अपनी जिंदगी के 25 साल लोग सोकर गुजार देते हैं, जानें नींद से जुड़े फन फैक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

नींद हमारी जिंदगी का अभिन्न अंग है। इसके बिना हम अगले दिन की कल्पना करने से भी डरते हैं। करें भी क्यों न? इस भागदौड़ भरी जिंदगी में थक हारकर सभी अच्छी नींद (Sleep) की चाहत रखते हैं। अब जब नींद की बात हो, तो स्वभाविक है सपनों के बारे में बात न हो यह मुमकिन नहीं है। नींद और सपनों के बीच ऐसा बहुत कुछ होता है, जो शायद आप नहीं जानते होंगे। इस आर्टिकल में आप जानेंगे नींद से जुड़े ऐसे ही फन फैक्ट्स बताएंगे।

मनुष्य ही एक मात्र प्राणी है जो नींद को कुछ देरी के लिए टाल सकता है।

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स की बात हो, तो जान लें कि  मनुष्य को छोड़कर जानवर और पक्षी अपनी नींद पर काबू नहीं कर सकते हैं। लेकिन, मनुष्य ही एकमात्र प्राणी है, जो अपनी नींद को कुछ देर तक टाल सकता है।

ये भी पढ़ें:जल्दी से वजन बढ़ाना है तो खाएं यह 10 चीजें

मनुष्य तकरीबन 25 साल नींद में बिताते हैं

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स में यह जानकर आप चौंक जाएंगे कि जिन लोगों को नींद की समस्या होती है उन्हें छोड़कर सामान्य लोग अपने पूरे जीवनकाल का लगभग 25 साल सोने में बिता देते हैं।

जो लोग देख नहीं सकते वो सपने में आवाज सुनते हैं या महसूस करते हैं

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स की बात हो, तो यह भी जान लें कि ब्लाइंड लोग भी सपने देखते हैं। वे अपने सपनों में कुछ देख तो नहीं सकते हैं लेकिन, ये लोग अपने सपने को जरूर महसूस कर सकते हैं।

नींद में इसलिए लोग चलते हैं

पैरोसोमानिया से पीड़ित व्यक्ति नींद में चल सकते हैं, खा सकते हैं यहां तक की ऐसे लोग नींद में कुछ हद तक ड्राइविंग भी कर लेते हैं। नींद से जुड़े फन फैक्ट्स में शामिल हैं।

नींद में चलने वाले को कभी नहीं जगाना?

ऐसा माना जाता है की कुल आबादी की 15 प्रतिशत जनता नींद में चलने की परेशानी से पीड़ित है। ऐसी भी धारणा है की नींद में चलते हुए व्यक्ति (स्लीपवॉकर) को जगाने से उन्हें कोमा या दिल का दौरा पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें:वजन घटाने के लिए डाइट प्लान

नींद की कमी खाने की कमी से भी घातक होता है

रिसर्च के अनुसार नींद के बिना ज्यादा से ज्यादा 11 दिनों तक रहा जा सकता है। लेकिन, कुछ दिनों तक लगातार नहीं सोने से स्थिति खराब हो सकती है। नहीं सोने की वजह से सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है जैसे भूलने की समस्या, वजन बढ़ना, पाचन तंत्र और यहां तक की व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।

नींद में देखे गए सपने आप 50 प्रतिशत तक भूल जाते हैं

आपके साथ कई बार ऐसा हुआ होगा की आप देखे गए सपने को भूल जाते हैं। लेकिन, ऐसा सिर्फ आपके साथ नहीं होता है ये हर एक व्यक्ति के साथ होता है।

लोग सपने देखने के दौरान अचानक से जाग सकते हैं

ऐसा कभी-कभी होता है कि सपने देखने के दौरान अचानक से जाग सकते हैं और आप समझ भी सकते हैं की आप सपने देखते-देखते जाग गएं। नींद से जुड़े फन फैक्ट्स जानकर आप चौंक जाएंगे कि नींद में देखें गए सपने के कारण लोग नींद से जाग भी जाते हैं।

ये भी पढ़ें: रेयर स्लीप डिसऑर्डर : कहीं आप इनमें से किसी का शिकार तो नहीं

सोने से वजन कम होता है।

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स की बात हो और इसकी बात न हो यह मुमकिन नहीं है। आप जानकर आश्चर्यचकित रह जाएंगे कि सही नींद लेने से वजन कम करने में मदद मिल सकती है। पौष्टिक आहार और एक्सरसाइज के साथ-साथ 7 से 8 घंटे की अच्छी नींद वजन करने के लिए जरूरी मानी जाती है।

कलर टीवी आने के पहले लोग सपने भी ब्लैक एंड वाइट देखते थे

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (NCBI) की रिसर्च के अनुसार कलर टीवी आने के पहले 15 प्रतिशत लोग कलरफुल सपने
नहीं देखते थे। ऐसा सिर्फ इसलिए होता था क्योंकि पहले के जमाने में ब्लैक एंड वाइट मीडिया थी।

स्लीप पैरालिसिस खतरनाक नहीं है

रिसर्च के अनुसार स्लीप पैरालिसिस यह खतरनाक नहीं है लेकिन, इसे ज्यादा नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

सोने से ठीक पहले न करें एक्सरसाइज  

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स जानने के साथ ही नींद से जुड़ी यह सावधानी जानना भी जरूरी है। सामान्य तौर पर, नियमित रूप से एक्सरसाइज करने से बेहतर नींद आती है और नींद की गुणवत्ता सुधरती है। लेकिन, अगर सोने से ठीक पहले आप एक्सरसाइज करते हैं, तो इससे नींद आने में मुश्किलें आ सकती हैं। 

बहरे लोग करते हैं नींद में बातें

क्या आप जानते हैं कि बहरे लोग अपनी नींद में भी सांकेतिक भाषा का प्रयोग करते हैं? ऐसे कई उदाहरण मिले हैं जहां बहरे लोगों को नींद के दौरान भी साइन लैंग्वेज का उपयोग करते हुए पाया गया है। नींद से जुड़े फन फैक्ट्स में यह भी शामिल है। 

डिप्रेशन और नींद का कनेक्शन

कई अध्ययनों में यह बात सामने आई है कि डिप्रेशन और नींद का बहुत गहरा संबंध है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि नींद की परेशानियों से जूझ रहे लोगों का डिप्रेशन में जाने के चांसेज काफी ज्यादा होते हैं। इसके अलावा नींद की समस्याओं का सामना कर रहे लोग बिना बात चिंता का भी शिकार हो जाते हैं। अध्ययनों में सामने आया है कि जब लोगों की नींद बार-बार टूटती है, तो ऐसे में इसका फर्क सीधा दिमाग पर पड़ता है और इसके अलावा न्यूरोकेमिकल्स का बैलेंस भी बिगड़ सकता है। इससे व्यक्ति व्यवहार और रोजमर्रा के जीवन पर सीधा असर पड़ सकता है।

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स के साथ जाने इसकी कमी से क्या नुकसान हो सकते हैं

डिप्रेशन या किसी भी कारण से इंसान की नींद में कमी आने पर इसका सीधा असर इंसान के शरीर पर पड़ता है। नींद की कमी के कारण इंसान के शरीर में कुछ न दिखने वाले लक्षणों के अलावा कुछ प्रत्यक्ष दिखने वाले लक्षण भी दिखते हैं। ऐसे में सबसे पहले इंसान में आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स दिखते हैं। साथ ही नींद की कमी होने पर इंसान में सबसे पहले एकाग्रता की कमी दिखती है और साथ ही इसका एक लक्षण यह भी हो सकता है कि इंसान पूरा दिन थकान महसूस करता है। नींद की कमी के कारण कई गंभीर बीमारियों के होने की भी आशंका बनी रहती है। इसमें हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, मेमोरी वीक होना और पेट में समस्याएं भी शामिल हैं।

नींद से जुड़े फन फैक्ट्स जानकर आप नींद को और बेहतर तरीके से समझ सकते हैं। लेकिन, अगर आप नींद से जुड़ी कोई भी परेशानी महसूस करते हैं, तो आपको हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लेनी चाहिए।

और पढ़ें :

बच्चों की नींद के पैटर्न को अपने शेड्यूल के हिसाब से बदलें

नींद की गोलियां (Sleeping Pills): किस हद तक सही और कब खतरनाक?

अच्छी नींद के जरूरी है जानना ये बातें, खेलें और जानें

ऑफिस मे नींद से बचने के लिए अपनाएं ये आसान उपाय

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या सच में स्लीप हिप्नोसिस से आती है गहरी नींद?

स्लीप हिप्नोसिस क्या है, स्लीप हिप्नोसिस कैसे किया जाता है, गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस कैसे करें, deep sleep hypnosis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
स्लीप, स्वस्थ जीवन अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Coronavirus Lockdown : क्या कोरोना के डर ने आपकी रातों की नींद चुरा ली है, ये उपाय आ सकते हैं आपके काम

महामारी में अनिद्रा की समस्या ज्यादातर लोगों को सता रही है। महामारी के कारण लोगों में अधिक चिंता बढ़ गई है जिसके कारण नींद न आने की समस्या हो रही है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्लीप, स्वस्थ जीवन अप्रैल 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Quiz : बच्चों की नींद के लिए क्या है जरूरी?

बच्चों को अच्छी नींद ऐसे में माता-पिता क्या करें?

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
क्विज फ़रवरी 10, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

ज्यादा सोने के नुकसान (Oversleeping) क्या हैं, क्या आपको भी है ज्यादा सोने की आदत? ज्यादा सोने से हो सकते हैं ये नुकसान, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। ज्यादा सोने के नुकसान in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
स्लीप, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेडिक्लोरील

Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों को नींद न आना-bacho-ko-neend-na-aana

बच्चों को नींद न आना नहीं है मामूली, उनकी अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
नींद की गोली

इंसोम्निया में मददगार साबित हो सकती हैं नींद की गोली!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
प्रकाशित हुआ मई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न

महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न क्यों होते हैं अलग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें