डेडलिफ्ट वर्कआउट क्या होता है और इसे कैसे करना चाहिए?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

डेडलिफ्ट (deadlift) एक्सरसाइज के तरीके 

वर्कआउट की लिस्ट में कई ऐसे एक्सरसाइज के बारे में जानेंगे, जिससे पूरे शरीर को फिट रखा जा सकता है। जिस एक्सरसाइज की हम बात करने जा रहे हैं उसे ज्यादातर बॉडी बिल्डरों द्वारा पसंद किया जाता है। आज जानेंगे डेड लिफ्ट (deadlifts) एक्सरसाइज क्या है? यह एक्सरसाइज अमेरिका में बहुत मशहूर है। जिम जाने वाले भारतीय युवा अभी इसे करने से थोड़ा परहेज करते हैं। लेकिन, एक्सपर्ट्स का मानना है कि कुछ समय बाद डेडलिफ्ट एक्सरसाइज भारतीय लोगों में भी लोकप्रिय हो जाएगी। यह वर्कआउट सिर से लेकर पांव तक शरीर के सभी मांसपेशियों पर प्रभाव डालती है। कमर,पैर, कलाई और कंधे इसके खास टारगेट होते हैं, क्योंकि इस एक्सरसाइज को करने में अन्य एक्सरसाइज के मुकाबले ज्यादा ताकत लगती है। 

यह भी पढ़ें : Cremaffin : क्रेमाफीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्यों कहा जाता है डेडलिफ्ट (deadlift)?

डेडलिफ्ट एक्‍सरसाइज में वेट को पूरी तरह से जमीन पर रखकर फिर उठाना होता है। इसमें पिछली मूवमेंट की कोई मदद नहीं मिलती है और हर बार जीरो से शुरुआत करनी पड़ती है। इसलिए इसे डेडलिफ्ट कहते हैं। अमेरिकी सैनिकों की ट्रेनिंग में डेडलिफ्ट जरूर शामिल होती है। शरीर में  ऊर्जा बढ़ाने के लिए स्‍क्‍वाट्स वर्कआउट के बाद डेडलिफ्ट वर्कआउट ही किया जाता है।

डेडलिफ्ट(deadlift) करने का सही तरीका

  • इस वर्कआउट को करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। अब वेट को दोनों हांथों से पकड़े और खड़े रहें। फिर इसे धीरे से नीचे रखें। 
  • छह फुट या उससे ज्यादा लंबी बारबेल में एक्स्ट्रा या अपनी क्षमता के अनुसार वेट बढ़ाएं। दोनों पैरों के बीच थोड़ा गैप रखें। अब कमर को बिल्कुल सीधा रखते हुए झुकें और बारबेल को थोड़ा गैप से पकड़ें।
  • अपने हिप्स के साथ-साथ पूरे शरीर को टाइट कर लें और हिप्स को बाहर की ओर निकालते हुए ऊपर उठाएं। रॉड आपके पैरों के बिल्कुल नजदीक से होते हुए ऊपर उठेंगी।
  • सीधा खड़े हो जाएं, ध्यान रखें कि अब आपको पीछे की ओर नहीं झुकना है। बस सीधे खड़े हों और एक सेकेंड का आराम लेकर वापस बार को नीचे ले जाएं। वेट ऊपर खींचते वक्त श्वास रोक लें और नीचे छोड़ते समय श्वास छोड़ें।
  • बारबेल नीचे लाकर वापस अपनी जगह पर रख दें, हाथों की ग्रिप हल्की कर दें और फिर तुरंत ग्रिप मजबूत कर वेट उठाएं।
  • एक्सरसाइज करते समय सामने की ओर देखें। ध्यान रखें कि, आप हाथों की ताकत से वेट को ऊपर नहीं खींच रहे हों, कोहनी को मोड़े नहीं।

एक्सपर्ट्स के अनुसार डेडलिफ्ट करते वक्त किन-किन बातों का रखें ख्याल

  • डेडलिफ्ट करते समय बैक इंजरी से ज्यादा बाइसेप्स टीयर होने का खतरा रहता है। इसलिए इसे करते समय हाथों की पॉजीशन का बेहद खास ख्याल रखना होता है। ऐसा करने से आप इंजरी के जोखिम को काफी हद तक टाल सकते हैं।
  • इस एक्सरसाइज को करते समय ग्लव्स पहनना जरूरी होता है। इससे बेहतर ग्रिप मिल पाती है। ग्लव्स नहीं पहने के कारण ग्रिप कमजोर पड़ सकती है।  
  • स्टेटिक स्ट्रेचिंग, वर्कआउट से पहले की स्ट्रेंथ और ताकत को खराब करती है। सबसे अच्छा तरीका है कि पहले वार्म-अप करें, जिसके लिए हल्के वेट के साथ डेडलिफ्ट कर वर्मअप करने से बेहतर कुछ नहीं हो सकता है। 

डेडलिफ्ट के फायदे

डेडलिफ्ट एक कंपाउंड एक्सरसाइज है, जहां फर्श पर एक भारी बारबेल को उठाने से शुरू होती है। इसे “डेड वेट” के रूप में जाना जाता है। क्योंकि इस करते समय आपको मोमेंट्म का फायदा नहीं मिलता है। क्योंकि हर बार आप फर्श से वेट को उठाते हैं।

डेडलिफ्ट्स सहित कई मांसपेशी समूहों को प्रशिक्षित करते हैं:

  • हैमस्ट्रिंग
  • ग्लूट्स
  • बैक
  • कूल्हों
  • कोर

एक डेडलिफ्ट करने के लिए आप अपने कूल्हों का उपयोग करके फ्लैटबेल को अपने कूल्हों को पीछे ले जाते हुए उठाते हैं। डेडलिफ्ट्स आपके लिए जल्दी परिणाम पाने के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं क्योंकि वे एक साथ कई प्रमुख मांसपेशी समूहों को मजबूत करने के लिए एक साथ काम करता है। डेडलिफ्ट एक्सरसाइज करने से पहले फिटनेस एक्सपर्ट से सलाह जरूर लेनी चाहिए। क्योंकि, यह कठिन एक्सरसाइज है और इसे करने के लिए आपकी बॉडी परफेक्ट है या नहीं। क्योंकि यह जानना बेहद जरूरी है।   

आपको कितनी डेडलिफ्ट करनी चाहिए

आपके द्वारा की जाने वाली डेडलिफ्ट की संख्या आपके द्वारा उपयोग किए जा रहे वजन पर निर्भर करती है। यदि आप एडवांस्ड फिटनेस लेवल पर हैं, तो आपको डेडलिफ्ट से लाभ उठाने के लिए भारी मात्रा में वजन की आवश्यकता होगी। अगर ऐसा है, तो प्रति सेट 1 से 6 डेडलिफ्ट करें, और बीच में आराम करते हुए 3 से 5 सेट करें। यदि आप डेडलिफ्ट के लिए नए हैं और कम वजन के साथ सही फॉर्म प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, तो प्रति सेट 5 से 8 डेडलिफ्ट्स का प्रदर्शन करें। 3 से 5 सेट तक अपने तरीके से काम करें। याद रखें, सही फॉर्म हमेशा सेट की संख्या से अधिक महत्वपूर्ण होता है। सप्ताह में 2 से 3 बार डेडलिफ्ट्स करें, जिससे मांसपेशियों को आराम से वर्कआउट के बीच समय मिल सके।

डेडलिफ्ट के बारे में यह भी जान लें

डेडलिफ्ट एक चुनौतीपूर्ण व्यायाम है। अगर आप जिम से ताल्लुक रखते हैं, तो ट्रेनर या फिटनेस प्रोफेशनल की सलाह से ही इस व्यायाम को करें। वे आपको सही तकनीक इस्तेमाल करने के बारे में सही जानकारी दे सकते हैं। ट्रेनर के साथ व्यायाम करने से वह आपको बता सकता है कि आप ठीक से यह व्यायाम कर रहे हैं या नहीं साथ ही वह यह भी देखेगा कि आप सही फॉर्म डेवलेप कर पा रहे हैं। एक बार डेडलिफ्ट की तकनीक को समझ कर और सही फॉर्म पर कंट्रोल पाने के बाद आप इसे अपने डेली वर्कआउट प्लान में शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा कोई भी नया फिटनेस रिजीम शुरू करने से पहले यह भी समझ लें कि आप क्षमताओं के लिहाज से ही अपने लिए वर्कआउट चुनें और साथ ही यह भी देख लें कि आप को सच में उस वर्क आउट की जरूरत है या नहीं। कई मामलों में देखने को मिलता है कि लोग दूसरों को देखकर कई चीजें करने लगते हैं।

और पढ़ें :

तीसरी तिमाही में एक्सरसाइज करना चाहती हैं तो इन्हें करें ट्राई

अपर बॉडी में कसाव के लिए महिलाएं अपनाएं ये व्यायाम

छठे महीने में एक्सरसाइज करें, लेकिन क्यों कुछ खास तरह के व्यायाम न करें?

Desloratadine : डेस्लोरेटाडिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    वजन घटाने के साथ ही बॉडी को टोन्ड करती है फ्रॉग जंप एक्सरसाइज

    फ्रॉग जंप एक्सरसाइज से बस कुछ ही हफ्तों में एक्स्ट्रा फैट कम हो जा सकता और पतली कमर का आपका सपना पूरा हो सकता है। तो देर किस बात की आइए जान लेते हैं इस एक्सरसाइज को करने का तरीका।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Kanchan Singh
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए जानें मैराथन दौड़ के फायदे

    मैराथन दौड़ के फायदे क्या हैं, मैराथन दौड़ के फायदे इन हिंदी, दौड़ने का सेहत पर असर, लंबी उम्र के लिए दौड़ना, Benefits of Marathon run in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    फिटनेस, रनिंग, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    जब घर से न निकल पाये तब ट्राई करें यह होम वर्कआउट टिप्स

    होम वर्कआउट टिप्स क्या है, होम वर्कआउट टिप्स इन हिंदी, घर पर एक्सरसाइज कैसे करें, डंबल, स्क्वैट्स, Home Workout tips in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    योगा या जिम शरीर के लिए कौन सी एक्सरसाइज थेरिपी है बेस्ट

    एक्सरसाइज थेरेपी में योग कंप्लीट बॉडी सॉल्यूशन है। इसमें शरीर के हर एक अंग का इस्तेमाल होता है, इसे करने से जिम से भी ज्यादा फायदा मिलता है।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 7, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें