home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

घर आने वाले हैं बच्चे तो ग्रैंडपेरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

घर आने वाले हैं बच्चे तो ग्रैंडपेरेंट्स रखें इन बातों का ध्यान

बच्चे ग्रैंडपेरेंट्स (Grandparents) के साथ रह कर जो सीखते हैं। वह बच्चे हम उम्र बच्चों के साथ नहीं सीख पाते हैं। भारत में संयुक्त परिवार की पद्धति आज भी है। लेकिन, अब की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में बेटे-बहू अपने पेरेंट्स के साथ नहीं रह पाते हैं। इस वजह से कई बच्चे अपने ग्रैंडपेरेंट्स का साथ हमेशा नहीं रह पाते हैं, केवल छुटि्टयों पर रहने के लिए आते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक बच्चे के मानसिक विकास के लिए ग्रैंडपैरेंट्स का साथ बहुत जरूरी है। लेकिन, जब बच्चा आपके घर पर आने वाले हो तो बतौर दादा-दादी आपको कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। ताकि, बच्चे के साथ कोई भी अनचाही घटना न होने पाए।

छोटे बच्चे और ग्रैंडपेरेट्स के बीच एक अनमोल रिश्ता होता है। ज्यादातर बच्चे अपने दादा-दादी से बहुत अधिक क्लोज होते हैं। वह अपने ग्रैंडपेरेट्स के साथ बहुत कंफर्ट महसूस करते हैं। तो वहीं बच्चों के लिए ग्रैंडपेरेट्स का प्यार सबसे ज्यादा होता है। इसके साथ ही बच्चों के लिए दादा-दादी की बहुत ज्यादा जिम्मेदारी होती है। इस आर्टिकल में आज हम यही जानने वाले हैं कि बच्चे के लिए ग्रैंडपेरेट्स की क्या जिम्मेदारियां है।

और पढ़ें: नवजात शिशु को घर लाने से पहले इस तरह तैयार करें शिशु का घर

ग्रैंडपेरेंट्स होने के फायदे

किसी भी घर में ग्रैंडपेरेंट्स के होने से प्यार बहुत अधिक बना रहता है। अध्ययन से पता चलता है कि सभी ग्रैंडपेरेट्स अपने बच्चों से ज्यादा अपने ग्रैंड चिल्ड्रेन से प्यार करते हैं।दादा-दादी के साथ रहने से आपके बच्चे की एक शानदार परवरिश हो सकती है। इसलिए ज्यादा से ज्यादा समय अपने ग्रैंडपेरेंट्स के पास बिताने से किसी तरह का नुकसान नहीं है। वो बच्चों को भारत के इतिहास के बारे में कहानी सुना सकते हैं। क्योंकि बचपन में बताई गई चीजें बच्चे कभी नहीं भूलते हैं। तो जो चीजें बच्चे किताबों में पढ़कर जानते उसे दादा-दादी कहानी के रूप में सुनाकर उन्हें बता देते हैं। बच्चों के माता या पिता के बचपन में जाकर उनकी शैतानियां और कई बाते दादा-दादी छोटे बच्चों से कर सकते हैं।ग्रैंडपेरेंट्स अक्सर अपने दिन की शुरूआत बहुत अच्छी तरह से करते हैं। दरअसल उनका एक अच्छा रूटीन बना होता है। यह देखकर छोटे बच्चे भी उन्हें फॉलो करने की कोशिश करते हैं, जो उनके भविष्य के लिए बहुत बेहतर साबित हो सकता है। ऐसे एक नहीं बल्कि तमाम कारण है, जिनसे ये पता चलता है कि बच्चों के लिए ग्रैंडपेरेंट्स का होना कितना अधिक फायदेमंद हो सकता है।

और पढ़ें:बच्चों के लिए मोबाइल गेम्स खेलना फायदेमंद है या नुकसानदेह

ग्रैंडपेरेंट्स के काम आएंगे ये टिप्स

बच्चे के आने के पहले ग्रैंडपेरेंट्स को घर से लेकर बाहर तक कई तैयारियां करनी चाहिए, जैसे कि:

घर के अंदर ग्रैंडपेरेंट्स करें सुरक्षा के इंतजाम

बच्चे चंचल होते हैं और जब वह चलने लगते हैं तो एक कदम में ही पूरा घर नाप लेना चाहते हैं। ऐसे में घर में ऐसी कई चीजें होती हैं जिससे बच्चे के साथ कोई भी हादसा हो सकता है।

  • घर में मौजूद स्मोक डिटेक्टर को हमेशा ऑन रखें ताकि ऐसा कोई भी हादसे के पहले आपको जानकारी हो जाए।
  • अगर घर में आपने कोई पेट पाल रखा है तो उसका फूड बच्चे की पहुंच से दूर रखें।
  • सीढ़ियों के दरवाजे ऊपर और नीचे दोनों तरफ से बंद कर के रखें। बच्चा अगर सीढ़ियों पर चढ़ेगा तो गिरने से चोटिल हो सकता है।
  • घर में अगर इलेक्ट्रिक बोर्ड नीचे है तो उस पर टेप चिपका दें। बच्चा अगर सॉकेट में अंगुली डालेगा तो उसे करंट लगने का खतरा है। इसके अलावा, घर में मौजूद सभी इलैक्ट्रिक उपकरणों को बच्चे की पहुंच से दूर रखें।
  • घर में रखी हुई कैंची, चाकू इन सभी चीजों को किचनी में किसी ऊंचीजगह पर रखें, जो बच्चे की पहुंच से दूर हो।
  • घर में मौजूद फर्नीचर के कोने बच्चे को चोटिल कर सकते हैं। फर्नीचर के कोनों पर मुलायम कवर या रुई चिपका दें।
  • घर के फ्लोर पर कुछ दरी या कारपेट बिछवा दें। जिससे बच्चा जमीन पर मनमाफिक लोट-पोट कर खेल सके।
  • बच्चे के बेड के आस-पास कोई कांच का बना शो-पीस भी न रखें। बच्चे के हाथ से वह गिर सकता है, जिससे बच्चे को गंभीर चोट भी सकती है।

और पढ़ें: पालन-पोषण के दौरान पेरेंट्स से होने वाली 4 सामान्य गलतियां

किचन में भी सुरक्षा के इंतजाम करें ग्रैंडपेरेंट्स

किचन में ऐसी कई चीजें होती है जिससे बच्चा जख्मी हो सकता है। पहली बात तो बच्चे को किचन से दूर रखें। अगर बच्चा किचन में आ भी जाएं तो आप उसकी सुरक्षा के लिए पहले से कमर कसे रहें।

  • किचन में मौजूद सभी धारदार चीजें बच्चे की पहुंच से दूर रख दें।
  • अगर किचन में किसी तरह का फ्लोर क्लीनर या कैमिकल रखा है, तो उसे हटा दें।
  • किचन में कॉफी मेकर और टोस्टर के प्लग को इलेक्ट्रिक बोर्ड से निकाल दें। इससे कोई भी अनचाहा हादसा हो सकता है।
  • बच्चे को खाना देते समय विशेष ध्यान रखें। खास कर तब जब खाना माइक्रोवेव में पका हो। क्योंकि, माइक्रोवेव में पका खाना बाहर से ठंडा हो जाता है, लेकिन अंदर से काफी गर्म होता है। इसलिए बच्चे को जब भी कुछ खाने को दें तो आप भी उसके साथ बैठें।
  • अगर आप गैस स्टोव पर कुछ पका रहे हैं तो उसकी हैंडल हमेशा पीछे की तरफ कर के रखें। ताकि, बच्चा कभी भी गलती से भी ना हैंडल तक पहुंच पाए।

बाथरूम में भी है कई खतरें

  • बाथरूम का दरवाजा हमेशा बंद रखें। अगर बच्चे को वॉशरूम जाना है, तो साथ में जाएं।
  • बाथटब या बाल्टी में पानी कत्तई ना भर कर रखें। बच्चा उसमें गिर सकता है।
  • बाथरूम क्लीनर और एयर फ्रेशनर को हमेशा बच्चे की पहुंच से दूर रखें।

बच्चे को खिलौने देते वक्त ग्रैंडपेरेंट्स बरतें ये सावधानियां

Circumcision For Children: सर्कम्सिजन सर्जरी (चाइल्ड

  • बच्चे को बहलाने के लिए खिलौना एक अच्छा विकल्प है। लेकिन, कभी भी बच्चे को ऐसा खिलौना न दें जिससे उसे नुकसान पहुंचे।
  • बच्चे को छोटे पार्ट के खिलौनों को देने से बचें। इसलिए खिलौने के ऊपर दिए गए निर्देशों को पढ़ने के बाद ही बच्चे के लिए खिलौने खरीदें।
  • खिलौनों को खोलने के बाद उनके डिब्बे बाहर फेंक दें। खिलौनों की पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाला प्लास्टिक बच्चे के लिए हानिकारक है।

बच्चों का परफेक्ट आहार जानने के लिए खेले क्विज: Quiz : 5 साल के बच्चे के लिए परफेक्ट आहार क्या है?

बच्चे को लेकर ग्रैंडपेरेंट्स रहें हमेशा सजग

  • बच्चे को कभी भी ऊंची जगहों पर न बैठाएं। अपनी गैरमौजूदगी में बच्चे को ऊंची कुर्सी या टेबल पर न बैठाएं। ऐसा करने से बच्चा गिर कर घायल हो सकता है।
  • कमरे में कोई भी ऐसा विद्युत उपकरण ना रखें, जिससे बच्चे के लिए खतरा पैदा हो।
  • बड़े-बुजुर्ग अक्सर अपनी दवाइयां सामने ही रखते हैं ताकि उन्हें याद रहे कि दवाइयां कब लेनी है। लेकिन, बच्चा घर में है, तो दवाएं खुले में न रखें। बच्चों की हर चीज को मुंह में डालने की आदत होती है। ऐसे में अगर वह दवा मुंह में डाल ले, तो कोई भी अप्रिय घटना घट सकती है।
  • घर में कहीं भी अगर पानी गिर गया है, तो इसे तुरंत साफ कर दें। वरना बच्चा फिसल कर गिर सकता है।

ग्रैंडपेरेंट्स घर के बाहर भी बरतें ये सावधानियां

  • बच्चों को कार में कहीं ले जाने के लिए बेबी कार सीट खरीदें, जिसे ग्रैंडपेरेंट्स अपनी कार के अंदर रख सकते हैं। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि ये सीट आपकी कार ठीक से इंस्टॉल भी हो पा रही है या नहीं। बच्चों के लिए यह सीट उन्हें कार में आपके साथ कहीं जाते हुए अतिरिक्त सुरक्षा देती है।
  • बच्चों को कार में कहीं ले जाते हुए यह भी चेक कर लें कि आपने चाइल्ड लॉक किया है कि नहीं। चाइल्ड लॉक करने से गाड़ी के सारे कंट्रोल्स सिर्फ ड्राइवर के पास ही रह जाते हैं। ऐसे में बच्चा अगर गलती से खिड़की खोलने या दरवाजा खोलने की कोशिश करता है, तो वह नहीं खुलेगा।
  • हालांकि, बच्चों के साथ समय बिताने के लिए खेल के मैदान एक अच्छी जगह होती है, लेकिन साथ ही वे खतरनाक भी हो सकते हैं। ऐसे में बच्चों को ले जाने के लिए ऐसे ग्राउंड का इस्तेमाल करें, जिसे बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर तैयार किया गया हो।
  • जब आप बच्चे को लेकर किसी भी वाहन के माध्यम से कही दा रहे हैं, तो गाड़ी बहुत स्पीड में चलाने की आवश्यकता नहीं है। हमेशा एक साधारण स्पीड में गाड़ी चलाएं।

और पढ़ें: बच्चों की स्वस्थ खाने की आदतें डलवाने के लिए फ्रीज में रखें हेल्दी फूड्स

ग्रैंडपेरेंट्स की अन्य जिम्मेदारियां

ऐसा कई बार सुनने को मिला है कि दादा-दादी बच्चों की आदत बिगाड़ देते हैं। दरअसल ग्रैंडपेरेंट्स अपने ग्रैंड चिल्ड्रेन को इतना ज्यादा प्यार करते हैं कि उनकी हर एक जिद पूरी करने के बारे में सोचते हैं। जिससे धीरे-धीरे उनकी आदत बिगड़ जाती है। यही कारण है कि उन्हें बच्चों की आदत बिगाड़ने और उन्हें जिद्दी बनाने का जिम्मेदार माना जाता है। इसलिए यदि आप ग्रैंडपेरेंट्स बनने वाले हैं, तो आपको इस बात का विशेष ध्यान रखना है। यदि आपका ग्रैंड चाइल्ड आपसे किसी प्रकार की मांग करता है, तो आप उसे तभी दिलाएं, जब वह उसके लिए उपयोगी हो। लेकिन लगातार हर मांग पूरी करना सही नहीं है। इससे बच्चों को हर बात मनवाने की आदत पड़ जाती है। कभी आगे चलकर यदि किसी प्रकार की समस्या या आर्थिक स्थिति के कारण जब आप उनकी मांग पूरी नहीं कर पाते हैं, तो वह जिद करने लगते हैं। इससे उनका क्रोध भी बढ़ने लगता है।

ये सभी टिप्स ग्रैंडपेरेंट्स के साथ-साथ माता-पिता के लिए भी है। जिस भी घर में एक साल से ऊपर के बच्चे है, उस घर में सुरक्षा के सभी इंतजाम दुरुस्त होने चाहिए। हमेशा याद रखिए हादसे बता कर नहीं आते। अगर हादसों को कोई रोक सकता है तो वह आप खुद है। इसलिए बच्चों को लेकर सतर्क और सजग रहें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Childproofing Tips for Grandparents https://www.healthychildren.org/English/safety-prevention/at-home/Pages/A-Message-for-Grandparents-Keeping-Your-Grandchild-Safe-in-Your-Home.aspx Accessed on 16/12/2019

Simple tips to keep kids safe at their grandparents’ house https://www.consumerreports.org/cro/news/2011/03/simple-tips-to-keep-kids-safe-at-their-grandparents-house/index.htm Accessed on 16/12/2019

Grandparents: roles and boundaries https://raisingchildren.net.au/grown-ups/grandparents/family-relationships/roles-boundariesAccessed on 16/12/2019

GRANDPARENTS’ ENTITLEMENTS AND OBLIGATIONS https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3770958/  Accessed on 16/12/2019

5 Grand Roles for Grandparents https://grandkidsmatter.org/hot-topics/grandchildren/5-grand-roles-for-grandparents/  Accessed on 16/12/2019

Grandparents Raising Grandchildren  https://www.helpguide.org/articles/parenting-family/grandparents-raising-grandchildren.htmAccessed on 16/12/2019

लेखक की तस्वीर
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shayali Rekha द्वारा लिखित
अपडेटेड 05/10/2019
x