25/09/2020

advertisement iconadvertisement

Was this article helpful?

advertisement iconadvertisement
advertisement iconadvertisement