बिना दवा के कुछ इस तरह करें डिप्रेशन का इलाज

Medically reviewed by | By

Update Date जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

हमारा देश तेजी से बदल रहा है और तेजी से बदल रही है, हमारी जीवनशैली और आदतें। ऐसी स्थिति में आए दिन मानिसक कष्ट औरअवसाद के लक्षण कई लोगों में चलते फिरते दिखाई दे रहे हैं। देश में ऐसे कई हजार लोग हैं, जो रोजाना अवसाद यानी डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। आंकड़ों की मानें तो, विश्वभर में तकरीबन 300 मिलियन लोग डिप्रेशन के शिकार हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि हर साल काफी संख्या में लोग डिप्रेशन के कारण आत्महत्या कर लेते हैं और यह आंकड़े काफी ज्यादा बढ़ते भी जा रहे हैं।

यही कारण है कि लोग डिप्रेशन का इलाज (Depression ka ilaaj) कराने के लिए काफी जागरूक भी हो गए हैं। डिप्रेशन का इलाज (Depression ka ilaaj) संभव है, बशर्ते इसे समय पर कराया जाए। यही नहीं, आप बिना दवाओं के भी इस समस्या से बाहर निकल सकते हैं। इसके लिए बस जरूरत है, तो जीवनशैली में बदलाव की। जानिए आप किस तरह थोड़े-से बदलाव से ही डिप्रेशन से बाहर निकल सकते हैं। इससे पहले जानिए कि डिप्रेशन के लक्षण क्या हैं।

डिप्रेशन (Depression) के लक्षण क्या है?

हर किसी में डिप्रेशन के लक्षण अलग तरह के हो सकते हैं। जैसे, बहुत ज्यादा सोना या फिर किसी को भूख न लगने की समस्या हो सकती है। इसके अलावा, डिप्रेशन के अन्य कई लक्षण हो सकते हैं। इन लक्षणों को आप समझें और अनदेखा न करें। जानिए क्या हैं वो लक्षण :

  • किसी भी काम में ध्यान नहीं लगा पाना। ऐसे में आप चाहकर भी किसी काम में मन नहीं लगा पाते हैं।
  • उदास रहना अकेलापन महसूस करना। फिर चाहे आपके आसपास कितने ही लोग क्यों न हों।
  • ऐसा महसूस होना कि भविष्य अच्छा नहीं है। ये लक्षण भी डिप्रेशन के लक्षण हो सकते है।
  • बैचेनी महसूस होना भी डिप्रेशन के लक्षणों में से एक हैं।
  • सेक्स में दिलचस्पी खोना भी डिप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं।
  • गंभीर डिप्रेशन में सुसाइड के विचार आते हैं। कई लोग तो डिप्रेशन के कारण सुसाइड कर भी चुके हैं।
  • ऊपर दिए गए कुछ लक्षण हो सकते हैं। अगर आप किसी लक्षण से परेशान हैं, तो आप अपने डॉक्टर का संपर्क करें।

तो अगर आपको ऊपर बताए गए लक्षण नजर नजर आते हैं, तो इन्हें अनदेखा न करें। ये लक्षण डिप्रेशन के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे बहुत से तरीके हैं जिनकी मदद से आप डिप्रेशन से बाहर निकल सकते हैं। इसके लिए आपको न किसी डॉक्टर के पास जाने की जरूरत होगी, न ही कोई दवा लेने की जरूरत पड़ेगी।

डिप्रेशन का इलाज – करीबी दोस्त के साथ हर हफ्ते कम से कम एक घंटा बिताएं

एक ब्रिटिश अध्ययन में पाया गया है कि जब 86 प्रतिशत अवसादग्रस्त महिलाओं को उनकी बेस्ट फ्रेंड से मिलाया गया, तो 65 प्रतिशत महिलाओं ने बेहतर महसूस किया। नियमित रूप से सामाजिक संपर्क और मेल-जोल ने अवसाद पीड़ित लोगों पर अवसादरोधी दवा और मनोचिकित्सा के रूप में काम किया। एक करीबी दोस्त के साथ नियमित सामाजिक संपर्क आत्मविश्वास बढ़ा सकता है और आपको अन्य सकारात्मक बदलाव करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है, जो अवसाद पर काबू पाने में मदद करेगा, जैसे कि व्यायाम या कोई नया काम शुरू करना।

और पढ़ें : Depression: डिप्रेशन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

डिप्रेशन का इलाज – हर दिन कुछ मिनट पालतू कुत्ते के साथ खेलें

एक अध्ययन में ये बात समाने आई कि लोगों ने जब एक कुत्ते के साथ दिन में केवल कुछ मिनट खेला, तो उन्हें मानसिक रूप से बहुत रिलैक्स फील हुआ। विज्ञान ने पालतू जानवर के साथ खेलने और समय बिताने से होने वाले आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभों को पहले ही साबित कर दिया है। अवसाद पर काबू पाने और इन फील-गुड इफेक्ट्स का अनुभव करने के लिए आपको कुत्ते पालने की आवश्यकता नहीं है। अपने पड़ोसी के कुत्ते को कुछ मिनटों के लिए बाहर घुमाने ले जाएं उसके साथ खेलें और वक्त बिताएं।

डिप्रेशन का इलाज – सप्ताह में तीन बार 12 मिनट की मालिश करें

चाहे आप किसी स्पा का सहारा लें या जीवनसाथी या मित्र से। उन्हें अपनी पीठ की मसाज करने को कहें। मालिश एक प्राकृतिक मनोदशा को बढ़ावा देती है और आपको बैंलेस रखती है। डायलिसिस रोगियों के एक अध्ययन में, उन्हें तीन बार 12 मिनट की मालिश मिली, वे उन लोगों की तुलना में कम उदास थे, जिन्हें सुखदायक मालिश नहीं कराई। उदास गर्भवती महिलाओं के एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने अपने सहयोगियों से एक सप्ताह में दो बार 20 मिनट की मालिश कराई, उनमें अवसाद की घटनाओं में 70 प्रतिशत की कमी आई।

और पढ़ें : चिंता VS डिप्रेशन : इन तरीकों से इसके बीच के अंतर को समझें

मनपसंद फल खाएं

अखरोट, कीवी, केला, खट्टी चेरी, अनानास, टमाटर और आलूबुखारा सभी प्राकृतिक रूप से सेरोटोनिन से भरपूर होते हैं। अवसाद पर काबू पाने वालों के लिए ये जोरदार फ्रूट आइटम हैं। सेरोटोनिन आपके दिमाग को सतुलित रखता है और डिप्रेशन से बचाव करता है। इसलिए, अपने मनपंसद फल खाते रहिए और बिना दवा के डिप्रेशन का इलाज करें।

जरूरी नहीं कि हर बीमारी का इलाज दवा ही हो। हम खुद की अच्छी देखभाल और हेल्दी आहर से भी अपने रोगों का निदान कर सकते है। इसी तरह आप डिप्रेशन का इलाज भी कर सकते हैं।

तो अगर आपका कोई परिचित या आप डिप्रेशन (Depression) की समस्या से जूझ रहे हैं, तो इसे अनदेखा न करें। आप इसके लक्षणों को सही समय पर पहचानें और इससे निपटने के लिए ऊपर बताया गया डिप्रेशन का इलाज अपनाएं। लेकिन अगर आपको लगे कि ये समस्या ज्यादा बढ़ रही है, तो आप इसे बिल्कुल भी अनदेखा न करें और अपने डॉक्टर से संपर्क करके डिप्रेशन का इलाज कराएं।

आशा करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसमें दिया गया डिप्रेशन का इलाज आपकी समस्या को कम करने में मदद करेंगे। तो अगर आप डिप्रेशन का इलाज ढूंढ रहे हैं तो हमारा ये आर्टिकल काफी काम आ सकता है। अगर ये आर्टिकल आपको फायदेमंद लगता है, तो इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ शेयर करें, ताकि वो भी डिप्रेशन का इलाज सही समय पर कर इस समस्या से राहत पा सकें और एक सामान्य और खुशनुमा जीवन जी सकें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

सिर्फ विलेन ही नहीं हीरो का भी रोल करता है स्ट्रेस, जानें स्ट्रेस के फायदे

स्ट्रेस के फायदे क्या हैं? क्रोनिक मानसिक तनाव से डिप्रेशन, माइग्रेन, टाइप 2 डायबिटीज, अल्जाइमर जैसे कई रोग होते हैं लेकिन थोड़ा-सा स्ट्रेस प्रोडक्टिविटी को बढ़ा सकता है। इसे गुड स्ट्रेस कहते है। Stress benefits in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जीवन में आगे बढ़ने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट है जरूरी, जानें इसके उपाय

तनाव दूर करने का उपाय क्या है? स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए टाइम मैनेजमेंट सीखना भी जरूरी है साथ ही टू डू लिस्ट, एक्सरसाइज, विजन में स्पष्टता, दिन की अच्छी शुरुआत करें....how to reduce stress in hindi

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मानसिक मंदता (Mental Retardation) के कारण, लक्षण और निदान

मानसिक मंदता के कारण क्या हैं? बच्चों में मानसिक विकलांगता का एकमात्र उपचार काउंसलिंग है। बौद्धिक मंदता (mental disability) का इलाज रोगी की क्षमता को पूरी तरह विकसित करना है। Mental Retardation causes in hindi,

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

युवाओं में आत्महत्या के बढ़ते स्तर का कारण क्या है?

15 से 29 साल के युवाओं में आत्महत्या के कारण मौत को गले लगा लेते हैं। युवाओं में सुसाइड के कारण और निदान क्या है? खुदकुशी से निपटने के टिप्स के लिए पढें।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Smrit Singh
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वॉकिंग मेडिटेशन के फायदे Benefits of walk meditation

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mousumi Dutta
Published on जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
खुद से बात करना/khud-se-bat-karna-talk-to-themselves

खुद से बात करना नॉर्मल है या डिसऑर्डर

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by shalu
Published on मई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
निगेटिव थॉट्स-Negative Thoughts

निगेटिव थॉट्स से कैसे बच सकते हैं?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मन को शांत करने के उपाय- Chanting

मन को शांत करने के उपाय : ध्यान या जाप से दूर करें तनाव

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें