मानसिक तनाव के प्रकार को समझकर करें उसका इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अकसर हम तनाव को लेकर बहुत सारी सलाह सुनते हैं। जैसे स्वस्थ आहार खाएं, डायरी रखें या अधिक नींद लें। कम वेतन, काम का बोझ, व्यस्त जीवन और बिना बात का हंगामा तनाव के मुख्य कारण हैं। स्ट्रेस का एक प्रमुख कारण है कि “अगर घर में कोई कठिनाई है, तो आप उसे कार्यालय में लाते हैं। यह आपके पेशेवर तनाव के साथ मिक्स हो जाता है। ध्यान ना रखने पर ये मिक्स स्ट्रेस मैनेजमेंट से बाहर हो सकता है। तनाव आगे गंभीर होने पर आपके रिश्तों को प्रभावित करता है। आज इस लेख में हम मानसिक तनाव के प्रकार के बारे में बात करेंगे।

और पढ़ेंः डिप्रेशन (Depression) होने पर दिखाई ​देते हैं ये 7 लक्षण

तनाव (स्ट्रेस) क्या है?

कुछ हासिल करने के लिए परेशानी या चिंता करना निश्चित रूप से आपको अपने लक्ष्य की ओर ले जाता है, लेकिन अगर आप अपने जीवन में मानसिक तनाव हर समय महसूस करते हैं तो यह एक अच्छा संकेत नहीं है। मेंटल स्ट्रेस का असर जब दैनिक कार्यों पर पड़ने लगे तो आपको सावधान होने की आवश्यकता है। बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेना मानसिक बीमारी का मूल कारण बन सकता है। मानसिक तनाव या स्ट्रेस भी तन और मन दोनों पर बुरा असर डालता है जिससे कई शारीरिक और मानसिक बीमारियां जन्म लेती हैं।

मानसिक तनाव के प्रकार

मानसिक तनाव के प्रकार में तीन प्रकार के तनावों की पहचान की गई है। जैसे-

तीव्र तनाव (Chronic stress) स्ट्रेस के प्रकार में एक

मानसिक तनाव के प्रकार में से एक क्रोनिक स्ट्रेस है जो थोड़े समय के लिए होता है। हाल ही में हुई घटनाओं, या आगामी समय में आने वाली समस्याओं के दबाव के बारे में अधिक सोचने के कारण अक्सर तीव्र तनाव होता है। उदाहरण के लिए, यदि आप हाल ही में एक ऐसे किसी काम में शामिल हुए हैं जो आपको परेशान कर रहा है या उसकी समय सीमा निकट हो और काम पूरा ना हुआ है, तो आपको तीव्र तनाव ट्रिगर कर सकता है। हालांकि, इनका समाधान हो जाने पर तनाव खुद ब खुद दूर हो जाता है।

और पढ़ेंः डिप्रेशन रोगी को कैसे डेट करें?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

मानसिक तनाव के प्रकार में दीर्घकालिक क्रोनिक तनाव

इस तनाव के दौरान आपको लंबे समय तक सिरदर्द और पेट की तकलीफ का सामना करना पड़ता हैं। हालांकि, लंबी अवधि के बाद यही तनाव तीव्र तनाव के रूप में बार-बार होने लगता है तो ये लक्षण हानिकारक हो सकते हैं।

मानसिक तनाव के प्रकार: एपिसोडिक तीव्र तनाव

जो लोग अक्सर तीव्र तनाव का अनुभव करते हैं, या जिनके जीवन में स्ट्रेस बार-बार ट्रिगर करता है उन्हें एपिसोडिक तीव्र तनाव होने की प्रबल संभावना होती है। बहुत अधिक प्रतिबद्धताओं वाले व्यक्तियों में एपिसोडिक तनाव के लक्षण प्रगट होते है जैसें, चिड़चिड़ा और तनावग्रस्त होने की प्रवृत्ति शामिल है। यह चिड़चिड़ापन रिश्तों को प्रभावित कर सकता है। लगातार बहुत अधिक चिंता करने वालों को भी ये तनाव अपनी चपेट में ले सकता है।

और पढ़ें: बच्चों के मानसिक तनाव को दूर करने के 5 उपाय

अपने तनाव संकेतों को पहचानें

“तनाव के दौरान अपने शारीरिक संकेतों” को पहचानने के लिए खुद को प्रशिक्षित करें। शायद आपकी गर्दन अकड़ जाती है, आपके पेट में दर्द होता है, या आपकी हथेलियों से पसीना आता है। आपके शरीर के अंदर क्या हो रहा है, ये सभी लक्षण आपके तनाव का कारण हो सकते है।  “जिस मिनट आप तनाव महसूस करने लगते हैं, आपकी नाड़ी दौड़ जाती है, आपका दिल तेजी से धड़कने लगता और शरीर में हाॅर्मोन (कोर्टिसोल और एड्रेनालीन सहित) रिलीज हो जाते हैं। यदि आप अपने अंदर के संकेतों को पहचान सकते हैं तो उन्हें अनदेखा करने के बजाय आपको सही उपचार की तरफ खुद को फोकस करना चाहिए।

और पढ़ें: बच्चों का पढ़ाई में मन न लगना और उनकी मेंटल हेल्थ में है कनेक्शन

इसे तनाव न समझें

ज्यादातर ऑफिस में लोगों का रक्तचाप (blood pressure) काम करते समय बढ़ जाता है क्योंकि बॉस या सहकर्मी कुछ महत्वपूर्ण काम करने का एक्सट्रा बरडन दे देते हैं। आप सफल होना चाहते हैं। ऐसी स्थिती में तनाव पैदा होना जाहिर सी बात है। अत्यधिक वर्क लोड के दौरान आप परेशान करने वाली बातों को खुद से कही और शिफ्ट करें और काम को “आगे बढ़ने का एक अवसर के रूप में देखे। “अपना ध्यान बढ़ाएं और वास्तव में किसी भी समस्या को खुद पर हावी होने ना दें।

और पढ़ें: युवाओं में आत्महत्या के बढ़ते स्तर का कारण क्या है?

अपने आप से बात करें

जब आप तनाव में होते हैं, तो आपके अंदर की आवाज तेज, डरावनी हो जाती है। यह आपको बताता है: “मैं बहुत गुस्से में हूं,” या “मैं ऐसा कभी नहीं कर पाऊंगा।” इस नकारात्मक आवाज को खुद से दूर रखने के लिए  “अपने आप से लॉजिकल और शांत स्वर में बात करें। इस स्थिती में खुद के अंदर सकारात्मकता को इंजेक्ट करने की कोशिश करें”। जैसे खुद से “कुछ ऐसा कहो,‘ मेरे पास अतीत में इस तरह का एक असाइनमेंट था और मैं सफल रहा। मैं इसे भी संभाल सकता हूं। ऐसी बाते आपका मनोबल बढ़ाती है और आपको कमजोर होने और स्ट्रेस में आने से रोकती है।

तीन गहरी सांस लें

तनाव को कम करने के लिए गहरी सांस लेना कमाल की सरल रणनीति है। “जब आप चिंतित महसूस करते हैं, तो आपकी सांस छोटी और अधिक अनियमित होने लगती है। पेट का ध्यान रखते हुए तीन बड़ी सांसें लेना और छोड़ना आपके पैरासिम्पेथेटिक नर्वस सिस्टम के लिए अच्छा है। आप ऐसा तब भी कर सकते हैं जब आप अपने कंधों को नीचे कर रहे हों, अपनी गर्दन को घुमा रहे हों, या अपने कंधों को घुमा रहे हों। गहरी सांस लेने से तनाव के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। किसी भी मानसिक तनाव के प्रकार से बचने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज भी की जा सकती है।

और पढ़ें: दिमाग नहीं दिल पर भी होता है डिप्रेशन का असर

 एक सूची बनाना

आपको महत्वपूर्ण कार्यों को प्राथमिकता देने वाली टू-डू लिस्ट बनानी चाहिए। एक तरह से ये तनाव से मुकाबला करने का दूसरा तरीका है। “लेखन का कार्य मन को केंद्रित करता है। आपको जो कुछ भी करने की जरूरत है उसे लिखें और उस पर अमल करने की कोशिश करें। मानसिक तनाव के प्रकार में से आपको किसी भी तरह का स्ट्रेस होने पर यह उपाय काफी कारगर साबित होगा। अगर तनवा बढ़ता जा रहा है तो ऐसे में दवा लेने की सलाह डॉक्टर दे सकते हैं

हर किसी को कुछ खास लोगों पर भरोसा करने की जरूरत है, जिन्हें वे दबाव महसूस होने पर बुला सकते हैं। ऐसे व्यक्ति का चयन सावधानी से करें। आप ऐसे इंसान से अपना संर्पक हमेशा बनाए रखे। जिसके सामने आप दिल खोल कर अपनी बात कह सके और जो आपके प्रश्नों का हल खोजने में आपकी मदद कर सके।

उम्मीद है कि आपको मानसिक तनाव के प्रकार पर आधारित यह लेख पसंद आया होगा। इस विषय से जुड़ा कोई भी सवाल या सुझाव है तो आप हमसे कमेंट बॉक्स के जरिए साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Pedophilia : पीडोफिलिया है एक गंभीर मानसिक बीमारी, कहीं आप भी तो नहीं है इसके शिकार

पीडोफिलिया क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर का कारण क्या है, पीडोफीलिक डिसऑर्डर के लक्षण, इलाज, बच्चे के प्रति यौन आकर्षण, बाल यौन शोषण, pedophilia, paedophilia

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी चैलेंजेस क्या हैं और कैसे उबरा जाए इन समस्याओं से?

एलजीबीटी कम्युनिटी चैलेंजेस के दौरान समुदाय के लोगों को न केवर घर में बल्कि घर के बाहर भी भेदभाव का सामना करना पड़ता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए समुदाय के चैलेंज के बारे में। lgbt community challenges

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

ज्यादा फोटो का लोड आपका स्मार्टफोन उठा सकता है, पर दिमाग नहीं

फोटोग्राफी का दिमाग पर असर कैसा होता है? फोटो खींचने के फायदे और नुक्सान क्या हैं? मनोवैज्ञानिक मैरीन गैरी का कहना है कि बहुत सी तस्वीरें लेने से मेमोरी फॉर्मिंग का तरीका कमजोर हो जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मेंहदी और मानसिक स्वास्थ्य का है सीधा संबंध, जानें इस पर एक्सपर्ट की राय

मेंहदी और मानसिक स्वास्थ्य का क्या संबंध है, मेंहदी डिजाइन, मेंहदी कैसे लगाएं, मेंहदी का आयुर्वेद में उपयोग, Mehandi and Mental Health

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

रिटायरमेंट के बाद मेंटल हेल्थ

रिटायरमेंट के बाद बिगड़ सकती है मेंटल हेल्थ, ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
टीनएजर्स में खुदकुशी के विचार

‘नथिंग मैटर्स, आई वॉन्ट टू डाय’ जैसे स्टेटमेंट्स टीनएजर्स में खुदकुशी की ओर करते हैं इशारा, हो जाए अलर्ट

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
भारत में महिला आत्महत्या women suicide prevention in india

विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस: क्यों भारत में महिला आत्महत्या की दर है ज्यादा? क्या हो सकती है इसकी रोकथाम?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लॉकडाउन में टीचर्स का मानसिक स्वास्थ्य

टीचर्स डे: ऑनलाइन क्लासेज से टीचर्स की बढ़ती टेंशन को दूर करेंगे ये आसान टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें