home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

नहीं रखी सावधानी, तो ओरल कॉन्ट्रासेप्शन पहुंचा सकती हैं नुकसान

नहीं रखी सावधानी, तो ओरल कॉन्ट्रासेप्शन पहुंचा सकती हैं नुकसान

बर्थ कंट्रोल पिल्स का इस्तेमाल अनचाहे गर्भ से छुटकारा पाने के लिए किया जाता है। अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने के लिए कई तरह के उपाय अपनाएं जाते हैं। ओरल कॉन्ट्रासेप्शन या बर्थ कंट्रोल पिल्स ऐसी मेडिसिंस होती है, जो मुंह से ली जाती है और प्रेग्नेंसी से बचाने में मदद करती हैं। इसे अनचाहे गर्भ से छुटकारा पाने का प्रभावी तरीका भी माना जाता है। जिस तरह से दवाओं के सेवन से शरीर को लाभ पहुंचता है, वहीं ये साइडइफेक्ट्स का कारण भी बन सकती हैं। ठीक उसी प्रकार ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) भले ही प्रभावी होती है लेकिन ये शरीर के लिए समस्या भी खड़ी कर सकती हैं। ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) अलग प्रकार की हो सकती हैं। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) के बारे में अहम जानकारी देने जा रहे हैं।

और पढ़ें: गर्भनिरोधक दवाइयों से हो सकता है कैंसर, कहीं आप तो नहीं करती भरोसा गर्भनिरोधक से जुड़े मिथ पर

जानिए ओरल कॉन्ट्रासेप्शन के प्रकार (Types of oral contraception pills)

Types of birth control pills

ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) दवाइयों का ऐसा संयोजन है, जिनमें हॉर्मोन की निश्चित मात्रा होती है और ये गर्भ को ठहरने से रोकती है। दवाइयों का कॉम्बिनेशन अलग हो सकता है। जरूरत के हिसाब से डॉक्टर आपको पिल्स का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं।

कॉम्बिनेशन पिल्स (Combination pills)

कॉम्बिनेशन पिल्स में एस्ट्रोजन (Estrogen) और प्रोजेस्ट्रॉन (Progestin) हॉर्मोन के सिंथेटिक फॉम का इस्तेमाल किया जाता है। कुछ ऐसी पिल्स भी होती हैं, जो इनेक्टिव रहती हैं। ऐसी पिल्स में हॉर्मोन नहीं होता है। कुछ पिल्स जैसे कि मोनोफैसिक पिल्स (Monophasic pills), मल्टीफैसिक पिल्स (Multiphasic pills) और एक्सटेंडेड सायकल पिल्स। इन पिल्स का सेवन करने से हर महीने महिला को पीरियड्स होते हैं और गर्भ नहीं ठहरता है।

और पढ़ें: जानिए गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल कैसे किया जाता है

प्रोजेस्टिन ऑनली पिल्स (Progestin-only pills)

प्रोजेस्टिन ऑनली पिल्स (Progestin-only pills) में एस्ट्रोजन नहीं होता है जबकि प्रोजेस्टिन उपस्थित होता है। इन दवाओं को मिनिपिल भी कहा जाता है। ये पिल्स एक्टिव होती हैं। जो महिलाएं हेल्थ रीजन या फिर अन्य कारण से एस्ट्रोजन का सेवन नहीं कर पाती हैं, उनके लिए अच्छा विकल्प साबित होती हैं।

अगर ये कहा जाए कि सभी ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) महिलाओं के लिए उपयुक्त होते हैं, तो ये गलत होगा। ऐसे कई फैक्टर्स होते हैं, जिनके आधार पर दवाओं का निर्धारण किया जा सकता है। महिलाओं की माहवारी के लक्षण, महिला ब्रेस्टफीड करा रही है या फिर उसकी कॉर्डियोवस्कुलर हेल्थ, क्रॉनिक हेल्थ कंडीशन (Chronic health condition) और अगर महिला किसी दवा का सेवन पहले से कर रही है, तो इस बात का ध्यान भी रखा जाता है।

ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) कैसे करती हैं काम?

ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception)का काम एक जैसा नहीं होता है। कुछ बर्थ कंट्रोल पिल्स जहां एक ओर ऑव्युलेशन ( ovulation) के काम को रोकने का काम करती हैं वहीं कुछ पिल्स सर्वाइकल म्युकस को मोटा करने का काम करती हैं। जब दवा ऑव्युलेशन के काम को रोकती हैं, तो ओवरी हर महीने एग रिलीज नहीं करती हैं। वहीं जब सर्वाइकल म्युकस मोटा होता है, तो स्पर्म आसानी से यूट्रस में ट्रेवल नहीं कर पाता है और फर्टिलाइजेशन की प्रोसेस पूरी नहीं हो पाती है। प्रोजेस्टिन ऑनली पिल्स सर्वाइकल म्युकस मोटा करने के साथ ही एंडोमिट्रियम ( Endometrium) को भी थिक करती हैं। एंडोमिट्रियम यूट्रस की लाइनिंग होती है, जहां एग फर्टिलाइज होने के बाद इम्प्लांट होता है।एंडोमिट्रियम थिक होने से एग इम्प्लांट नहीं हो पाता है और प्रेग्नेंसी से बचने में हेल्प मिलती है। प्रोजेस्टिन ऑनली पिल्स ओव्युलेशन को रोकने का काम करती हैं।

और पढ़ें:गर्भनिरोधक दवा से शिशु को हो सकती है सांस की परेशानी, और भी हैं नुकसान

ऐसे करें ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) का इस्तेमाल

ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception)का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर से परामर्श जरूर करना चाहिए। ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) कई वैराइटी में आती हैं। ये मंथली पैक के साथ ही 21 दिनों, 24 दिनों फिर 28 दिनों के पैक में आती हैं। प्रत्येक दिन में एक गोली का सेवन करना होता है। प्रोजेस्टिन-ओनली पिल्स के एक पैक में 28 गोलियां होती हैं। आपको रोजाना एक गोली का सेवन बिना भूले करना होता है। अगर ये सही समय पर रोजाना ली जाए, तो इन बर्थ कंट्रोल पिल्स का असर देखने को मिलता है। आप पीरियड्स के 5वें दिन से ओरल कॉन्ट्रासेप्शन लेना शुरू कर सकते हैं। अगर आप गोलियां लेना देर से शुरू करना चाहती हैं, तब तक कॉन्डोम का इस्तेमाल सुरक्षित रहेगा।

असरदार होती हैं बर्थ कंट्रोल पिल्स (Birth control pills)

ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) या बर्थ कंट्रोल पिल्स को अगर आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार लेते हैं, तो ये असरदार होती हैं। सीडीसी की मानें तो कॉम्बिनेशन पिल्स और प्रोजेस्टिन पिल्स में केवल नौ प्रतिशत का रिस्क होता है यानी इसका फेलियर रेट ज्यादा नहीं है। अगर आप रोजाना दवाओं का सेवन सही समय पर करेंगे, तो इसका प्रभाव अधिक बढ़ जाता है। कुछ दवाओं जैसे कि एंटीबायोटिक, एआईवी की दवाओं, एंटीसीजर्स की दवाओं के सेवन से पिल्स का प्रभाव कम हो सकता है। आपको इस बारे में डॉक्टर से जरूर पूछना चाहिए। कॉम्बिनेशन पिल्स लेने से इन समस्याओं में राहत मिल सकती हैं।

  • एक्ने (Acne)
  • एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (Ectopic pregnancy)
  • थिनिंग बोंस (Thinning bones)
  • नॉन कैंसरस ब्रेस्ट ग्रोथ ( Non-cancerous breast growths)
  • एंडोमैट्रियल एंड ओवेरियन कैंसर (Endometrial and ovarian cancer)
  • एनीमिया (Anemia)
  • हैवी पीरियड्स (Heavy periods)
  • मेंट्रुअल क्रैम्प्स (Severe menstrual cramps)

और पढ़ें: क्या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान गर्भनिरोधक दवा ले सकते हैं?

बर्थ कंट्रोल पिल्स का इस्तेमाल करने से अनचाहे गर्भ से छुटकारा मिलने के साथ ही नई माओं को सुरक्षा भी प्रदान होती है। ये दवाएं हॉर्मोन इम्बैलेंस को ठीक करने का काम भी करती हैं। जिन महिलाओं को समय पर पीरियड्स नहीं आते हैं, उन पर भी इन पिल्स का पॉजिटिव इफेक्ट देखने को मिलता है। अगर आप डॉक्टर से पूरी जानकारी लेने के बाद इसका इस्तेमाल करेंगे, तो बेहतर होगा। आप चाहे तो किसी प्रकार उलझन या समस्या होने पर डॉक्टर से समय समय पर परामर्श भी कर सकती हैं।

गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन करने से हो सकता है नुकसान? (Side effects of Contraceptive Pills)

गर्भनिरोधक दवाओं का सेवन करने से सभी महिलाओं को नुकसान होगा, ये कहना मुश्किल है लेकिन कुछ महिलाओं में इन दवाओं के दुष्प्रभाव भी देखने को मिलते हैं। दवा का सेवन करने के बाद जी मिचलाने, हेडएक, वेट का बढ़ना, मूड में बार-बार बदलाव, पीरियड्स का हैवी होना (Heavy Periods ), वजायना से अधिक डिस्चार्ज (Excess discharge) आदि समस्याएं देखने को मिल सकती हैं। अगर आपको किसी प्रकार की हेल्थ कंडीशन है, तो बिना डॉक्टर से सलाह किए आपको ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) का सेवन नहीं करना चाहिए। ये दवाएं सेक्स ड्राइव में कमी (Decreased sex drive), स्तनों में भारीपन और कई बार ब्लड क्लॉट की समस्या (Blood clotting problem) भी खड़ी कर सकती हैं। वैसे तो इसका रिस्क कम रहता है लेकिन ये कुछ महिलाओं पर बुरा प्रभाव छोड़ सकती हैं। जिन महिलाओं का वजन अधिक रहता है या फिर हाय ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है, उन्हें डॉक्टर से दवा के सेवन से पहले जानकारी जरूर लेनी चाहिए।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ओरल कॉन्ट्रासेप्शन (Oral contraception) या बर्थ कंट्रोल पिल्स के बारे में जानकारी मिल गई होगी। बिना सलाह के बर्थ कंट्रोल पिल्स का सेवन आपको नुकसान पहुंचा सकता है। आप स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

(Accessed on 22/4/2021)

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 2 weeks ago
x