home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ब्लड डोनर को रक्तदान के बाद इन बातों का ध्यान रखना चाहिए, नहीं तो जान भी जा सकती है

ब्लड डोनर को रक्तदान के बाद इन बातों का ध्यान रखना चाहिए, नहीं तो जान भी जा सकती है

रक्तदान महादान कहा जाता है, क्योंकि दुनियाभर में सही समय पर खून मिलने से कई जानें बचाई जाती हैं। रक्तदान कई बार गंभीर बीमारियों या आपातकालीन स्थितियों से किसी व्यक्ति की जान बचाने में मदद करता है। इसलिए, इस कार्य को दान की श्रेणी में रखा गया है। 14 जून को हर साल वर्ल्ड ब्लड डोनर डे मनाया जाता है, ताकि रक्तदान के प्रति लोगों में जागरुकता फैले और लोग रक्त दान करने के लिए आगे आएं। लेकिन, ब्लड डोनर्स को कुछ सावधानियों या जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए, जिससे उनका स्वास्थ्य भी बेहतर बना रहे और वह काफी लंबे समय तक रक्तदान कर सकें।

रक्त दान की जरूरत क्यों है?

ब्लड ट्रांसफ्यूजन (खून चढ़ाने) से हर दिन कई जानें बचाई जाती हैं। लेकिन, इसके लिए खून की उपलब्धता होनी जरूरी है। दूसरी तरफ, दुर्घटना, ऑर्गन ट्रांसप्लांट या सर्जरी में काफी खून की जरूरत होती है, वो भी कम समय में, जिसके लिए ब्लड डोनेशन जरूरी है, ताकि बिना किसी रुकावट के और बिना देर किए मरीज को खून मिल सके। इसके अलावा, मरीज को सुरक्षित खून मिल सके, इसके लिए खून को कई जांच से गुजरना पड़ता है, जो कि समय लेता है। इसलिए, पहले ही ब्लड डोनेशन के जरिए खून को इकट्ठा करके सभी जांच से गुजरने के बाद मरीज के लिए उपलब्ध करवाया जाता है।

यह भी पढ़ें- कहीं क्लीनर की महक आपको बीमार ना कर दें!

ब्ल्ड डोनर्स को रक्त दान से पहले इन बातों का रखना चाहिए ध्यान

ब्लड डोनेशन से पहले ब्लड डोनर्स को निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे-

कौन डोनेट कर सकता है खून

  • रक्त दान करने से पहले व्यक्ति का स्वास्थ्य अच्छा होना चाहिए।
  • ब्लड डोनर्स की उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए और रक्तदान करने की अधिकतम उम्र स्वास्थ्य के अनुसार निर्भर करती है।
  • रक्तदान करने वाले व्यक्ति का शारीरिक वजन 50 किलोग्राम से ज्यादा होना चाहिए।
  • फिजिकल और हेल्थ हिस्ट्री टेस्ट को पास करना चाहिए।
  • ब्लड डोनेशन करने की योग्यता देश और सेंटर के हिसाब से बदल सकती है।

ब्लड डोनेशन से संबंधित फूड और मेडिकेशन

  • ब्लड डोनेट करने से पहली रात को पर्याप्त नींद लेनी चाहिए।
  • आपको ब्लड डोनेशन से पहले पर्याप्त और पौष्टिक आहार का सेवन करना चाहिए।
  • रक्त दान करने से पहले बर्गर, पिज्जा जैसे जंक फूड का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • रक्तदान करने से पहले करीब आधा लीटर पानी का सेवन करना चाहिए।
  • अगर आप खून में मौजूद प्लेटलेट्स डोनेट करना चाहते हैं, तो ध्यान रखें कि दो दिन पहले तक एस्पिरिन का सेवन नहीं किया होना चाहिए। इसके अलावा, आप अपनी नॉर्मल दवाई का सेवन जारी रख सकते हैं।

यह भी पढ़ें- डिश वॉश लिक्विड से क्या त्वचा को नुकसान पहुंचता है?

ब्लड डोनेशन से पहले क्या करना चाहिए?

ब्लड डोनेशन से पहले आपको डॉक्टर द्वारा दिए गए फॉर्म पर मेडिकल हिस्ट्री और पिछले कुछ घंटों से जुड़े कुछ सवालों के जवाब देने चाहिए। इसके अलावा, निम्नलिखित व्यक्ति खून के संपर्क में आने से होने वाली बीमारियों के खतरे के कारण ब्लड डोनेट नहीं कर सकते।

  1. स्टेरॉयड या डॉक्टर की सलाह के बिना लिए हुए इंजेक्शन लेने वाला व्यक्ति।
  2. एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति
  3. कई व्यक्तियों से यौन संबंध रखने वाला व्यक्ति।
  4. किसी वायरल हेपेटाइटिस से संक्रमित व्यक्ति से पिछले 12 महीनों में यौन संबंध रखने वाला व्यक्ति।

ब्लड डोनेशन के दौरान क्या करना होता है?

  1. ब्लड डोनेट करने के दौरान आपको एक रिक्लाइनिंग चेयर पर आरामदायक स्थिति में लेटना होता है और अपने हाथों को आर्मरेस्ट पर रखना होता है।
  2. इसके बाद आपके अपर हैंड पर ब्लड प्रेशर कफ बांधा जाता है, ताकि नसों में खून पूरी तरह से भर जाए। इससे नसें आसानी से दिखनी शुरू हो जाती हैं।
  3. इसके बाद एक स्टेराइल निडल को आपके हाथ की नस में लगाया जाता है और उसे एक प्लास्टिक ट्यूब की सहायता से ब्लड बैग से जोड़ा जाता है।
  4. इसके बाद रक्त दान करते हुए ब्लड बैग में खून भरने लगता है।
  5. ब्लड बैग या खून की जरूरी मात्रा के बाद सुई को हाथ से निकाल लिया जाता है और वहां एक बैंडेज लगा दी जाती है। ताकि, खून निकलना बंद हो जाए। इसके बाद ब्लड प्रेशर कफ भी हटा दिया जाता है।

यह भी पढ़ें- सिर्फ विलेन ही नहीं हीरो का भी रोल करता है स्ट्रेस, जानें स्ट्रेस के फायदे

रक्त दान के बाद क्या करें?

ब्लड डोनेट करने के बाद आपको कुछ देर उसी जगह पर आराम करना चाहिए और वहीं, लेटे हुए थोड़ा-सा जूस या स्नैक खाना चाहिए। इसके 10-15 मिनट बाद आप वहां से उठ सकते हैं। ब्लड डोनेशन के बाद आपको निम्नलिखित चीजों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे-

  1. अगले कुछ दिनों तक पानी, जूस जैसे अतिरिक्त तरल पदार्थों का सेवन करें।
  2. अगले पांच घंटे तक भारी सामान या ज्यादा थका देने वाला कार्य न करें।
  3. अगर आपको ब्लड डोनेशन के बाद चक्कर आने लगते हैं या सिर चकराने लगता है, तो एक जगह बैठ जाएं, जबतक कि बेहतर महसूस न होने लगे।
  4. हाथ में लगी बैंडेज को कम से कम पांच घंटे तक न हटाएं या गीला न करें।
  5. अगर बैंडेज हटाने के बाद भी खून निकलता है, तो निडल वाली जगह को दबाएं और हाथ को ऊपर की तरफ कर लें। जब खून रुक जाए, तब हाथ नीचे करें।
  6. अगर त्वचा के नीचे खून आने लगता है या खून जम जाता है, तो उसपर बर्फ की सिकाई करें।
  7. अगर हाथ में सूजन आती है, तो दर्द निवारक दवाई लें या समस्या बढ़ने पर डॉक्टर को दिखाएं।

यह भी पढ़ें- बचे हुए खाने से घर पर ऐसे बनाएं ऑर्गेनिक कंपोस्ट (जैविक खाद), हेल्थ को भी होंगे फायदे

ब्लड डोनेट करने के बाद क्या खाएं?

ब्लड डोनेशन के बाद फोलेट यानी फोलिक एसिड युक्त पदार्थों का सेवन करना चाहिए। यह रेड ब्ल्ड सेल्स के निर्माण में मदद करते हैं। आप इसके लिए संतरे का जूस, केल के पत्ते आदि का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा आपको दूध या योगर्ट से मिलने वाला विटामिन बी-2, आलू व केले में मौजूद विटामिन बी-6, मीट व मेवा आदि में मिलने वाला आयरन और विटामिन-सी युक्त पदार्थों का सेवन करना चाहिए। यह आपके शरीर में रक्त दान की वजह से हुई खून की कमी की भरपाई करने में मदद करते हैं।

क्या रक्त से जुड़ी इन फैक्ट्स के बारे में जानते हैं आप?

  • शारीरिक भार का कुल 7 प्रतिशत वजन हमारे शरीर में मौजूद खून का होता है।
  • खून की एक बूंद में करीब 10 हजार व्हाइट ब्लड सेल्स और करीब 2.5 लाख प्लेटलेट्स होती हैं।
  • रक्त दान से 48 घंटे पहले एल्कोहॉल का सेवन नहीं करना चाहिए और गर्भवती व स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को ब्लड डोनेट करने से बचना चाहिए।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़े-

पपीते के फायदे जानकर आप भी कम कर सकते हैं अपना वजन

आखिर क्या-क्या हो सकते हैं तनाव के कारण, जानें!

नॉन कॉन्टेक्ट थर्मामीटर क्या है? जानें इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं

खुद ही एसिडिटी का इलाज करना किडनी पर पड़ सकता है भारी!

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

World Blood Donor Day 2020 – https://www.who.int/news-room/events/detail/2020/06/14/default-calendar/world-blood-donor-day-2020 – Accessed on 21/5/2020

World Blood Donor Day – https://www.who.int/news-room/campaigns/world-blood-donor-day – Accessed on 21/5/2020

Celebrating the World Blood Donor Day – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4436746/ – Accessed on 21/5/2020

Blood donation – https://www.mayoclinic.org/tests-procedures/blood-donation/about/pac-20385144 – Accessed on 21/5/2020

Carter BloodCare Blog – https://www.carterbloodcare.org/what-to-do-after-you-donate/ – Accessed on 21/5/2020

लेखक की तस्वीर badge
Surender aggarwal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x