Kidney Stone : किडनी में स्टोन होने पर बरतें ये सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट नवम्बर 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

किडनी स्टोन यानी गुर्दे में पथरी आज बहुत ही आम बीमारी बन चुकी है। इसका सफल इलाज भी विकसित किया जा चुका है, लेकिन यह एक ऐसी बीमारी है, जो एक बार ठीक होने बाद बार-बार वापस भी लौट सकती है। किडनी स्टोन के लिए ऑक्सालेट के ज्यादा सेवन को जिम्मेदार ठहराया जाता है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन के मुताबिक, दुनिया भर में लगभग 12 फीसदी लोग किडनी में स्टोन की समस्या से जूझ रहे हैं। साथ ही यह जानना जरूरी है कि किडनी में स्टोन चार अलग-अलग प्रकार के होते हैं। पीड़ित की किडनी में किस प्रकार का स्टोन है। इसका पता सिर्फ टेस्ट द्वारा ही लगाया जा सकता है। किडनी में स्टोन होने पर डॉक्टर से डॉयट को लेकर सलाह लेना बहुत जरूरी हो जाता है। ऐसा न करने पर यह समस्या और गंभीर हो सकती है। 

अगर आपको पहले भी कभी किडनी स्टोन की समस्या थी या आप किडनी स्टोन से पीड़ित हैं, तो आपको आपने खान-पान में काफी सतर्कता बरतनी होगी। ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं जिनसे आपको आज ही से परहेज करना शुरू कर देना चाहिए। तो जानिए किडनी स्टोन से बचाव करने के लिए किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए।

क्या होता है किडनी स्टोन (Kidney Stone)

जब किडनी में ऑक्सालेट और कैल्शियम जैसे कई तत्व जमा हो जाते हैं, तो वो कंकड के रूप में बदल जाते हैं। इसे ही स्टोन यानी पथरी की बीमारी कहा जाता है। किडनी स्टोन से बचने के लिए डॉक्टर्स ऐसी चीजें खाने से मना कर देते हैं, जिनमें ऑक्सालेट, यूरिक एसिड, कैल्शियम की मात्रा अधिक पाई जाती है, जैसेः टमाटर, बैगन आदि।

और पढ़ें : Oregano: ओरिगैनो क्या है?

किडनी में स्टोन कितने प्रकार के होते हैं

किडनी में मुख्यत चार प्रकार के स्टोन या पथरी हो सकती है:

  • कैल्शियम ऑक्सालेट स्टोन (Calcium Oxalate Stones)
  • कैल्शियम फास्फेट स्टोन (Calcium Phosphate Stones)
  • यूरिक एसिड स्टोन (Uric Acid Stones)
  • सिस्टाइन स्टोन (Cystine Stones)

कैल्शियम ऑक्सालेट स्टोन होने पर इन चीजों से करना होगा परहेज

किडनी में कैल्शिम ऑक्सलेट स्टोन होने पर आपको अपनी डायट से ऐसे फूड आयटम्स को हटाना होगा, जिनमें काफी मात्रा में प्रोटीन, सोडियम या ऑक्सालेट मौजूद हो। ऐसे ही कुछ फूड आयटम्स हैं:

  • मूंगफली
  • पालक
  • चिकन, अंडे या मछली को खाने से पहले भी अपने डॉक्टर से सलाह ले लें।
  • डेरी प्रोडक्ट्स के भी अधिक सेवन से बचने की जरूरत हो सकती है।
  • अपने मील में सोडियम लेवल भी कम रखें।

कैल्शियम फॉस्फेट स्टोन होने पर किन चीजों से करना है परहेज

  • एनीमल प्रोटीन और सोडियम से बचने की जरूरत है।
  • लोगों ऐसा मानते हैं कि सोडियम सिर्फ नमक में पाया जाता है। लेकिन सच्चाई यह नहीं है पैक्ड फूड और फास्ट फूड में काफी मात्रा में सोडियम पाया जाता है। इसलिए इन फूड आयटम्स का सेवन करते समय भी आपको सावधानियां बरतनी चाहिए।
  • चिकन खाने से बचना चाहिए।
  • मछली और अंडे का सेवन भी कम करना भी फायदेमंद होगा
  • डेयरी प्रोडक्ट जैसे दूध, दही और पनीर का भी इस्तेमाल भी सोच-समझकर करने की जरूरत होती है।
  • सोया फूड्स जैसे सोया मिल्क, सोया बटर और टोफू को मील में शामिल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श करें।
  • कोई भी जैसे काजू और बादाम का सेवन करने से पहले यह जान लें कि इसकी कितनी मात्रा सही है।
  • कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थों को डेली मील में शामिल करना चाहिए। लेकिन, इसकी कितनी मात्रा सही है इसके लिए डॉक्टर से बात करें।

और पढ़ें : Cefpodoxime : सेफ्पोडॉक्सिम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

यूरिक एसिड स्टोन की समस्या में क्या न खाएं

  • चिकन खाने से बचने की जरूरत होगी।
  • मछली और अंडे का सेवन कम करना फायदेमंद होगा।
  • डेरी प्रोडक्ट जैसे दूध, दही और पनीर का सही मात्रा में ही सेवन करना चाहिए।
  • सोया फूड्स जैसे सोया मिल्क, सोया नट बटर और टोफू  को अपनी डायट में शामिल करने से पहले डॉक्टर से बात कर लें।

 सिस्टाइन स्टोन होने पर क्या खाएं

  • किडनी में सिस्टाइन स्टोन होने की स्थिति में ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए और साथ ही पानी भी खूब पीना चाहिए।
  • मछली और अंडों का सेवन कम करना लाभकारी साबित होगा।
  • डेयरी प्रोडक्ट जैसे दूध, दही और पनीर का सेवन निर्धारित मात्रा में ही करें।

किडनी में स्टोन होने की स्थिति में पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से भी फायदा होता है। इसके अलावा संतरे का जूस, जौ और रेड वाइन के नियमित सेवन से भी  किडनी में स्टोन की समस्या में फायदा हो सकता है। किसी भी तरह के मीट का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है। बहुत ज्यादा एनीमल प्रोटीन किडनी में स्टोन (पथरी) की परेशानी को बढ़ा सकता है। वहीं सेम, मटर, और दाल का भी सेवन हानिकारक हो सकता है। न्यूट्रीनिस्ट से सलाह लेकर ही डाइट चार्ट तैयार करें। कई बार सेल्फ मेडिकेशन से किडनी की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।

गुर्दे में पथरी है, तो करें इनसे परहेज

यूरिक एसिड, पोटेशियम, सोडियम और कैल्शियम की उच्च मात्रा से भरपूर खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों में प्रोटीन, डेयरी उत्पाद, नट्स, पालक, फलियां, बाजरा शामिल हैं।

किडनी स्टोन (Kidney Stone) से कैसे बचें

पानी की अधिक मात्रा का सेवन

दिन भर में कम से कम 8 से 10 ग्लास पानी पिएं। शरीर में पानी की मात्रा अधिक होने से किडनी में जमी चीजें यूरीन के जरिए शरीर से बाहर निकल जाती है। एक स्वस्थ शरीर के लिए जरूरी है कि दिन में 2 लीटर तक यूरीन की मात्रा शरीर में बननी चाहिए।

भरपूर कैल्शियम का सेवन

क्जलेट से बचे रहने के लिए अपने आहार में कैल्शियम की मात्रा शामिल करें। ध्यान रखें कि कैल्शियम की मात्रा का सेवन अपनी उम्र के हिसाब से ही करें। 50 साल के व्यस्को या इससे अधिक उम्र के लोगों को प्रतिदिन 1,000 मिलीग्राम तक के कैल्शियम की आवश्यकता होती है।

सोडियम की मात्रा कम करें

सोडियम की अधिक मात्रा यूरिन में कैल्शियम की मात्रा को बढ़ा सकता है। जो किडनी स्टोन को बढ़ावा देने जैसा होता है। विशेषज्ञों के मुताबिक एक पुष्ट शरीर को दिन भर में 1,500 मिग्रा सोडियम की आवश्यकता होती है 

मांसाहारी आहार से बचें

मांसाहारी आहार से दूर रहें। जैसे रेड मीट, अंडे, बीफ, चिकन, मछली, दूध, मक्खन और घी आदि।

गुर्दे में पथरी किसी भी उम्र में हो सकती है और यह एक ही व्यक्ति को कई बार हो सकती है। जिसे बचे रहने के लिए आपको अपने खानपान पर सबसे अधिक ध्यान देना होगा। 

नए संशोधन की समीक्षा डॉ. प्रणाली पाटील द्वारा की गई

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने पर करें ये उपाय

बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने के क्या कारण है? इन परेशानी को एक्सपर्ट की मदद से कैसे किया जा सकता है कम, यदि न सुधार किया जाए तो क्या होगा, जानें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shilpa Khopade
सीनियर हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Antineutrophil Cytoplasmic Antibodies Test-एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी (एएनसीए) टेस्ट क्या है?

जानिए एंटी-न्यूट्रोफिल साइटोप्लाज्मिक एंटीबॉडी टेस्ट की मूल बातें, टेस्ट से पहले जानने योग्य बातें, एएनसीए टेस्ट क्या होता है, रिजल्ट को समझें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
मेडिकल टेस्ट A-Z, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Fireweed: फायरवीड क्या है?

फायरवीड को एक अस्ट्रिन्जन्ट और टॉनिक के रूप में कई रोगों के इलाज के लिए प्रयोग में लाया जाता है। इसे उपयोग करने से पहले इसके बारे में अवश्य जान लें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद सावधानी रखना है बेहद जरूरी, नहीं तो बढ़ सकता है खतरा

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद सावधानी कैसे रखें in Hindi, किडनी ट्रांसप्लांट के बाद सावधानी क्यों है जरूरी,क्या खाएं, Kidney Transplant के लिए टिप्स।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मार्च 18, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

अमर सिंह किडनी फेलियर किडनी ट्रांसप्लांट

किडनी फेलियर के कारण राज्य सभा सांसद अमर सिंह का देहांत

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अगस्त 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
पथरी का आयुर्वेदिक इलाज

पथरी का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी होगी असरदार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ जून 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
प्रायोजित
गोखरू के फायदे एवं नुकसान - Health Benefits of Gokhru (Gokshura)

गोखरू के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Gokhru (Gokshura)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ जून 1, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
यूरिक एसिड का आयुर्वेदिक इलाज - ayurvedic treatment of uric acid

यूरिक एसिड का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानिए दवा और प्रभाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें