बच्चे की लंबाई और वजन उसकी उम्र के अनुसार कितना होना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चे का स्वास्थ्य उसके शरीर की लंबाई और वजन के हिसाब से ही पता चलता है। वजन और लंबाई लिंग और उम्र के आधार पर अलग-अलग होती है। यानी कि, लड़के का वजन और लंबाई, लड़की के वजन और लंबाई से अलग होती है। बच्चे का ग्रोथ चार्ट पेरेंट्स के लिए एक जरूरी टूल है। अक्सर पैरेंट्स बच्चे की लंबाई और वजन को लेकर असमंजस में रहते हैं। आपकी इस कंफ्यूजन को हैलो स्वास्थ्य दूर करेगा। आइए जानते हैं कि बच्चे की लंबाई और वजन किस उम्र में कितना होना चाहिए।

और पढ़ेंः बच्चों के लिए इनडोर एक्टिविटी हैं जरूरी, रखती हैं उन्हें फिजीकली एक्टिव

बच्चे की उम्र के अनुसार लंबाई और वजन

जन्म से लेकर 4 दिन तक के लिए

अमूमन नवजात की लंबाई 19.5 इंच होती है। साथ ही वजन 3.300 किलोग्राम रहता है। नवजात शिशु अगर लड़का है तो उसकी भी लंबाई और वजन दोनों लड़की के बराबर होगी। लेकिन, नवजात शिशु के शरीर का वजन जन्म से चार दिनों के भीतर पांच से दस फीसदी तक घटता भी है।  बच्चों में लिंग के आधार पर शुरुआत में ज्यादा अंतर नहीं होता है। जब बच्चों में प्यूबर्टी शुरु होती है तब वजन और लंबाई में ज्यादा अंतर दिखाई देता है।

5 दिन से 3 महीने तक के लिए

बच्चे का वजन जन्म के पांचवे दिन से बढ़ना शुरू हो जाता है। जो हर महीने कुछ-कुछ ग्राम बढ़ता रहता है। बच्चे की लंबाई पहले महीने में 21.6 इंच हो जाती है, जो दूसरे महीने में बढ़कर 23 इंच हो जाती है। वहीं, तीसरे महीने में बच्चे की लंबाई 24.2 इंच हो जाती है। वहीं, एक माह के बच्चे का वजन 4.400 किलोग्राम रहता है। जो दूसरे महीने में बढ़कर 5.600 किलोग्राम हो जाता है। वहीं, तीसरे महीने में बच्चे का वजन 6.400 किलोग्राम हो जाता है।

और पढ़ेंः क्या नवजात शिशु के लिए खिलौने सुरक्षित हैं?

3 से 6 महीने तक के लिए

तीसरे से छठे महीने में आते-आते बच्चे की वजन लगभग दो गुना हो जाता है। चौथे महीने में बच्चे की लंबाई 25.2 इंच और वजन 7 किलोग्राम हो जाता है। वहीं, पांचवें महीने में बच्चे का कद 26.2 इंच और भार 7.500 किलोग्राम होना चाहिए। छठे महीने में बच्चे की लंबाई 26.6 इंच और वजन 7.900 किलोग्राम होता है।

7 माह से 1 साल तक के लिए

सातवें महीने से मां स्तनपान के साथ-साथ ऊपरी आहार भी देना शुरू कर देती है। इसलिए बच्चे का वजन तेजी से बढ़ना शुरू होता है। सात से आठ माह तक बच्चे की लंबाई बढ़कर 27.8 इंच हो जाती है। वहीं, वजन में 8.600 किलोग्राम हो जाता है। नौ से दस माह के बच्चे की लंबाई 28.3 इंच हो जाती है और वजन 9.100 किलोग्राम हो जाता है। बच्चे के पहले जन्मदिन तक उसकी लंबाई 29.8 इंच और वजन 9.600 किलोग्राम होना चाहिए।

और पढ़ेंः बच्चों की मालिश के लिए तेल चुनते वक्त रखें इन बातों का ख्याल

1 साल के बच्चे के लिए

इस उम्र के बाद बच्चे की लंबाई और वजन बढ़ने की गति धीमी हो जाती है। इसलिए 23 महीने के बच्चे की लंबाई 34.2 इंच ही बढ़ती है। वहीं, बच्चे का वजन 11.900 किलोग्राम हो जाता है।

2 साल के बच्चे के लिए

दो साल के बच्चे का वजन 12.5 किलोग्राम हो जाता है। वहीं, उसके शरीर की लंबाई 34.2 इंच रहती है। जो ढाई साल में एक से डेढ़ इंच ही बढ़ पाती है।

3 साल के बच्चे के लिए

तीन साल के बच्चे की लंबाई में मात्र तीन इंच का इजाफा होता है। बच्चे की लंबाई 34.2 इंच से बढ़कर 37.5 इंच हो जाती है। वहीं, उसका वजन लगभग 14 किलोग्राम हो जाता है। बच्चे के वजन में ये इजाफा ठोस और संतुलित आहार लेने के कारण होता है।

4 साल के बच्चे के लिए

चार साल के बच्चे की लंबाई 40.3 इंच होती है। वहीं, वजन 16.300 किलोग्राम होता है। इस उम्र में बच्चे के हाथों-पैरों की लंबाई के साथ वजन में भी इजाफा होता है।

5 साल और उसके ऊपर के बच्चे के लिए

पांच साल तक के बच्चे स्कूल जाने लगते हैं और उनकी शारीरिक क्रियाविधि भी बढ़ जाती है। पांच साल के बच्चे के शरीर की लंबाई 43 इंच होती है और वजन 18.400 किलोग्राम होता है। वहीं, छठे साल में लंबाई 45.5 इंच और वजन 20.6 किलोग्राम हो जाता है। सातवें वर्ष में बच्चे की लंबाई 48 इंच हो जाती है और वजन 22.900 किलोग्राम हो जाता है। आठ वर्ष के बाद लिंग के आधार पर बच्चे के वजन और लंबाई में इजाफा होता है। लड़के के शरीर की लंबाई और वजन लड़की से शरीर से अलग होता है।

पेरेंट्स को इस बात को समझना होगा कि बच्चे का वजन और लंबाई दोनों एक साथ बढ़ना जरूरी है। अगर सिर्फ बच्चे की लंबाई बढ़ रही है और वजन स्थाई है तो ये ठीक बात नहीं है। कई बार पैरेंट्स बच्चे के वजन को देखकर सोचते है कि बच्चे का विकास हो रहा है। लेकिन, ऐसा नहीं है। बच्चे का वजन और लंबाई दोनों का सही विकास होने से ही उसका सही विकास होगा।

और पढ़ें: बच्चों की स्वस्थ खाने की आदतें डलवाने के लिए फ्रीज में रखें हेल्दी फूड्स

बच्चे की लंबाई और वजन के लिए फूड

बढ़ते बच्चे की लंबाई और वजन हर पेरेंट्स की चिंता बन सकता है। ऐसे में जरूरी है कि आप बच्चे के पालन-पोषण का भी ख्याल रखें। बच्चे की लंबाई और वजन का विकास ठीक से हो इसके लिए जरूरी है कि आप उसकी डायट में कुछ फूड शामिल करें:

पालक

पालक आयरन का एक अच्छा सोर्स है। रेगुलर पालक खाने से बच्चे की लंबाई और वजन पर ठीक ढ़ग से बढ़ता है। लेकिन वहीं बच्चों को पालक खिलाना भी आसान नहीं होता है। बच्चों को अक्सर इसका स्वाद पसंद नहीं होता है। ऐसे में बच्चा अगर पालक खाने से मना करता है, तो आप बच्चे को पालक सेंडविच या दाल में डालकर भी खिला सकते हैं।

अंडा

बच्चे की लंबाई और वजन ठीक से बढ़े इसके लिए जरूरी है कि आप उसकी डायट में अंडे को शामिल करें। अंडा प्रोटीन का एक अच्छा सोर्स है। बच्चे को रेगुलर अंडा देने से उसके विकास पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

सोयाबीन

सोयाबीन भी बच्चे की लंबाई और वजन बढ़ाने में फायदेमंद साबित हो सकती हैं। ये बच्चे की हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाने का भी काम करती हैं।

चिकन

चिकन में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और विटामिन्स होते हैं। चिकन बढ़ते बच्चे की हड्डियों के लिए अच्छा साबित होता है। ऐसे में चिकन को बच्चे की डायट में जरूर शामिल करें।

दूध

दूध बच्चों के बेस्ट फूड ऑप्शन माना जाता है। रोजाना सोने से पहले बच्चे को दूध पिलाने उसकी हड्डियां मजबूत होती हैं। बढ़ते बच्चे की लंबाई और वजन के लिए दूध कारगर साबित होता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है? जानें लंबाई से जुड़े रोचक फैक्ट्स

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है, एक्स गुणसूत्र महिला और पुरुष की लंबाई को कैसे प्रभावित करता है, एक्स गुणसूत्र, X chromosome difference man woman height in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
फन फैक्ट्स, स्वस्थ जीवन मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट का कैसे करे चुनाव

टूथपेस्ट क्या होता है, बच्चों के लिए सही टूथपेस्ट कौन सा होता है और बच्चों को किस उम्र में ब्रश करना शुरू कर देना चाहिए। Baccho ke liye sahi toothpaste.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

अगर आप सोच रहीं हैं शिशु का पहला आहार कुछ मीठा हो जाए… तो जरा ठहरिये

जानिए शिशु का पहला आहार शुरू कर रहें हैं, तो क्यों पानी, नमक, चीनी और घी देने से पहले किन बातों को जानें? कब तक शिशु को चीनी का सेवन नहीं करवाना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
बच्चों का पोषण, पेरेंटिंग अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

बच्चों में पिनवॉर्म की समस्या और इसके घरेलू उपाय

जानिए बच्चों में पिनवॉर्म in Hindi, बच्चों में पिनवॉर्म क्या है, बच्चों के पेट में कीड़े के कारण, बच्चों के पेट में कीड़े के लक्षण, bachcho me Pinworm के घरेलू उपाय।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य

बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं जो इन जगहों का बनाए प्लान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
मानसिक मंदता

क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास

बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास के लिए बचपन से ही दें अच्छी सीख

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं/teach children kind to animals

अपने बच्चों को जानवरों के लिए दयालु कैसे बनाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ जुलाई 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें