home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

योनि सिस्ट क्या है? जानिए योनि सिस्ट के प्रकार, लक्षण और उपचार के बारे में

योनि सिस्ट क्या है? जानिए योनि सिस्ट के प्रकार, लक्षण और उपचार के बारे में

योनि सिस्ट क्या है या योनि की गांठ योनि के मुख के आस-पास विकसित होती है। योनि सिस्ट हवा, फ्लूड या पस के जरिये योनि की लाइन (Vagina Line) में गांठ के रूप में होती है। योनि सिस्ट कई वजहों से हो सकती है कई बार तो इनमें लक्षण तक नहीं दिखाई देते। योनि सिस्ट आमतौर पर हानिकारक या दर्दनाक नही होते है। कुछ योनि सिस्ट आमतौर पर इतनी छोटी होती है कि इन्हें नग्न आंखों से नही देखा जा सकता है, इस तरह सूक्ष्म योनि सिस्ट का ट्रीटमेंट जरूरी नहीं होता है। अगर ये आकार में बढ़ जाती है तो दर्द, खुजली या इंफेक्शन का कारण बन जाती है। सामान्यततौर पर योनि में तरल पदार्थ, डिलिवरी से संबंधित चोटों और ट्यूमर के कारण होती हैं। योनि सिस्ट के लक्षण हमेशा दिखाई दे ये जरूरी तो नहीं, लेकिन योनि सिस्ट का आकार बढ़ जाए तो इसे बिना इलाज किये नहीं छोड़ना चाहिए। योनि में सिस्ट कई तरह के होते है आइये जानते है योनि सिस्ट क्या है और इसके प्रकार के बारे में-

और पढ़ें- क्या मैं फाइब्रॉएड्स के साथ प्रेग्नेंट हो सकती हूं?

योनि सिस्ट क्या है जानिए इसके प्रकार –

योनि सिस्ट क्या है, यह योनि के आसपास होने वाली गांठ है जो सामान्यतौर पर तीन प्रकार की होती है। योनि सिस्ट सूक्ष्म आकार की होती है तो कोई समस्या नही होती, लेकिन अगर सिस्ट का आकार समय के साथ बढ़ रहा है और दर्द कर रहा है तो डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। योनि सिस्ट या वजाइनल सिस्ट के कई प्रकार होते है। आमतौर पर योनि सिस्ट के योनि समावेशन सिस्ट (Vaginal Inclusion Cysts), गार्टनर डक्ट सिस्ट (Gartner’s Duct Cyst) और बर्थोलिन सिस्ट प्रकार देखने को मिलते है।

[mc4wp_form id=”183492″]

1.योनि समावेशन सिस्ट – (Vaginal Inclusion Cyst)

योनि समावेशन सिस्ट सामान्यतः योनि में होने वाली सिस्ट है। यह सिस्ट योनि की दीवार पर चोट के कारण होती है, ज्यादातर यह डिलिवरी के दौरान या सर्जरी के बाद चोट लगने पर हो जाती है।

और पढ़ें: Bartholin’s cyst: बार्थोलिन सिस्ट क्या है?

2.गार्टनर की डक्ट सिस्ट – (Gartner’s Duct Cyst)

प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के प्रजनन अंग के चारों ओर गार्टनर वाहिनी होती है। यह डिलिवरी के बाद गायब हो जाती है, अगर यह डिलिवरी के बाद भी कायम हो तो लिक्विड संचय करने लग जाती है, जिससे सिस्ट हो जाता है।

3.बार्थोलिन की सिस्ट – (Bartholin’s Cyst)

बार्थोलिन की ग्रंथि योनि के मुख द्वार पर होती है, जहां से योनि से पेट के अंदर जाने का रास्ता होता है। यदि इस ग्रंथि के ऊपर त्वचा बढ़ती है, तो ग्रंथि में वापस आकर एक सिस्ट बना लेता है। इस तरह की सिस्ट वैसे तो दर्द रहित होती है, लेकिन यदि संक्रमित हो जाएं तो फोड़ा तक बन सकती है।

और पढ़ें- Ovarian cyst : ओवेरियन सिस्ट क्या है?

योनि सिस्ट क्या है जानिए इसके लक्षण

आमतौर पर योनि सिस्ट से जुड़े किसी तरह के लक्षण नहीं होते हैं। अगर योनि की दीवार पर उभरी हुई गांठ दिखें या इंटरकोर्स के दौरान या टैम्पोन डालते समय दर्द या परेशानी हो तो योनि सिस्ट की समस्या हो सकती है। ऐसी स्थिति में डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

योनि सिस्ट क्या है और इसका परीक्षण कैसे किया जाता है

किसी महिला में योनि सिस्ट की समस्या का पता लगाने के लिए योनि सिस्ट का परीक्षण किया जाता है। योनि सिस्ट का परीक्षण करने के लिए नियमित श्रोणि परीक्षा (Pelvic Exam) के दौरान योनि की दीवार पर सिस्ट महसूस किया जा सकता है। इसके साथ ही महिला का चिकित्सीय इतिहास भी जाना जाता है, ताकि पता लगाया जा सके कि महिला में योनि सिस्ट की संभावना तो नही है। योनि सिस्ट का परीक्षण करने के लिए-

  • योनि के कैंसर की संभावना का पता लगाने के लिए सिस्ट से कोशिका के नमूने की बायोप्सी की जाती है, ताकि पता लगाया जा सके की योनि सिस्ट कोई कैंसर तो नही है या फिर साधारण सी सिस्ट या गांठ है।
  • योनि या गर्भाशय ग्रीवा (Uterus Cervix) से स्राव का परीक्षण कर यह निर्धारित किया जाता है कि यौन संचारित संक्रमण (एसटीडी) मौजूद है या नहीं।
  • सिस्ट की पूरी तरह से छवि देखने के लिए एमआरआई स्कैन, सीटी स्कैन या अल्ट्रासाउंड किया जाता है।

योनि सिस्ट क्या है और इसका इलाज कैसे किया जाता है

सामान्य तौर पर योनि सिस्ट को किसी भी तरह के उपचार या इलाज की जरूरत नही होती है क्योंकि ज्यादातर सिस्ट आकार में सूक्ष्म होते है और बढ़ते नही है। लेकिन अगर योनि का कोई सिस्ट आकार में बढ़ रहा है और दर्द कर रहा है तो यह समस्या बन सकता है और इसका इलाज किया जाना जरूरी है। इस तरह के योनि सिस्ट का नियमित तौर पर परीक्षण करके उसमें परिवर्तन और आकार में वृद्धि की जांच की जाती है। यदि सिस्ट बड़ी हो जाती है या किसी तरह का गंभीर लक्षण दिखाई देता है, तो डॉक्टर सिस्ट को हटाने के लिए सर्जरी की सलाह दे सकता है। यदि सिस्ट इंफेक्शन या फोड़ा का कारण बनता है तब डॉक्टर एंटीबायोटिक्स के जरिये भी इलाज करते है। योनि सिस्ट का इलाज करने के लिए डॉक्टर निम्न विकल्पों में से किसी एक का उपयोग करते है-

और पढ़ें- नाबोथियन सिस्ट (Nabothian cysts) किसे कहते हैं, यह प्रेग्नेंसी से कैसे संबंधित है?

1.एंटीबायोटिक्स से योनि सिस्ट का इलाज-

यदि किसी महिला में परीक्षण के बाद योनि सिस्ट का पता चलता है तो डॉक्टर एंटीबायोटिक्ट के जरिए ठीक करने की कोशिश करते है।

2.सिट्ज बाथ से योनि सिस्ट का इलाज-

अगर किसी महिला को छोटी सिस्ट हुई है और यह ज्यादा बढ़ नही रही है तो डॉक्टर सिट्ज स्नान से इसे ठीक करने की कोशिश करते है। सिट्ज स्नान से योनि सिस्ट का इलाज करने के लिए महिला को गर्म पानी के बाथ टब में एक दिन में कई बार स्नान करने की सलाह देते है। इस दौरान डॉक्टर गर्म पानी के टब में थोड़ी देर रहने की सलाह देते है ताकि योनि सिस्ट पर गर्म पानी लगता रहे। इस प्रक्रिया को तीन-चार दिन तक किया जाता है। सिट्ज स्नान से छोटी-मोटी सिस्ट और उसका संक्रमण ठीक हो सकता है और सर्जरी से बचा जा सकता है।

3.मार्सुपियालिजेशन से योनि सिस्ट का इलाज-

मार्सुपियालिजेशन (Marsupialization) के द्वारा योनि सिस्ट का इलाज तब किया जाता है, जब कोई सिस्ट बार-बार हो जाती है। मार्सुपियालिजेशन (Marsupialization) एक सर्जिकल प्रक्रिया होती है जिसमें सिस्ट काटकर निकाला जाता है।

4.ग्लैंड रिमूवल से योनि सिस्ट का इलाज-

जब योनि सिस्ट बर्थोलिन सिस्ट का प्रकार हो तब ग्लैंड को हटाकर सिस्ट का इलाज किया जाता है। हालांकि ग्लैंड रिमूवल की नौबत कम ही आती है और डॉक्टर अन्य उपचारों से ही योनि सिस्ट को ठीक करने की कोशिश करते है।

योनि सिस्ट क्या है और इसके जोखिम

योनि सिस्ट के कारण जोखिम कम ही होते हैं। हालांकि सिस्ट समय के साथ आकार में बढ़ जाती है, जिससे दर्द और परेशानी बढ़ सकती है, जिसके कारण संक्रमण का खतरा भी बढ़ सकता है। सिस्ट को हटाने के लिए सर्जरी की जाती है तो संक्रमण या अन्य जोखिम का खतरा भी हो सकता है।

और पढ़ें- जानिए योनि टाइटनिंग के लिए कुछ बेहतरीन टिप्स

हम उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में योनि सिस्ट क्या है, इसके बारे में जानकारी दी गई है। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल है तो बेहतर होगा किसी विशेषज्ञ से कंसल्ट करें।

 

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Vaginal Cysts/https://medlineplus.gov/ency/article/001509.htm/Accessed July 30, 2020

Vaginal cysts: https://uihc.org/health-topics/vaginal-cysts-polyps-and-warts Accessed July 30, 2020

Bartholin’s cyst: https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/bartholin-cyst/symptoms-causes/syc-20369976 Accessed July 30, 2020

A rare case of posterior vaginal wall cyst: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3132834/ Accessed July 30, 2020

Vaginal cysts: https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/18390079/ Accessed July 30, 2020

Vaginal cysts: http://sifaka.cs.uiuc.edu/~yuelu2/opinionintegration/health/Vaginal_cysts.html Accessed July 30, 2020

लेखक की तस्वीर
sudhir Ginnore द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/07/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड