home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ब्रेन ट्यूमर के लिए क्या हर्बल मेडिसिन दिखाती हैं अपना असर?

ब्रेन ट्यूमर के लिए क्या हर्बल मेडिसिन दिखाती हैं अपना असर?

ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन के बारे में सोचना शायद आपको हैरान कर सकता है लेकिन कुछ स्टडी में ये बात सामने आ चुकी है कि ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन (Herbal medicine for brain tumor) अपना असर दिखाती हैं। हर्बल के इस्तेमाल से ब्रेन ट्यूमर के बढ़ने की रफ्तार को रोकने के लिए कई सालों से रिचर्स चल रही है और अब इस संबंध में कुछ हर्बल पौधों से प्राप्त एजेंट के बारे में रिपोर्ट भी प्रकाशित की गई है, जिसमें ये बताया गया है कि हर्बल का इस्तेमाल ब्रेन ट्यूमर के खतरे को कम करता है। आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से ग्लियोब्लास्टोमा ट्यूमर (Glioblastoma) ( घातक ट्यूमर जो मस्तिष्क या रीढ़ को प्रभावित करता है) और मनुष्यों में अन्य विभिन्न ट्यूमर का इलाज किया जाता है। इसे दूर करने के लिए ‘फाइटोथेरिपी’ का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें पांच अलग-अलग तरीके शामिल हैं। इसका इस्तेमाल दिन में एक से दो बार चाय के रूप में किया जाता है, जिससे किसी तरह का दुष्प्रभाव नहीं होता है। इनमें “अश्वगंधा” को भी लाभकारी जड़ी-बूटी माना गया है, जो न केवल ट्यूमर को ठीक करती है बल्कि अन्य बीमारियों को भी ठीक करने में मदद करती है। जानिए इस आर्टिकल के माध्यम से कि किस तरह से ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन (Herbal medicine for brain tumor) अपना असर दिखाती हैं।

और पढ़ें: गट और ब्रेन के बीच के कनेक्शन : बस समझना ही तो जरूरी है!

ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन: नैचुरल प्रोडक्ट, जो दिखाते हैं ब्रेन ट्यूमर पर अपना असर

ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन

रेडिएशन (Radiation), कीमोथेरिपी (chemotherapy) के माध्यम से ट्यूमर को खत्म करने की कोशिश की जाती है। ब्रेन ट्यूमर को निकालने के लिए सर्जरी मुश्किल होती है। अगर ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन (Herbal medicine for brain tumor) का सहारा लिया जाए, तो इसके बढ़ने की रफ्तार को कम किया जा सकता है। इस संबंध में सालों से स्टडी हो रही है और कुछ रिचर्स भी पब्लिश हुई हैं। इस बारे में सौ फीसदी कहना मुश्किल है कि हर्बल दवाओं का ब्रेन ट्यूमर पर असर होता है। यहां हम आपको कुछ हर्बल के बारे में बताने जा रहे हैं, जो ब्रेन ट्यूमर (Brain tumor) पर अपना असर दिखाती हैं।

एल्कलॉइड और फ्लेवोनोइड्स (Alkaloids and flavonoids)

जिंजिबर ऑफिसनाले और रज्या स्ट्रिक्टा (Zingiber officinale and Rhazya stricta) एपोसिनेसी और जिंगिबेरासी फैमिली से संबंध रखते हैं। रज्या स्ट्रिक्टा से निकलने वाले सख्त एल्कलॉइड में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीकैंसर प्रॉपर्टी (Antimicrobial and anticancer ) होती हैं और ये कई ट्यूमर को केमोसेंसिटाइज (Chemosensitize) करते हैं।

और पढ़ें: ये हैं ब्रेन और नर्वस सिस्टम की तकलीफें और कुछ ऐसे होता है इनका उपचार!

ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन: बिली देवदारी (Bili Devdari)

बिली देवदारी भारत में लकड़ी का अच्छा सोर्स माना जाता है। इस पेड़ में आर्युर्वेदिक गुण भी होते हैं।इस औषधीय गुणों से भरपूर पेड़ का गठिया के इलाज के लिए के लिए हर्बल उपचार किया जाताहै। इस पेड़ की कुछ किस्मों का इस्तेमाल हृदय रोग (Heart disease) और ट्यूमर (Tumors) की आयुर्वेदिक मेडिसिन बनाने में किया जाता है।

ओरिडोनिन (Oridonin)

ओरिडोनिन चायनीज हर्बल मेडिशनल प्लांट रबडोसिया रूबेसेन्स (Rabdosia rubescens) से निकाला जाने वाला डाईटर्पेनोइड कम्पाउंड (Diterpenoid compound) है। ओरिडोनिन का इस्तेमाल स्तन कैंसर (Breast Cancer), फेफड़े के कैंसर, ल्यूकेमिया (Leukemia) और ओस्टियोसारकोमा (Osteosarcoma) सहित कई कैंसर के खिलाफ एंटी-कैंसर एक्टिविटीज में किया जाता है।

और पढ़ें: कौन से हैं ब्रेन और स्पाइन डिसऑर्डर्स और कैसे होता है इनका उपचार?

ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन: ओस्थोल (Osthole)

नैचुरल कौमेरियन (Coumarian) है, जिसे पके हुए सिनिडियम फलों (Cnidium fruits) से निकाला जाता है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट (anti-oxidant), एंटी-इंफ्लेमेटरी (Anti-inflammatory) और एंटी कैंसर प्रॉपर्टीज (Anti-cancer properties) होती हैं। हाल ही में ये बात सामने आई है कि ओस्थोल का इस्तेमाल जीबीएम सेल्स (GBM cells) ट्यूमर के बढ़ने की गति को कम करता है।

ककरबिटेसिन (Cucurbitacin)

ककरबिटेसिन टेरपिन स्टेरॉल्स हैं, जो क्युकुरबिटिसीआ फैमिली (Cucurbitaceae family) से संबंध रखता है। इसमें एंटीकैंसर गुण (Anticancer properties) होते हैं, जो कैंसर की रफ्तार को कम करने का काम करते हैं।

और पढ़ें:सर्दियों में बढ़ जाता है ब्रेन स्ट्रोक का खतरा, पहले से ही रखें ये सावधानियां

चोकबेरी (Chokeberry)

चोकबेरी फल अरोनिया मेलानोकार्पा पौधे (Aronia melanocarpa plant) से मिलता है। इस फल को रिच एंटीऑक्सीडेंट कंटेंट के रूप में जाना जाता है। चोकबेरी एक्सट्रेक्ट का इस्तेमाल कैंसर के प्रसार को रोकने के लिए किया जाता है। कुछ स्टडी में ये बात सामने आई है कि ये मेटास्टेसिस (Metastasis) को जोखिम को कम करने में मदद करता है।

करक्यूमिन (Curcumin)

करक्यूमिन एक पिगमेंट कम्पाउंड है, जो हल्दी को पीला रंग देने का काम करता है। इसमें नैचुरल एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेट्री प्रॉपर्टीज होती हैं। करक्यूमिन (Curcumin) कैंसर कोशिकाओं के प्रसार को रोकने का काम करता है। स्टडी में ये बात भी सामने आई है कि करक्यूमिन ब्रेन ट्यूमर के विकास को कम करने, कैंसर कोशिकाओं के बीच मॉलीक्यूल सिग्नल को डिस्टर्ब करता है, जो ब्रेन मेटास्टेस (Brain metastases) को रोकने में प्रभावी साबित हो सकता है।

और पढ़ें: क्या किडनी सिस्ट बन सकती है किडनी कैंसर का कारण?

ब्रोमलेन (Bromelain)

ब्रोमेलैन एक डायजेस्टिव एंजाइम है, जो पाइनएप्पल में पाया जाता है। ये एंजाइम खाने में प्रोटीन को तोड़ने का काम करती है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि ब्रोमेलैन मस्तिष्क कैंसर को रोकने या कम करने में भूमिका निभा सकता है। शोध में पाया गया है कि ब्रोमेलैन कैंसर सेल ग्रोथ (Cancer cell growth ) और मेटास्टेसिस ( Metastasis) को रोकने में मदद कर सकता है।

ब्रेन ट्यूमर होने पर उसके इलाज को लेकर की गई देरी जानलेवा साबित हो सकती है। अगर आपको ब्रेन ट्यूमर हुआ है और आप हर्बल मेडिसिन लेना चाहते हैं, तो आपको पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में सलाह करनी चाहिए। अगर डॉक्टर ने आपको रेडिएशन या कीमोथरिपी की सलाह दी हो, तो बिना देरी किए अपना ट्रीटमेंट करवाएं। ऐसा करके ब्रेन ट्यूमर की रफ्तार को कम कर सकते हैं।

और पढ़ें: लिवर कैंसर का इलाज : क्या सर्जरी ही है एकलौता उपाय?

यहां दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। ब्रेन ट्यूमर गंभीर बीमारी है।ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन (herbal medicine for brain tumor) कितना असर करती हैं, इसके संबंध में अभी भी स्टडी जारी है। अगर आपको ब्रेन ट्यूमर की समस्या है, तो बेहतर होगा कि उसका ट्रीटमेंट कराएं। बिना एक्सपर्ट की सलाह के किसी भी दवा का सेवन न करें वरना आपके लिए घातक हो सकता है। अगर ब्रेन ट्यूमर बढ़ जाता है, तो ऐसे में रेडिएशन और कीमोथेरिपी जरूरी हो जाता है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ब्रेन ट्यूमर के लिए हर्बल मेडिसिन (Herbal medicine for brain tumor) के बारे में जानकारी मिल गई होगी। हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 02/06/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड