home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी में गिरना किस स्टेज में हो सकता है खतरनाक?

प्रेग्नेंसी में गिरना किस स्टेज में हो सकता है खतरनाक?

’10 % महिलाएं गर्भावस्था के दौरान गिर जाती हैं’

सावधानी हटी दुर्घटना घटी… दरअसल हम बात कर रहें हैं गर्भावस्था के दौरान गिरने की। गर्भवस्था के शुरुआत से ही गर्भवती महिला खुद और परिवार के अन्य सदस्य भी सतर्क रहते हैं कि गर्भवती महिला को किसी भी तरह की कोई परेशानी न हो। बेगूसराय (बिहार) की रहने वाली 26 वर्षीय किम्मी पंडित गर्भवती थीं और प्रेग्नेंसी में गिरना उनके लिए बड़ी मुसीबत बन गई। दरअसल गर्भावस्था के आखरी वक्त में चक्कर आने की वजह से किम्मी गिर गईं। ऐसी स्थिति में डिलिवरी भी जल्दी हो गई।

डिलिवरी के बाद पता चला की नवजात को सीने में चोट लग गई है। हालांकि डॉक्टर्स की टीम ने तुरंत बच्चे का इलाज शुरू किया और अब वह हेल्दी है और उसे कोई परेशानी भी नहीं है। वैसे ये सब किम्मी के लिए एक सदमे से कम नहीं था लेकिन, समय रहते डॉक्टर ने मां और शिशु दोनों को स्वस्थ कर दिया।

प्रेग्नेंसी में गिरना गर्भावस्था के किसी भी स्टेज में हो सकता है?

प्रेग्नेंसी सिर्फ बॉडी स्ट्रक्चर को नहीं बल्कि गर्भवती महिला के चलने, उठने-बैठने जैसी अन्य एक्टिविटी पर असर डालता है। इस दौरान शरीर का वजन भी बढ़ता जाता है और बॉडी को बैलेंस करने में परेशानी होती है, जिससे प्रेग्नेंसी में गिरना संभव हो सकता है। Pennstate कॉलेज ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन डेवलपमेंट के अनुसार 4000 गर्भवती महिलाओं में 27 प्रतिशत महिलाएं प्रेग्नेंसी में गिर गईं हैं। हालांकि एमनियॉटिक फ्लूइड के वजह से शिशु गर्भ में सुरक्षित रहता है लेकिन, अत्यधिक दबाव या चोट शिशु को नुकसान पहुंचा सकती है।

और पढ़ें: जानिए क्या है प्रीटर्म डिलिवरी? क्या हैं इसके कारण?

क्या है एमनियॉटिक फ्लूइड?

कोई भी महिला जैसे ही गर्भधारण करती है, यूट्रस में फीटस का निर्माण शुरू हो जाता है। गर्भ में पल रहा फीटस एमनियॉटिक फ्लूइड से पूरी तरह ढ़का हुआ रहता है। इसी एमनियॉटिक फ्लूइड से ही गर्भ में पल रहा भ्रूण पूरी तरह से सुरक्षित रहता है और यहीं से ही शिशु को संपूर्ण पोषण मिलता है। जिससे गर्भ में उसका विकास बेहतर तरीके से हो पाता है। एमनियॉटिक फ्लूइड गर्भवती महिला के शरीर से बनता है और फिर यह शिशु तक पहुंचता है। गर्भधारण के 12 दिनों के बाद ही एमनियॉटिक फ्लूइड बनने लगता है। प्रेग्नेंसी के आधे समय तक एमनियॉटिक फ्लूइड मां के शरीर में मौजूद पानी से बनता है। इसके बाद गर्भ में पल रहे शिशु के यूरिन से एमनियॉटिक फ्लूइड बनने लगता है। एमनियॉटिक फ्लूइड गर्भ में पल रहे शिशु को पोषण प्रदान करने के साथ-साथ उसे बाहरी चोट से भी बचाता है।

और पढ़ें : इन वजह से बच्चों का वजन होता है कम, ऐसे करें देखभाल

प्रेग्नेंसी में गिरना किस तरह की परेशानियों में डाल सकता है?

प्रेग्नेंसी में गिरना यूट्रस पर नकारात्मक असर नहीं डाल सकता है लेकिन, अगर चोट तेज लगी हो तो इससे परेशानी हो सकती है। जैसे-

तकरीबन 10 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं को प्रेग्नेंसी में गिरना उन्हें परेशानी में डाल देता है और उन्हें इलाज की जरूरत पड़ती है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के पहले ट्राइमेस्टर में व्यायाम करें या नहीं?

डॉक्टर से कब मिलें?

अगर हल्की-फुल्की चोट लगी है, तो परेशान होने की जरूरत नहीं है लेकिन, चोट तेज लगी है डॉक्टर से जल्द से जल्द मिलना जरूरी है। जैसे-

  • वजायनल ब्लीडिंग होने पर डॉक्टर से जल्द से जल्द संपर्क करें
  • एमनीओटिक फ्लूइड का वजायना से आना या वजायना से किसी तरल पदार्थ का निकलना
  • किस कारण पेल्विस, पेट और यूट्रस में दर्द महसूस होना
  • बेबी का मूवमेंट महसूस नहीं कर पाना

ऊपर बताई गई परेशानियों के साथ-साथ अन्य परेशानी होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रेग्नेंसी में गिरना गर्भवती महिला के लिए परेशानी है, ऐसे में इस समस्या से कैसे बचें?

कोई भी व्यक्ति सोच-समझकर नहीं गिरता है लेकिन, इससे बचा जा सकता है। इसलिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें-

  • दरअसल गर्भावस्था के दौरान शरीर का वजन बढ़ जाता है ऐसे में चलने के वक्त खास ध्यान रखना चाहिए। कभी-कभी शरीर का संतुलन बिगड़ने के कारण भी गर्भवती महिला गिर जाती हैं।
  • पानी या कोई तरल पदार्थ जहां गिरा हो वहां पर न जाएं। स्नान करने के दौरान या बाथरूम यूज करने के दौरान सतर्क रहें।
  • कंफर्टेबल जूते या सैंडल पहने। प्रेग्नेंसी में हील या प्लेटफॉर्म हील कभी-भी नहीं पहनें। इसलिए अच्छी क्वॉलिटी, सही साइज और बिना हील वाले जूते का चयन करें।
  • अगर प्रेग्नेंसी में शरीर का वजन ज्यादा बढ़ गया है, तो किसी के सहारे से चलें। यह ध्यान रखें की आराम से उठें और बैठें।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान भारी वजन न उठाएं।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान समतल सतह पर चलें। अगर आप वॉक पर जाती हैं, तो समतल जगहों पर ही चलें।

इन सभी के साथ ऐसी कोई भी फिजिकल एक्टिविटी न करें जिससे गिरने का खतरा हो।

और पढ़ें : गर्भावस्था में ओरल केयर न की गई तो शिशु को हो सकता है नुकसान

प्रेग्नेंसी के दौरान डॉक्टर से समय-समय पर मिलते रहें। इससे आपका शिशु गर्भ में कितना फिट है इसकी जानकारी मिलती रहेंगी और अगर कोई कमी या परेशानी है तो उसका इलाज भी किया जा सकता है। प्रेग्नेंसी में गिरना इस बारे में जब हमने पुणे की रहने वाली 31 साल की सुषमा गौरव से पूछा तो उनका कहना है कि ‘जब मैं गर्भवती थीं तो मैं गिरी नहीं थी लेकिन, मुझे चक्कर आने की परेशानी ज्यादा होती थी। ऐसे में मुझे इस बात का डर लगने लगा की मैं कहीं गिर न जाऊं। मैंने अपनी परेशानी डॉक्टर को बताई तो उन्होंने मुझे कहा की मैं अपने मन से गिरने की बात निकाल दूं और अपने आहार पर और अपने आपको व्यस्त रखें। मुझे चक्कर आने की परेशानी भी कुछ महीनों में ठीक हो गई।’

गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान अपने आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। गर्भवती महिला को अपने आहार में खास तौर से हरी सब्जियां, साग, मौसमी फल, साबुत अनाज, अंकुरित अनाज, दूध, दही, अंडें या पनीर का सेवन करना चाहिए। गर्भवती महिला को गर्भवस्था के दौरान वर्कआउट या योगा भी करना चाहिए। हालांकि इस दौरान यह ध्यान रखें की आप किस फिटनेस एक्सपर्ट या योगा एक्सपर्ट की निगरानी में रहें। अगर गर्भवती महिला एक्सरसाइज या योगा करती हैं, तो शुरू करने के पहले अपने हेल्थ एक्सपर्ट से एक बार अवश्य सलाह लेलें।

हमें उम्मीद है कि यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। अगर आप प्रेग्नेंसी में गिरना या गर्भावस्था के दौरान से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Fear of Falling: Understanding Pregnant Women’s Changing Gaits/https://hhd.psu.edu/kines/fear-falling-understanding-pregnant-womens-changing-gaits/Accessed on 06/02/2020

I’m pregnant and recently fell. Should I be worried?/https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/pregnancy-week-by-week/expert-answers/fall-during-pregnancy/faq-20119023/Accessed on 06/02/2020

Women’s perspectives on falls and fall prevention during pregnancy./https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/25137078/Accessed on 06/02/2020

Pregnancy Precautions: FAQs/https://kidshealth.org/en/parents/pregnancy-precautions.html/Accessed on 06/02/2020

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 23/11/2019
x