home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

सेक्स के दौरान क्या चाहती हैं महिलाएं?

सेक्स के दौरान क्या चाहती हैं महिलाएं?

सेक्स के दौरान महिलाएं क्या चाहती हैं, ये पुरुष पार्टनर को समझने में वक्त लगता है। कई लोग महिला पार्टनर के लिए सेक्स की खुशी किसमें है, इसका होमवर्क पहले ही कर लेते हैं, तो कईयों को इसकी जरूरत सेक्स में आ रही कमी के बाद नजर आने लगती है। वैसे तो महिलाओं को चैटरबॉक्स कहा जाता है, लेकिन सेक्स के मामले में वह चुप्पी साधना ही पसंद करती हैं। इसके कई कारण होते हैं। महिलाओं में सेक्स की खुशी जानने के लिए आपको हो सकता है, थोड़ा इंतजार करना पड़े। लेकिन ऐसा नहीं है कि आप उनकी खुशी नहीं समझ सकते।

और पढ़ेंः शावर सेक्स टिप्स : ऐसे करें तैयारी, ताकि भारी न पड़े रोमांस

सेक्स को लेकर चुप्पी

सेक्स को लेकर चुप्पी के कई कारण हैं। पहला तो यह कि वह अपने साथी से यह उम्मीद करती हैं कि वह खुद ही उनकी सेक्स की खुशी का पता लगाए। कभी-कभी यह भी कारण होता है कि वह अपने पार्टनर से इतना प्यार करती हैं कि अपनी खुशी की परवाह ही नहीं करती हैं। हां, यह जरूर है यदि आप उनकी खुशियों को एक लंबे वक्त तक नजरअंदाज करेंगे, तो हो सकता है कि वह आपको ही नजरअंदाज करने लगें। इससे बचने के लिए दोनों ओर से कोशिश की जानी चाहिए। महिलाओं की सेक्स की खुशी को समझने के लिए पुरूषों को चाहिए कि वे महिलाओं की चुप्पी को समझें।

सेक्स के दौरान महिलाओं को क्या चीजें प्रभावित करती हैं?

सेक्स में दिलचस्पी है या नहीं? पहले ही जान लें

यह जरूरी नहीं कि आपका सेक्स का मन है, तो महिला पार्टनर को भी सेक्स में दिलचस्पी हो। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में लेक्‍चरर बरबरा किसलिंग का कहना है कि सिर्फ बाहरी तौर पर यह पहचानना मुश्किल है कि महिला पार्टनर सेक्स के लिए तैयार है या नहीं। कई बार वह आपका मन रखने के लिए तैयार होने का दिखावा करती हैं। किसलिंग ने बताया कि यदि आप सच में जानना चाहते हैं तो ‘बटरफ्लाई पुजिशन’ ही इसका सबसे बेहतर तरीका है। महिलाओं में सेक्स की खुशी जानने के लिए आपका ये जानना जरूरी है कि महिला सेक्स में रूचि रखती है या नहीं। कई बार महिलाएं किसी एक पुजिशन को लेकर कंर्फटेबल नहीं होती, ऐसे में पुरूषों को अपनी महिलाओं को लेकर उनके सेक्स च्वाइस जानना जरूरी है।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ेंः सेक्स लाइफ में तड़का लगा सकता है लूब्रिकेंट! जानिए उपयोग का तरीका

फोरप्‍ले है जरूरी

यदि आप सीधा ही सेक्स पर आ जाएंगे, तो इससे महिलाओं को यही लगता है कि आपकी उनमें कोई दिलचस्पी नहीं है। यौन इच्छा को समझना बेहद जरूरी भी होता है। महिलाएं सेक्स से पहले फोरप्ले को एहमियत देती हैं। चूंकि यह उनमें आपकी दिलचस्पी को दर्शाता है। नोएडा की मधु (बदला हुआ नाम) कहती हैं कि फोरप्ले से उत्तेजना कुछ अलग तरह की हो जाती है। सीधा सेक्स करने में आनंद तो मिल जाता है, पर संतुष्टि नहीं मिल पाती है। मधु के अलावा ऐसा कई महिलाओं का मानना है कि पुरुषों को सेक्‍स के मामले में क्रिएटिव होना चाहिए। कई बार महिलाओं के सेक्स की खुशी का पता लगाने के लिए पुरूषों को फोरप्ले करने की जरूरत होती है। फोरप्ले सेक्स का अहम हिस्सा है। इसके जरिए पार्टनर को एक दूसरे को समझने में आसानी होती है।

कॉन्डोम के बिना सेक्स भाता है

किंजी इंस्टीट्यूट के शोध में पाया गया है कि पुरुषों के साथ-साथ महिलाओं को कॉन्डोम के बिना सेक्स करना ज्यादा अच्छा लगता है। हां यह जरूर है कि महिलाओं ने यह भी माना कि संभोग के दौरान कॉन्डोम का इस्‍तेमाल उन्‍हें ज्‍यादा चिंता मुक्त रखता है। उनकी यह चिंता यौन रोगों से जुड़ी हुई और प्रेग्नेंसी से जुड़ी हुई होती है। महिलाओं में सेक्स की खुशी के बारे में जानने के लिए उनके साथ बिना कॉन्डोम के साथ सेक्स कर सकते हैं। बहुत0सी महिलाओं को कॉन्डोम के बिना सेक्स पसंद आता है।

और पढ़ेंः सेक्स के वक्त आप भी करते हैं फ्लूइड बॉन्डिंग? तो जान लें ये बातें

सेक्स में सही पुजिशन है जरूरी

सेक्‍स संबंध बनाने के दौरान पुजिशन का ख्याल रखना चाहिए। पुजिशन ऐसी होनी चाहिए, जिसे दोनों ही पार्टनर आरामदायक महसूस करें। सेक्स पुजिशन परेशानी का सबब नहीं बनना चाहिए। कई महिलाएं एक ही तरह की पुजिशन से भी सेक्स में इंटरेस्ट खो देती हैं। इसलिए अलग-अलग तरह की पुजिशन पर अपनी महिला पार्टनर की राय जरूर जान लें। महिलाओं में सेक्स के प्रति रूचि बढ़ाने के लिए आप को सेक्स पुजिशन के बारे में पता होना चाहिए। आपको कोशिश करनी चाहिए कि वही सेक्स पुजिशन आजमाएं, जिनमें महिलाएं रूचि रखती हो।

  • स्पूनिंग सेक्स पुजिशन

इस पुजिशन में दोनों पार्टनर्स के बीच किसी भी तरह का कोई आई कॉन्टैक्ट नहीं होता है और दोनों सिर्फ इंटरकोर्स को आसानी से महसूस कर पाते हैं। स्पूनिंग सेक्स पुजिशन (पुजिशन) को कुछ लोग साइड कडल पुजिशन के नाम से भी जानते हैं। मेल हो या फीमेल दोनों को ही यह काफी आरामदायक पुजिशन लगती है, क्योंकि इसमें आपका शरीर पर बेड पर एक स्वाभावित पुजिशन में होता है। इस पुजिशन के सहारे पार्टनर्स में इमोशनल बॉन्डिंग भी बढ़ती है। इस सेक्स को ट्राय करने के लिए दोनों पार्टनर एक ही डायरेक्शन में लेटते हैं। इसके बाद मेल पार्टनर फीमेल की बैक की तरफ से इंटरकोर्स करता है। इस पुजिशन के दौरान कडलिंग भी आराम से की जा सकती है। इसलिए यह पुजिशन कपल्स के बीच काफी पॉपुलर है।

  • फेस टू फेस (Face to Face)

फेस टू फेस पुजिशन से भी सेक्स का आनंद ले सकते हैं। इस पुजिशन के लिए मेल पार्टनर को कुर्सी पर और फीमेल पार्टनर को उनकी गोद में बैठना होता है। इस पुजिशन में आप दोनों इंटरकोर्स कर सकते हैं। यह पुजिशन आप दोनों को एक दूसरे के और करीब लेकर आएगी क्योंकि इस पुजिशन में दोनों पार्टनर का आई कॉन्टैक्ट होता है, जो कि इमोशनल बॉन्डिंग बढ़ाने में मदद कर सकता है।

  • फोल्डेड डेक चेयर सेक्स पुजिशन

जो पुरुष महिलाओं में सेक्स की खुशी का ध्यान रखना चाहते हैं, उनके लिए यह काफी मददगार साबित होगी। इस पुजिशन से फीमेल पार्टनर को वजायनल ऑर्गैज्म प्राप्त करने में काफी आसानी होती है। इसके साथ ही मेल पार्टनर इंटरकोर्स के दौरान ही महिला पार्टनर के साथ निप्पल प्ले, फुट प्ले और क्लिटोरियल प्ले भी कर सकता है। इस पुजिशन में पेनिट्रेशन का सीधा दबाव जी-स्पॉट पर पड़ता है। इस पुजिशन को ट्राय करने के लिए फीमेल पार्टनर को बेड पर कमर के बल लेटना होता है। अब मेल पार्टनर उसके दोनों पैरों को एक साथ पकड़कर 90 डिग्री के एंगल पर सीधा कर देता है और फिर इंटरकोर्स करता है। इस पुजिशन में वजायनल ओपनिंग कम हो जाती है और फीमेल पार्टनर को ऑर्गैज्म के लिए जरूरी फ्रिक्शन प्राप्त होता है।

जल्‍दबाजी न करें

सेक्‍स मेडिसिन के एक जर्नल में प्रकाशित स्‍टडी के अनुसार सेक्‍स में जल्‍दबाजी दिखलाने पर पुरुष तो संतुष्‍ट हो जाते हैं, पर महिलाएं चरम तक नहीं पहुंच पाती हैं। महिलाओं में सेक्स की खुशी इस बात पर निर्भर करती है कि वह चरम पर पहुंचती है या नहीं। महिलाओं के मुकाबले पुरुष जल्दी चरम पर पहुंचते हैं।

और पढ़ेंः पुराने सेक्स के तरीकों को बदलें अब ट्राई करें सेक्स के नए तरीके

वातावरण का भी पड़ता है सेक्स में फर्क

एक शोध में पाया गया कि 50 फीसदी महिलाएं संभोग के दौरान अनुकूल मौसम या वातावरण न होने की वजह से चरम तक नहीं पहुंच पाती हैं। डॉ. होल्‍सटेज ने बताया कि सेक्‍स के दौरान वातावरण भी काफी मायने रखता है। अगर कमरे का तापमान अनुकूल रहता है, तो यह सेक्‍स का मजा बढ़ा देता है। वहीं यदि यह प्रतिकूल रहे, तो यह सेक्स का मजा खराब भी कर देता है। आपको तापमान से फर्क पड़े या न पड़े, महिला पार्टनर को वातावरण से फर्क पड़ता है। इसलिए यदि आप सेक्स के दौरान डिस्टर्ब नहीं होना चाहते, तो महिला पार्टनर के अनुसार तापमान सेट कर लें। महिलाओं में सेक्स की खुशी इस बात पर निर्भर करती है कि उन्हें डिस्टर्बेंस न हो। आसपास का वातावरण और कमरे का इंटीरियर भी सेक्स पर असर डालता है।

सेक्स की खुशी के लिए यह भी ध्यान रखें

महिला पार्टनर की खुशी का बस यही पैमाना है यह न मान लें। अपनी पार्टनर की खुशी को अलग-अलग तरह से तलाशने की कोशिश करें। हर महिला अलग होती है और उसकी चाहत भी अलग होती है। किसी को फोरप्ले, तो किसी को आफ्टरप्ले में खुशी मिलती है। सेक्स के दौरान सिर्फ ऑर्गैज्म को एहमियत न दें, अपनी महिला पार्टनर की खूबसूरती को भी तवज्जो दें।

हम उम्मीद करते हैं कि आप इस आर्टिकल से महिलाओं में सेक्स की खुशी के बारे में काफी कुछ जान चुके होंगे। यदि आपको अभी भी इससे संबंधित कोई सवाल या शंका है, तो आप किसी रिलेशनशिप काउंसलर या सेक्सोलॉजिस्ट व डॉक्टर से सलाह-मशविरा कर सकते हैं। यदि आप हम से ही किसी बारे में जानकारी पाना चाहते हैं, तो हमारे सोशल मीडिया पेज पर जाकर हमें लिख सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Does anal sex have any health risks? nhs.uk/common-health-questions/sexual-health/does-anal-sex-have-any-health-risks/ Accessed on 4/12/2019

Is sex painful the first time? https://www.nhs.uk/common-health-questions/sexual-health/is-sex-painful-the-first-time/#:~:text=Anal%20sex,anus%20before%20penetration%20can%20help. Accessed on 4/12/2019

Anal Intercourse and Fecal Incontinence: Evidence from the 2009–2010 National Health and Nutrition Examination Survey. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5231615/. Accessed on 4/12/2019

Safe sex. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/healthyliving/safe-sex. Accessed on 4/12/2019

Rectal perforation after anal intercourse. http://doi.org/10.16966/2470-0991.155 Accessed on 4/12/2019

लेखक की तस्वीर badge
Hema Dhoulakhandi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/11/2020 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड