सेक्स और जेंडर में अंतर क्या है जानते हैं आप?

Medically reviewed by | By

Update Date अप्रैल 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

सेक्स और जेंडर में अंतर! आप सोचेंगे कि ये कैसा सवाल है? सेक्स और जेंडर में अंतर नहीं है, ये दोनों एक ही चीज है। अगर आप अपने दिमाग पर हल्का जोर डालेंगे तो इतना ही बता सकते हैं कि सेक्स दो होते हैं- मेल और फीमेल। वहीं, जेंडर दो होते हैं- पुरुष और महिला। अगर जेंडर दो हैं तो ये ट्रांसजेंडर, जेंडर नॉट-कंफर्मिंग और नॉन बाइनरी फोक्स क्या हैं? इस आर्टिकल में जानेंगे कि सेक्स और जेंडर में क्या अंतर है? 

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों मार्केट में आए फ्लेवर कॉन्डम? जानें पूरी कहानी

सेक्स क्या है?

सेक्स और जेंडर में अंतर समझने से पहले बता दें कि आपका जवाब सही था। सेक्स दो होते हैं-  मेल और फीमेल। आपने इंटरसेक्स या डिफरेंस ऑफ सेक्शुअल डेवेलपमेंट (DSD) के बारे में भी सुना होगा। डिफरेंस ऑफ सेक्शुअल डेवेलपमेंट में क्रोमोसोम्स, एनाटॉमी या सेक्स के लक्षण शामिल हैं, लेकिन ये मेल या फीमेल की कैटेगरी में नहीं आ सकते हैं। 

कुछ रिसर्च में ये बात सामने आई है कि 100 में से कोई 1 व्यक्ति डिफरेंस ऑफ सेक्शुअल डेवेलपमेंट के साथ पैदा होता है। कुछ जैव वैज्ञानिकों का मानना है कि पारंपरिक सेक्स यानी कि मेल और फीमेल से भी आगे कुछ और कॉम्प्लेक्स होते हैं। डिफरेंस ऑफ सेक्शुअल डेवेलपमेंट के सभी आयाम निम्न हैं :

सेक्स और जेंडर में अंतर

जननांग (Genitalia)

जननांग के बारे में हर कोई जानता है कि मेल के पास पेनिस और फीमेल के पास वजायना होती है। हालांकि, कुछ लोग जननांगों को डिफरेंस ऑफ सेक्शुअल डेवेलपमेंट के इतर देखते हैं। ऐसा होने के पीछे कारण यह दिया जाता है कि जो लोग ट्रांसजेंडर होते हैं, वे लोग भी अपने जननांगों की सर्जरी कराते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर कोई ट्रांसजेंडर पुरुष है तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह जन्म जात पुरुष था, वह फीमेल के रूप में पैदा हुआ था और उसने बाद में ऑपरेशन से अपना जननांग चेंज कराया हो। 

यह भी पढ़ें- अब वो कॉन्डम के लिए खुद कहेंगे हां, जरा उन्हें भी ये आर्टिकल पढ़ाइए

गुणसूत्र (Chromosomes)

आपने सुना होगा कि गर्भ में ही सेक्स डिटरमिनेशन यानी कि लिंग निर्धारण की एक प्रक्रिया होती है। जिसमें XX क्रोमोसोम होने से फीमेल सेक्स और XY होने से मेल सेक्स होता है, लेकिन डिफरेंस ऑफ सेक्शुअल डेवेलपमेंट के साथ पैदा होने वाले लोगों में क्रोमोसोमल कंफिगरेशन मेल फीमेल से अलग हो सकता है। इसका कोई साक्ष्य प्रमाण नहीं है, लेकिन देखा गया है कि ट्रांस लोगों के पास ऐसे क्रोमसोम होते हैं, जो उनके सेक्स के मेल नहीं करते हैं। उदाहरण के तौर पर ट्रांसजेंडर महिला सेक्स से फीमेल है, लेकिन उसके पास XY क्रोमोसोम है। 

प्राइमरी सेक्स की विशेषताएं

हम जानते हैं कि कुछ सेक्स हॉर्मोन होते हैं, जो मेल फीमेल में अलग-अलग पाए जाते हैं। बस यही सेक्स और जेंडर में अंतर को दिखाता है। जैसे- फीमेल सेक्स में एस्ट्रोजन और मेल सेक्स में टेस्टोस्टेरॉन पाया जाता है, लेकिन सेक्स और जेंडर में अंतर किए बिना आपको जानना जरूरी है कि हर व्यक्ति में, चाहे वह कोई भी हो सब में दोनों हॉर्मोन पाए जाते हैं। 

एक हॉर्मोन है एस्ट्रेडियल (estradiol), यह एस्ट्रोजन का प्रभावी रूप है। हालांकि, एस्ट्रोजन महिलाओं में पाया जाता है, लेकिन एस्ट्रोजन का प्रभावी रूप एस्ट्रेडियल पुरुषों में जन्म से पाया जाता है। एस्ट्रेडियल सेक्शुअल अराउजल, स्पर्म प्रोडक्शन और इरेक्टाइल फंक्शन में अपनी अहम भूमिका निभाता है। 

यह भी पढ़ें- आप वास्तव में सेक्स के बारे में कितना जानते हैं?

सेकेंड्री सेक्स की विशेषताएं

सेकेंड्री सेक्स की विशेषताएं आसानी से समझ में आ जाती हैं। इसमें चेहरे पर बाल यानी कि मेल में मूंछ-दाढ़ी, फीमेल में ब्रेस्ट और आवाजों में अंतर होना। इसी के आधार पर हम किसी भी व्यक्ति के सेक्स को पहचानते हैं, लेकिन कभी-कभी आपकी ये पहचान गलत भी हो सकती है। ये भी हो सकता है कि जो व्यक्ति जिस सेक्स में पैदा हुआ है, उसमें उस सेक्स के आधार पर सेकेंड्री सेक्स के लक्षण सामने आए ही ना। जैसे- बहुत सारी फीमेल के फेस पर फेशियल हेयर पाए जाते हैं और मेल में नहीं। 

जेंडर क्या है?

सेक्स और जेंडर में अंतर

सेक्स और जेंडर में अंतर को समझने के लिए आपको जेंडर के बारे में भी जानना होगा। सेक्स और जेंडर में अंतर के क्रम में अभी तक आपने जाना सेक्स के सभी आयामों के बारे में। अब जानते हैं कि जेंडर क्या है? 

हमारे समाज में सिखाया जाता है कि जेंडर दो तरह के होते हैं- महिला और पुरुष,लेकिन जेंडर की कई सीमा नहीं है, यह विस्तृत है। कुछ लोग नॉनबाइनरी के रूप में पहचाने जाते हैं। नॉनबाइनरी को सात रंगों के अम्ब्रेला से प्रदर्शित किया जाता है। जिसका मतलब होता है कि एक ऐसी पहचान जो महिला और पुरुष दोनों से परे हो। 

इसके अलावा जेंडर की कुछ और भी पहचान है, जैसे- बाइजेंडर, बाइजेंडर ऐसे लोग होते हैं, जिनमें महिला और पुरुष दोनों के जेंडर पाए जाते हैं। अजेंडर ऐसे लोग जिनमें किसी भी जेंडर की पहचान न की जा सके। जिसे आज हमारे समाज में थर्ड जेंडर के रूप में देखा जाता है। इसलिए जेंडर अब सिर्फ महिला और पुरुष की सीमा में नहीं बंधा है, बल्कि उससे कहीं परे हो गया है। हमारे समाज में ऐसे लोगों को किन्नर कहा जाता है।

यह भी पढ़ें- कोरी सेक्स लाइफ में फिर से रंग भरने के लिए 7 टिप्स

सेक्स और जेंडर के बीच क्या संबंध है?

सेक्स और जेंडर में अंतर होने के बावजूद इनमें संबंध है। सेक्स और जेंडर में अंतर होने के बाद भी इनमें कुछ समानताएं हैं। अगर कोई व्यक्ति मेल सेक्स के साथ पैदा हुआ है तो उसका जेंडर पुरुष होता है। अगर कोई फीमेल सेक्स के साथ पैदा होती है तो उसका जेंडर महिला होगा, लेकिन जो लोग ट्रांस या नॉन-कन्फर्मिंग जेंडर के होते हैं, जन्म के समय उनका सेक्स भले से निर्धारित रहता है, उनका जेंडर कंफर्म नहीं रहता है। ऐसा भी हो सकता है कि वे जन्म के समय जिस सेक्स के साथ पैदा हुए हैं, भविष्य में उनका सेक्स अलग हो। 

जो लोग सेक्स और जेंडर में अंतर को नहीं समझते है, उन लोगों का मानना है कि जेंडर दिमाग में और सेक्स पैंट में होता है। ऐसा सोचने से ट्रांस लोगों को दुख होता है, लेकिन जो लोग समाज की इस हकीकत को अपना चुके होते हैं, वे लोग खुश रहते हैं। ट्रांस लोगों की सामाजिक तौर पर शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक सेहत प्रभावित होती है। हालांकि, हमारे देश की उच्च न्यायालय ने इन्हें समानता का दर्जा दे दिया है। 

यह भी पढ़ें : क्या आप हर वक्त सेक्स के बारे में सोचते हैं? ये हाई सेक्स ड्राइव का हो सकता है लक्षण

जेंडर सेक्शुअल ओरिएंटेशन से अलग होता है

बहुत सारे लोगों को लगता है कि ट्रांस लोग हेट्रोसेक्सुअल होते हैं, लेकिन ये सच नहीं है। एक सर्वे में ये बात सामने आई है कि ट्रांस लोगों में से 15 फीसदी लोग ही हेट्रोसेक्सुअल होते हैं। ये लोग लेस्बियन, गे, क्वीर या बाइसेक्शुअल हो सकते हैं, लेकिन इनका हेट्रोसेक्शुअलिटी से इनका सीधा संबंध नहीं होता है। इसलिए सेक्स और जेंडर को तराजू के एक ही पलड़े पर न तौला जाए।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। सेक्स और जेंडर में अंतर के संबंध में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

और भी पढ़ें :

सेक्स से पहले और बाद में कभी न करें ये 7 अनहाइजीनिक गलतियां

रूटीन की सेक्स पुजिशन से कुछ हटकर करना है ट्राय तो इन्हें आजमाएं

इन सेक्स पुजिशन से कर सकते है प्रेंग्नेंसी को अवॉयड

तरह-तरह के कॉन्डम फ्लेवर्स से लगेगा सेक्स लाइफ में तड़का

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    मॉर्निंग सेक्स के फायदे पाने के लिए जानिए कुछ बेहतरीन टिप्स

    जानिए गुड मॉर्निंग सेक्स क्या है, मॉर्निंग सेक्स के तरीके, फायदे, पाइये कुछ बेहतरीन के टिप्स , good morning sex, morning sex

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma

    हॉर्नी होना क्या है? क्या यह कोई समस्या है?

    आजकल हॉर्नी शब्द का प्रयोग काफी किया जाता है। लेकिन, इसका असली मतलब शायद ही कोई जानता होगा। आइए, जानते हैं हॉर्नी का असली मतलब।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal

    क्या तीव्र कामेच्छा होना आपके लिए है खतरनाक? जानें इस बारे में सबकुछ

    तीव्र कामेच्छा क्या है, तीव्र कामेच्छा होने के लक्षण क्या है, कामलिप्सा के नुकसान क्या है, हाई सेक्स ड्राइव क्या है, high libido in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha

    ओरल सेक्स क्या है? युवाओं को क्यों है पसंद?

    ओरल सेक्स के बारे में सभी ने सुना है, लेकिन ओरल सेक्स क्या है? इसके दौरान आपको क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए? जानें सरल शब्दों में।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal

    Recommended for you

    शादी से पहले सेक्स सही या गलत/sex before marriage right or wrong

    शादी से पहले सेक्स, सही या गलत जानें फायदे और नुकसान

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    Published on जुलाई 9, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    सेक्स से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल

    कौन-कौन से हैं सेक्स से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल और पाइए उनके जवाब

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    यूरेथ्रल साउंडिंग सेक्स टॉयज

    मूत्रमार्ग का हस्तमैथुन युवक को पड़ गया भारी, जानें यूरेथ्रल साउंडिंग क्या है? 

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    Published on जुलाई 6, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
    डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन में संबंध क्या है

    डायबिटीज और इरेक्टाइल डिसफंक्शन – जानिए कैसे लायें सुधार

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma
    Published on जुलाई 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें