लौंग से केले तक, ये 10 चीजें हाइपर एसिडिटी (Hyperacidity) में दे सकती हैं राहत

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट January 20, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

भारतीय भोजन में कई मसालों समावेश है। यह सारे मसाले खाद्य पदार्थ को स्वादिष्ट बनाते हैं। पूरी दुनिया में भारत इन मसालों को निर्यात करता है लेकिन, इसी के साथ यह भी सच है कि, यही मसाले एसिडिटी और हाइपर एसिडिटी का कारण बनते हैं। इसके साथ ही खाने का समय निश्चित न होना, रात को देर से खाना खाना और बहुत देर तक खाली पेट रहना भी एसिडिटी का कारण है। कभी-कभी हाइपर एसिडिटी इतनी बढ़ जाती है कि सिर में दर्द होने लगता है। तो ऐसे में आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए, जो आपको इससे राहत दिलाने में मदद करे।  आइए जानते हैं कि एसिडिटी या हाइपर एसिडिटी होने पर आप किन पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। लेकिन पहले जानिए कि हाइपर एसिडिटी किन कारणों से होती है।

हायपर एसिडिटी (Hyperacidity) के क्या कारण हैं?

हाइड्रोक्लोरिक अम्ल जब इसोफेगस की परत से होकर गुजरता है तो सीने या पेट मे जलन महसूस होने लग जाती है क्योंकि ये परत हाइड्रोक्लोरिक अम्ल के लिए नहीं बनी है। इसके होने के कई कारण हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • गर्भावस्था में भी एसिड रिफ्लक्स हो जाता है और अधिक खाने की वजह से भी एसिडिटी हो सकती है।
  • हमारे अनियमित खान पान के कारण एसिडिटी हो सकती है।
  • बार-बार होने वाली एसिडिटी की समस्या को गर्ड (एसिड भाटा रोग या GERD) कहा जाता है।
  • अधिक तले हुऐ खाद्य पदार्थ भी एसिडिटी का कारण बन सकते हैं। वसा भोजन को आंतों तक जाने की गति को धीमा कर देती है। इससे पेट में अम्ल बनने लगता है और एसिडिटी हो जाती है।

हाइपर एसिडिटी के लक्षण क्या हैं?

इसके कई लक्षण हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • उल्टी होना
  • गले में जलन
    स्वाद खराब
  • मुंह में खट्टा पानी आना
  • सीने या छाती में जलन और दर्द
  • कब्ज
  • गले में लंबे समय से दर्द।
  • निगलने में कठिनाई या दर्द।
  • छाती या ऊपरी पेट में दर्द
  • ब्लैक स्टूल (काली पॉटी) या स्टूल में खून आना।
  • लगातार हिचकी आना।
  • अपच
  • बिना किसी कारण के वजन घटना।

हाइपर एसिडिटी (Hyperacidity) दूर करने के लिए क्या चीजें खाएं?

अगर आप हाइपर एसिडिटी के शिकार हैं, तो कुछ चीजें खा सकते हैं, जिससे आपको राहत मिल सकती है। नीचे हम इन्हीं चीजों के बारे में बताने जा रहे हैं। जानिए हाइपर एसिडिटी में क्या खाएं :

1. केले का करें सेवन

केले में फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है।  इसलिए यह आंत और पेट के लिए बेहद फायदेमंद है। यह पाचन प्रक्रिया में मदद करता है। इसमें पोटैशियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। यह पेट में बलगम (म्यूकस) के उत्पादन को बढ़ाते हैं जो अतिरिक्त एसिड को रोकता है और हाइपर एसिडिटी से लड़ता है। एक पका हुआ केला एसिडिटी में लाभदायक है।

और पढ़ें : पेट दर्द के ये लक्षण जो सामान्य नहीं हैं

2. ठंडा दूध हो सकता है फायदेमंद

दूध में अधिक मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों के लिए सुपरफूड का काम करता है लेकिन, क्या आप जानते हैं कि यही कारण है कि ठंडा दूध एसिडिटी और एसिड रिफ्लक्स के दौरान होने वाली जलन से तुरंत राहत दिला सकता है।

3. छाछ का करें इस्तेमाल

ठंडा छाछ एक और उपयोगी एंटीडोट है।  यह एक स्वाभाविक प्रोबॉयोटिक  भी है। अच्छे पाचन के लिए प्रोबॉयोटिक्स की भूमिका महत्वपूर्ण है। इसीलिए कई डॉक्टर इसे लेने की सलाह देते हैं। प्रोबॉयोटिक में मौजूद अच्छे बैक्टीरिया गैस के निर्माण और सूजन को रोकते हैं जो अक्सर एसिड रिफ्लक्स का कारण बनता है। अगली बार जब आप मसालेदार या भारी भोजन करें तो इसके साथ छाछ जरूर लें।


4. सौंफ दिलाएगी राहत

सौंफ के बीज में एनेथोल नामक पदार्थ होता है जो पेट के लिए फायदेमंद है। यह ऐंठन और पेट फूलना रोकता है। सौंफ विटामिन, खनिज और फाइबर से भरपूर है जो अच्छे पाचन में सहायता करती है। चूंकि इसमें एंटी-अल्सर गुण भी होते हैं इसलिए यह पेट को ठंडा करती है और हाइपर एसिडिटी से भी राहत दिलाने में मदद करती है।

और पढ़ें: पेट दर्द के सामान्य कारण क्या हो सकते हैं?

5. तुलसी के पत्ते खाएं

हाइपर एसिडिटी को कम करने के लिए 2-3 तुलसी के पत्तों को चबाएं। तुलसी के पत्तों में ऐसे गुण होते हैं जो गैस्ट्रिक एसिड के प्रभाव को कम करते हैं और गैस उत्पादन को रोकते हैं। तुलसी के पत्तों का रस और पाउडर भी अक्सर आयुर्वेदिक दवाओं में अपच के लिए उपयोग किया जाता है।

6. कच्चे बादाम का इस्तेमाल करें

एक और घरेलू उपाय जो एसिडिटी से राहत दिलाने में मदद करता है, वह है कच्चे बादाम। बादाम प्राकृतिक तेलों से भरपूर होते हैं जो पेट के एसिड को शांत करते हैं।

7. पुदीने के पत्ते खाएं

अपच या एसिडिटी होने पर पुदीने की पत्तियां भी मदद कर सकती हैं। उनमें जलन और दर्द को कम करने वाले गुण हैं जो अक्सर एसिडिटी और अपच को बेअसर करते हैं। पुदीना पेट के एसिड को कम करने में मदद करता है और पाचन में सुधार लाता है।

8.लौंग का सेवन करें

लौंग सूजन और पेट की ऐंठन में बहुत फायदेमंद साबित होती है। यह प्राचीन काल से भारतीय रसोई का हिस्सा रही है। लौंग पेट में एसिड के प्रभावों को दूर करने में मदद करती है। अगर आप हाइपएसिडिटी से परेशान हैं, तो नियमित रूप से लौंग का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

9.अदरक होगी फायदेमंद

अदरक हर घर में इस्तेमाल की जाती है। खासतौर पर अदरक वाली चाय के तो लोग दीवाने ही होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका सेवन हाइपर एसिडिटी से राहत पहुंचाने के लिए भी किया जाता है? जी हां, अदरक में वे गुण होते हैं जो पाइलोरी बैक्टीरिया को ट्रिगर करने वाली एसिडिटी को नष्ट करते हैं। साथ ही सूजन को कम करते हैं और मतली को रोकते हैं। ये पेट को ठंडक प्रदान करते हैं।

10. लहसुन भी है फायदेमंद

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि अपच ​की स्थिति में लहसुन एक बेहतरीन प्राकृतिक उपचार है। यह एसिडिटी के लिए एक एंटीडोट के रूप में भी उतना ही प्रभावी है। अगर आपको हाइपर एसिडिटी की समस्या है तो लहसुन का सेवन आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

और पढ़ें: पेट की एसिडिटी को कम करने वाली इस दवा से हो सकता है कैंसर

तो अगर आप हाइपर एसिडिटी की समस्या से परेशान हैं और बिना दवाई के इसे ठीक करना चाहते हैं, तो आप ऊपर बताई गई खाने की चीजों का इस्तेमाल करें। ये चीजें इस समस्या से राहत दिलाने में काफी मदद करती हैं। उम्मीद है आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इस आर्टिकल में हमने आपको हाइपर एसिडिटी से राहत दिलाने के लिए खाने की चीजों के बारे में बताया है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कॉन्स्टिपेशन और बैक पेन! कहीं आपकी परेशानी ये दोनों तो नहीं?

कब्ज के कारण पीठ दर्द की परेशानी क्यों होती है? कब्ज के कारण पीठ दर्द से हैं परेशान, तो जानिए क्या है इसका रामबाण इलाज। Constipation and Back Pain solution in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कब्ज, स्वस्थ पाचन तंत्र February 1, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

जानें पेट की इन तीन समस्याओं में राहत देने वाले योगासन, जो आपको चैन की सांस दे

पेट की समस्या के लिए योगासन (pate ki samasya ke liye yogasan), कब्ज, गैस बनना और पेट फूलने की समस्या को अगर दूर करना है, तो अपनाएं ये योगाासन ( Yoga poses for constipation).

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
कब्ज, स्वस्थ पाचन तंत्र January 31, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें

स्टीमुलेंट लैक्सेटिव या सेलाइन लैक्सेटिव के सेवन से पहले हमें क्या जानना है जरूरी?

स्टीमुलेंट लैक्सेटिव या सेलाइन लैक्सेटिव के सेवन से पहले हमें क्या जानना है जरूरी? Know abot Stimulant laxatives and Saline laxatives in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कब्ज, स्वस्थ पाचन तंत्र January 29, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

कब्ज में परहेज: सारी दिक्कतें हो जाएंगी नौ, दो, ग्यारह!

कब्ज में परहेज करना क्यों जरूरी है और इसका आपकी सेहत पर क्या असर पड़ता है, जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल। साथ ही जानिए कब्ज में क्या खाएं। abstinence in constipation

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कब्ज, स्वस्थ पाचन तंत्र January 28, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

नक्स वोमिका (Nux Vomica)

नक्स वोमिका क्या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 15, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
सर्जरी के बाद कब्ज से कैसे बचें? Constipation after surgery

सर्जरी के बाद हो सकती है एक दूसरी परेशानी जिसका नाम है ‘कब्ज’, जानिए बचने के तरीके

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 5, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
हार्ट बर्न और एसिड रिफलेक्स में क्या अंतर है (Heartburn and acid reflux me anter)

कहीं आप भी हार्ट बर्न और एसिड रिफलेक्स को एक समझने की गलती तो नहीं कर रहे?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 3, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
हार्टबर्न से बचने के उपाय, Heartburn relief

हार्टबर्न को दूर करने के लिए ये उपाय आ सकते हैं काम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 1, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें