home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ये हैं हीमोग्लोबिन बढ़ाने के फूड्स, खून की कमी होने पर करें इनका सेवन

ये हैं हीमोग्लोबिन बढ़ाने के फूड्स, खून की कमी होने पर करें इनका सेवन

हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) का बहुत महत्व है। शरीर में हीमोग्लोबिन कम होने से एनीमिया की समस्या हो जाती है। साथ ही शरीर में कमजोरी भी बढ़ जाती है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए शरीर को आयरन रिच फूड की जरूरत होती है। आयरन रिच फूड खाने से शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ जाती है। अक्सर लोगों को हीमोग्लोबिन फूड (Food for Hemoglobin) के बारे में जानकारी नहीं होती है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि आखिर क्या होते हैं हीमोग्लोबिन फूड (Food for Hemoglobin)। हीमोग्लोबिन फूड को रोजाना डायट में शामिल करके शरीर में खून की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है।

और पढ़ें : बीच के किनारे जाने से पहले क्यों जरुरी है ट्रेवल किट में सनस्क्रीन

शरीर के लिए कितना जरूरी है हीमोग्लोबिन (Hemoglobin)?

शरीर के लिए हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) बहुत जरूरी है। आप इस बात को ऐसे समय सकते है कि हीमोग्लोबिन रेड ब्लड सेल्स (RBC) का प्रोटीन (Protein) होता है, जो शरीर के बाकी हिस्सों में ऑक्सिजन पहुंचाने का काम करता है। साथ ही हीमोग्लोबिन कोशिकाओं से कार्बन डाइ ऑक्साइड बाहर निकालने का काम करता है। महिलाओं और पुरुषों में इसकी काउटिंग कुछ अलग होती है। जहां एक ओर पुरुषों में हीमोग्लोबिन प्रति डेसीलीटर 13.5 ग्राम और महिलाओं में 12 ग्राम प्रति डेसीलीटर चाहिए होता है। शरीर में हीमोग्लोबिन कम होने के कई कारण हो सकते हैं। अगर हीमोग्लोबिन फूड को डायट में शामिल किया जाए तो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाया जा सकता है। जानिए क्या हो सकते हैं हीमोग्लोबिन कम होने के कारण,

  • आयरन कम होने के कारण एनीमिया
  • प्रेग्नेंसी में खून की कमी
  • लिवर की समस्या
  • यूटीआई यानी मूत्र मार्ग में इंफेक्शन की समस्या
  • बिना किसी कारण के भी कुछ लोगों में हीमोग्लोबिन का काउंट कम पाया जाता है। ऐसे में डॉक्टर जरूरी सप्लीमेंट देने के साथ ही हीमोग्लोबिन फूड खाने की सलाह देते हैं।

आयरन रिच फूड (हीमोग्लोबिन फूड) को खाने में करें शामिल (Food for Hemoglobin)

खाने में आयरन (Iron) की मात्रा बढ़ाने पर हीमोग्लोबिन का स्तर भी बढ़ने लगता है। हीमोग्लोबिन फूड इस काम में आपकी हेल्प करते हैं। वेजीटेरियन और नॉनवेजीटेरियन, दोनों तरह की डायट में हीमोग्लोबिन पाया जाता है।

  • लिवर और ऑर्गन मीट
  • शेलफिश
  • गाय का मांस (बीफ)
  • ब्रोकोली
  • गोभी
  • पालक (Spinach)
  • हरी सेम
  • पत्ता गोभी
  • सेम और दाल
  • टोफू
  • सिके हुए आलू
  • फोर्टिफाइड सीरियल्स और इनरिच्ड ब्रेड

और पढ़ें : परिवार की देखभाल के लिए मेडिसिन किट में रखें ये दवाएं

हीमोग्लोबिन फूड (Food for Hemoglobin) के साथ ही विटामिन-बी

खाने में विटामिन बी यानी फोलेट को शामिल करने से बॉडी में हीम प्रोड्यूज होगा। हीम रेड ब्लड सेल (RBC) का पार्ट है जिसमे हीमोग्लोबिन होता है। बिना फोलेट के रेड ब्लड सेल्स मेच्योर नहीं हो पाती हैं।अगर खाने में फोलेट उचित मात्रा में नहीं पहुंचता है, तो फोलेट डिफिसिएंसी एनीमिया होने की संभावना रहती है। साथ ही हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) का लेवल भी कम हो जाता है।

खाने में फोलेट प्राप्त करने के लिए इन फूड को शामिल करना चाहिए,

हीमोग्लोबिन फूड (Food for Hemoglobin) के साथ ही आयरन सप्लीमेंट

अगर शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर बहुत अधिक बढ़ाने की जरूरत है, तो आपको आयरन सप्लीमेंट लेने की आवश्यकता है। शरीर में बहुत अधिक आयरन हेमोक्रोमैटोसिस (Hemochromatosis) नामक एक स्थिति का कारण बन सकता है। इससे लिवर रोग जैसे सिरोसिस हो सकता है। कुछ साइड इफेक्ट जैसे कब्ज, मतली और उल्टी भी हो सकती है। शरीर में आयरन की कमी होने पर डॉक्टर से परामर्श करके ही आयरन सप्लीमेंट लेना चाहिए। एक समय में 25 मिलीग्राम से अधिक आयरन की मात्रा लेने से बचना चाहिए। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ ऑफिस (डाइटरी सप्लीमेंट्स)पुरुषों को प्रति दिन 8 मिलीग्राम तक आयरन जबकि महिलाओं को प्रति दिन 18 मिलीग्राम तक आयरन लेने की सलाह देता है। अगर महिला गर्भवती हैं तो आपको रोजाना 27 मिलीग्राम तक आयरन लेना चाहिए। बेहतर रहेगा कि आप इस बारे में डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें : उबासी (यॉनिंग) से जुड़ी मजेदार बातें, जो शायद ही आप जानते हों

हीमोग्लोबिन फूड (Food for Hemoglobin) चाहिए तो फल से करें शुरुआत

हीमोग्लोबिन फूड को खाने में शामिल करने के साथ ही फलों को भी शामिल करना चाहिए। हीमोग्लोबिन की सही मात्रा फलो से भी मिल सकता है। खाने में चुकदंर, अनार, खजूर, कीवी, केला आदि को शामिल करें। इन सभी फलों में आयरन के साथ ही अन्य न्यूट्रिएंस भी होते हैं। हीमोग्लोबिन फूड शरीर में आयरन की मात्रा को बढ़ाने का काम करते हैं।

  • डेट या खजूर को बच्चे या फिर बूढ़ें, सभी खाना पसंद करते हैं। खजूर में फाइबर (Fiber), पोटैशियम (Potassium), विटामिन-B (Vitamin-B), विटामिन-C (Vitamin-C) और मैग्नेशियम (Magnesium) पाया जाता है। ये सभी न्यूट्रिएंट्स शरीर के लिए बहुतन फायदेमंद होते हैं। अगर किसी भी इंसान का वजन (Weight) कम है, तो भी वो खजूर खा सकता है। डेट या खजूर शरीर का वजन सही रखने के साथ ही ब्लड की मात्रा को भी बैलेंस रखता है।
  • बीट रूट का रंग बहुत कुछ कहता है। इसमें विटामिन-बी9 (Vitamin-B9), विटामिन-सी (Vitamin-C), फाइबर (Fiber), पोटैशियम (Potassium) और आयरन (Iron) पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते है। चुकंदर खाने से शरीर को अन्य कई फायदे पहुंचते हैं। अगर चुकंदर को रोजाना खाने में शामिल किया जाए तो खून की कमी की समस्या यानी एनीमिया से बचा जा सकता है।
  • खून की कमी को दूर करने के लिए अगर सबसे पहले किसी फल का नाम लिया जाता है तो वो है अनार। अनार सबसे पौष्टिक फलों में से एक माना जाता है। अनार में विटामिन सी, फॉस्फोरस, फाइबर, कैल्शियम, आयरन जैसे अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं। यही कारण है कि यह शरीर को कई बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता है और शरीर हुए खून की कमी को भी पूरा करने में मदद करता है।
  • किवी का नियमित सेवन शरीर में खून की कमी को पूरा करता है। अगर किवी का सेवन डॉक्टर की परामर्श के साथ किया जाए तो बेहतर रहेगा। कई बार लोगों को जानकारी नहीं होती है कि किसी भी फल को कितनी मात्रा में खाना चाहिए।ऐसे में डॉक्टर से परामर्श करना सही रहेगा। कीवी विटामिन के, विटामिन सी, विटामिन ई, फोलेट, पोटेशियम आदि का अच्छा स्त्रोत है। इसका बोटेनिकल नाम एक्टिनिडिया डेलिसिओसा (Actinidia deliciosa) नाम है, जो कि एक्टिनिडियाएसी (Actinidiaceae) फैमिली से आता है। कीवी के नियमित सेवन से शरीर में ब्लड लेवल को बढ़ाया जा सकता है।
  • बनाना या फिर केला में मैग्नेशियम, पोटैशियम, फायबर, प्रोटीन, विटामिन-बी6, मैग्नेशियम ,विटामिन-सी, और फोलेट जैसे पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। केले के नियमित सेवन से शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी नहीं होती है और शरीर फिट रहता है। अगर किसी व्यक्ति को खून की कमी हो गई है तो बनाना का सेवन करना बेहतर रहेगा।
  • अपने लाल रंग के कारण लोगों में प्रिय टमाटर अपने रंग के हिसाब से शरीर में रक्त की मात्रा को भी बढ़ाता है। टमैटो में अच्छी मात्रा में विटामिन-c मौजूद होता है। टमाटर का सेवन कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचने में मदद करता है। टमाटर में लाइकोपीन पाया जाता है। ये एक तरह का कैरोटीनॉयड है, जो प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को भी कम करता है और शरीर में खून की सही मात्रा में बनाये रखता है।

और पढ़ें : क्या आप दुनिया के सबसे छोटे और बड़े फल के बारे में जानते हैं?

हीमोग्लोबिन फूड (Food for Hemoglobin) के साथ ही आयरन का अवशोषण है जरूरी

हीमोग्लोबिन फूड यानी आयरन युक्त भोजन के साथ ही शरीर में उसका अवशोषण भी जरूरी होता है। अगर आपका शरीर आसानी से आयरन (Iron) का अवशोषण नहीं कर पा रहें हैं, तो ये एक समस्या हो सकती है। हीमोग्लोबिन फूड के साथ ही खाने में उन फूड को भी शामिल करना चाहिए जो आयरन का अवशोषण कर सके।

आयरन अवशोषण के लिए इनको खाने में करें शामिल

जब आप आयरन के साथ ही खाने में विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ खाते हैं तो आयरन का अवशोषण अधिक होने लगता है। विटामिन सी आपके शरीर द्वारा अवशोषित आयरन की मात्रा को बढ़ाने में मदद कर सकता है। अवशोषण बढ़ाने के लिए आयरन के साथ ही कुछ फलों को खाने में शामिल करना चाहिए। जैसे,
विटामिन सी में उच्च खाद्य पदार्थों में शामिल हैं:

  • साइट्रस
  • स्ट्रॉबेरीज
  • गहरे हरे रंग का पत्तेदार साग

और पढ़ें : कुछ लोग बुढ़ापे में इतने जवान क्यों दिखाई देते हैं?

ये फूड आयरन अवशोषण को करते हैं कम

कैल्शियम युक्त खाना और कैल्शियम सप्लीमेंट दोनों ही शरीर में आयरन के अवशोषण को कम कर देते हैं। लेकिन इस कारण से कैल्शिय को लेना बंद नहीं करना चाहिए।कैल्शियम भी शरीर के लिए पोषक तत्व है। अगर आपके शरीर में हीमोग्लोबिन कम है तो कैल्शियम सप्लीमेंट से बचने की कोशिश करें। साथ ही आयरन सप्लीमेंट लेने से पहले या बाद में कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ न खाएं।कैल्शियम रिच फूड में शामिल हैं,

  • डेयरी प्रोडक्ट
  • सोयाबीन
  • सीड्स
  • अंजीर

अगर आपके शरीर में हीमोग्लोबिन कम हो गया है तो डॉक्टर आपको हीमोग्लोबिन फूड लेने की सलाह देंगे। हीमोग्लोबिन फूड में क्या शामिल करना है और क्या नहीं, इस बारे में डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करें। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

शरीर को पोषक तत्वों कमी ना हो, इसलिए पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन जरूरी होता है। नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर जानें कब और क्या खाएं, जिससे स्वस्थ रहना होगा आसान।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 26/04/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x