सेकेंड प्रेग्नेंसी प्लानिंग में क्या होती है अलग बात?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट दिसम्बर 26, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

पहले बच्चे को लेकर मां के मन में अधिक उत्सुकता रहती है। वहीं, सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान मां की जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं। पहली प्रेग्नेंसी में महिलाओं को सिर्फ अपना और गर्भ में पल रहे बच्चे का ध्यान रखना होता है। वहीं सेकेंड बेबी के दौरान महिला को पहले बच्चे की ओर भी ध्यान देना पड़ता है। एक महिला अगर दो से तीन बच्चों को जन्म देती है तो उसका एक्सपीरियंस हर बार अलग भी हो सकता है। दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को शरीर में कुछ अलग बदलाव दिख सकते हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान क्या बदलाव होते हैं और सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान मां क्या महसूस करती है।

यह भी पढ़ें : परिवार बढ़ाने के लिए उम्र क्यों मायने रखती है?

सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान क्या दिखते हैं बदलाव

सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं का पेट जल्दी बढ़ जाता है। पहली प्रेग्नेंसी के दौरान ही महिला के पेट की मसल्स बढ़ चुकी होती है। दूसरी प्रेग्नेंसी में चौथे से पांचवें महीने में ही पेट बड़ा दिखने लगता है। दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान बेबी का किक भी आपको जल्द ही महसूस हो जाता है। पहली प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं मूमेंट को ठीक तरह से नहीं पहचान पाती हैं।

सेकेंड प्रेग्नेंसी से पहले चेकअप है जरूरी

ज्यादातर महिलाएं पहली प्रेग्नेंसी के बाद ही चेकअप कराती हैं। आपको दूसरी प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले चेकअप जरूर करा लेना चाहिए। पहली प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं को अक्सर थायरॉइड की समस्या रहती है। अगर आप पहले से चेकअप करा लेंगी तो डॉक्टर थाइरॉइड को बैलेंस करने के लिए दवा देगा। वहीं अन्य बीमारियों के बारे में पता लगने पर उसका उपचार किया जा सकता है। ऐसा करने से होने वाले बच्चे में किसी भी प्रकार का बुरा असर नहीं पड़ेगा।

यह भी पढ़ें : क्या 50 की उम्र में भी महिलाएं कर सकती हैं गर्भधारण?

सेकेंड प्रेग्नेंसी में ज्यादा थकावट हो सकती है महसूस

आप सोच रही होंगी कि ऐसा क्यों होता है? जब पहली प्रेग्नेंसी थी तो आपके पास कोई खास जिम्मेदारी नहीं थी। सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान आपको अपने छोटे बच्चे का ख्याल रखने की भी जिम्मेदारी होती है। अपना ठीक से ख्याल न रख पाने के कारण महिलाएं जल्दी थकावट महसूस करने लगती हैं। दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान आपको ब्रास्टन हिक्स ( Braxton Hicks ) फील हो सकते हैं। ब्रास्टन हिक्स के दौरान महिलाओं को फॉल्स लेबर  या दर्द जैसा महसूस हो सकता है। आपको लगेगा कि लेबर पेन शुरू होने वाला है, लेकिन ऐसा होगा नहीं। आपको हिप्स में और बेबी बंप में खिंचाव महसूस हो सकता है।

यह भी पढ़ें : हनीमून के बाद बेबीमून, इन जरूरी बातों का ध्यान रखकर इसे बनाएं यादगार

पहले बेबी के लिए भी निकालना पड़ेगा समय

एक मां दूसरे बच्चे के लिए पहले बच्चे को इग्नोर नहीं कर सकती है। यही आपके साथ भी होगा। दूसरे बच्चे की प्रेग्नेंसी के दौरान आपको पहले बच्चे को भी पूरा समय देना पड़ेगा। आप बच्चे के साथ रीडिंग कर सकती हैं। उसके साथ पार्क में खेलने जा सकती हैं। अगर आप अचानक से पहले बच्चे पर ध्यान देना बंद कर देती हैं तो वो बुरा फील करेगा साथ ही आने वाले बच्चे के लिए भी उसके मन में बुरी भावनाएं आ सकती हैं। हो सकता है कि वो अकेलापन महसूस करें।

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले इंफेक्शन हो सकते हैं खतरनाक, न करें इग्नोर

हो सकता है जल्दी लेबर

दूसरी प्रेग्नेंसी में आपको पहले से ही कई बातों की जानकारी होती है। हो सकता है कि घर-परिवार में आपका ज्यादा ख्याल अब न रखा जा रहा हो। आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान घर में भी सबको पता होता है कि आप पहले से अधिक सजग हैं। प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में आपको लेबर पेन होने की जल्दी संभावना है। दूसरी प्रेग्नेंसी के आखिरी महीने में आपको सजग रहने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें : हेल्थ इंश्योरेंस से पर्याप्त स्पेस तक प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी है इस तरह की फाइनेंशियल प्लानिंग

दोनों बच्चों के लिए करनी होगी पहले से प्लानिंग

दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान आपको दोहरी जिम्मेदारी उठानी पड़ सकती है। आने वाले बच्चे के लिए शॉपिंग के साथ ही आपको पहले बच्चे के लिए तैयारी करनी पड़ेगी। जब दूसरा बच्चा पैदा होगा तो पहले बच्चे की देखरेख करने वाला भी कोई होना चाहिए। साथ ही जितने समय तक आप ठीक से चलने की स्थिति में नहीं हो जाती हैं, तब तक दूसरे बच्चे की जिम्मेदारी किसी भरोसेमंद को देना बेहतर रहेगा।

सेकेंड प्रेग्नेंसी में हुआ था अचानक से लेबर पेन

मुंबई की रहने वाली स्वाती अवस्थी हाउसवाइफ हैं। अपनी सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान के कुछ किस्सों को याद करते हुए कहती हैं कि, ‘सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान मेरे मन में डर कम हो गया था। पहली बार जब मां बनी थी तो मन में बहुत सवाल थे कि सब कुछ कैसे मैनेज होगा। पहली प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे लेबर पेन नहीं हुआ था। ड्यू डेट के बाद मुझे डॉक्टर के पास जाना पड़ा था। सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे नौवें महीने की शुरुआत में अचानक से दर्द शुरू हो गया। ये मेरे लिए नया एक्सपीरियंस था। साथ ही सेकेंड प्रेग्नेंसी में मुझे ज्यादा दिक्कत का एहसास नहीं हुआ क्योंकि मुझे पता था कि शरीर में किस तरह के परिवर्तन हो सकते हैं। मेरी दोनों डिलिवरी सी-सेक्शन के माध्यम से हुई हैं। डिलिवरी के बाद का दर्द लगभग समान ही था।’

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले इंफेक्शन हो सकते हैं खतरनाक, न करें इग्नोर

सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान बढ़ जाती है जिम्मेदारी

अपनी सेकेंड प्रेग्नेंसी के दिनों को याद करते हुए कानपुर की शशि शुक्ला कहती हैं कि, ‘सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली मां कई बातों के प्रति अवेयर रहती है, लेकिन सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान जिम्मेदारियां बढ़ जाती हैं। मेरा तीन साल का लड़का था जब मैं दोबारा प्रेग्नेंट हुई। सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान पहले बच्चे का भी पूरा ध्यान रखना पड़ता है। खुद का ध्यान और बच्चे का ध्यान रखते हुए थकावट भी ज्यादा महसूस होती है। सेकेंड डिलिवरी के वक्त मुझे कम दर्द का एहसास हुआ था। मेरे दोनों बच्चे नॉर्मल डिलिवरी से ही पैदा हुए हैं।’

यह भी पढ़ें : हेल्थ इंश्योरेंस से पर्याप्त स्पेस तक प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी है इस तरह की फाइनेंशियल प्लानिंग

पहले बच्चे को करना पड़ा तैयार

मुंबई की रहने वाली वर्किंग मॉम देवयानी अपने सेकेंड बेबी का एक्सपीरियंस शेयर करते हुए कहती हैं कि, ‘वर्किंग होने की वजह से मैंने सेकेंड बेबी के लिए थोड़ा लेट सोचा। तब मेरा पहला बच्चा पांच साल का था। प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे उसे इस बात के लिए तैयार करना पड़ा कि उसके साथ अब एक बेबी भी रहेगा। पहले उसे इन बातों को लेकर अजीब महसूस होता था और वो अपनी चीजें भी शेयर नहीं करना चाहता था। सेकेंड प्रेग्नेंसी के दौरान मुझे चिंता ज्यादा थी। बाद में सब कुछ ठीक हो गया। मुझे पहला बच्चा सी-सेक्शन से हुआ था लेकिन दूसरा बच्चा नॉर्मल हुआ। मेरे लिए दूसरी प्रेग्नेंसी कम दर्दनाक थी।’

सेकेंड प्रेग्नेंसी से पहले अपनी आर्थिक स्थिति का ख्याल, घर का माहौल और शरीरिक जांच बहुत जरूरी है। दो बच्चों में तीन साल अंतर रखना बेहतर रहेगा। जब भी सेकेंड प्रेग्नेंसी प्लान करें, एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें 

5 फूड्स जो लेबर पेन को एक्साइट करने का काम करते हैं

 हनीमून के बाद बेबीमून, इन जरूरी बातों का ध्यान रखकर इसे बनाएं यादगार

क्या होता है मल्टीग्रेविडा और प्रेग्नेंसी से कैसे जुड़ा है?

इस तरह फर्टिलिटी में मदद करती है ICSI आईवीएफ प्रक्रिया, पढ़ें डीटेल

 प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    सरोगेट मां का ध्यान रखना है जरूरी ताकि प्रेग्नेंसी में न आए कोई परेशानी

    सरोगेट मां का ध्यान कैसे रखें in hindi. हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए सामान्य गर्भवती महिला की तरह ही सरोगेट मां का ध्यान रखा जाना भी जरूरी है। सरोगेट मां का ध्यान कैसे रखा जा सकता है जानिए यहां।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    गर्भावस्था में मतली से राहत दिला सकते हैं 7 घरेलू उपचार

    गर्भावस्था के दौरान होने वाली मतली के घरेलू उपचार.. आंवला से भगाएं गर्भावस्था में होने वाले मतली को.. और बेहतर गर्भावस्था मतली के उपचार के लिए पढ़ें..

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जनवरी 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    डिलिवरी बैग चेकलिस्ट जिसे हर डैड टू बी को जानना चाहिए

    डिलिवरी बैग चेकलिस्ट in hindi. डिलिवरी बैग में किन चीजों को रखना है ये आपको ये आर्टिकल पढ़कर समझ आ जाएगा। हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि डिलिवरी का समय चुनौतिपूर्ण होता है। अगर आप डिलिवरी बैग चेकलिस्ट रखते हैं तो आपको काफी चीजों में आसानी होगी। delivery bag checklist

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी जनवरी 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    कोउवाडे सिंड्रोम क्या है, पिता पर क्या पड़ता है असर?

    कोउवाडे सिंड्रोम की जानकारी in hindi. सिंपथेटिक प्रेग्नेंसी या कोउवाडे सिंड्रोम ऐसी अवस्था है जिसमें पुरुष बच्चा होने के लक्षणों को महसूस करता है। इस आर्टिकल में जानिए इस सिंड्रोम के लक्षण और यह फॉल्स प्रेग्नेंसी से कितना अलग है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    एक्टर आमिर खान बर्थडे-Aamir khan

    एक्टर आमिर खान बर्थडे स्पेशल : क्या आप पर भी कहानियों का जल्दी पड़ता है असर?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
    प्रकाशित हुआ मार्च 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    forceps delivery guideline,फॉरसेप्स डिलिवरी गाइडलाइन

    फॉरसेप्स डिलिवरी गाइडलाइन: क्यों जानना है जरूरी?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ जनवरी 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    कॉर्ड ब्लड

    कॉर्ड ब्लड टेस्ट क्या है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    प्रकाशित हुआ जनवरी 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    नॉर्मल और सिजेरियन डिलिवरी

    नॉर्मल डिलिवरी और सिजेरियन डिलिवरी में क्या अंतर है?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    प्रकाशित हुआ जनवरी 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें