home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जान लीजिए क्या होते हैं ओपन रिलेशनशिप के फायदे और नुकसान

जान लीजिए क्या होते हैं ओपन रिलेशनशिप के फायदे और नुकसान

आजकल वेब सीरीज और फिल्मों में ओपन रिलेशनशिप पर काफी जोर दिया जा रहा है। ओपन रिलेशनशिप यानी कि एक ऐसा रिश्ता जिसमें दोनों पार्टनर या दोनों में से कोई एक किसी और के साथ भी रिलेशन में रहता है। साथ ही इस रिश्ते में रहने वाले कपल्स को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उनका पार्टनर लॉयल रहे। इस तरह के रिलेशनशिप में रहने वाले लोगों का मानना होता है कि इस तरह के रिलेशनशिप में एक ईमानदारी और स्वच्छंदता होती है। इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि ओपन रिलेशनशिप क्या है, इसके फायदे और नुकसान क्या है?

ओपन रिलेशनशिप क्या है?

विदेशों की तर्ज पर ओपन रिलेशनशिप धीरे-धीरे भारतीय समाज में भी पैर पसार रहा है। लोगों का मानना है कि इस तरह का रिलेशनशिप आजकल के लाइफ स्‍टाइल और फैशन की मांग है। इस रिलेशनशिप में दो लोग प्रेम संबंधों में रहते हैं, लेकिन दोनों में से कोई पार्टनर अगर चाहे तो किसी अन्य के साथ संबंध बना सकते हैं।

इस तरह के संबंधों में रहने वाले कई लोगों का कहना है कि उन्‍हें रिश्तों में स्वच्छंदता पसंद है, लेकिन भारत में आज भी इस तरह के रिश्ते को समाज स्वीकारता नहीं है। शादी के बाद बनने बाद इन संबंधों को भारत में विवाहेत्तर संबंध या एक्सट्रा मैरिटल अफेयर कहते हैं। इस तरह के संबंधों को भारतीय समाज अवैध करार देता है। हालांकि, भारतीय कानून के हिसाब से एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर कोई अपराध नहीं है। दो वयस्क लोग अपनी रजामंदी से एक-दूसरे के साथ रह सकते हैं।

और पढ़ेंः डिप्रेशन में डेटिंग के टिप्सः डिप्रेशन का हैं शिकार तो ऐसे ढूंढ़ें डेटिंग पार्टनर

ओपन रिलेशनशिप के फायदे क्या हैं?

ओपन रिलेशनशिप एक ऐसा रिश्ता है, जिसमें किसी को भी अपने पार्टनर के अन्य अफेयर से कोई प्रॉब्लम नहीं होती है, लेकिन शर्त यही होती है कि आपको अपने सभी पार्टनर के प्रति ईमानदार होना पड़ेगा। इस रिलेशनशिप के फायदे निम्न हैं :

मोनोगैमस से आगे की बात है ओपन रिलेशनशिप

मोनोगैमस यानी कि सिर्फ एक व्यक्ति के साथ रिलेशनशिप में रहना, लेकिन आधुनिक समाज में लोग मोनोगैमस रहना पसंद नहीं करते हैं। ऐसे में वो एक से अधिक लोगों के साथ रिलेशनशिप में रहने की आजादी चाहते हैं। ओपन रिलेशनशिप उनकी इस इच्छा की पूर्ति करता है।

और पढ़ेंः सेक्स के दौरान पुरुषों की ये 5 गलतियां पार्टनर का कर देती हैं मूड खराब

रिश्ते में ईमानदारी आती है

यूं तो एक्सट्रामैरिटल अफेयर हर कोई अपनी पार्टनर से छुपाता है, लेकिन अगर दो लोग ओपन रिलेशनशिप में रहने के लिए सहमत होते हैं तो अपने सभी रिलेशनशिप के लिए वो ईमानदार होते हैं। इसमें दोनों या तीनों व्यक्तियों की म्यूचुअल अंडरस्टेंडिंग होती है। इसमें वो भावनात्मक होने के साथ-साथ प्रैक्टिकल भी होते हैं।

खुद को दो लोगों के लिए एक्सप्रेस करने की आजादी

ओपन रिलेशनशिप में उत्साह, रोमांच होता है, जिसे आजकल के युवा जीना चाहते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपका साथी आपकी सभी जरूरतों को पूरा कर सकता है या आपकी इंटेमेसी का लेवल कम हो गया है, तो एक ओपन रिलेशन आपको अन्य विकल्पों में आगे बढ़ाने की अनुमति देता है। वहीं, आप अपने पहले पार्टनर के प्रति वहीं फीलिंग रखते हैं।

और पढ़ें : ‘लड़की 28 की हो गई’ क्या ऐसा सुनकर लेना चाहिए शादी का फैसला?

ओपन रिलेशनशिप के नुकसान क्या हैं?

ओपन रिलेशनशिप के फायदे से ज्यादा नुकसान है। इससे लोगों के घर में क्लेश होता है। यहां तक कि ये रिलेशनशिप लोगों को डिप्रेशन, सुसाइड और क्राइम की तरफ भी ले कर जाते हैं। ओपन रिलेशनशिप के नुकसान निम्न हैं :

जलन की बनती है वजह

जलन होना इंसान की प्रवृत्ति है। जहां प्यार होता है, वहां जलन खुद बखुद हो जाती है। जब एक रिलेशन में रहने वाले लोग एक्स्ट्रामैरिटल अफेयर करते हैं तो वे अपने पति या पत्नी के किसी और के साथ संबंध होने पर जलन महसूस करते हैं। ये जलन लोगों को क्राइम करने पर मजबूर करती है। क्योंकि जब कोई किसी से प्यार करता है तो वह अपने पार्टनर को किसी और के साथ संबंध बनाते हुए नहीं देख सकता है। इसके लिए वह घरेलू हिंसा या सुसाइड कर लेता है। किसी न किसी तरीके से खुद को या अपने पार्टनर को हर्ट करते हैं।

बेईमानी की राह पर ले जाता है

इस तरह के रिलेशनशिप में लोग अपने पति या पत्नी को धोखा देते हैं। वे अपने रिश्ते और अपने पार्टनर के प्रति बेईमानी करते हैं। इसके पीछे की वजह ये होती है कि या तो वो सेक्शुअल और इमोशनल सेटिस्फाइड नहीं हो पाते हैं या नहीं कर पाते हैं। जिसके कारण वे अपने पार्टनर को धोखा देते हैं ओर रिश्ते को बर्बाद करते हैं। अगर आपका पार्टनर धोखा देता है तो ऐसे जानें :

  • धोखा दे रहे साथी के व्यवहार में यह सबसे ज्यादा देखने को मिलता है कि, वो अपने फोन और कंप्यूटर का उपयोग पहले की तुलना में अधिक करने लगता है और पहले की तुलना में अपने फोन की ज्यादा रक्षा करते हैं जैसे कि उनका जीवन इसी पर निर्भर करता है। यदि आपके साथी के फोन और लैपटॉप में पहले कभी पासवर्ड नहीं था, पर अब वह अपना फोन और लैपटॉप को पासवर्ड प्रोटेक्टेड रखते हैं तो यह अच्छा संकेत नहीं है।
  • यदि आपका साथी आपके कॉल का जवाब नहीं देता, अनरीचेबल हो जाता है या आपके टेक्स्ट मैसेज के जावब नहीं देता तो ऐसी संभावना बढ़ जाती है कि वह आपको धोखा दे रहा है। आपको ऐसे बहाने भी सुनने को मिल सकते हैं जैसे वो एक मीटिंग में था या वो गाड़ी चला रहा था आदि।
  • आपके रिश्ते में सेक्स में कमी आना धोखा देना के संकेत हो सकते हैं। आपके रिश्ते में सेक्स की कमी इसलिए भी हो सकती है क्योंकि आपके साथी का ध्यान किसी और पर केंद्रित है। धोखा देने का एक और संभावित संकेत यह है कि आप और आपका साथी जो सेक्स कर रहे हैं उसमें कोई भावनात्मक जुड़ाव नहीं हैं।
  • अगर आपका साथी हर गलती का दोष आप पर लगाए, आपकी पसंद को नकारे या आपको अपने योग्य न बताएं तो यह सारी बातें इस बात की तरफ इशारा करती हैं कि आपका साथी आपको नापसंद करने लगा है। ये वजह धोखा देने के लिए पर्याप्त है।

और पढ़ें : सेक्स और महिलाओं से जुड़े मिथक और उनकी सच्चाई

ओपन रिलेशनशिप में इन बाताें कर रखें ध्यान?

ओपन रिलेशनशिप के बारे में अगर आप जान गए हैं और आपको उसे अपनाना हो तो निम्न बातें आपकी मदद कर सकती हैं :

  • सेक्स के प्रति सीमाएं तय करें। इससे आपको सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डिजीज होने का खतरा कम हो जाता है। इसलिए आपस में तय करें कि आपको किसके साथ कैसे सेक्स करना है। जिससे आप दोनों के प्रति ईमानदार रहें।
  • अपनी भावनात्मक सीमाएं तय करें। कई बार भावना में बह कर हम घर में क्लेश कर देते हैं। जिससे सभी को नुकसान हो सकता है।
  • आपको दोनों पार्टनर के साथ समय निर्धारित करना होगा। अगर आप किसी भी तरह से एक को ज्यादा समय और दूसरे को कम समय दे रहे हैं तो इससे परेशानी हो सकती है।
  • इसके अलावा आपको किन चीजों पर कितना खर्च करना है, ये भी तय करें।

यह जानकारी आपके ज्ञान के लिए दी गई है। इस तरह के रिलेशनशिप को प्रोत्साहित करना हमारा उद्देश्य नहीं है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x