backup og meta

गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas): जानिए गैस के लिए सौंफ के बीज के फायदे!

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 09/05/2022

गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas): जानिए गैस के लिए सौंफ के बीज के फायदे!

पेट दर्द, गैस की समस्या, एसिडिटी या पाचनतंत्र से जुड़ी परेशानियां सामान्य होती हैं, लेकिन अगर यही तकलीफ रोजाना होने लगे तो शारीरिक एवं मानसिक तकलीफ बढ़ जाती है। गैस की समस्या को दूर करने के लिए घरेलू उपाय भी किये जा सकते हैं। इसलिए आज इस आर्टिकल में गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas) से जुड़ी जानकारी शेयर करने जा रहें हैं।    

प्रायः सौंफ का सेवन माउथ फ्रेशनर के रूप में किया जाता है। सौंफ का उपयोग मसालों में भी जायका बढ़ाने के लिए किया जाता है। वहीं सौंफ का इस्तेमल पांचन से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है।  

और पढ़ें : Leaky Gut: जानिए लीकी गट डायट प्लान में किन 13 चीजों को शामिल करना चाहिए और किन 9 चीजों से दूरी बनानी चाहिए!

गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas): क्या है रिसर्च रिपोर्ट?

गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas)

गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन लाभकारी माना गया है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोट के अनुसार सौंफ या सौंफ के बीज में एंटीस्पास्मोडिक (Antispasmodic) एवं कार्मिनेटिव (Carminative) प्रॉपर्टीज मौजूद होती है, जो, गैस, इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome) या डायजेस्टिव सिस्टम (Digestive system) से जुड़ी अन्य परेशानियों को दूर करने में सहायक है। रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार पेट दर्द (Stomach pain), पेट फूलना (Bloating), अल्सर (Ulcer), दस्त (Diarrhea) या कब्ज (Constipation) जैसी तकलीफों को भी दूर करने में मददगार है। इसलिए गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas) का सेवन किया जा सकता है।     

और पढ़ें : Nervous Stomach: कहीं नर्वस स्टमक का कारण तनाव तो नहीं? क्यों हो सकता स्टमक नर्वस?

सौंफ कैसे काम करती है? (How to work Fennel seeds)

यह एक औषधि के रूप में काम करता है। इसके लिए अभी ज्यादा अध्ययन मौजूद नहीं है। इससे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए आप किसी अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर से सम्पर्क कर सकते हैं। हालांकि, कुछ अध्ययन में यह स्पष्ट है कि सौंफ कई सारे खतरनाक बैक्टीरिया को मारने का काम करता है, जैसे ऐरोबैक्टर ऐरोजेन्स, बैसिलस सबटिलीस, ई.कोली, प्रोटियास वुल्गार्ली, स्यूडोमोनास ऐरूजिनोसा, स्टैफ्लोकोकस एलबियास और स्टैफ्लोकोकस औरियास आदि। इसके अलावा सौंफ में एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं और यह महिलाओं में एस्ट्रोजन हॉर्मोन को भी बढ़ाता है।

और पढ़ें : IBS-C: इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम और कब्ज का क्या है इलाज?

सौंफ में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व मौजूद हैं? (Fennel Seeds Nutrition)

गैस के लिए सौंफ के बीज (Fennel Seeds for Gas)

सौंफ में निम्नलिखित पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। जैसे:

  • सोडियम
  • कार्बोहाइड्रेट
  • डाइटरी फाइबर
  • प्रोटीन
  • विटामिन-ए
  • विटामिन-सी
  • विटामिन-डी
  • विटामिन-ई
  • विटामिन-के
  • नाइसिन
  • विटामिन-बी6
  • फोलेट
  • विटामिन-बी12
  • पैंटोथेनिक एसिड
  • कैल्शियम
  • आयरन
  • मैग्नीशियम
  • फास्फोरस
  • पोटैशियम
  • सोडियम
  • जिंक
  • कॉपर
  • मैगनीज
  • सेलेनियम

ये सभी पोषक तत्व सेहत के लिए लाभकारी होते हैं, अगर इनका सेवन संतुलित मात्रा एवं नियमित सेवन से लाभ मिल सकता है।

गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन कैसे करें?  (Use of Fennel Seeds for Gas)

सौंफ के पौधे की तुलना में सौंफ के बीजों में तेल की मात्रा ज्यादा होती है। इस कारण से आपको अधिकांश व्यंजनों में केवल एक चम्मच से 1 चम्मच (लगभग 2 से 6 ग्राम) सूखे, साबुत सौंफ का उपयोग ही करना चाहिए। वहीं गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन निम्नलिखित तरहों से किया जा सकता है। जैसे: 

  • गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन करने के लिए सौंफ को पाउडर या दरदरा ग्राइंड कर लें। 
  • सौंफ के बीज से तैयार की गई पाउडर को उबलते हुए पानी में मिक्स करें। ठीक वैसे ही जैसे चाय बनाने के लिए चाय पत्ती मिक्स की जाती है। ऐसे करने से चाय के फ्लेवर को बढ़ाने में मदद मिलती है और गैस की तकलीफ भी दूर होती है। 
  • सौंफ के बीज को हल्के रोस्ट कर खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है, जिसका लाभ गैस या पाचन संबंधी अन्य तकलीफों को दूर करने में किया जाता है। 
  • गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन स्वीट डिश के साथ-साथ बेक की जाने वाली चीजों में भी की जा सकती है। 
  • डायजेशन या अन्य तकलीफों को दूर करने के लिए सौंफ के सप्लिमेंट्स का भी सेवन क्या जा सकता है। 

इन अलग-अलग तरहों से गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन किया जा सकता है।

और पढ़ें : Digestive Health Issues : जानिए क्या है पाचन संबंधी विकार और इससे जुड़ी खास बातें

गैस के लिए सौंफ के बीज के सेवन के साथ ही डायट में क्या शामिल करना चाहिए और क्या नहीं?

गैस के लिए सौंफ के बीज के सेवन करें, लेकिन निम्नलिखित चीजों के सेवन से बचें। जैसे:

  • मसालेदार भोजन (Spicy foods)
  • बींस (Beans)
  • प्याज (Onion)
  • सोडा (Soda)
  • डेयरी प्रोडक्ट (Dairy Product)
  • कैफीन (Caffeine)
  • ओट्स (Oats)
  • फूलगोभी (Flower)
  • शतावरी (Asparagus)
  • गैस की समस्या होने पर इन ऊपर बताई गई चीजों का सेवन ना करें।

    गैस के लिए सौंफ के बीज के सेवन करने के साथ-साथ निम्नलिखित खाने-पीने की चीजों को भी शामिल किया जा सकता है। जैसे:

    गैस की परेशानी कई बार दर्दनाक हो सकती है लेकिन यह खतरनाक नहीं होती है। अगर गैस का दर्द या पेट फूलना आपके लिए समस्या है तो अपनी डायट और जीवनशैली में परिवर्तन कर के आप इससे छुटकारा पा सकते हैं। ज्यादातर मामलों में इन दोनों उपायों की मदद से समस्या को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है।

    गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन किन लोगों को नहीं करना चाहिए?

    गैस के लिए सौंफ के बीज का सेवन निम्नलिखित स्थितियों में नहीं करना चाहिए या डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए। जैसे:

    • ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली महिलाओं को सौंफ का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि नवजात बच्चों की सेहत पर नेगेटिव असर पड़ सकता है।
    • ज्यादा सौंफ के सेवन से स्किन की सेंसिटिविटी बढ़ सकती है। इसलिए सेंसेटिव स्किन वालें लोगों को इसके ज्यादा सेवन से परहेज करना चाहिए।
    • ज्यादा सौंफ का सेवन ना करें इससे एलर्जी का खतरा बना रहता है।
    • अगर आप किसी तरह की दवाओं का सेवन करते हैं, तो सौंफ के सेवन से बचें या पहले डॉक्टर से सलाह लें।
    • अगर आप किसी प्रकार की दवाइयों का सेवन करते हैं, तो आपको सौंंफ का अधिक सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

    इन बातों को ध्यान में रखकर ही सौंफ का सेवन करना चाहिए।

    गैस की समस्या या डायजेस्टिव सिस्टम से जुड़ी कोई भी समस्या अगर आप महसूस करते हैं, तो इसे इग्नोर ना करें। क्योंकि किसी भी बीमारी का इलाज शुरुआती स्टेज में आसानी से किया जा सकता है, लेकिन बीमारी अगर पुरानी या गंभीर होने लगे तो इलाज में भी वक्त लग सकता है। इसलिए गैस की समस्या को भी इग्नोर ना करें और डॉक्टर से कंसल्ट करें।

    स्वस्थ रहने के लिए अपने डेली रूटीन में योगासन शामिल करें। यहां हम आपके साथ योग महत्वपूर्ण जानकारी शेयर कर रहें हैं, जिसकी मदद से आप अपने दिनचर्या में योग को शामिल कर सकते हैं। नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक कर योगासन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जानिए।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 09/05/2022

    advertisement iconadvertisement

    Was this article helpful?

    advertisement iconadvertisement
    advertisement iconadvertisement