अस्थमा के रोगियों के लिए फायदेमंद है धनुरासन, जानें इसको करने का सही तरीका

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

धनुरासन (धनुष मुद्रा) दो शब्दों धनु और आसन से बना है, जहां धनु का अर्थ है धनुष और आसन का अर्थ योग मुद्रा। इसलिए दोनों शब्दों को मिलाकर इसे धनुरासन कहा जाता है। इस आसन को करते समय शरीर धनुष के आकार का हो जाता है। इस आसन में, पेट और जांघ धनुष के हिस्से के रूप में, पैर और आर्म्स के निचले हिस्से बो के ट्रंक के रूप में कार्य करते हैं। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है जिसे करने पर कई लाभ होते हैं। आज इस लेख में हम धनुरासन करने के स्टेप्स, धनुरासन करने के फायदे और धनुरासन करते समय सावधानियों के बारे में बात करेंगे। इस आसन को करने से न केवल वजन कम होता है, बल्कि यह पीठ के निचले हिस्से को मजबूत बनाता है, अस्थमा से बचाता है इस प्रकार शरीर के कई हिस्सों को स्वस्थ बनाए रखता है।

धनुरासन करने के स्टेप्स

नीचे देखें धनुरासन करने का सही तरीका और स्टेप्स।

  • धनुरासन करने के लिए, सबसे पहले, एक साफ हवादार, शांत जगह चुनें।
  • उसके बाद योगा मैट बिछाकर पेट के बल लेट जाएं। अपने हिप्स के बीच गैप रखें और दोनों हाथों को सीधा रखें।
  • अपने घुटनों को मोड़ते हुए सांस छोड़ें, अपनी एड़ी को अपने नितंबों के करीब लाएं। अब धनुषाकार होते हुए, अपनी एड़ियों को अपने हाथों से पकड़ें।
  • अब अपनी छाती को सांस लेते हुए जमीन से ऊपर धीरे-धीरे उठाएं।
  • अब पैरों को थोड़ा और ऊपर उठाएं और अधिक सांस लेते हुए अपनी एड़ियों को हाथ से खींचने की कोशिश करें।

  • एड़ियों को खींचते समय पेट के वजन का संतुलन बनाए रखें और सिर को बिल्कुल सीधा रखें।
  • आपके शरीर के लचीलेपन के आधार पर, आप अपने शरीर को आगे बढ़ा सकते हैं।
  • इस धनुषाकार मुद्रा को करते समय सांस लेने और छोड़ने पर ध्यान दें।
  • जब तक संभव हो इस स्थिति में बने रहें।
  • प्रारंभिक अवस्था में वापस आने के लिए, धीरे-धीरे शरीर की मांसपेशियों को ढीला करें और नितंब और जांघ को जमीन की ओर ले आएं।
  • अब शरीर के सामने के हिस्से को जमीन पर लाएं।
  • इसके बाद दोनों हाथों से एड़ी को छोड़ दें और प्रारंभिक अवस्था में आ जाएं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : योग क्या है? स्वस्थ जीवन का मूलमंत्र योग और योगासन

धनुरासन करने के स्वास्थ्य लाभ

धनुरासन मुद्रा एक ऐसा योग मुद्रा है, जिसमें दो अलग-अलग आसन यानी भुजंगासन और शलभासन के लाभ शामिल हैं। धनुरासन के निम्नलिखित महत्वपूर्ण लाभ इस प्रकार हैं-

वजन घटाने के लिए धनुष मुद्रा

धनुरासन मुद्रा आपके पेट और पेट के किनारों पर अधिक खिंचाव डालता है। इस आसन के नियमित अभ्यास से शरीर के बाकी हिस्सों के फैट को बर्न करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही यह पूरे शरीर को लीन शेप में लाने में मदद करता है। जिन लोगों को अनवांटेड फैट से छुटकारा पाना है उनके लिए यह बहुत उपयोगी साबित हो सकता  है।

सुस्ती कम करता है

कुछ लोग बहुत आलसी होते हैं, पूरे दिन वह सुस्त महसूस करते हैं। सुस्ती पर काबू पाने के लिए धनुरासन मुद्रा बहुत उपयोगी है। यह नाभि क्षेत्र में सोलर प्लेक्सस चक्र पर सीधे कार्य करता है। धनुरासन मुद्रा करने से आप दिन भर बहुत एक्टिव महसूस करेंगे।

स्ट्रेस कम करता है

 आजकल स्ट्रेस जीवन का अंग बन गया है। ज्यादातर योग करने से  स्ट्रेस से राहत मिलने में आसानी होती है। उसी प्रकार धनुरासन करने से भी आपका तनाव कम हो सकता है। 

लीवर को उत्तेजित करता है 

यह पेट के सभी अंगों के कार्य को ठीक से करने में मदद करता है। यह लिवर की मालिश करता है, जो पाचन में सहायता करता है। लिवर की समस्या वाले लोगों को यह मुद्रा जरूर करनी चाहिए।

स्लिप डिस्क का इलाज

कुछ लोगों को स्लिप डिस्क से जुड़ी समस्या होती है। स्लिप्ड डिस्क की समस्या वाले व्यक्तियों को धनुरासन और शलभासन के नियमित अभ्यास से राहत मिल सकती है।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी योग को करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार का चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें : पादहस्तासन : पांव से लेकर हाथों तक का है योगासन, जानें इसके लाभ और चेतावनी

चेस्ट को स्ट्रेच करता है

कई लोगों को कंधों में दर्द की शिकायत होती है तो शुक्र मनाइए कि अब आप धनुरासन मुद्रा के बारे में जानते हैं। धनुरासन शरीर को कंधे के नीचे से लेकर कूल्हों और चेस्ट को लाभ पहुंचाते हैं। धनुरासन करते समय आपकी छाती के मसल्स स्ट्रेच्ड होती है जिससे आपको राहत मिल सकती है।

कंधों को मजबूत करता है

धनुरासन आपके कंधों, बांहों, गर्दन, पेट, पीठ, जांघों और हैमस्ट्रिंग की मांसपेशियों को मजबूत बनाने का कार्य करता है।

कब्ज से राहत दिलाता है

कब्ज की समस्या वाले लोगों के लिए यह मुद्रा बहुत कारगर सिद्ध हो सकता है। धनुरासन मुद्रा से कब्ज से राहत मिल सकता है। 

सेक्शुअल अरॉउजल

जिन लोगों में यौन संबंधी समस्याएं होती हैं उन लोगों को यह आसन व्यक्ति की यौन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है।

मधुमेह का इलाज करता है

धनुरासन करने से अग्न्याशय को एक अच्छी टोनिंग मिलती है। यह ग्लूकागन और इंसुलिन की सही मात्रा के स्राव को उत्तेजित करता है जो ब्लड शुगर को संतुलित करने में मदद करता है। इस महत्वपूर्ण योग मुद्रा का अभ्यास करके मधुमेह टाइप 1 और टाइप 2 दोनों को कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है।

ब्लड साफ करता है

शरीर में बल्ड का साफ रहना बेहद आवश्यक होता है। चूंकि, धनुरासन मुद्रा पूरे शरीर के साथ-साथ विभिन्न अंगों में भी रक्त प्रवाहित सही तरीके से करने में मदद करता है, इसलिए बहुत हद तक यह ब्लड क्लिनिंग का भी कार्य करता है। 

और पढ़ें : बद्ध पद्मासन: जानिए इस योगासन को करने का सही तरीका, फायदा और सावधानियां

किडनी को स्वस्थ रखने में मददगार

किडनी की समस्या वाले लोगों के लिए धनुरासन बहुत अच्छा योग माना जाता है। धनुरासन मुद्रा करने से किडनी बहुत अच्छी तरह से कार्य करता है, जिससे शरीर में तरल पदार्थ का संतुलन बेहतर होता है।

अस्थमा को ठीक करता है

यह दमा रोगियों के लिए बेस्ट योग माना जाता है,अस्थमा के रोगियों को धनुरासन मुद्रा जरूर करनी चाहिए। धनुरासन करने से सांस की प्रक्रिया में सुधार होता है। 

पीठ दर्द को ठीक करता है

जिन लोगों को अक्सर पीठ दर्द की समस्या होती है, उन लोगों को खासतौर पर धनुरासन करना चाहिए। यह आपके  मांसपेशियों और नसों पर अच्छा खिंचाव डालता है और रीढ़ की हड्डी के स्तंभ को मजबूत करता है। यह पीठ दर्द के इलाज के लिए फायदेमंद है।

रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाता है

धनुरासन मुद्रा रीढ़ की हड्डी के स्तंभों को मजबूत बनाए रखने में मदद करता है। यह अकड़न से छुटकारा दिलाता है और रीढ़ को मजबूत और स्वस्थ बनाए रखता है क्योंकि इसमें लिगामेंट, मांसपेशियों और नसों पर अच्छा खिंचाव पड़ता है। यह आसन रीढ़ में लचीलापन लाता है और पेट के अंगों को टोन करता है।

दिल के लिए बेहतर होता है

जिन लोगों को दिल से जुड़ी समस्या है उन लोगों के लिए धनुरासन बहुत अच्छा माना जाता है, क्योंकि यह दिल की मसाज करता है। जिससे दिल स्वस्थ्य तरीके से कार्य करता है।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी योग को करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

धनुरासन मुद्रा की सावधानियां

धनुरासन करने के कई फायदे हैं, लेकिन इसे करते समय कुछ सावधानियां भी बरतनी होती हैं। शरीर में कुछ विकार और समस्याएं हैं जब आप इसका अभ्यास करते हैं तो यह बढ़ जाता है, तो इस स्थिति में इस आसन को न करना बेहतर होता है। जानिए इस आसन को करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए।

  • उच्च रक्तचाप वाले रोगी को इसे छोड़ देना चाहिए।
  • एपेंडिसाइटिस और अन्य पेट की बीमारियों से पीड़ित व्यक्ति को यह आसन नहीं करनी चाहिए। इस आसन का अभ्यास करने से पहले किसी योग विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए।
  • भोजन के बाद धनुरासन मुद्रा का अभ्यास न करें? कम से कम 3 घंटे का अंतर होना चाहिए।
  • जब आप धनुरासन अभ्यास करने की शुरूआत करते हैं, तब फर्श से अपनी जांघों को उठाना मुश्किल हो सकता है। आप एक कंबल को रोल कर सकते हैं और इसे अपनी जांघों के नीचे रख सकते हैं ताकि उन्हें खींचने में सहायता मिल सके।
  • रात में बिस्तर पर जाने के तुरंत पहले धनुरासन न करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह आसन एड्रि‍नल ग्रंथि और नाभि में सिम्पैथेटिक नर्वस सेंटर को उत्तेजित करता है, जिससे नींद न आने की समस्या हो सकती है।

योगा के बारे में जानने के लिए खेलें क्विज : Quiz : योग (yoga) के बारे में जानने के लिए खेलें योगा क्विज

  • इस आसन का अभ्यास नहीं किया जाना चाहिए यदि आपके ऊपर या निचले पीठ के हिस्से में दर्द, माइग्रेन, सिरदर्द, गर्दन की चोट या हाल ही में पेट की सर्जरी हुई हो, तो यह आसन नहीं करनी चाहिए।
  • अपनी छाती और जांघों को समान रूप से ऊपर खींचें और अपनी कोहनी को मोड़ें ।
  • यदि आप हर्निया, अल्सर, कोलाइटिस और पेट की किसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो इस आसन को न करें। क्योंकि यह आसन पेट पर अधिकतम दबाव डालता है।
  • गर्भवती महिलाओं को किसी भी हालत में धनुरासन नहीं करनी चाहिए।

नोट: यदि आपको किसी प्रकार से चोट लगी है तो इस मुद्रा को करने से पहले अपने डॉक्टर की उचित सलाह लें।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी योग को करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार का चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानें कैसे अर्जुन कपूर ने डायट में बदलाव कर 140 किलो से सिक्स पैक एब्स बनाए

अर्जुन कपूर डायट को जानना है बेहद जरूरी, उन्होंने डायट और वर्कआउट के बल पर 50 किलो वजन घटा लिया। जाने इसके लिए क्या किया उन्होंने?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन अगस्त 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

जानें क्या है तितली आसन,आपके लिए कैसे है फायदेमंद

जानिए तितली आसन के स्टेप्स (butterfly asana in hindi), तितली आसन के फायदे, इस आर्टिकल में जानें इसको करने का सही तरीका और सावधानियां.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
योगा, फिटनेस, स्वस्थ जीवन अगस्त 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

स्ट्रेस बस्टर के रूप में कार्य करता है उष्ट्रासन, जानें इसके फायदे और सावधानियां

उष्ट्रासन योग करने से हमें क्या फायदा होता है, इससे जुड़े फायदे,नुकसान और सावधानियों आदि जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल। Ustrasana in Hindi. Camel pose yoga.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
योगा, फिटनेस, स्वस्थ जीवन अगस्त 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

रीढ़ की हड्डी के लिए फायदेमंद ऊर्ध्व मुख श्वानासन को कैसे करें, क्या हैं इसे करने के फायदे जानें

ऊर्ध्व मुख श्वानासन, ऊर्ध्व मुख श्वानासन करने का तरीका , क्या हैं इस आसन को करने के फायदे और नुकसान जानिए विस्तार से, Urdhva Mukha Shvanasana in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
योगा, फिटनेस, स्वस्थ जीवन अगस्त 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

स्वास्थ्य साक्षरता का शिक्षा healthy life tips

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस: क्यों भारतीय बच्चों और युवाओं को स्वास्थ्य साक्षरता की शिक्षा देना है जरूरी?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
पवनमुक्तासन-Wind Relieving Pose

पेट की परेशानियों को दूर करता है पवनमुक्तासन, जानिए इसे करने का तरीका और फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
परिवृत्त पार्श्वकोणासन

परिवृत्त पार्श्वकोणासन क्या है, जाने इसे कैसे करें और इसके क्या हैं फायदें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
वृक्षासन के लाभ

वृक्षासन योग से बढ़ाएं एकाग्रता, जानें कैसे करें इस आसन को और क्या हैं इसके फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें