home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

नवजात की कार्डिएक सर्जरी कर बचाई गई जान, जन्म के 24 घंटे के अंदर करनी पड़ी सर्जरी

नवजात की कार्डिएक सर्जरी कर बचाई गई जान, जन्म के 24 घंटे के अंदर करनी पड़ी सर्जरी

चिकित्सकों द्वारा जन्म के मात्र 24 घंटे के बाद ही नवजात की सर्जरी कर उसकी जान बचाने का मामला सामने आया है। यहां नवजात की कार्डिएक सर्जरी की गई, जो एक दिन के बच्चे की सर्जरी के लिहाज से देखा जाए, तो एक बड़ी उपलब्धि है। दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में यह सर्जरी की गई। इस बच्चे का जन्म संकरी महाधमनी(Aorta) वाल्व के साथ हुआ था। साथ ही इस बच्चे के हार्ट में एक लीफलेट भी नहीं था। इस कारण उसके शरीर में नियमित ब्लड फ्लो नहीं हो पा रहा था। डॉ. गौरव गर्ग सीनियर कंसल्टैंट, पीडिएट्रिक कार्डियोलॉजी, फोर्टिस हॉस्पिटल के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम ने नवजात की कार्डिएक सर्जरी को अंजाम दिया।

कब पता लगा करनी होगी नवजात की कार्डिएक सर्जरी

डॉक्टरों के सामने यह मामला तब आया, जब गर्भावस्था के 34वें हफ्ते में परिवार गर्भवती महिला की जांच के लिए अस्पताल आया यानि इस समय यह महिला लगभग आठ महीने की गर्भवती थी।

क्यों करनी पड़ी नवजात की कार्डिएक सर्जरी

गर्भवती महिला के भ्रूण की जांच में पता लगा कि बच्चे के दिल में तीन की जगह दो ही लीफलेट्स थे और संकरी महाधमनी वाल्व के साथ गंभीर हार्ट डिसऑर्डर था। (महाधमनी वाल्व के ठीक से बंद न होने पर महाधमनी अपर्याप्तता होती है।) डॉक्टर्स की टीम ने बच्चे की हेल्थ के बारे में परिवार को जानकारी दी। साथ ही डॉक्टर्स ने बच्चे के इलाज की भी रणनीति तैयार की। हालांकि डिलिवरी बिना किसी कॉम्पलीकेशन के नॉर्मल हुई। इसके तुरंत बाद नवजात की हालत बिगड़ने लगी और जन्म के तुरंत बाद नवजात की कार्डिएक सर्जरी करने की जरूरत पड़ी। फोर्टिस हॉस्पिटल के डॉ. गौरव गर्ग ने कहा कि नवजात की कार्डिएक सर्जरी में सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि बच्चे का जन्म बिना किसी कॉम्पलीकेशन के हो। डॉ. गर्ग ने बताया कि जन्म के बाद डॉक्टर्स की टीम ने बच्चे को नियोनिटल आईसीयू (NICU) में निगरानी में रखा। लेकिन, इसके बावजूद नवजात की हालत तेजी से बिगड़ने लगी, जिसके बाद उसे वेंटिलेटर पर रखना पड़ा। जहां से उसे कैथ लैब में ले जाया गया और यहां संकुचित वाल्व को सफलतापूर्वक खोला गया। यह सर्जरी लगभग दो घंटे तक चली। इस सर्जरी में सबसे बड़ी चुनौती थी कि नवजात शिशु की हार्ट की संरचनाएं बहुत नाजुक और छोटी थीं और सर्जरी के दौरान हार्ट में प्रवेश करने के लिए वैस्‍कुलर ऐक्‍सेस तक में बेहद कुशलता और सटीकता की जरूरत होती है। डॉ. गर्ग आगे कहते हैं कि भगवान का शुक्र है कि सब कुछ ठीक रहा।

और पढ़ें: Cardiac Blood Pool Scan: कार्डिएक ब्लड पूल स्कैन क्या है?

नवजात की कार्डिएक सर्जरी हो जाने के बाद मां ने डॉक्टर्स का धन्यवाद देते हुए कहा कि हम बहुत खुश है डॉक्टर्स ने इतनी जटिल सर्जरी को सफलतापूर्वक करके हमारे बच्चे को बचा लिया है। सर्जरी के एक दिन बाद तक बच्चे को वेंटिलेटर पर जरूर रखना पड़ा लेकिन उसके बाद बच्चा स्वस्थ है और मैं उसे ब्रेस्टफीड करा सकती हूं और यह मेरे जीवन का सबसे सुखद अनुभव है।

वहीं महिपाल सिंह भनोट फैसिलिटी डायरेक्टर, फोर्टिस हॉस्पिटल ने कहा कि इस केस में टीम के डॉक्टर्स ने विचार-विमर्श और सावधानी से की सर्जरी से नवजात की कार्डिएक सर्जरी कर नवजात की जान बचाई। साथ ही इस केस में गर्भवती महिला जिसकी यह पहली डिलिवरी थी बहुत ही आशंकित थीं। पहली डिलिवरी में ही कॉम्पलीकेशन के कारण महिला बहुत घबराई हुई भी थी।

नवजात की कार्डिएक सर्जरी में ये थीं जटिलताएं

डॉ सिंह ने नवजात के केस के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जब महाधमनी वाल्व में तीन के बजाए केवल दो लीफलेट्स होते हैं, तो इसे बाइकस्पिड एऑर्टिक वाल्‍व (BAV) कहा जाता है। अक्सर वाल्‍व के लीफलेट्स सामान्‍य से मोटे और कम लचीले होते हैं और उनके बीच विभेदक रेखाएं वेरिएबल डिग्री तक उन्‍हें एक-दूसरे फ्यूज्‍ड करते हैं। नवजात में गंभीर महाधमनी वाल्व स्टेनोसिस की वजह से जन्‍म के पहले ही दिन हार्ट फेल्‍यर होने का खतरा रहता है। यह एक आपातकालीन स्थिति है, जिसमें वाल्व के बलून का फैलाव करने या सर्जरी के जरिए तत्‍काल उपचार की आवश्‍यकता होती है।

और पढ़ें: थायरॉइड और कार्डिएक अरेस्ट के बीच क्या है कनेक्शन?

क्या करता है महाधमनी वाल्व

महाधमनी वाल्व हृदय से महाधमनी(Aorta) में रक्त के प्रवाह को नियंत्रित करता है। महाधमनी प्रमुख रक्त वाहिका है, जो शरीर में ऑक्सीजन युक्त रक्त को पहुंचाती है।

क्या होते हैं BAV के कारण

महाधमनी वाल्व हृदय से महाधमनी (Aorta) तक ऑक्सीजन युक्त रक्त पहुंचाता है। जब पंपिंग चैंबर काम नहीं कर रहा होता है, तब यह रक्त को महाधमनी से हृदय में वापस जाने से भी रोकता है। बाइसेपिड महाधमनी वाल्व(BAV) जन्म के समय से ही दाईं ओर मौजूद होता है। इस समस्या में निचले बाएं वेंट्रिकल और महाधमनी के बीच का वाल्व ‎केवल दो क्यूप्स होता है। वहीं एक नॉर्मल हार्ट में ये तीन होते हैं। BAV से ग्रसित इंसान में जल्दी थकने, कमजोर इम्यून सिस्टम और हार्ट से संबंधित असमान्य ‎गतिविधियों के लक्षण दिख सकते हैं।

और पढ़ें: हार्ट अटैक और कार्डिएक अरेस्ट में क्या अंतर है?

BAV जन्म के समय ही मौजूद होता है। एक असामान्य महाधमनी वाल्व गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों के दौरान तब विकसित होता है जब बच्चे का दिल विकसित हो रहा होता है। इस समस्या का कारण स्पष्ट नहीं है, लेकिन यह सबसे आम जन्मजात हृदय रोगों में से एक है। BAV अक्सर अनुवांशिक हो सकता है।

हो सकता है कि एक BAV पूरी तरह से रक्त को हृदय में वापस जाने से रोकने में कारगर न हो। इस रिसाव को एऑर्टिक रिगरगीटेशन (aortic regurgitation) कहा जाता है। महाधमनी वाल्व भी कठोर हो सकता है और इसके खुलने में अवरोध पैदा हो सकता है। इसे एऑर्टिक स्टेनोसिस कहा जाता है, जो वाल्व के माध्यम से रक्त प्राप्त करने के लिए हृदय को सामान्य से अधिक कठिन तरीके से पंप करने का कारण बनता है।

और पढ़ें:कार्डिएक अरेस्ट से बचने के लिए रखें इन बातों का खास ख्याल

पुरुष ज्यादा होते हैं BAV के शिकार

BAV महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक पाया जाता है। बीएवी अक्सर शिशुओं में संकरी एऑर्टिक के कारण होता है। बीएवी उन बीमारियों में भी देखा जाता है, जिनमें हृदय के बाईं ओर रक्त प्रवाह में रुकावट होती है।

और पढ़ें: नवजात शिशु का मल उसके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताता है?

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इस आर्टिकल में हमने आपको नवजात की कार्डिएक सर्जरी के बारे मेंं बताने की कोशिश की है। जिससे आपको इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी मिल सके। आशा करते हैं आपको इस आर्टिकल की जानकारियां काम आएंगी। तो अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया है, तो हमारा ये आर्टिकल ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ जरूर शेयर करें, ताकि ये काम की जानकारियां उन तक पहुंच सके। अगर आपके मन में इस बारे में और भी कोई सवाल हैं, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सभी सवालों के जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Congenital heart disease in adults- https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/bicuspid-aortic-valve/cdc-20385577 – Accessed on 10/12/2019

Bicuspid aortic valve- https://medlineplus.gov/ency/article/007325.htm – Accessed on 10/12/2019

Bicuspid Aortic Valve (BAV): https://www.umcvc.org/conditions-treatments/bicuspid-aortic-valve-bav Accessed on 17/07/2019

Bicuspid Aortic Valve: https://www.nationwidechildrens.org/conditions/bicuspid-aortic-valve Accessed on 17/07/2019

Balloon Aortic Valvuloplasty (BAV): https://stanfordhealthcare.org/medical-treatments/a/aortic-valve-surgery/types/ballon-aortic-valvuloplasty.html Accessed on 17/07/2019

Causes and Diagnoses of Bicuspid Aortic Valve: https://www.nm.org/conditions-and-care-areas/cardiovascular-care/center-for-heart-valve-disease/bicuspid-aortic-valve/causes-and-diagnoses Accessed on 17/07/2019

लेखक की तस्वीर
Govind Kumar द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/07/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x