home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

नवजात की देखभाल करने के लिए नैनी या आया को कैसे करें ट्रेंड?

नवजात की देखभाल करने के लिए नैनी या आया को कैसे करें ट्रेंड?

नई मां बनने और नवजात की देखभाल से जुड़ी बातों की देखरेख करने के लिए मां मैटरनिटी लीव का फायदा ले सकती हैं। हालांकि, अधिकतर कंपनियां मैटरनिटी लीव के तौर पर कुल मिलाकर छह महीने की ही छुट्टी देते हैं। जो कि बच्चे की परवरिश और देखभाल के लिए बहुत ही कम समय होता है। देखा जाए, तो जब तक बच्चा पांच साल का नहीं हो जाता है, उसकी हर छोटी-मोटी जरूरतों को पूरा करने के लिए उसकी मां का उसके साथ रहना बहुत जरूरी होता है। ऐसे में एक वर्किंग पेरेंट्स अपने नवजात की देखभाल करने के लिए मेड, नैनी या आया को अधिक भरोसेमंद मानते हैं। लेकिन नवजात की देखभाल करने के लिए आपको अपनी मेड, नैनी या आया को किस तरह से ट्रेंड करना चाहिए, इस बात का भी काफी ध्यान रखना चाहिए।

और पढे़ंः MTHFR गर्भावस्था: पोषक तत्व से वंचित रह सकता है आपका शिशु!

नवजात की देखभाल के लिए कैसे चुनें परफेक्ट नैनी?

नवजात की देखभाल के लिए अगर आप भी नैनी या आया की तलाश कर रहें हैं, तो सबसे पहले इन जरूरी बातों का ध्यान रखें। जिनमें शामिल हैंः

नवजात की देखभाल के लिए जानें बच्चे की रूटीन

आपके नवजात की देखभाल के लिए नैनी या आया को चुनते समय सबसे पहले आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपको आया किस काम के लिए चाहिए। अपने नवजात बच्चे की देखभाल के लिए अपनी जरूरतों को जानें। साथ ही, अपने बच्चे के सोने और खाने-पीने का रूटीन भी समझें। बच्चा दिन में कितने घंटे सोता है, नींद खुलने पर क्या वह दूध पीने के बाद फिर से सो जाता है या खेलता है। बच्चे के टॉयलेट करने का समय। दिन या रात में कितनी बार बच्चा टॉयलेट करता है, इन जैसी सारी बातों को नोट करें और अपनी नई आया को इसकी एक लिस्ट दें। ताकि वह नवजात की देखभाल अच्छे तरीके से कर पाए।

बच्चे का आहार

अपने नवजात की देखभाल करने के लिए आप बच्चे को किस समस किस तरह का और कितनी मात्रा में आहार देते हैं, इसकी भी एक लिस्ट अपनी नैनी को दें। साथ ही, अपनी आया को यह भी बताएं कि आपके नवजात बच्चे को खाना खिलाने या पिलाने के लिए आप किन तरह के तरीकों का इस्तेमाल करते हैं, क्योंकि छोटे बच्चों को खिलाना-पिलाना सबसे बड़ा टास्क होता है।

और पढे़ंः शिशुओं की सुरक्षा के लिए फॉलो करें ये टिप्स, इन जगहों पर रखें विशेष ध्यान

बच्चे के कपड़े और खिलौने

आप अपने नवजात की देखभाल करने के लिए किस तरह के कपड़े पहनाना पसंद करते हैं या नवजात की देखभाल करने के लिए आप किस तरह के खिलौनों का इस्तेमाल करना पसंद करते हैं, इसकी भी पूरी जानकारी आपको आपनी नई आया के साथ शेयर करनी चाहिए।

आपके नवजात की उम्र

अगर आप जन्म के तुरंत बाद ही अपने नवजात की देखभाल के लिए किसी आया या नैनी के रखने का विचार कर रहे हैं, तो इसके लिए हमेशा किसी नर्स का चुनाव करना सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है। लेकिन अगर आपका बच्चा दो साल के कम उम्र का है, तो आप बच्चे के लिए नैनी की मदद ले सकते हैं। और अगर आपका बच्चा 5 साल या उससे बड़ी उम्र का है, तो आप बेबी सिटर की मदद ले सकते हैं। इसके अलावा ऐसे कई संस्थान हैं, जो आपको अपने नवजात की देखभाल करने के लिए आपको नैनी, बेबी सिटर या आया की सर्विस देते हैं। आप उनकी भी मदद ले सकते हैं।

और पढ़ेंः शिशु की देखभाल के जानने हैं टिप्स तो खेलें क्विज

जिद्द करने पर क्या करें

छोटे बच्चों की ही तरह नवजात बच्चे भी काफी जिद्दी होते हैं। जैसे किसी असुरक्षित खिलौने से खेलने की जिद करना, खाना न खाना आदि। अपने नवजात बच्चे की आदतों के बारे में भी अपनी नई नैनी से बात करें। साथ ही, उन्हें बताएं कि शिशु के जिद्द करने पर उन्हें क्या करना चाहिए या किस तरह बच्चे को मनाना चाहिए।

नवजात की देखभाल के लिए नैनी, आया या बेबी सिटर चुनने के लिए किन बातों का ध्यान रखें?

अगर आप अपने नवजात की देखभाल के लिए नैनी या आया का विचार कर रहें है, तो निम्न बातों का ध्यान रखें और उनसे इन जरूरी सवालों के बारे में पूछें, जिसमें शामिल हैंः

उनका अनुभव जानें

अपने नवजात की देखभाल के लिए आपको हमेशा कई सालों के अनुभव वाले नैनी या आया को ही चुनना चाहिए। क्योंकि वे अपने अनुभव से आपके बच्चे की देखभाल और परवरिश सबसे अच्छे तरीके से कर सकती हैं।

और पढ़ेंः ऐसे जानें आपका नवजात शिशु स्वस्थ्य है या नहीं? जरूरी टिप्स

इमरजेंसी होने पर क्या करेंगी

अपने नई नैनी या आया से यह सवाल पूछें कि, मान लीजिए कभी इमरजेंसी जैसी स्थिति होती है, तो वह क्या कर सकती हैं? क्या उन्हें इमरजेंसी हेल्प लाइन नंबर पता है, क्या उन्हें आपके घर के आस-पास के बेबी क्लिनिक की जानकारी है, क्या उन्हें फर्स्ट एड की जानकारी है? अगर उन्हें इन सारी स्थितियों की जानकारी होगी, तो वह आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकती हैं।

[mc4wp_form id=”183492″]

उनके व्यवहार से जुड़ा फीडबैक लें

अगर आपकी नैनी को पहले भी नवजात की देखभाल करने का अनुभव रहा है, तो उनके अनुभव का फीडबैक लें। इसके लिए आप उनके संस्थान या वो पहले जहां जिस नवजात बच्चे की देखभाल कर चुकी हैं, उस परिवार से मिले। उनसे बात करें कि उनके बच्चे के साथ उनकी नैनी या आया का व्यवहार कैसा था। क्या वह बच्चे की सारी बातों का ध्यान रखती थीं।

हाईजीन की जानकारी

छोटे बच्चों की देखभाल करते समय साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इसके बारे में अपनी नैनी से खुलकर बात करें। साथ ही, जब वह आपके बच्चे के साथ होती हैं, तो उनके साफ-सफाई से जुड़ी आदतों को भी नोटिस करें। साथ ही इस बात का भी ख्याल रखें कि त्वचा संबंधी कोई बीमारी है कि नहीं नाखून कटे हुए और साफ है कि नहीं यह भी देखना न भूलें।

काम के साथ कुछ पढ़ाई की भी बात करें

आपने देखा होगा कि छोटे बच्चे के साथ खेलते हुए अक्सर लोग किसी न किसी तरह की कविता या कहानी बच्चे को सुनाते रहते हैं। इससे बच्चा भी इन बातों पर बड़ी ही गौर से सुनता है और उनका सोशल स्किल भी अच्छा बनता है। अगर आपकी नैनी भी इस बात की जानकारी रखती है, तो वह आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकती हैं।

टाइम मैनेजमेंट पर बात करें

दिन या रात में आपनी नई नैनी आपके नवजात बच्चे की देखभाल करने के लिए कितने घंटे काम कर सकती है, इस बारे में भी पहले ही सारी बातें क्लीयर कर लें। साथ ही आपको अपने ऑफिस आने-जाने का समय भी फिक्स करना होगा। ताकि, आपके तय समय पर आप घर आ जाएं और आपकी नैनी भी अपने काम से छुट्टी लेकर घर जा सके।

इन बातों का भी ध्यान रखें

  • इस बात का पूरा ख्याल रखें कि आपनी नैनी या आया सिर्फ आपके नवजात की देखभाल करने के लिए होती हैं। उन्हें घर से जुड़े किसी भी दूसरे कार्य को करने के लिए कभी भी फोर्स न करें।
  • अगर किसी दिन आपका घर पर देरी से आने का प्लान है, तो इसके बारे में अपनी नैनी को एक दिन पहले ही बता दें। लेकिन, बार-बार ऐसा न करें। ऐसा करने के आपकी नैनी बच्चे और आपके चिढ़ सकती है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

6 Tips to Help You Find The Perfect Aayah!. https://parenting.firstcry.com/articles/6-tips-to-help-you-find-the-perfect-aayah/. Accessed on 07 April, 2020.

Weighing the Pros and Cons of Nannies vs. Daycares. https://www.verywellfamily.com/daycare-vs-nanny-pros-and-cons-4126425. Accessed on 07 April, 2020.

Nanny vs. Daycare: What’s Best for Your Kid?. https://www.healthline.com/health/parenting/nanny-vs-daycare#1. Accessed on 07 April, 2020.

How to Be a Good Babysitter: 11 Tips. https://www.healthline.com/health/parenting/how-to-be-a-good-babysitter. Accessed on 07 April, 2020.

लेखक की तस्वीर badge
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/07/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड