home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ऑटिज्म और इम्यूनिटी में क्या संबंध है?

ऑटिज्म और इम्यूनिटी में क्या संबंध है?

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता के आधार पर शरीर में होने वाले संक्रमणों के ठीक होने के समय और इलाज के तरीकों को निर्धारित किया जाता है। ऑटिस्टिक होने पर शरीर की ऑटिज्म और इम्यूनिटी कमजोर होती है और संक्रमण का खतरा अधिक रहता है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

जोनाथन कीपनिस ( Jonathan Kipnis), न्यूरोसाइंस प्रोफेसर, यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जिनिया कहते हैं कि:

“मस्तिष्क शरीर का अभिन्न अंग है इस कारण जिस प्रकार इम्यून सिस्टम शरीर के बाकी हिस्सों पर प्रभाव डालता है उसी प्रकार इम्यून सिस्टम में किसी भी खराबी का मस्तिष्क से गहरा संबंध है। ऑटिज्म में मस्तिष्क प्रभावित होता है जिसकी वजह से सारे लक्षण दिखते हैं। इम्यून सिस्टम ( रोग प्रतिरोधक क्षमता) में खराबी आने पर शरीर के सभी हिस्सों के साथ मस्तिष्क भी प्रभावित होता है।

और पढ़ें – शिशु की बादाम के तेल से मालिश करना किस तरह से फायदेमंद है? जानें, कैसे करनी चाहिए मालिश

साइंस की प्रख्यात जर्नल नेचर(Nature) में प्रकाशित हुई रिपोर्ट के अनुसार चूहों पर किए गए एक प्रयोग से पाया गया है कि जो मॉलीक्यूल्स शरीर को संक्रमण से बचाते हैं उनका संबंध सामाजिक गतिविधि से भी है। इन मॉलिक्यूल्स के न होने पर चूहे न सिर्फ संक्रमित होते हैं साथ ही उनकी बुद्धि और बाहरी दुनिया को समझने की क्षमता में भी कमी आ जाती है।

डॉक्टर प्रदीप महाजन, रीजेनरेटिव मेडिसिन रिसर्चर ने हैलो स्वास्थ्य से बातचीत के दौरान कहा कि,

“सेल बेस्ड थेरेपी की मदद से न्यूरोलॉजिकल, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल और इम्यूनोलॉजिकल गड़बड़ी का इलाज किया जा सकता है। शरीर में पाई जाने वाली मेसेंकाइमल स्टेम सेल्स (Mesenchymal stem cells) ऑटिस्टिक लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को नियंत्रित करती हैं। इम्यून सिस्टम की खराबी खास तौर पर इंटेस्टाइन और न्यूरोलॉजिकल सिस्टम में विकार उत्पन्न करती हैं।
मेसेंकाइमल स्टेम सेल्स साइटोकाइन निकालती हैं जो कि शरीर में होने वाले संक्रमणों से लड़ने में सहायक है। इसके अलावा ये सेल्स न्यूरोलॉजिकल विकार को भी ठीक करने में कारगर हैं। मेसेंकाइमल स्टेम सेल्स की वृद्धि से शरीर में सकारात्मक बदलाव आते हैं।”

और पढ़ें – बच्चों की आंखो की देखभाल को लेकर कुछ ऐसे मिथक, जिन पर आपको कभी विश्वास नहीं करना चाहिए

ऑटिज्म और इम्यूनिटी क्या काम करता है?

  • सारे बाहरी जीव ( जैसे कि बैक्टीरिया, वायरस, पैरासाइट या फिर फंगस) जिन से संक्रमण का खतरा होता है उन्हें पहचानना।
  • एक बार संक्रमण हो जाने पर दूसरी बार इसे होने से रोकना।
  • स्वयं अपने शरीर को हानि न पहुंचाना यानि ऑटोइम्म्यूनिटी का सही ढंग से काम करना।

और पढ़ें – क्या बच्चों को अर्थराइटिस हो सकता है? जानिए इस बीमारी और इससे जुड़ी तमाम जानकारी

ऑटिज्म और इम्यूनिटी से प्रभावित होने पर इम्यून सिस्टम में क्या बदलाव आते हैं ?

किसी भी जीव के आक्रमण करने पर सही ढंग से प्रतिक्रिया न देना।

  • ऑटिज्म और इम्यूनिटी में ह्यपरसेंसिटिवटी होना

    आटिज्म होने पर कई बार ऐसा हो सकता है कि आपका इम्यून सिस्टम किसी संक्रमण पर जरूरत से ज्यादा सक्रिय हो जाए। उस स्थिति में घातक प्रभाव होने की संभावना रहती है।

  • ऑटिज्म और इम्यूनिटी का खराब होना

    कई मामलों में इम्यून सिस्टम अपनी दूसरे की कोशिकाओं में अंतर नहीं कर पाता। ऐसी परिस्थिति में स्वयं के शरीर को ही हानि पहुंचाएगा।

और पढ़ें – कई महीनों और हफ्तों तक सही से दूध पीने वाला बच्चा आखिर क्यों अचानक से करता है स्तनपान से इंकार

ऑटिज्म और इम्यूनिटी में इम्यूनोग्लोबिन के स्तर में बदलाव :

इम्यूनोग्लोब्यूलिन (IgG , IgA IgM)की मात्रा में कमी आना साथ ही साइटोकाइन (Cytokine) और नेचुरल किलर सेल्स (NK Cells) की कार्य क्षमता में खराबी आना।

  • IgA – प्रभावित मरीज में इस इम्म्यूनोग्लोब्यूलिन के कम होने पर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (Gastrointestinal) और रेस्पिरेटरी सिस्टम (Respiratory system) में संक्रमण की संभावना होती है।
  • IgM – ये एंटीबाडी खून में पाई जाती है और किसी भी संक्रमण के होने पर सबसे पहले प्रतिक्रिया की शुरुआत करती है। ऑटिज्म और इम्यूनिटी से प्रभावित व्यक्ति में इसकी मात्रा कम या ज्यादा हो सकती है।
  • IgG – इस एंटीबाडी का काम है खून में लम्बे समय तक संक्रमण से लड़ना। ऑटिज्म और इम्यूनिटी होने पर इस एंटीबाडी में कमी आ सकती है।
  • IgE – इस एंटीबाडी का काम है एलर्जी से बचाना लेकिन ऑटिज्म और इम्यूनिटी के प्रभावित होने पर इसमें भी कमी आ सकती है।

और पढ़ें – टीनएजर्स के लिए लॉकडाउन टिप्स हैं बहुत फायदेमंद, जानिए क्या होना चाहिए पेरेंट्स का रोल ?

अगर आपका बच्चा या फिर कोई संबंधी ऑटिस्टिक है और उसे बार -बार एक जैसे ही संक्रमण हो रहे हैं उस स्थिति में इम्यून सिस्टम की जांच करवाना जरूरी है। साथ ही अगर बच्चे को एक्जिमा (Eczema) , क्रोनिक नेसल लक्षण (Chronic Nasal Symptoms) या फिर अस्थमा की शिकायत है तो भी IgE मात्रा की जांच करवाना आवश्यक है।

ऑटिज्म और इम्यूनिटी बच्चों की सही देखभाल न करने पर इनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी आ सकती है। इसलिए किसी भी तरह के संक्रमण के दिखने पर या फिर एक ही तरह की बीमारी के बार-बार होने पर ऑटिज्म और इम्यूनिटी की जांच जरूर करवा लें। डॉक्टर की सलाह सही ढंग से मानें और दवाइयों को समय पर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
Immune Function & Autism/https://www.autism.org/immune-system-function-autism/Accessed on 13/08/2020
Immune dysfunction in autism: A pathway to treatment/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5084232/Accessed on 13/08/2020
The Role of the Immune System in Autism Spectrum Disorder/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5143489/Accessed on 13/08/2020
लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Suniti Tripathy द्वारा लिखित
अपडेटेड 03/11/2019
x