आंख में कुछ चले जाना हो सकता है बेहद तकलीफ भरा, जानें ऐसे में क्या करें और क्या न करें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट फ़रवरी 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आंख में कुछ चले जाना बहुत तकलीफदेह हो जाता है। ये कोई फॉरेन ऑब्जेक्ट यानी बाहरी वस्तु हो सकती है। यह चीज आपके शरीर का हिस्सा नहीं होती, बल्कि कोई भी बाहरी वस्तु जैसे धूल-मिट्टी, मेटल, लकड़ी का बुरादा आदि कुछ भी हो सकता है। ऐसे में ऐसी चीजों का आंख में चले जाना कॉर्निया या कंजाक्टिवा को प्रभावित करता है। कॉर्निया पारदर्शी परत होती है जो आंखों की ऊपरी सतह की सुरक्षा करती है और इसके जरिए ही प्रकाश आंखों के अंदर जाता है।

आंख में कुछ चले जाना, इसे ऐसे समझें

कई आप आपकी पलकें टूटकर आंखों में चली जाती हैं, जिससे आंखों में चुभन होने लगती है, लेकिन कई बार आंखों में चुभन और जलन का कारण किसी बाहरी वस्तु का आंख में चले जाना है। यह बाहरी वस्तु धूल, मिट्टी, रेत, मेटल या लकड़ी का बुरादा या कोई भी अन्य चीज हो सकती है जिसके आंखों में चले जाने पर न सिर्फ जलन और चुभन होती है, बल्कि आंखें लाल हो जाती है और कई बार आई इंफेक्शन भी हो सकता है। आंख में कुछ चले जाना सामान्य बात है और इसमें घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह कुछ देर में अपने आप या पानी से बार-बार आंख धोने से निकल जाता है, लेकिन कई बार आंख में कुछ चले जाना संक्रमण भी पैदा कर सकता है।

यह भी पढ़ें- कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस क्या है?

आंख में कुछ चले जाना : लक्षण

sad black and white GIF

आंख में कुछ चला गया है इसके लक्षण आसानी से समझ आ जाते हैं, जैसे-

वैसे तो पलकें आंखों में किसी चीज को प्रवेश करने से रोकती है और कोई छोटी चीज आंख में चली जाए तो आंसू उसे बाहर निकालने में मदद करते हैं, लेकिन कई बार कोई ठोस चीज आंख के अंदर जाकर सतह में चिपक जाती है। इसके लिए आपको साफ पानी से आंखों को धोना होगा और यदि फिर भी न निकले और दर्द अधिक हो तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

यह भी पढ़ें- इंटेस्टाइनलऑबस्ट्रक्शन क्या है ?

आंख में कुछ चले जाना : कारण

काम करते समय अधिकांशतः दुर्घटनावश आंख में कुछ चला जाता है। आंख में कुछ चले जाने वाली चीजों में शामिल हैः

  • धूल-मिट्टी
  • रेत
  • कॉस्मेटिक्स
  • कॉन्टेक्ट लेंस
  • धातु कण
  • कांच के कण

धूल-मिट्टी और रेत अक्सर हवा के कारण आंखों में चले जाते हैं। धारदार चीजें जैसे मेटल, कांच आदि विस्फोट, एक्सीडेंट या कुछ उपकरण से काम के दौरान आंखों में चले जाते हैं। बहुत तेज गति से आंख में कुछ चले जाने परआंख को चोट पहुंचने का खतरा अधिक होता है।

डॉक्टर को कब दिखाएं

आंखें बहुत नाजुक और संवेदनशील होती है, इसलिए आंख में कुछ चले जाना खतरनाक भी हो सकता है। ऐसे में कई मामालों में डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता होती यदि:

  • आंख में कोई केमिकल चला गया हो।
  • किसी चीज से आंख में घाव हो गया हो।
  • यदि आंख में कोई चीज जाकर फंस गई हो और उससे छेद हो गया हो तो उसे निकालने की कोशिश न करें।
  • आंख से धूल-मिट्टी या रेत के कण नहीं निकाल पा रहे हैं।
  • आंख से बाहरी वस्तु को निकालने के बाद भी यदि आपको महसूस हो रहा है कि कुछ है, लेकिन दिख नहीं रहा।
  • आंख से खून आ रहा हो।
  • आप आंखें बंद नहीं कर पा रहे हैं।
  • आपकी दृष्टि में किसी तरह का बदलाव आया हो।
  • कॉर्निया के ऊपर कुछ दाग दिख रहा हो।
  • आपकी आंखों की स्थिति अच्छी न हो।

यह भी पढ़ें- ए बी फाइलिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

आंख में कुछ चले जाना: घर पर ऐसे करें देखभाल

यदि आपको महसूस हो रहा है कि आंख में कुछ चला गया है तो संक्रमण और दृष्टि हानि से बचने के लिए उचित उपचार की जरूरत है। आंख में कुछ चले जाने पर सबसे पहले कुछ एहतियात बरतें:

  • आंखों को रगड़े नहीं और न ही दवाब दें।
  • आंख के अंदर से कुछ चीज को निकालने के लिए किसी तरह के बर्तन जैसे चिमटी या रुई का इस्तेमाल न करें।
  • कॉन्टेक्ट लेंस न निकाले जब तक कि अचानक से सूजन न आए या केमिकल से इंजरी न हुई हो।

जब आपको लगे कि आपकी आंख में कुछ चला गया है या आप सामने वाले व्यक्ति की मदद करने जा रहे हों तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिएः-

  • सबसे पहले अपने हाथ अच्छी तरह धो लें
  • लाइट से प्रभावित हिस्से को ठीक तरह से देखने की कोशिश करें।
  • आंख की जांच करते समय पीड़ित व्यक्ति की निचली पलकें खींचते हुए उसे ऊपर देखने के लिए कहें। इसी तरह ऊपरी पलकों को ऊपर करते समय उसे नीचे देखने के लिए कहें।
  • आंख में कुछ चीज चले जाने पर उसे निकाले का सबसे सुरक्षित तरीका क्या होगा, यह उस चीज पर और वह आंख के किस हिस्से में गया है इस बात पर निर्भर करता है।
  • आमतौर पर आंखों को पानी से धोने या कोई आई ड्रॉप डालने से आंख में गई चीज निकल जाती है।
  • यदि आपकी कोशिश के बाद भी आंख में गई चीज न निकले तो डॉक्टर के पास जाएं।

यह भी पढ़ें- धूल से होने वाली एलर्जी क्या है?

आंख में कुछ चले जाना : उपचार

eye watching GIF by Kacey Musgraves

जब खुद कोशिश करने के बाद आंख में गई चीज न निकले तो आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता है। डॉक्टर पहले आंखों की जांच करके देखेगा कि आंख में क्या और किस जगह गया है। इसके बाद उपचार के लिए निम्न कदम उठाए जा सकते हैः

  • आंख की सतह को सुन्न करने के लिए एन्सथेटिक ड्रॉप का इस्तेमाल करेगा।
  • फ्लोरेसिन डाई, जो खास तरह की लाइट में चमकती है, को आई ड्राप के जरिए आंख में डाला जाता है। यह डाई प्रभावित हिस्से को दिखाएगा।
  • आपका डॉक्टर आंख में गई बाहरी वस्तु को देखने और निकालने के लिए मैगनीफायर का इस्तेमाल करेगा।
  • आंख में कई चीज को गीले कपड़े, रूई से निकाला जा सकता है या पानी से धोने पर वह निकल जाएगा।
  • यदि इस तरह से बाहरी ऑब्जेक्ट नहीं निकलता है तो डॉक्टर किसी उपकरण की मदद से आंख में कई चीज को निकालेगा।
  • यदि बाहरी वस्तु की वजह से कॉर्निया में खरोंच आई है, तो संक्रमण से बचने के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक मरहम देगा।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें-

सी सेक्शन के बाद देखभाल कैसे करें?

सबसे खतरनाक वायरस ने ली थी 5 करोड़ लोगों की जान, जानें 21वीं सदी के 5 जानलेवा वायरस

क्या प्रेग्नेंसी के दौरान STD के टेस्ट और इलाज कराना सही है?

एपीसीओटॉमी प्रक्रिया के पहले और बाद में क्या सावधानियां रखनी चाहिए?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    क्या पलकें झड़ रही हैं? दोबारा पलकें आना है आसान, अपनाएं टिप्स

    पलकों का झड़ना कैसे रोकें, दोबारा पलकें आना कैसे शुरू हो, दोबारा पलकें क्या आ जायेंगे, पलक झड़ने के घरेलू उपाय, eyelashes shed off grow again in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन मई 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    आंखों का टेढ़ापन क्या है? जानिए इससे बचाव के उपाय

    आंखों का टेढ़ापन क्यों होता है। आंखों का टेढ़ापन कैसे दूर किया जा सकता है। फोन और कंप्यूटर के इस्तेमाल के कारण ये समस्या हो सकती है। कम उम्र में जांच कराए तो इसका इलाज संभव है।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    आंखों की देखभाल, स्वस्थ जीवन अप्रैल 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

    REM sleep behavior disorder : रैपिड आई मूवमेंट स्लीप बिहेवियर डिसऑर्डर

    रैपिड आई मूवमेंट(REM) स्लीप बिहेवियर डिसऑर्डर एक नींद की बीमारी है, जिसमें हम शारीरिक रूप से अप्रिय सपने या दुःस्वप्न में तेज आवाज़,बाते करना, या शारीरिक गत

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Siddharth Srivastav
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Lumbar spinal stenosis: लम्बर स्पाइनल स्टेनोसिस क्या है ?

    लम्बर स्पाइनल स्टेनोसिस (Lumbar spinal stenosis) क्या है? किन कारणों से होती है यह बीमारी? क्या है इसका इलाज? Cause of Lumbar spinal stenosis and treatment in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
    के द्वारा लिखा गया Siddharth Srivastav
    हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 12, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    एलास्पेन एम टैबलेट

    Alaspan Am Tablet : एलास्पेन एम टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    बच्चों में आंखों की देखभाल के बारे में मिथक

    बच्चों की आंखो की देखभाल को लेकर कुछ ऐसे मिथक, जिन पर आपको कभी विश्वास नहीं करना चाहिए

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu sharma
    प्रकाशित हुआ जुलाई 22, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    थायराइड डाइट प्लान

    थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ जुलाई 6, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    आंखों पर स्क्रीन का असर

    आंखों पर स्क्रीन का असर हाेता है बहुत खतरनाक, हो सकती हैं कई बड़ी बीमारियां

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish singh
    प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें