backup og meta

बेबी बर्थ पुजिशन, जानिए गर्भ में कौन-सी होती है बच्चे की बेस्ट पुजिशन

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. हेमाक्षी जत्तानी · डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 25/09/2020

बेबी बर्थ पुजिशन, जानिए गर्भ में कौन-सी होती है बच्चे की बेस्ट पुजिशन

जन्म के समय बेबी बर्थ पुजिशन बहुत मायने रखती है। बेबी बर्थ पुजिशन अपने आप तय होती है। कई बार बेबी बर्थ पुजिशन सही न होने पर डॉक्टर इसे सही करने का प्रयास करते हैं। नॉर्मल डिलिवरी के लिए बर्थ पुजिशन का सही होना बहुत जरूरी है। बच्चे का पुजिशन पेट में चेंज होता रहता है। ये बात मायने रखती है कि लेबर के दौरान बच्चे का पुजिशन क्या है। बच्चा पेट में मूवमेंट करता रहता है। डिलिवरी के दौरान बच्चे का पुजिशन ही तय करता है कि डिलवरी आसानी से हो जाएगी या फिर सी-सेक्शन की सहायता लेनी पड़ सकती है। अब आप सोच रही हैं कि बेबी बर्थ पुजिशन के लिए कौन सी पुजिशन बेस्ट है, तो इस आर्टिकल में हम इसी बारे में विस्तार से जानेंगे। इस आर्टिकल में हम आपको आइडियल बेबी बर्थ पुजिशन के बारे में बताएंगे।

और पढ़ें : किन मेडिकल कंडिशन्स में पड़ती है आईवीएफ (IVF) की जरूरत?

जानिए बेबी बर्थ पुजिशन के बारे में

ऑक्सिपिटो-एंटीरियर पुजिशन

बेस्ट बेबी बर्थ पुजिशन की बात की जाए तो लेबर के समय बच्चे का सिर नीचे और फेस बैक की ओर होना चाहिए। इस पुजिशन को ऑक्सिपिटो-एंटीरियर पुजिशन (occipito-anterior position) कहा जाता है। इससे बच्चा आसानी से पेल्विक से बाहर आ जाता है।

और पढ़ें : 5 तरह के फूड्स की वजह से स्पर्म काउंट हो सकता है लो, बढ़ाने के लिए खाएं ये चीजें

[mc4wp_form id=’183492″]

ऑक्सिपिटो-पोस्टीरियर बेबी बर्थ पुजिशन

अगर आपके बच्चे का सिर नीचे की ओर है लेकिन फेसिंग टमी की ओर है यानी उसका पीछे का हिस्सा आपके पीछे की ओर है तो इसे ऑक्सिपिटो-पोस्टीरियर पुजिशन कहा जाएगा। इस पुजिशन में डिलिवरी के दौरान परेशानी हो सकती है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में खाएं ये फूड्स नहीं होगी कैल्शियम की कमी

ब्रीच बेबी बर्थ पुजिशन

अगर बच्चे के पैर नीचे की ओर हैं तो इसे ब्रीच पुजिशन (Breech position) कहा जाएगा। ये पुजिशन भी डिलिवरी के दौरान समस्या खड़ी कर सकती है। ऐसे में डॉक्टर्स को सी-सेक्शन का सहारा लेना पड़ सकता है।

रिसर्च में ये बात सामने आई है कि ऑक्सिपिटो-एंटीरियर पुजिशन के बेनिफिट होते हैं जैसे,

  • ऐसे में सी-सेक्शन यानी सिजेरियन डिलिवरी की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है।
  • एंटीरियर पुजिशन के कारण लेबर पेन के दौरान बच्चा जल्दी बाहर आ जाता है।
  • जल्दी बच्चा बाहर आने से डिलिवरी के दौरान कम दर्दसहना पड़ता है।

यह भी पढ़ें : गर्भावस्था में मोबाइल फोन का इस्तेमाल सेफ है?

मुझे बेबी बर्थ पुजिशन के बारे में कैसे पता चलेगा?

जब आप तीसरी तिमाही में कदम रखेंगी तो बेबी की पुजिशन के बारे में पता लग सकता है। आपको बेबी किक तीसरी तिमाही में पूरी तरह से समझ आती है। आपने महसूस किया होगा कि बेबी का सिर जब घूमता है तो पेट में अलग सा गोल उभार दिखाई देता है। जबकि नीचे का हिस्सा मुलायम होता है। बेबी जब किक करता है तो आपको महसूस होगा कि उसने किस तरफ पैर मारा है।

एंटीरियर बेबी बर्थ पुजिशन

ऐसी अवस्था में आपको पसलियों की तरफ किक महसूस होंगे। आपके बेबी का बैक आपके टमी की ओर होगा और वो अपेक्षाकृत अधिक कठोर महसूस होगा। बेबी बर्थ पुजिशन के लिए यह स्थिति अच्छी मानी जाती है।

और पढ़ें : दूसरी तिमाही में गर्भवती महिला को क्यों और कौन से टेस्ट करवाने चाहिए?

पोस्टीरियर बेबी बर्थ पुजिशन

अगर आपका बेबी पोस्टीरियर पुजिशन में है तो आपको पेट में ज्यादा किक फील होंगे। आपको टमी एरिया में ज्यादा स्क्वैश फील होंगे। ये स्थिति लेबर के दौरान लंबा टाइम ले सकती है। ज्यादा दर्द के साथ ही ऐसी स्थिति में सी-सेक्शन के चांस बढ़ जाते हैं।

क्या बेबी बर्थ पुजिशन को चेंज किया जा सकता है?

बेबी बर्थ पुजिशन को बदला जा सकता है या नहीं, इस बारे में अभी तक साफ तौर पर जानकारी उपलब्ध नहीं है। बेबी बर्थ पुजिशन को चेंज करने के लिए कुछ तरीके अपनाएं जा सकते हैं। अगर बच्चा बैक टू बैक पुजिशन में है और उसे एंटीरियर पुजिशन में लाना है तो कुछ तरीके अपनाएं जा सकते हैं। आपके लिए बेहतर होगा कि एक बार अपने डॉक्टर से इस बारे में जरूर पूछें। शोध से जानकारी मिली है कि कुछ स्थिति में गर्भावस्था के दौरान और प्रसव के दौरान बैक-टू-बैक बेबी पुजिशन के कारण पीठ दर्द से राहत मिल सकती है।

  • आप दिन में दो बार दस मिनट के लिए ऐसे बैठे कि आपके कूल्हें नीचे की ओर और घुटने थोड़ा ऊपर की ओर हो।
  • जब भी कहीं बैठे, अपने तल को ऊपर की ओर ऊठा कर रखें। आप चाहे तो पिलो का यूज कर सकती हैं।
  • अगर आप जॉब कर रही हैं तो एक जगह पर बिल्कुल नहीं बैठे। कुछ समय के लिए वॉक पर जा सकती हैं।
  • टीवी देखते समय या फिर या फिर बर्थ बॉल के ऊपर बैठे हो, ध्यान रखें कि घुटने से ऊपर की ओर हिप्स हो।

आइडियल पुजिशन न होना डर का विषय है?

आइडियल पुजिशन न होना बिल्कुल भी डर का विषय नहीं है। अगर आपको प्रेग्नेंसी के दौरान ये महसूस होता है कि आपका बेबी आइडियल पुजिशन में नहीं है तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि 100 में से केवल पांच या छह बच्चे ही ऐसे होते हैं जो लेबर के दौरान पुजिशन चेंज नहीं करते हैं। बाकी ज्यादातर बच्चे आइडियल पुजिशन में आ जाते हैं। इसलिए आप आइडियल पुजिशन न होने को लेकर ज्यादा परेशान न हों, अगर समस्या ज्यादा है तो डॉक्टर से संपर्क करें।

बेबी बर्थ पुजिशन के बारे में सोचकर आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। अगर आपको बेबी बर्थ पुजिशन के बारे में जानकारी है तो ये अच्छी बात है। लेबर के समय क्या करना सही रहेगा, ये डॉक्टर पर छोड़ दें। अगर आपको बेबी बर्थ पुजिशन के बारे में अधिक जानकारी चाहिए तो एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। उम्मीद है इस लेख में बेबी बर्थ पुजिशन से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां आपको मिल गई होंगी। अगर इस बारे में आपके कोई और भी सवाल हैं, तो हमसे आप पूछ सकते हैं। आपके सभी सवालों का जवाब एक्सपर्ट्स द्वारा देने की कोशिश करेंगे।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 25/09/2020

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement