home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या आप जानते है कि एनीमिया और ब्लड कैंसर हैं ब्लड डिसऑर्डर्स के प्रकार!

क्या आप जानते है कि एनीमिया और ब्लड कैंसर हैं ब्लड डिसऑर्डर्स के प्रकार!

ब्लड यानी खून हमारी कोशिकाओं में पोषक तत्वों और ऑक्सीजन जैसे आवश्यक पदार्थों को वितरित करता है। खून वो लिविंग टिश्यू है, जो लिक्विड और सॉलिड से बनता है। इसमें लिक्विड पार्ट को प्लाज्मा कहा जाता है, जो बनता है पानी, नमक और प्रोटीन से। खून में आधे से ज्यादा प्लाज्मा होता है। खून के सॉलिड हिस्से में रेड ब्लड सेल (Red Blood Cells), वाइट ब्लड सेल्स (White Blood Cells) और प्लेटलेट्स (Platelets) होते हैं। लेकिन, कई अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) के कारण शरीर में कई समस्याएं हो सकती है। जानिए, क्या हैं यह रक्त विकार और कैसे करें इनका निदान।

अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स क्या है? (What is Other Blood Disorders)

ब्लड डिसऑर्डर्स वो स्थितियां हैं जो खून की कार्य को सही तरीके से काम करने की क्षमता को प्रभावित करती हैं। ब्लड डिसऑर्डर के लक्षण इसके प्रकार के अनुसार अलग हो सकते हैं। हालांकि, कुछ सामान्य लक्षणों में थकावट और वजन का कम होना शामिल हैं। खून के मुख्य कॉम्पोनेन्ट इस प्रकार हैं:

यह भी पढ़ें : इंफेक्शन से दूर रहना है, तो बचें इन वाइट ब्लड सेल डिसऑर्डर्स से!

  • रेड ब्लड सेल्स (Red blood cells)– जो शरीर के हर हिस्से तक ऑक्सीजन पहुंचाते हैं।
  • वाइट ब्लड सेलस (White blood cells) – जो इंफेक्शन से लड़ने में मददगार हैं।
  • प्लेटलेट्स (Platelets) – प्लेटलेट खून के थक्के जमने में मदद करते हैं।
  • प्लाज्मा (Plasma)प्लाज्मा खून का लिक्विड पार्ट है, जो ब्लड सेल्स, नुट्रिएंट्स, वेस्ट, हॉर्मोन्स आदि को ले जाता है।

इन कॉम्पोनेन्ट या संबंधित सेल्स और टिश्यूस में असमान्यतायें ब्लड डिसऑर्डर का कारण बन सकती हैं।

अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स के प्रकार कौन से हैं? (Type of Other Blood Disorders)

ऐसे कई ब्लड डिसऑर्डर्स हैं जिससे हमारा शरीर प्रभावित होता है और इन्हें विभाजित करने के भी कई तरीके हैं। जैसे इनहेरिटेड या अक्वायर्ड, कैंसरस या नॉनकैंसरस आदि। कुछ अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) इस प्रकार हैं:

  • एनीमिया (Anemias): जिसमें आयरन डेफिशियेंसी एनीमिया (Iron-Deficiency Anemia), विटामिन डेफिशियेंसी एनीमिया (Vitamin Deficiency Anemia), एनीमिया ऑफ इन्फ्लेमेशन( Anemia of inflammation) ,हेमोलीटिक एनीमिया (Hemolytic Anemia), सिकल सेल डिजीज (Sickle Cell Disease) आदि शामिल हैं।
  • ब्लीडिंग डिसऑर्डर्स (Bleeding Disorders)ब्लीडिंग डिसऑर्डर्स हैं हीमोफिलिया (Hemophilia) और वॉन विलेब्रांड डिजीज (Von Willebrand’s Disease) आदि।
  • क्लॉटिंग डिसऑर्डर्स और ब्लड क्लॉट्स (Clotting Disorders and Blood Clots)
  • ब्लड कैंसर (Blood Cancers) – ब्लड कैंसर में ल्यूकेमिया (Leukemia ), लिंफोमा (Lymphoma) और मायलोमा (Myeloma) आदि शामिल हैं।

Other Blood Disorders

ब्लड डिसऑर्डर्स के कारण कौन से हैं? (Causes of Other Blood Disorders)

ब्लड डिसऑर्डर्स विभिन्न बीमारियों का एक परिवार है, जो रक्त के कुछ हिस्से को प्रभावित करते हैं। अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) तब होते हैं, जब खून के एक या एक से अधिक कम्पोनेंट में कोई समस्या विकसित होती है। कई ब्लड डिसऑर्डर्स इनहेरिटेड होते हैं। इन डिसऑर्डर्स में माता-पिता एब्नार्मल जीन अपने बच्चों तक पास करते हैं। खास जेनेटिक म्युटेशन को इन कई स्थितियों के लिए जाना जाता है जैसे सिकल सेल एनीमिया (Sickle Cell Anemia) और कुछ हीमोफिलिया (Hemophilia) और थ्रोम्बोफिलिया (Thrombophilia)। ब्लड डिसऑर्डर के कई कारण होते हैं और आप इनका शिकार कभी भी हो सकते हैं, जैसे :

  • कुछ रोग जो उन अंग और टिश्यूस को प्रभावित करती हैं।
  • दवाइयां, न्यूट्रिशनल डेफिशियेंसी आदि इस समस्या के मुख्य कारण हैं।
  • कुछ आनुवांशिक कारक रक्त विकार के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

ब्लड डिसऑर्डर्स के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Other Blood Disorders)?

कई अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) किसी विशेष ब्लड फैक्टर या घटक की वृद्धि या कमी से उत्पन्न होते हैं। इसके लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि डिसऑर्डर के कारण कम्पोनेंट बढ़ता है या कम होता है। अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स के लक्षण (Symptoms of Other Blood Disorders) इस प्रकार हैं:

एनीमिया (Anemia)

एनीमिया यानी वो स्थिति जिसमें खून में पर्याप्त हेल्दी रेड ब्लड सेल्स नहीं होते। एनीमिया के परिणामस्वरूप शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है या लाल रक्त कोशिकाएं अच्छे से काम नहीं करती हैं। इसके लक्षण इस प्रकार हैं:

ब्लीडिंग डिसऑर्डर्स (Bleeding disorders)

हीमोफीलिया और वॉन विलेब्रांड ब्लीडिंग डिसऑर्डर रोग तब होते हैं, जब खून में थक्के बनने में समस्या होती है। इसके लक्षण इस प्रकार हैं:

  • मसूड़ों से खून आना (Bleeding Gums)
  • अधिक नील या ब्लीडिंग होना (Excessive Bruising or Bleeding)
  • अधिक और बिना किसी कारण के नाक से खून बहना (Frequent or Unexplained Nosebleeds)
  • पीरियड में अधिक ब्लीडिंग (Heavy Menstrual Bleeding)

क्लॉटिंग डिसऑर्डर्स (Clotting Disorders)

क्लॉटिंग डिसऑर्डर्स के कारण शरीर के कई अंगों में क्लॉटिंग हो सकती है। जैसे दिमाग, दिल, फेफड़े, पेट आदि। इसके कुछ सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं:

  • पेट में दर्द, उलटी और डायरिया (Abdominal Pain, Vomiting and Diarrhea)
  • छाती में दर्द और बैचनी (Chest Pain or Discomfort)
  • गंभीर सिरदर्द, कमजोरी, दृष्टि में बदलाव और सिर चकराना (Severe Headache, Weakness, Vision changes, and Dizziness)
  • सांस लेने में समस्या (Shortness of Breath)
  • बाजु या टांग में सूजन, अकड़न (Swelling, Tenderness in Arm or Leg)

यह भी पढ़ें : Blood clotting disorder : ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर क्या होता है?

ब्लड कैंसर (Blood Cancers)

ब्लड कैंसर एक गंभीर समस्या है ब्लड कैंसर के कई प्रकार हैं जैसे ल्यूकेमिया (Leukemia) , लिम्फोमा (Lymphoma) आदि इसके लक्षण इस प्रकार हैं :

योगा की मदद से बीमारियों के इलाज के बारे में जानने के लिए यहां क्लिक करें-

अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर के रिस्क फैक्टर क्या हैं? (Risk Factors of Other Blood Disorders)

ब्लड डिसऑर्डर के विकास के जोखिम को बढ़ाने वाले कारक खास बीमारी के साथ भिन्न होते हैं। इनहेरिटेड डिसऑर्डर्स इन विकारों का पारिवारिक इतिहास होना आपको जोखिम में ड़ाल सकता है। इसी तरह, ब्लड कैंसर की फैमिली हिस्ट्री होने से भी अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर के विकास का जोखिम बढ़ता है। अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर के रिस्क फैक्टर इस प्रकार हैं

  • एजिंग (Aging)
  • ऑटोइम्यून डिजिज (Autoimmune Diseases)
  • किसी खास दवाई या केमिकल के सम्पर्क में आना (Exposure to Certain Drugs and Chemicals)
  • लिवर, किडनी या थायराइड डिजिज (Liver, Kidney or Thyroid Disease)
  • पुअर डायट (Poor Diet)
  • गर्भावस्था, मोटापा, दिल संबंधी समस्या, हाय ब्लड प्रेशर, हाय कोलेस्ट्रॉल (Pregnancy, Obesity, Heart Disease, High Blood Pressure, High Cholesterol)
  • स्मोकिंग (Smoking)
  • ट्रामा, सर्जरी (Trauma, Surgery)

कई अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स

ब्लड डिसऑर्डर्स का निदान कैसे किया जा सकता है? (Diagnosis of Other Blood Disorders)

अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स के निदान (Diagnosis of Other Blood Disorders) के लिए डॉक्टर आपसे हेल्थ हिस्ट्री के बारे में जानेंगे। इसके साथ ही वो ब्लड रिलेटेड अन्य समस्याओं के लक्षणों के लिए आपकी जांच कर सकते हैं। इसके बाद डॉक्टर आपको कुछ टेस्ट की सलाह भी दे सकते हैं जैसे:

ब्लड डिसऑर्डर्स का उपचार (Treatment of Other Blood Disorders)

अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) के उपचार स्थिति के प्रकार और गंभीरता के आधार पर भिन्न होते हैं। लेकिन, अक्सर इसमें कीमोथेरेपी या विकिरण चिकित्सा शामिल हो सकते हैं। जानिए, कैसे होता है इनका उपचार:

एनीमिया ट्रीटमेंट (Anemia Treatment)

एनीमिया के उपचार का पहला स्टेप है इसके कारण को जानना। इसके संभावित उपचार में विटामिन और न्यूट्रिशनल थेरेपी, रेड ब्लड सेल्स को बनाने के लिए दवाईयां आदि शामिल है। गंभीर मामलों में लाल रक्त कोशिकाओं को जल्दी से भरने के लिए ब्लड ट्रांसफ्यूज़नस (Blood Transfusions) आवश्यक हो सकता है। दुर्लभ एनीमिया जैसे अप्लास्टिक एनीमिया (Aplastic Anemia) के मामले में बोन मेरो ट्रांप्लांट (Bone Marrow Transplant) या ब्लड स्टेम सेल ट्रांसप्लांट (Blood Stem Cell Transplant) भी किया जा सकता है।

ब्लीडिंग डिसऑर्डर ट्रीटमेंट (Bleeding Disorder Treatment)

इस स्थिति में डॉक्टर ब्लीडिंग डिसऑर्डर खास क्लॉटिंग फैक्टर को दवाईयों और ट्रांसफ्यूज़नस (Transfusions) से ठीक करते हैं। यह ब्लीडिंग डिसॉडर के प्रकार पर निर्भर करता है।

यह भी पढ़ें: Blood cancer : ब्लड कैंसर क्या है?

क्लॉटिंग डिसऑर्डर ट्रीटमेंट (Clotting Disorder Treatment)

क्लॉटिंग डिसऑर्डर का उपचार एंटीकौयगुलांट (Anticoagulants) और थ्रांबोलिटिकस (Thrombolytics) के साथ संभव है। एंटीकौयगुलांट को ब्लड थिनर के नाम से जाना जाता है। हालांकि यह ब्लड को पतला नहीं करते हैं, बल्कि वो ब्लड क्लॉट्स को बनने से रोकते हैं। इसके उपचार के लिए कई बार कैथिटर-बेस्ड प्रोसीजर (Catheter-Based Procedure) का प्रयोग भी किया जा सकता है।

ब्लड कैंसर ट्रीटमेंट (Blood Cancer Treatment)

रक्त कैंसर के लिए उपचार में कीमोथेरेपी (Chemotherapy), विकिरण चिकित्सा (Radiation Therapy), टार्गेटेड थेरेपी (Targeted Therapies) और बायोलॉजिक्स (Biologics) शामिल हो सकते हैं। कुछ मामलों में बोन मैरो ट्रांसप्लांट (Bone Marrow Transplant)या ब्लड स्टेम सेल ट्रांसप्लांट (Blood Stem Cell Transplant) एक विकल्प है।

Quiz: ब्लड डोनेशन से जुड़े मिथक दूर करेगा यह क्विज

ब्लड डिसऑर्डर के जोखिम को कम करने के लिए जीवनशैली में क्या बदलाव करने चाहिए? (Lifestyle Change for Other Blood Disorder)

किसी बीमारी के जोखिम को कम करना मुख्य रूप से उन रिस्क फैक्टर्स को बदलने पर निर्भर करता है जो आपके नियंत्रण में हैं। इनहेरिटेड रक्त विकारों की स्थिति में, आपके लिए रिस्क फैक्टर्स को कम करना संभव नहीं हो सकता। अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) के लिए आप अपने लाइफस्टाइल में बदलाव ला सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

कई अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स

  • संतुलित आहार का सेवन करें और अपने चिकित्सक की सलाह के अनुसार सप्लीमेंट्स (Supplements) भी ले सकते हैं।
  • क्रोनिक मेडिकल स्थितियों का सही तरीके से उपचार कराएं।
  • नियमित रूप से शारीरिक व्यायाम करें और हेल्दी वेट बनाए रखें।
  • दवाओं या उपचार के संभावित दुष्प्रभावों को समझें और उन्हें मॉनिटर करें।
  • तनाव (Depression) से बचें।

यह भी पढ़ें: खून के विकार साबित हो सकते हैं जानलेवा, इग्नोर करने की न करें भूल

अन्य प्रकार के ब्लड डिसऑर्डर्स (Other Blood Disorders) होने पर रेगुलर मेडिकल केयर हर किसी के लिए जरूरी है। इससे आपको शुरुआत में ही समस्या के लक्षणों का पता चल जाता है। अगर आप ब्लड डिसऑर्डर्स को लेकर चिंतित हैं तो अपने डॉक्टर इस बारे में बात करें। इसके साथ ही उनसे यह भी जानें कि आप खुद को कैसे स्वस्थ रख सकते हैं। समय पर इस समस्या का निदान आपको बड़ी परेशानी से बचा सकता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Types of Blood Disorders in Children and Teens. http://www.danafarberbostonchildrens.org/conditions/blood-disorders.aspx . Accessed on 23/3/21

Blood Diseases. https://www.niddk.nih.gov/health-information/blood-diseases . Accessed on 23/3/21

Blood Disorders. https://medlineplus.gov/blooddisorders.html . Accessed on 23/3/21

 

Benign Hematology. https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/16777-benign-hematology . Accessed on 23/3/21

What are blood disorders?. https://www.seattlecca.org/diseases/blood-disorders/facts . Accessed on 23/3/21

Why Should I Know About Blood Conditions?. https://www.hematology.org/education/patients/blood-disorders#:~:text=Common%20blood%20disorders%20include%20anemia,may%20have%20a%20blood%20condition.. Accessed on 23/3/21

लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/03/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x