Narcotic Abuse: नारकोटिक अब्यूज क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

नारकोटिक अब्यूज क्या है (What is Narcotic abuse)?

नारकोटिक दवाओं का उपयोग मध्यम से गंभीर दर्द के इलाज के लिए किया जाता है।नारकोटिक दर्द की दवाएं आपकी मस्तिष्क में नसों पर रिसेप्टर्स से जुड़ती हैं जो दर्द को कम करने का कार्य करता हैं, ज्यादातर पुरुष और महिलाएं कम समय के लिए मादक दर्द की दवा लेते हैं जब तक दर्द कम या दूर नहीं हो जाता। कुछ वयस्कों को पुराना दर्द होता है, जिसके लिए सही खुराक  की आवश्यकता होती है। वैसे किसी भी प्रकार की नशीली दवाओं का सेवन करना और उसकी लत लगना एक प्रकार का विकार होता है इस विकार को नारकोटिक अब्यूज (Narcotic abuse) विकार भी कहा जाता है, इसके और भी कई नाम है जैसे इसको पदार्थ उपयोग विकार (substance use disorder) भी कहा जाता है।

और पढ़ें : डेट रेप ड्रग्स क्या है? इससे कैसे बचें?

मस्तिष्क और व्यवहार को प्रभावित करे

नारकोटिक अब्यूज एक ऐसी बीमारी है जो किसी व्यक्ति के मस्तिष्क और व्यवहार को प्रभावित करती है साथ ही इस बीमारी में आपको ऊपर किसी लीगल या इलीगल दवा का असर होना बंद हो जाता है। आपको बता दें की शराब (alcohol), मारिजुआना (marijuana) और निकोटीन (nicotine)जैसे पदार्थों को भी एक तरह का ड्रग्स माना जाता है। जब आपको इसकी लत लग जाती है तो इसके नुकसान के बावजूद आप इसका सेवन करते हैं। 

लत लग जाने के कारण

नशीली दवाओं के लत की शुरुआत लोग कुछ समय के मजे या एज्वायमेंट के लिए  करना शुरु करते हैं जिसके चलते कुछ लोग इसके आदती हो जाते हैं इस कारण वो ये बार-बार लेना शुरु कर देते हैं। दूसरों के लिए, विशेष रूप से ओपिओइड के साथ, नशीली दवाओं की लत किसी तरह की निर्धारित दवाओं के संपर्क में आने से, या किसी दोस्त या रिश्तेदार द्वारा दिए जाने से शुुरु होता है। 

  • नशे की लत बहुत तेजी से लगती है, इसके जोखिम दवाओं से अलग होते हैं, कुछ दवाएं, जैसे कि ओपिओइड दर्द निवारक,बहुत अधिक जोखिम वाले होते है और दूसरों की तुलना में इसका लत बहुत तेज से होता है।
  • इसमें जैसे-जैसे समय बीतता है,आपको ड्रग के हाई डोज की आवश्यकता होने लगती है,आपको बेहतर महसूस कराने के लिए आपको दवा की आवश्यकता पड़ सकती  है। आप जितने लंबे समय तक दवा का उपयोग करते हैं उसके आदती होने पर आपका उसके बिना रहना काफी मुश्किल होने लगता है। नशीली दवाओं से छुटकारा पाने की कोशिश में आपको इसकी तेज क्रेविंग हो सकती है जिसके कारण आप कुछ समय तक बीमार महसूस कर सकते हैं। नशे की लत से छुटकारा पाने के लिए आपको आपको डॉक्टर, परिवार, दोस्त इन सबकी आवश्यकता पड़ सकती है।

और पढ़ें : Multiple Sclerosis : मल्टिपल स्क्लेरोसिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

नारकोटिक अब्यूज के लक्षण (Symptoms of Narcotic abuse) 

नारकोटिक अब्यूज के कारण आपके अंदर इस प्रकार के लक्षण दिखाई दे सकते हैं इसके अलावा बता दें आपके व्यवहार में भी काफी बदलाव देखने को मिल सकते हैं ये भी शामिल है।

-जब आप इन दवाओं का सेवन कर रहें होते हैं तो इस दौरान आपके सोचने समझने की क्षमता कम हो जाती है जिसके कारण आपकी किसी के साथ भी लड़ाई झगड़े की गुंजाइस ज्यादा हो जाती है। 

नारकोटिक अब्यूज में आपकी नींद पूरी नहीं हो पाती है, जिसका असर आपके शरीर पर पड़ता है।

-जब आप को रेगुलर लेना प्रारंभ करते है तो कई बार ऐसा होता है की आपको दवा की बहुत ज्यादा तेज क्रेविंग होने लगती है जिसके कारण उस वक्त आप कुछ सोचने और समझने की शक्ति कम हो जती है। 

– तो वहीं इस दौरान आपको समय के साथ, सामान्य महसूस करने के लिए दवा के अधिक डोज की आवश्यकता महसूस होने लगती है।

-नारकोटिक अब्यूज में दवा के डोज अपनी इच्छा से ज्यादा लेना।

-यह देखना की आपके पास पर्याप्त मात्रा में दवा मौजूद है या नहीं। 

-भले ही आपके पास आपके जरुरी काम के लिए पैसे न हो आपकी आर्थिक स्थिति ठीक न हो लेकिन ड्रग पर पैसे खर्च करना। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

नशीली दवाओं के चपेट में आने के कारण आप अपनी जिम्मेदारियों को न समझ पाते हैं न पूरा कर पाते हैं।

– नारकोटिक अब्यूज में दवा के  कारण सामाजिक और बाकी गतिविधियों ,दूरी बना लेते हैं।

-नारकोटिक अब्यूज में भले ही आपको पता हो की यह दवा आपके जीवन और हेल्थ के लिए नुकसानदायक है उसके बाद भी आप दवा का उपयोग करना जारी रखते हैं। 

-यदि आपके पास दवा के लिए पैसे नहीं हैं तो आप इसके लिए चोरी करने पर भी मजबूर हो जाते हैं।

-यदि आप नशीली दवा के आदती है तो आपको ड्राइविंग करने से बचना चाहिए ये आपके लिए जोखिम भरा साबित हो सकता है।

-आप साधारण रुप से शायद इसकी लत से छुटकारा पाने की कोशिश कर चुके हैं लेकिन इसमें आप असफल रहे हैं।

और पढ़ें : कोरोना वायरस पर पीएम नरेंद्र मोदी बोले- जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं

कारण

नारकोटिक अब्यूज के कारण (Causes of Narcotic abuse) 

कई मानसिक स्वास्थ्य विकारों की तरह, नारकोटिक अब्यूज होना या नशे की लत होने के कई कारण हो सकते हैं।

  • वातावरण- वातावरण से ये मतलब है की किसी नशे की लत लगना ये आपके आस-पास के माहौल पर निर्भर करता है। यदि आपके परिवार में या आस-पास के लोग जिनके साथ आपका उठा बैठना हो सकता है उनके साथ रहकर आपको भी ड्रग की आदत लग सकती है।
  • जेनेटिक्स- अगर एक बार आप एक दवा का उपयोग करना शुरू कर देते हैं, तो उसकी आदत आपके आनुवंशिक लक्षण के कारण भी हो सकता है। जो रोग की प्रगति में देरी या तेजी ला सकता है।
  • मस्तिष्क में परिवर्तन- शारीरिक नशा तब होता है जब किसी दवा के बार-बार इस्तेमाल से आपके दिमाग में खुशी या हल्का महसूस करने का तरीका बदल जाता है। नशे की दवा आपके मस्तिष्क में कुछ तंत्रिका कोशिकाओं (न्यूरॉन्स) में शारीरिक परिवर्तन का कारण बनती है। न्यूरॉन्स संचार करने के लिए न्यूरोट्रांसमीटर नामक रसायन का उपयोग किया जाता हैं। दवा का उपयोग बंद करने के बाद ये परिवर्तन लंबे समय तक रह सकते हैं।

और पढ़ें : कहीं आपकी लो सेक्स ड्राइव (low sex drive) का कारण ये दवाएं तो नहीं?

निदान

नारकोटिक अब्यूज का निदान (Diagnosis of Narcotic abuse) 

नारकोटिक अब्यूज में नशीली दवाओं की लत का निदान करने के लिए कई परीक्षण की आवश्यकता होती है और अक्सर एक मनोचिकित्सक (psychiatrist), मनोवैज्ञानिक (psychologist) या ड्रग काउंसलर के द्वारा परीक्षण किया जाता है। नशीली दवाओं के उपयोग का आकलन करने के लिए रक्त, मूत्र या अन्य परीक्षणों का उपयोग किया जाता है, ये परीक्षण  इसलिए किया जाता है की निदान करने के बाद यह तय किया जा सके की डॉक्टर किस प्रकार आपका इलाज करेगा। 

और पढ़ें : योग, दवाईयों, आयुर्वेदिक और घरेलू उपायों से बढ़ाएं अपनी कामेच्छा

इलाज

नारकोटिक अब्यूज का इलाज

आमतौर पर नशीली दवाओं की लत छुड़ाने का इलाज नहीं है लेकिन नीचे कुछ ऑप्शन है जिसके द्वारा आप इस लत पर काबू  पाकर धीरे-धीरे अपनी आदत में सुधार भी ला सकते हैं।आपका उपचार आपके द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली दवा और किसी भी संबंधित चिकित्सा या मानसिक स्वास्थ्य विकार पर निर्भर करता है। रिलैप्स को रोकने के लिए लंबे समय तक फॉलो-अप करना बेहद जरुरी है।

रासायनिक निर्भरता उपचार कार्यक्रम (Chemical dependence treatment)

-इस थेरेपी में आप चुन सकते हैं की आपको यह थेरेपी अकेले करवाना है या किसी ग्रुप या परिवार के साथ करवाना है।

-इस थेरेपी में डॉक्टर पहले यह जानता है की आपने किस प्रकार के नशे का सेवन किया है उसके बाद वह आपके नशे से मुक्त कराने के इलाज पर फोकस करता है।

-इसमें आपकी सभी जरुरतों का ख्याल रखा जाता है आपके रहने की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाती है।

डिटॉक्सिफिकेशन द्वारा इलाज (Detoxification Treatment)

डिटॉक्सिफिकेशन द्वारा की जाने वाली थेरेपी को “डिटॉक्स” या विड्रॉल थेरेपी भी कहा जाता है, इससे आपको नशे की लत से जल्दी छुटकारा मिल जाता है ये एक सुरक्षित उपाय भी माना जाता है।कुछ लोगों के लिए, आउट पेशेंट के आधार पर विड्रॉल (Withdrawal) थेरेपी से गुजरना सुरक्षित हो सकता है। दूसरों को अस्पताल या आवासीय उपचार केंद्र में प्रवेश की आवश्यकता हो सकती है। 

व्यवहार चिकित्सा (Behavior therapy)

व्यवहार चिकित्सा, दवा उपचार का एक भाग माना जाता है, ये थेरेपी भी मनोचिकित्सा द्वारा ही किया जाता है। व्यवहार थेरेपी और किसी व्यक्ति, परिवार या समूह के साथ किया जा सकता है। इस थेरेपी के अंतर्गत डॉक्टर इस प्रकार आपकी मदद कर सकते हैं।

-इसमें आपके ड्रग क्रेविंग से निपटने के तरीके विकसित करने में मदद मिलती है।

-दवाओं से बचने और रिलेप्स को रोकने के लिए सुझाव दिया जाता है।

-अपने दिमाग को व्यस्त रखने के लिए अपनी नौकरी, समस्याओं और परिवार और दोस्तों के बारे में बात कर सकते है।

-अन्य मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में बात कर सकते हैं।

और पढ़ें : क्या कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा इटोलिजुमैब (itolizumab) से मौत हो रही हैं कम?

जोखिम

नारकोटिक अब्यूज के जोखिम (Risk of Narcotic abuse)

यह पूरी तरह से मुमकिन है की ज्यादातर लोग चाहे किसी भी उम्र के हो किसी भी लिंग,किसी भी स्टेट्स के हो कोई भी नशे की लत का शिकार हो जाता है,इसके अलावा भी कुछ और कारक है जो इस आदत से प्रभावित हो सकते हैं।

फैमिली हिस्ट्री द्वारा नशे की लत- कुछ परिवारों में नशीली दवाओं की लत अधिक आम है और इसमें आनुवंशिक गड़बड़ी शामिल है। यदि आपका कोई बल्ड रिलेशन है जैसे कि माता-पिता या भाई-बहन, जिनको शराब या मादक पदार्थों की लत है, तो आपको नशीली दवाओं की लत होने का अधिक खतरा होता है।

मानसिक स्वास्थ्य विकार- यदि आपको मानसिक स्वास्थ्य विकार है जैसे अवसाद depression, ध्यान एकाग्रता में कमी attention-deficit )अभिघातज के बाद का तनाव विकार(post-traumatic stress disorder,)  तो आपको ड्रग्स का आदी होने की अधिक संभावना है। दवाओं का उपयोग करना आपके तकलीफ जैसे कि चिंता, अवसाद और अकेलेपन से लड़ने का करने का एक तरीका बन सकता है और इन समस्याओं को और भी बदतर भी बना सकता है।

साथियों का दबाव- प्रेशर ड्रग्स का उपयोग और दुरुपयोग शुरू करने के लिए एक मजबूत कारक है, खासकर युवा लोगों के लिए इसमें आपके आपको इमोशनली काफी प्रेशर डालते हैं की आप उनके साथ नशे में शामिल हों।

पारिवारिक सहभागिता का अभाव- आपको माता पिता और भाई-बहन के रिश्ते में जब प्यार की कमी या आपसी मतभेद के कारण भी बच्चो में नशे का खतरा बन सकता है। इसलिए परिवार में मां बाप का बच्चों को प्यार मिलना बेहद जरुरी है

जल्दी उपयोग- कम उम्र में दवाओं का उपयोग करने से विकासशील मस्तिष्क में परिवर्तन हो सकते हैं और नशीली दवाओं की लत बढ़ सकती है।

अत्यधिक नशे की दवा लेना- अन्य दवाओं की तुलना में कुछ दवाओं, जैसे उत्तेजक, कोकीन या ओपियोड दर्द निवारक,नशे का विकास तेजी से कर सकते हैं। धूम्रपान या इंजेक्शन लगाने से नशा करने की क्षमता बढ़ सकती है। 

और पढ़ें : बच्चों के लिए खतरनाक है ये बीमारी, जानें एडीएचडी के उपचार के तरीके और दवाएं

जटिलताओं

नशीली दवाओं  के जटिलताओं

नशीली दवाओं के उपयोग में महत्वपूर्ण और हानिकारक अल्पकालिक और दीर्घकालिक प्रभाव हो सकते हैं। कुछ दवाएं लेना विशेष रूप से जोखिम भरा हो सकता है, खासकर यदि आप हाई होज ले रहें हो। या उन्हें अन्य दवाओं या शराब के साथ जोड़ते हैं। यहां कुछ उदाहरण हैं।

-मेथामफेटामाइन, ओपिेट्स और कोकीन अत्यधिक नशे की लत है और ये आपके कई अल्पकालिक और दीर्घकालिक स्वास्थ्य परिणाम का कारण बन सकता  है, जिसमें दौरे या मौत होने की संभावना हो सकती है।

-जीएचबी और फ्लुनिट्राजेपम से बेहोशी, भ्रम और मेमोरी लॉस जैसी समस्या हो सकती है। ये आपकी मेमोरी को कम करने और किसी घटना को याद करने की क्षमता को बाधित करता है। उच्च खुराक पर, वे दौरे, कोमा और मृत्यु का कारण बन सकते हैं। खतरा तब बढ़ जाता है जब इन दवाओं को शराब के साथ लिया जाता है।

-एक्स्टसी या मॉली (एमडीएमए) डिहाइड्रेशन, इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन और जटिलताओं का कारण बन सकता है जिसमें दौरा होने का खतरा बना रहता हैं। दीर्घकालिक, एमडीएमए मस्तिष्क को नुकसान पहुंचा सकता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Colic: कोलिक क्या है ?

कोलिक क्या है? शिशुओं में कोलिक का इलाज colic infant in hindi शिशुओं में कोलिक होना कोई बड़ी बीमारी नहीं है, लेकिन यह बच्चों में कई समस्या उत्पन्न करता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एक्टिनिक केराटोसिस का समय पर करें इलाज, नहीं तो हो सकता है कैंसर

जानिए एक्टिनिक केराटोसिस क्या है in hindi, एक्टिनिक केराटोसिस का इलाज कैसे कर सकते है, actinic-keratosis के उपचार के दौरान जानें किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
स्किन कैंसर, हेल्थ सेंटर्स अप्रैल 10, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

लॉकडाउन में घर से ऐसे काम कर रही है हैलो स्वास्थ्य की टीम, जिससे आपको मिलती रहे हेल्थ से जुड़ी हर अपडेट

लॉकडाउन में जिंदगी: कोरोना वायरस के चलते देशभर में लॉकडाउन है। ज्यादातर लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं। हैलो स्वास्थ्य की टीम भी इसमें पीछे नहीं हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mona narang
कोरोना वायरस, कोविड 19 व्यवस्थापन अप्रैल 8, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें

Achiote : अचीओट क्या है ? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट

जानिए अचीओट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, अचीओट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, achiote डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया shalu
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 28, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

वेट लॉस डायट चार्ट

वेट लॉस डायट चार्ट: जरूर ट्राई करें ये आसान और असरदार चार्ट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ मई 16, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
महिलाओं में वुलवोडीनिया

Vulvodynia: वुलवोडीनिया क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अप्रैल 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
एट्रोफिक गैस्ट्रेटिस के कारण/Atrophic gastritis ka ilaj

क्या आप जानते हैं एट्रोफिक गैस्ट्रेटिस के कारण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
एचपीवी वैक्सीन - HPV Vaccine

HPV वैक्सीन: सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन कब लेना सही है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ अप्रैल 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें