home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

बच्चों को इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन देने से पहले पढ़ लें ये जरूरी जानकारी!

बच्चों को इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन देने से पहले पढ़ लें ये जरूरी जानकारी!

बच्चों के शारीरिक विकास के दौरान उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। हर बच्चे की शारीरिक और मानसिक स्थिति अलग-अलग होती है, लेकिन उन्हें होने वाली समस्याएं लगभग एक समान होती है। इन समस्याओं से बचने के लिए कई बार उन्हें अलग-अलग तरह के टीके दिए जाते हैं। यह टीके शारीरिक समस्याओं से लड़ने के लिए उनकी मदद करते हैं। आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसी ही वैक्सीन की, जो आमतौर पर एक नहीं, बल्कि कई समस्याओं में बचाव कर सकती है। हम बात कर रहे हैं इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन की। इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) कई स्वास्थ्य समस्याओं में बच्चों का बचाव कर सकती है। इसमें मुख्य रूप से हेपेटाइटिस बी, पोलियो और टिटनेस जैसी समस्याओं का समावेश होता है। लेकिन इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन बच्चों को देने से पहले आपको कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है। आइए जानते हैं बच्चों के लिए इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन से जुड़ी कुछ जरूरी बातें।

और पढ़ें : क्या बच्चों के लिए फ्लू और कोविड वैक्सीन एक ही है : जानें इस पर एक्सपर्ट की राय

इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) किन समस्याओं में कारगर मानी जाती है?

इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन कई स्वास्थ्य समस्याओं में बच्चों को सुरक्षा प्रदान करती है, जिसमें डिप्थीरिया, टिटनेस, वूपिंग कफ, हेपेटाइटिस बी, पोलियो, हिमोफिलस इनफ्लुएंजा टाइप बी (Diphtheria, Tetanus, Whooping Cough, Hepatitis B, Polio, Haemophilus Influenza Type B) जैसी बीमारियों का समावेश होता है। इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन की मदद से बच्चे का शरीर इन बीमारियों के खिलाफ एंटीबॉडी पैदा करता है, जो इन बीमारियों के संपर्क में आने से बच्चे की रक्षा करती है। लेकिन कुछ बच्चों पर इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीनेशन पर पूरी तरह से कारगर नहीं मानी जाती। अलग-अलग बच्चे की इम्युनिटी अलग-अलग तरह की हो सकती है, जिसका इस इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीनेशन के कार्य का सीधा प्रभाव पड़ता है। इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) लेने से बच्चे को किसी तरह की बीमारी नहीं होती, बल्कि कई जानलेवा बीमारियों से ये बच्चे को बचा सकती है।

और पढ़ें: बच्चों के लिए फ्लू का टीका क्यों होता है जरूरी औ रखनी चाहिए कौन सी सावधानियां?

बच्चे को इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) देने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन बच्चे के लिए बेहद कारगर मानी जाती है, लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है। कई बच्चों में इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन की वजह से एलर्जिक रिएक्शन हो सकते हैं। इसलिए आपको बच्चे को होने वाली एलर्जी के बारे में डॉक्टर से जरूर बात करनी चाहिए। यदि बच्चे को किसी तरह की दवा से एलर्जी है, तो डॉक्टर इस बात को ध्यान में रखकर इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन देने की सलाह दे सकते हैं। यदि आपके बच्चे को नर्वस सिस्टम से जुड़ी किसी प्रकार की समस्या है, तो आपको इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) देने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए। डॉक्टर आपके बच्चे की स्थिति को ध्यान में रखकर इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन देने के बारे में सोच सकते हैं।

और पढ़ें: बच्चों के लिए फ्लू का टीका क्यों होता है जरूरी औ रखनी चाहिए कौन सी सावधानियां?

यदि आपके बच्चे को अक्सर हाय टेम्प्रेचर समस्या होती है, तो शायद इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन देने से पहले डॉक्टर बच्चे का पूरा चेकअप कर सकते हैं। साथ ही यदि आपने बच्चे को पहले इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) दी गई है और इसकी वजह से बच्चे को सीवियर साइड हुए हैं, तो इसका दूसरा डोज़ डॉक्टर की सलाह के बाद ही देना चाहिए।

साथ ही यदि बच्चे को एपिलेप्सी या ब्रेन से संबंधित समस्याएं हैं, तो डॉक्टर की सलाह के बाद ही इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) को दिया जाना चाहिए। कुछ और समस्याओं में इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन देने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है, यदि –

  • बच्चे को ब्लीडिंग प्रॉब्लम है
  • यदि बच्चे को फीट्स आते हैं
  • यदि बच्चे को सीजर की समस्या है
  • यदि बच्चा प्रीमेच्योर बर्थ के साथ पैदा हुआ है

इन सभी स्थितियों में इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) देने से पहले आपको डॉक्टर से सलाह कर लेनी चाहिए। जिससे इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन की वजह से बच्चे को किसी तरह की समस्या ना हो।

इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine)

इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन बच्चे को किस तरह दी जा सकती है?

अलग अलग बच्चों में इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) अलग अलग तरह से दी जा सकती है। बच्चे की उम्र और उसके वजन को ध्यान में रखकर डॉक्टर इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन का सही डोज तय करते हैं। इसके बाद इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन के दूसरे डोज की तारीख आपको बताई जाती है। यदि बच्चे को इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन से जुड़े बूस्टर की जरूरत है, तो डॉक्टर इसकी जानकारी भी आपको दे सकते हैं। यह बच्चे की मांसपेशियों में दी जाती है। यदि आप इसके दूसरे डोज के लिए अपॉइंटमेंट मिस कर देते हैं, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेकर तुरंत दूसरा अपॉइंटमेंट लेना चाहिए। बच्चों के लिए इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन का पूरा कोर्स करना जरूरी माना जाता है।

और पढ़ें: रिसर्च के अनुसार ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली महिलाएं भी ले सकती हैं कोविड 19 वैक्सीन, लेकिन पहले डॉक्टर से जरूर करें कंसल्ट

बच्चों में इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन के कौन से साइड इफेक्ट दिखाई दे सकते हैं? (Side effect of Infanrix hexa vaccine)

अन्य वैक्सीन की ही तरह इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) के भी कई साइड इफेक्ट बच्चों में दिखाई दे सकते हैं, जिसमें एलर्जिक साइड इफ़ेक्ट, जैसे, त्वचा पर रैशेज, खुजली या ब्लिस्टर, आंखों में और चेहरे पर हल्की सूजन, सांस लेने में समस्या, ब्लड प्रेशर कम हो जाना, यह सभी लक्षण बच्चों में दिखाई दे सकते हैं। यह लक्षण दिखाई देने पर आपको डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए। इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन के कुछ गंभीर साइड इफेक्ट भी माने जाते हैं, जिसमें –

  • बच्चे का बेहोश हो जाना
  • एकाग्रता नहीं रख पाना
  • फीट्स की समस्या

यह सभी साइड इफेक्ट गंभीर साइड इफेक्ट माने जाते हैं। ऐसी स्थिति दिखाई देने पर आपको तुरंत बच्चे को डॉक्टर के पास लेकर जाना चाहिए। आमतौर पर बच्चों में इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) के सामान्य साइड इफेक्ट दिखाई दे सकते हैं, जिसमें –

और पढ़ें: बच्चों को फ्लू से बचाने में मदद करती है वैक्सीग्रिप वैक्सीन, लेकिन इसके साइड इफेक्ट्स भी जान लें

ये साइड इफेक्ट दिखाई दे सकते हैं। यह साइड इफेक्ट आमतौर पर थोड़े समय में ठीक हो जाते हैं। लेकिन यदि यह समय के साथ ठीक ना हो, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेने की जरूरत पड़ सकती है। इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) का इस्तेमाल सिर्फ बच्चों के लिए ही नहीं, बल्कि गर्भवती महिलाओं के लिए और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिला के लिए भी सेफ माना जाता है। कुछ खास तरह के केसेस में डॉक्टर आपकी मेडिकल हिस्ट्री को ध्यान में रखकर इसके बारे में जरूरी जानकारी दे सकते हैं। इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन आमतौर पर व्यक्ति के जरूरी अंगों जैसे किडनी, लीवर और हार्ट पर बुरा प्रभाव नहीं डालती। इसलिए एक हेल्दी व्यक्ति इसे आसानी से ले सकता है।

और पढ़ें: बच्चों को टीकाकरण के बाद दर्द या सूजन की हो समस्या, तो अपनाएं ये उपाय

इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन (Infanrix hexa vaccine) लेने से पहले आपको पूरे शारीरिक जांच की जरूरत पड़ती है। यदि आपको किसी तरह की मेडिकल समस्या है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेकर ही इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन लेना चाहिए। बात करें बच्चों की तो बच्चों में भी अलग अलग तरह की एलर्जी दिखाई देती है, जो इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन के लेने के बाद बढ़ सकती है। इसलिए बच्चों के लिए इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर से सलाह कर लेनी चाहिए, जिससे इन्फैनरिक्स हेक्सा वैक्सीन का बुरा प्रभाव बच्चे पर ना पड़े।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड