home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

नवजात शिशु की नींद के पैटर्न को अपने शेड्यूल के हिसाब से बदलें

नवजात शिशु की नींद के पैटर्न को अपने शेड्यूल के हिसाब से बदलें

नवजात शिशु की नींद का समय ही नए पेरेंट्स के लिए उनके खुद के लिए बचा थोड़ा समय रह जाता है। यह समय उनके लिए आराम करने और अन्य जरूरी काम निपटाने का मौका होता है। यह वो समय है जब शायद वे खुद झपकी ले लेते हैं? सभी पेरेंट्स इस बात से सहमत होंगे कि पेरेंटिंग कोई आसान काम नहीं है और साथ ही आपको अपना सारा काम और यहां तक कि अपनी खाने की आदतों को भी बच्चों के सोने के लिहाज से बदलनी पड़ जाती हैं। ऐसे में खुद को थोड़ा समय देने के लिए आप बच्चे की नींद के पैटर्न में बदलाव कर सकते हैं।

और पढ़ेंः क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

नवजात शिशु की नींद के लिए सामान्य टिप्स

  • बच्चे प्यार भरे और सुरक्षित माहौल में ज्यादा खुश और शांत रहते हैं। इससे वे सुरक्षित महसूस करते हैं।
  • नवजात शिशु की नींद का रूटिन बनाने में मदद करने के लिए बच्चों को अकेले सोने के लिए छोड़ें और उन्हें खुद को मैनेज करना सीखाएं।
  • सोने से पहले एक ही दिनचर्या को दिन और रात दोनों के लिए लागू करने की जरूरत होती है।
  • बच्चें जो केवल अपने माता-पिता के साथ सोना सीखते हैं उन्हें बाद में खुद को मैनेज करने में परेशानी होती हैं।
  • अगर आप अपने बच्चे को खुद से मैनेज करना सीखाते हैं, तो आपको पहले अपने रिएक्शन बदलने होंगे।
  • अगर आपके एक से अधिक बच्चे हैं, तो उनका रूटिन एक ही समय पर बनाएं। ऐसा करने से आपके पास एक ब्रेक होगा।

नवजात शिशु की नींद क्यों जरूरी है?

वैसे तो उम्र के हिसाब से शिशु की नींद एक शिशु को कम से कम आठ से नौ घंटे नींद लेना आवश्यक होता है। जब एक बच्चा सोता है, तो उसके अंदर बहुत से बायोलॉजिकल प्रोसेस होते हैंः

  • वो अपनी एनर्जी बचाते हैं।
  • ग्रोथ हॉर्मोन रिलीज करते है।
  • इससे उनमें याद रखने की क्षमता बढ़ती है।
  • खुश रहने के लिए

और पढ़ेंः बच्चों में शर्मीलापन नहीं है कोई परेशानी, दें उन्हें उनका ‘मी-टाइम’

अपने बच्चे की नींद की जरूरतों को समझें

पहले 2 महीनों के दौरान, आपके नवजात शिशु को अच्छे से खाने की जरूरत होती है, उसे अच्छे से सोने की जरूरत होती है। ऐसे में यदि आप स्तनपान कर रही हैं, तो वह लगभग हर 2 घंटे में भोजन कर सकती है, और यदि आप अभी भी अपने बच्चे को बोतल से दूध पिलाती हैं, तो शायद थोड़ा कम आहार लेना सही है। आपका बच्चा दिन में 10 से 18 घंटे, कभी-कभी एक समय में 3 से 4 घंटे तक सो सकता है। लेकिन बच्चे दिन और रात के बीच का अंतर नहीं जानते हैं। इसलिए वे इस बात के लिए सोते हैं कि यह किस समय है। इसका मतलब है कि आपके बच्चे का विस्तृत समय 1 बजे से सुबह 5 बजे तक हो सकता है। 3 से 6 महीने तक, कई बच्चे 6 घंटे तक सो पाते हैं। लेकिन जैसा कि आपको लगता है कि आपका बच्चा एक अच्छी दिनचर्या में शामिल हो रहा है। आमतौर पर 6 से 9 महीनों के बीच सामान्य विकास चरण चीजों को फेंक सकते हैं। उदाहरण के लिए, जब आपका शिशु अकेले रहना छोड़ रहा है, तो वह आपको अपने आसपास रखने के लिए रोना शुरू कर सकती है।

इन वजहों से बदलता है नवजात शिशु की नींद का पैटर्न

  • हर बच्चे की उम्र, परिपक्वता और उनके विकास की गति सोने के समय में बदलाव का कारण होती है।
  • बच्चों के सोते समय घर में और क्या चल रहा है, यह भी नवजात शिशु की नींद के पैटर्न पर असर डालता है।
  • माता-पिता बच्चे को दिन में कितनी देर सुलाते हैं। यह भी उनकी नींद के पैटर्न पर असर डालता है।
  • परिवार की लाइफस्टाइल भी नवजात शिशु की नींद को प्रभावित करती है।
  • एक्टिव बच्चे शारीरिक रूप से अधिक थक जाते हैं और सोना चाहते हैं।
  • घर में होने वाला शोर भी नवजात शिशु की नींद के पैटर्न के लिए जिम्मेदार है।
  • आहार और दूध का सेवन। जिन बच्चों को भूख ज्यादा लगती है, वे जल्दी जाग जाते हैं। प्रोटीन और आयरन बच्चे के दिमाग और उनके विकास के लिए जरूरी हैं।

और पढ़ेंः बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

बच्चों की दिन की नींद किस उम्र से होती है कम

आम तौर पर 14 महीने की उम्र बच्चा दिन में कम सोने लगता है। कुछ टॉडलर्स इससे कम उम्र में दिन में सोना छोड़ देते हैं और कुछ इससे बड़े होने के बाद भी दिन में सोना जारी रखते हैं। लेकिन, आमतौर पर बच्चों के लिए 14 महीने को दिन की नींद छोड़ने के लिए औसत आयु माना जाता है। एक सामान्य पैटर्न यह है कि सुबह की नींद थोड़ी देर से आती है। दोपहर की नींद पहले आती है और शाम की नींद को दोपहर के भोजन के बाद एक साथ दिया जाता है।

दो बार सुलाने की बजाए जब आप बच्चे को एक बार सुलाते हैं, तो कुछ दिन ऐसे होंगे जब आपका बच्चा और सोना चाहेगा। कुछ दिनों में वे एक नींद के लिए पूरी तरह से कंफर्टेबल हो जाते हैं। जब वे विकास के दौर से गुजर रहे होते हैं, तो उनके अधिक थके होने की संभावना होती है। आप देखते हैं कि जब वो दिन में नहीं सोते, तो उन्हे रात में थोड़ा जल्दी सोने की जरूरत होती है या अगर वे सुबह बहुत जल्दी उठते हैं, तो उन्हें दिन में दो बार सोने की जरूरत होती है।

नवजात शिशु की नींद के लिए माता-पिता को फ्लेक्सिबल रहना पड़चा है। बच्चे को दो बार से एक बार सुलाने के लिए माता-पिता को अच्छी तरह से मैनेज करने में अधिक समय और थोड़ी संवेदनशीलता की जरूरत होती है।

और पढ़ेंः बच्चों के साथ ट्रैवल करते हुए भूल कर भी न करें ये गलतियां

नवजात शिशु की नींद में बदलाव लाने के जरूरी टिप्स

  • अगर आपका बच्चा लगभग 14 महीने का है और अभी भी दो टाईम की नींद ले रहा है, तो ऐसे संकेतों को देखें कि वह कब एक टाइम की नींद को छोड़ने के लिए तैयार हैं। जब बच्चा एक ही टाइम सोता है, तो वह देर तक सोता है, जिससे पेरेंट्स को ज्यादा समय मिलता है।
  • अगर आपका बच्चा सोने के समय बिल्कुल एक्टिव और सतर्क रहता है, तो उनके इशारों को समझें, वह दिन में सोना छोड़ने के लिए तैयार हैं।
  • जब नवजात शिशु की नींद में बदलवा करना हो, तो दोपहर का भोजन जल्दी कराएं और फिर अपने बच्चे को सुलाएं।
  • बच्चों को दोपहर का भोजन लगभग 11 से 12 बजे के बीच कराएं और फिर कुछ घंटों की नींद उनके स्लीपिंग पैटर्न को बदलने में मदद करती है।
  • कई बार बच्चे गीलेपन से सो नहीं पाते हैं। जब रात में सोते हुए उनका डाइपर गीला हो जाता है, तो बच्चे की नींद टूट जाती है। इसके लिए अच्छी क्वालिटी के डाइपर लेने चाहिए। इसके साथ ही रात में एक बार बच्चे का डाइपर बदलने की आवश्यकता पड़ सकती है।
  • अगर आपके बच्चे को दौड़ना या चलना पसंद है, तो सुबह या शाम को जागने के बाद उसे चलने दें।
  • अगर वह दिन में दो बार नींद ले रहा है या वह दोपहर 3 बजे के बाद जाग रह है, तो वे रात को सोने के लिए अनिच्छुक हो सकते हैं।
  • दिन और रात दोनों समय सोने के लिए एक ही रूटीन को फॉलो करें। कंसिस्टेंसी जरूरी है।
  • अपने टॉडलर के थके हुए इशारों के प्रति संवेदनशील रहें। वे आपको बताएंगे कि उन्हें अभी भी कितनी नींद की जरूरत है।
  • अपने बच्चे की नींद और रूटीन के लिए फ्लेक्सिबल रहें।

इस वीडियो में जानें, क्यों करना चाहिए सूर्य नमस्कार? एक योगासन से कैसे मिलता है 12 योगासन का फायदा?

और पढ़ें: बच्चे के सुसाइड थॉट को अनदेखा न करें, इन बातों का रखें ध्यान

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में नवजात शिशु की नींद से जुड़ी हर जानकारी देने की कोशिश की गई है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो अपना सवाल कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। हम अपने एक्सपर्ट्स से आपके सवाल का जवाब दिलाने की पूरी कोशिश करेंगे। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट सेक्शन में बता सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Sleep and Your Newborn https://kidshealth.org/en/parents/sleepnewborn.htmlAccessed on 26 November 2019

Healthy Sleep Habits for Infants and Toddlers https://www.nationwidechildrens.org/family-resources-education/health-wellness-and-safety-resources/helping-hands/healthy-sleep-habits-for-infants-and-toddlers Accessed on 26 November 2019

Infant Sleep https://www.stanfordchildrens.org/en/topic/default?id=infant-sleep-90-P02237Accessed on 26 November 2019

How to sleep better: 10 tips for children SHARE https://raisingchildren.net.au/toddlers/sleep/better-sleep-settling/sleep-better-tips Accessed on 26 November 2019

Toddler Bedtime Trouble: Tips for Parents https://www.healthychildren.org/English/healthy-living/sleep/Pages/Bedtime-Trouble.aspx Accessed on 26 November 2019

 

लेखक की तस्वीर badge
Lucky Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/10/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x